ब्रेस्ट में दर्द के कारण - Breast Pain Causes in Hindi

ब्रेस्ट में दर्द के कारण - Breast Pain Causes in Hindi

ब्रेस्ट में दर्द, जिसे मास्‍टालजिया (Mastalgia) भी कहा जाता है, महिलाओं में एक सामान्य स्थिति है। सटर हेल्थ कैलिफ़ोर्निया पेसिफिक मेडिकल सेंटर के मुताबिक, स्तन दर्द 50 से 70 प्रतिशत महिलाओं को प्रभावित करता है। ब्रेस्ट में होने वाले दर्द से राहत पाने के लिए सबसे पहले इसके कारणों को समझना होगा। ब्रेस्ट में दर्द के सबसे सामान्य कारणों में से कुछ इस प्रकार हैं। दर्द आमतौर पर चक्रीय (cyclical) या गैरचक्रीय (noncyclical) रूप में वर्गीकृत किया जाता है।

चक्रीय दर्द का मतलब है कि दर्द आपके मासिक धर्म चक्र के साथ जुड़ा हुआ है। मासिक धर्म चक्र से जुड़ा दर्द आपकी अवधि (Periods) के दौरान या बाद में होता है। मासिक धर्म चक्र के दौरान, विभिन्न हार्मोन के कारण स्तन के ऊतकों में परिवर्तन होता है जिससे कुछ महिलाओं को स्तन में दर्द या परेशानी होती है। 

गैरचक्रीय दर्द के कई कारण हो सकते हैं, जिनमें ब्रेस्ट की चोट भी शामिल है। कभी-कभी गैरचक्रीय दर्द ब्रेस्ट के बजाय आसपास की मांसपेशियों या ऊतकों में हो सकता है। गैर चक्रीय दर्द सामान्य नहीं होता है और इसके कारणों की पहचान करना कठिन हो सकता है। तो आइए जानते हैं कि ब्रेस्ट में दर्द क्यों होता है -

  1. स्तन दर्द के कारण - Causes of Breast Pain in hindi
  2. स्तन दर्द के बारे में डॉक्टर को कब बताएं - When to See Your Doctor about Breast Pain in Hindi
  3. क्या ब्रेस्ट कैंसर से संबंधित है स्तन दर्द- Is Breast Pain Related to Breast Cancer in Hindi
  4. कैसे पाएं स्तन दर्द से छुटकारा - How to Get Rid of Breast Pain in Hindi

स्तन दर्द के कारण - Causes of Breast Pain in hindi

ब्रेस्ट दर्द के विभिन्न कारण हो सकते हैं। सबसे आम कारणों में से दो हैं - हार्मोन उतार-चढ़ाव और फाइब्रोसिस्टिक (Fibrocystic) स्तन यानि लंपी ब्रेस्ट।

  1. हार्मोन असंतुलन के कारण होता है स्तन में दर्द - Hormone Imbalance Causes Breast Pain in Hindi
  2. ब्रेस्ट सिस्ट है ब्रेस्ट पेन का कारण - Breast Cyst Causes Breast Pain in Hindi
  3. स्तन दर्द का कारण हो सकता है स्तनपान - Breast Pain Due to Breastfeeding in Hindi
  4. स्तन दर्द के अन्य कारण - Other Causes of Breast Pain in Hindi

हार्मोन असंतुलन के कारण होता है स्तन में दर्द - Hormone Imbalance Causes Breast Pain in Hindi

हार्मोन असंतुलन के कारण होता है स्तन में दर्द - Hormone Imbalance Causes Breast Pain in Hindi

प्रोजेस्टेरोन और एस्ट्रोजन के स्तर में उतार-चढ़ाव के कारण ब्रेस्ट में पेन होता है। ये दो हार्मोन एक महिला के स्तनों को लंपी, ब्रेस्ट में सूजन और कभी-कभी ब्रेस्ट में दर्द पैदा कर सकते हैं। कुछ महिलाओं के अनुसार बढ़ती उम्र के कारण हार्मोन वृद्धि की संवेदनशीलता के कारण ये दर्द ओर अधिक बढ़ जाता है। कभी-कभी, मासिक धर्म संबंधी ब्रेस्ट में दर्द का अनुभव करने वाली महिलाओं को रजोनिवृत्ति (Menopause) के बाद दर्द नहीं होता है।

अगर स्तन दर्द हार्मोन में उतार-चढ़ाव के कारण होता है, तो आम तौर पर दर्द पीरियड्स से दो से तीन दिन पहले बहुत अधिक बढ़ जाता है। कभी-कभी दर्द मासिक धर्म चक्र के दौरान भी जारी रहता है।

यह निर्धारित करने के लिए कि आपका स्तन दर्द आपके मासिक धर्म चक्र से जुड़ा हुआ है या नहीं इसके लिए अपने पीरियड्स पर नजर रखें और नोट करें कि आप पूरे माह में दर्द का अनुभव कब करते हैं। एक चक्र या दो के बाद, यह स्पष्ट हो सकता है। (और पढ़ें - ब्रेस्ट टाइट करने के लिए एक्सरसाइज)

डेवलपमेंटल पीरियड्स महिला के मासिक धर्म चक्र को प्रभावित करते हैं और संभावित रूप से स्तन दर्द का कारण बनते हैं -

  1. यौवन
  2. गर्भावस्था
  3. रजोनिवृत्ति

ब्रेस्ट सिस्ट है ब्रेस्ट पेन का कारण - Breast Cyst Causes Breast Pain in Hindi

ब्रेस्ट सिस्ट है ब्रेस्ट पेन का कारण - Breast Cyst Causes Breast Pain in Hindi

महिला की बढ़ती उम्र के साथ ब्रेस्ट में बदलाव होते रहते हैं। यह बदलाव तब होते हैं जब स्तन ऊतक वसा में बदल जाते हैं। जिसके कारण अल्सर का विकास और अधिक रेशेदार ऊतक (fibrous tissues) पैदा हो सकते हैं। ये फाइब्रोसिस्टिक परिवर्तन या फाइब्रोसिस्टिक ब्रेस्ट टिश्यू के रूप में जाने जाते हैं। ये परिवर्तन आमतौर पर चिंता का कारण नहीं होते हैं। (और पढ़ें - ब्रेस्ट (स्तन) से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण तथ्य जिनका आपको होना चाहिए पता)

स्तन दर्द का कारण हो सकता है स्तनपान - Breast Pain Due to Breastfeeding in Hindi

स्तन दर्द का कारण हो सकता है स्तनपान - Breast Pain Due to Breastfeeding in Hindi

स्तनपान आपके शिशु को खिलाने का एक स्वाभाविक और पौष्टिक तरीका है, लेकिन यह एक मां के लिए कठिनाइयों से भरा होता है।। कई कारणों से स्तनपान कराते समय आप स्तन दर्द का अनुभव कर सकते हैं। इसमें शामिल है:

  1. मास्‍ट‍िटिस (Mastitis दुग्ध नलिकाएँ फ़ैल जाती या चौड़ी हो जाती हैं) आपकी दुग्ध नलिकाओं का संक्रमण है। इससे निपल्स में गंभीर और तेज दर्द हो सकता है, साथ ही निपल्स में खुजली, जलन या ब्लिस्टरिंग हो सकती है। अन्य लक्षणों में बुखार और ठंड लगने पर स्तन लाल हो सकते हैं। इसमें आपका डॉक्टर एंटीबायोटिक दवाओं के साथ इनका इलाज कर सकता है। स्‍तनपान करवाने वाली महिलाओं में यह दर्द स्‍तनपान करवाते समय और भी बढ़ सकता है। (और पढ़ें - गर्भावस्था के दौरान ब्रेस्ट में परिवर्तन होने के हैं ये कारण)
  2. एन्ग्रोर्ज्मेंट (Engorgement) तब होता है जब आपके स्तन दूध के कारण अधिक भर (overfull) जाते हैं। इसमें आपके स्तन बड़े हो जाते हैं और आपको बहुत अधिक दर्द महसूस होता है। यदि आप जल्द ही अपने बच्चे को फीड नहीं करा सकते हैं तो आप अपने दूध को पंप करने या मैन्युअल रूप से बाहर निकालने का प्रयास कर सकते हैं। आप अपने अंगूठे को अपने स्तन के ऊपर और अपने स्तनों के नीचे अपनी उंगलियों को रखें। धीरे धीरे अपनी चेस्ट के पीछे अपनी उंगलियों को रोल करें और अपने स्तन खाली करने के लिए अपने निपल्स को आयेज की तरफ प्रेस करें। (और पढ़ें - स्तनपान के दौरान हो रहे दर्द और सूजन का एक अनोखा उपाय)
  3. अगर आपका बच्चा आपके निप्पल को स्तनपान कराते समय उचित रूप से नहीं ले रहा है, तो आपको संभवतः स्तन दर्द का अनुभव होगा। (और पढ़ें - ब्रेस्ट पम्प के इस्तेमाल से जुड़ें कुछ मिथक)

स्तन दर्द के अन्य कारण - Other Causes of Breast Pain in Hindi

 स्तन दर्द के अन्य कारण - Other Causes of Breast Pain in Hindi
  1. आपके द्वारा किया गया भोजन भी स्तन दर्द में योगदान कर सकता है। वसा और परिष्कृत कार्ब जैसे अस्वस्थ आहार का सेवानकरने से भी स्तन दर्द का जोखिम बढ़ सकता है।
  2. महिलाओं के स्‍तनों में दर्द का एक कारण एक्‍सरसाइज भी है। ऐसा स्‍तनों के आकार का बड़ा होना और एक्‍सरसाइज के दौरान पर्याप्‍त समर्थन की कमी होता है।
  3. अंदर के कपड़ों का गलत चयन भी स्‍तन दर्द का करण हो सकता है। अगर आपकी ब्रा बहुत तंग है और कप बहुत छोटे, तो आंतरिक तार से आपके स्‍तनों पर दबाव पड़ने से उनमें दर्द होने लगता है।
  4. यदि आप अपने स्तनों की सर्जरी करा चुके हैं, तो भी आपको कभी कभी दर्द का अनुभव हो सकता है।
  5. धूम्रपान स्तन ऊतक में एपिनेफ्रीन के स्तर को बढ़ाने के लिए जाना जाता है। इससे एक महिला के स्तनों को चोट पहुंच सकती है।

स्तन दर्द के बारे में डॉक्टर को कब बताएं - When to See Your Doctor about Breast Pain in Hindi

स्तन दर्द के बारे में डॉक्टर को कब बताएं - When to See Your Doctor about Breast Pain in Hindi

यदि आपके स्तनों में दर्द अचानक और सीने में दर्द, झुनझुनी और हाथों में सुन्नता के साथ होता है तो तत्काल मेडिकल अटेंशन पर ध्यान दें। और नीचे बताए गये इन लक्षणों से दिल का दौरा पड़ सकता है। (और पढ़ें - ब्रेस्ट की देखभाल सही तरीके से कैसे करें)

  1. अगर दर्द दैनिक गतिविधियों के साथ रहता है।
  2. यदि दर्द दो सप्ताह से अधिक समय तक रहता है।
  3. एक नई गांठ जो मोटी होने लगती है।
  4. जब आपके स्तन एक विशिष्ट क्षेत्र में केंद्रित होने लगते हैं।
  5. यदि दर्द समय के साथ और अधिक खराब हो रहा है।

अपनी अपॉइंटमेंट लेने पर, आप से आपके लक्षणों के बारे में पूछ सकते हैं। उनमें ये शामिल हैं -

  1. आपके स्तन दर्द कब शुरू हुआ?
  2. क्या चीज़ आपके स्तन के दर्द को बदतर बना देती है? या किस चीज़ के य्वन से दर्द में आराम मिलता है?
  3. क्या आपने ध्यान दिया है कि आपके मासिक धर्म चक्र के समय दर्द अधिक हो रहा है?
  4. आप दर्द को कैसे बताना चाहते हैं? आपको दर्द से कैसा महसूस होता है?

आपका डॉक्टर फिजिकल एग्जाम कर सकता है। वे आपके स्तन के ऊतकों की जनच करने के लिए मैमोग्राम जैसी इमेजिंग टेस्ट की भी सलाह दे सकते हैं। यह उन्हें आपके स्तन ऊतक में अल्सर की पहचान करने में मदद कर सकता है। यदि आपके स्तन में कोई सिस्ट हैं, तो आपका डॉक्टर एक नीडल बायोप्सी कर सकता है।

क्या ब्रेस्ट कैंसर से संबंधित है स्तन दर्द- Is Breast Pain Related to Breast Cancer in Hindi

क्या ब्रेस्ट कैंसर से संबंधित है स्तन दर्द- Is Breast Pain Related to Breast Cancer in Hindi

स्तन दर्द आमतौर पर स्तन कैंसर से नहीं जुड़ा है। स्तन दर्द या फाइब्रोसिस्टिक स्तन का मतलब यह नहीं है कि आप कैंसर के विकास के उच्च जोखिम में हैं। 

अगर आपको केवल एक ही क्षेत्र में स्थानांतरित होने वाला स्तन दर्द है और दर्द के स्तर में कोई उतार-चढ़ाव नहीं है, तो अपने डॉक्टर से बात करें। निदान परीक्षणों (diagnostic tests) के उदाहरणों में निम्न शामिल हो सकते हैं:

  1. मैमोग्राम: डॉक्टर आपके स्तन के ऊतकों में असामान्यताओं की पहचान करने के लिए इस इमेजिंग टेस्ट का उपयोग करते हैं।
  2. अल्ट्रासाउंड: यह एक स्कैन है जो स्तन के ऊतकों में प्रवेश करता है। महिलाओं को विकिरण से उजागर किए बिना स्तन ऊतक में गांठों की पहचान करने के लिए डॉक्टर इसका इस्तेमाल कर सकते हैं
  3. मैग्नेटिक रेजोनेंस इमेजिंग (Magnetic resonance imaging): एमआरआई का उपयोग संभावित कैंसर के घावों की पहचान करने के लिए स्तन ऊतकों की विस्तृत छवियां बनाने के लिए किया जाता है।
  4. बायोप्सी: बायोप्सी स्तन के ऊतकों को हटाने के लिए उपयोग की जाती है ताकि एक कैंसर कोशिकाओं की उपस्थिति के लिए एक माइक्रोस्कोप के नीचे डॉक्टर ऊतक को देख सकें।

एक चिकित्सक इन परीक्षणों का उपयोग यह निर्धारित करने के लिए कर सकता है कि आपका स्तन कैंसर से कोई संबंध तो नहीं है।

कैसे पाएं स्तन दर्द से छुटकारा - How to Get Rid of Breast Pain in Hindi

कैसे पाएं स्तन दर्द से छुटकारा - How to Get Rid of Breast Pain in Hindi

इसका उपचार निर्भर करता है कि आपका स्तन दर्द चक्रीय या गैरचक्रीय है या नहीं। आपको इलाज करने से पहले, आपका डॉक्टर आपकी उम्र, मेडिकल हिस्ट्री और आपके दर्द की गंभीरता पर विचार करेगा।

चक्रीय दर्द (cyclical pain) के लिए उपचार :

  1. जब दर्द बहुत अधिक होता है तो एक सहायक ब्रा 24 घंटे के लिए पहनें।
  2. सोडियम के सेवन को कम करें।
  3. कैल्शियम की खुराक लें।
  4. मौखिक गर्भनिरोधक लेना आपके हार्मोन के स्तर को और भी अधिक बढ़ाने में मदद कर सकता है जैसे एस्ट्रोजेन ब्लॉकर्स लेना।
  5. नॉनटेरायडियल एंटी-सूजन (एनएसएडी) दवा सहित दर्द से राहत के लिए दवाइयां लेना जैसे इबुप्रोफेन या एसिटामिनोफेन।

गैरचक्रीय दर्द के लिए उपचार स्तन दर्द के कारण पर निर्भर करेगा। एक बार कारण की पहचान की जाती है, तो आपका डॉक्टर विशिष्ट संबंधित उपचार लिखेंगे।

symptom checker in hindi