योनि की सफाई और योनि स्वास्थ्य एक महिला के समग्र स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण हैं। योनि को लेकर कई गलत धारणाएं और वर्जनाएं जुड़ी हुई हैं। यदि आप भी योनि से निकलने वाली मांसल गंध के बारे में चिंतित होती हैं या अपनी योनि को साफ करने और धोने के सही तरीके के बारे में सोच रही हैं, तो आपको यह जानकर खुशी होगी कि योनि की देखभाल बिल्कुल भी मुश्किल नहीं है।

सबसे पहले, आपको यह स्वीकार करने की आवश्यकता है कि योनि आपके शरीर के किसी अन्य अंग की तरह है, हालांकि यह थोड़ी नाजुक है। इसकी खुद की एक अलग गंध है और जब तक यह तेज और बदबूदार नहीं है या असामान्य योनि डिस्चार्ज से नहीं जुड़ी हुई है, आपको वास्तव में इसके बारे में चिंता करने की ज़रूरत नहीं है। दूसरे, योनि एक ऐसा अंग है जो खुद अपने आप को साफ कर लेती है। आपका योनि स्राव योनि क्षेत्र से सभी रोगाणुओं को धो देता है।

लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि योनि को कुछ भी देखभाल की आवश्यकता नहीं है। इंग्लैंड के एनएचएस के अनुसार, रोज़ के स्नान के साथ-साथ अपनी योनि को दिन में एक बार धोना, इसे साफ और स्वस्थ रखने के लिए पर्याप्त है। और उसके लिए आपको विशेष इत्र या साबुन की आवश्यकता नहीं है।

  1. अपनी योनि को समझें - Know your vagina in Hindi
  2. योनि को साफ न रखने के नुकसान - What if you don’t clean your vagina properly in Hindi?
  3. योनि को साफ करने का सही उपाय और तरीका - How to wash your vagina in Hindi
  4. आगे से पीछे ही क्यों है योनि को साफ करने का सही तरीका - Why clean front to back in Hindi?
  5. योनि को साफ करने की दवा और प्रोडक्ट कितने उपयोगी हैं? - How effective are vaginal care products in Hindi?
  6. वेजाइनल डूशिंग (डाउचिंग) के बारे में जानें - Vaginal douches in Hindi
  7. योनि की सफाई से जुडी एहम बातें
  8. योनि को साफ कैसे रखें के डॉक्टर
  9. योनि की सफाई पसंद है तो जानें क्या गलती करती हैं ज्यादातर महिलाएं

योनि महिला जननांग का बाहरी पेशी हिस्सा है, जिसमें लेबिया, योनि मुख और क्लाइटोरिस शामिल हैं। यह एक महिला के शरीर का सबसे संवेदनशील हिस्सा भी है और इसलिए उसे विशेष देखभाल की आवश्यकता होती है। योनि लगातार एक स्पष्ट सफेद और चिपचिपे स्राव का उत्पादन करती है, जो योनि के पीएच को बनाए रखने के साथ-साथ किसी भी रोगजनक बैक्टीरिया को वहां से बाहर निकालने में सहायक होता है। हालांकि, यह आपके योनि क्षेत्र में एक नम वातावरण बनाता है जो समय-समय पर ठीक से सफाई न करने पर संक्रमण का खतरा बना देता है। संक्रमण के जोखिम को रोकने के लिए अपनी योनि की सफाई का सही तरीका और इससे जुडी सभी ज़रूरी अन्य बातों को जानने के लिए आगे पढ़ें।

(और पढ़ें - वेजाइनल फिस्टुला के लक्षण)

आपकी योनि की अनुचित सफाई उतनी ही बुरी है जितना कि इसे साफ नहीं करना। यदि आप अपनी योनि को ठीक से साफ नहीं करते हैं तो इसके यह नुकसान होते हैं -

  • पसीने और योनि स्राव के संचय से योनि और आपकी जांघों के अंदर खुजली और चकत्ते हो जाते हैं।
  • अत्यधिक नमी से रोगाणुओं के बढ़ने और योनि में बैक्टीरियल संक्रमण या अन्य संक्रमण होने है की सम्भावना बढ़ जाती है, जिनसे योनि गंध, अत्यधिक या बदबूदार स्राव और गंभीर मामलों में सूजन होती है। (और पढ़ें - योनि में खुजली के घरेलू उपाय)
  • चकत्ते और बैक्टीरिया के विकास के कारण भी मुँहासे हो सकते हैं।

इन सभी समस्याओं से बचने के लिए, यह सबसे अच्छा है कि आप योनि की उचित देखभाल करें।

(और पढ़ें - योनि में खुजली का इलाज)

आपकी योनि को साफ करना उतना ही आसान है जितना कि आपके शरीर के किसी अन्य भाग को धोना और यह एक सौम्य साबुन और थोड़े से गुनगुने पानी से किया जा सकता है। हालांकि संक्रमण को रोकने के लिए आपको कुछ तथ्यों को ध्यान में रखना होगा। यहां कुछ आसान उपाय दिए गए हैं जो आपको योनि को साफ करने और धोने का सही तरीका बताएंगे -

  • अपने योनि क्षेत्र को लूफा (झामा) से न रगड़ें। यह आपकी त्वचा को खुरच सकता है और खुजली पैदा कर सकता है। इसके बजाय नरम स्पंज का इस्तेमाल करें। (और पढ़ें - खुजली के घरेलू उपाय)
  • यदि आप साबुन का उपयोग करना ही चाहती हैं, तो कम से कम रसायनों युक्त एक सौम्य गैर-सुगंधित साबुन का इस्तेमाल करें। सभी प्रकार के सुगंधित बॉडी वॉश से बचें, क्योंकि यह लैक्टोबैसिली जैसे स्वस्थ बैक्टीरिया को खत्म कर सकते हैं, जो योनि के पीएच को बनाए रखने में मदद करते हैं। नरम स्पंज की मदद से क्लिटोरिस के चारों ओर साबुन की थोड़ी सी झाग लगा सकती हैं। आप अपनी उंगलियों की मदद से लेबिया को खोल कर धीरे से स्पंज से क्लिटोरिस के चारों ओर सफाई कर सकती हैं। सिलवटों को अलग करते हुए सभी क्षेत्रों को ठीक से धो लें।
  • योनि की आंतरिक नलिका स्वयं साफ हो जाती है इसलिए साबुन अंदर न डालें लेकिन आपको अपने योनि मुख और वलवा को धोना होगा।
  • स्पंज के साथ बिकनी लाइन को अच्छी तरह से साफ करें। इसे भी ज़्यादा मत रगड़ें। (और पढ़ें - कैंडिडा संक्रमण का इलाज)
  • पेरीनियम (योनि और गुदा के बीच का क्षेत्र) को धोना न भूलें। ज्यादातर इस क्षेत्र तक हवा नहीं पहुँचती है और इसलिए इसमें नमी का संचय हो सकता है और बैक्टीरिया पनप सकते हैं।
  • अंत में अपने गुदा क्षेत्र को स्पंज के साथ साफ करें। ध्यान रहे कि आपको आगे से पीछे साफ करना है। इसके बाद अपनी योनि को इस स्पंज से न धोएं क्योंकि इससे कीटाणु निकल सकते हैं।
  • साबुन को अच्छी तरह से धो निकालें और एक नरम तौलिया से थपथपा कर पूरे योनि क्षेत्र को सुखा लें।

(और पढ़ें - योनि में भाप लेने के फायदे)

हमेशा आपकी योनि को आगे से पीछे की तरफ पोंछने की सलाह दी जाती है। इसका कारण यह है कि आपके गुदा में केवल मलमूत्र नहीं है बल्कि कुछ हानिकारक बैक्टीरिया भी हो सकते हैं। पीछे से आगे पोंछने से ये बैक्टीरिया योनि क्षेत्र में स्थानांतरित हो सकते हैं, जिससे संक्रमण, खुजली और जलन हो सकती है। उपयोग के तुरंत बाद आपको स्पंज को ठीक से साफ भी करना चाहिए। यदि स्पंज को बिना साफ किए छोड़ दिया जाता है, तो गुदा-जीवाणु या कवक उस पर बढ़ सकते हैं और अगली बार जब आप इसका उपयोग करते हैं तो अपनी योनि को संक्रमित कर सकते हैं। (और पढ़ें - योनि से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य)

बाज़ार में योनि को साफ करने के लिए कई तरह के साबुन, स्प्रे और वाइप्स मिलने लगे हैं। लेकिन क्या इनका इस्तेमाल सुरक्षित है? आइए जानते हैं -

  • साबुन - केवल सौम्य, बेरंग और बिना सुगंध वाले साबुन का उपयोग किया जाना चाहिए। यहां तक ​​कि बेबी सोप का भी इस्तेमाल नहीं करना चाहिए क्योंकि इसमें कुछ खुशबू होती है। सुगंधित साबुन पीएच संतुलन के साथ गड़बड़ कर सकता है, जिससे योनि में यीस्ट संक्रमण हो सकता है। सिंथेटिक रसायनों से बने क्लीन्ज़र एक स्वस्थ योनि के लिए आवश्यक बैक्टीरिया सहित अधिकांश जीवाणुओं को मार सकते हैं। चूंकि आपकी योनि की त्वचा वास्तव में नाजुक और शोषक है, इसलिए ये रसायन आपके शरीर में प्रवेश कर सकते हैं और जलन, एलर्जी या खुजली पैदा कर सकते हैं।
  • फेमिनिन वॉश या स्प्रे - जब वेजाइनल केयर की बात आती है तो फीमेल वॉश और स्प्रे दो सबसे ज़्यादा चर्चित उत्पाद हैं। हालांकि आपको यह जानकर आश्चर्य हो सकता है कि ये उत्पाद अनावश्यक होने के साथ-साथ हानिकारक भी हैं। इतना ही नहीं यह उत्पाद आपको आपकी योनि की प्राकृतिक गंध के बारे में बेवजह चिंतित कर देते हैं। सिंथेटिक साबुन की तुलना में फीमेल वॉश और स्प्रे के समान और कभी-कभी अधिक गंभीर प्रभाव होते हैं। वे आपकी योनि के पीएच को खराब करते हैं और लंबे समय तक इस्तेमाल किए जाने पर गंभीर समस्याएं पैदा करते हैं।
  • योनि के लिए वाइप्स - ये उत्पाद न केवल अवांछित स्राव को साफ करते हैं, बल्कि आवश्यक बैक्टीरिया को भी निकाल देते हैं। इनमें अल्कोहल भी होता है, जिसकी वजह से योनि में सूखापन आ सकता है जो कि आपकी योनि के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है। इनका उपयोग केवल गंभीर परिस्थितियों में किया जाना चाहिए, जैसे कि जब आप लंबे समय तक योनि को धोने में असमर्थ हों - उदाहरण के लिए यात्रा करते समय। (और पढ़ें - योनि में जलन के घरेलू उपाय)

सभी महिलाएं अलग हैं, कुछ सौम्य साबुन के प्रति भी संवेदनशील होती हैं और कुछ सिंथेटिक उत्पादों से भी प्रभावित नहीं होती हैं। लेकिन हर महिला को देखभाल की जरूरत होती है। कोई फर्क नहीं पड़ता कि आपकी योनि कितनी भी स्वस्थ है या आप को रसायनों का प्रभाव न दिखता हो, लेकिन लंबे समय तक इस्तेमाल किए जाने पर रसायनों का नुकसान अवश्य ही होता है। इसलिए कम से कम रसायनों वाले उत्पादों का इस्तेमाल करना महत्वपूर्ण है। (और पढ़ें - योनि की सफाई से जुड़ी गलतियां)

पानी या अन्य रसायनों के मिश्रण से योनि को धोने की एक प्रक्रिया है। यह ऊपर बताय सामान्य धुलाई के तरीके से थोड़ा अलग है क्योंकि इसमें योनि के अंदर के भाग को धोया जाता है। बाजार में विशेष बोतलें उपलब्ध हैं जिनका उपयोग करके सफाई करने के लिए योनि के अंदर पहले से बने हुए लिक्विड को डाला जा सकता है। मेडिकल स्टोर में वेजाइनल डूश आसानी से उपलब्ध हैं। लेकिन क्या वास्तव में यह आवश्यक हैं या इनका इस्तेमाल करना सही है?

डूशिंग आपको साफ महसूस कराता है लेकिन वास्तव में इसके बहुत कम चिकित्सीय लाभ हैं। वास्तव में, डूशिंग आपके स्वास्थ्य के लिए फायदे से ज़्यादा नुकसान करता है, जानिए कैसे -

  • योनि में संक्रमण - रसायनों से योनि को साफ करने से उसमें मौजूद प्राकृतिक जीवाणुओं के संतुलन को प्रभावित करता है। यह योनि की रोगजनक बैक्टीरिया से लड़ने की क्षमता को कम करता है। अध्ययनों से पता चला है कि जो महिलाएं डूशिंग नहीं करती हैं वे नियमित रूप से डूशिंग करने वाली महिलाओं की तुलना में उन्हें योनि संक्रमण या बैक्टीरियल वेजिनोसिस का खतरा कम होता है।
  • पीआईडी - पीआईडी ​​(या श्रोणि सूजन की बीमारी) एक इंफ्लेमेटरी बीमारी है जो योनि संक्रमण के परिणामस्वरूप उत्पन्न होती है। यह गर्भाशय, फैलोपियन ट्यूब और कभी-कभी अंडाशय को भी प्रभावित कर सकता है, जिसके कारण ऊतकों को क्षति पहुँच सकती है। यदि इसे अनुपचारित छोड़ दिया जाता है, तो यह प्रजनन क्षमता में कमी का कारण बन सकता है। पीआईडी से ​​गर्भावस्था के दौरान भी कई परेशानियां हो सकती हैं। एक अध्ययन में यह पाया गया कि जो महिलाओं डूशिंग करती हैं, उनकी योनि में सूजन होने की संभावना 73 प्रतिशत अधिक होती है।

डूशिंग से एक्टोपिक प्रेगनेंसी की संभावना बढ़ सकती है (यानी गर्भाशय के बाहर भ्रूण का आरोपण होना)। इसलिए, योनि की आंतरिक सफाई को खुद पर छोड़ना सबसे अच्छा है और बस योनि मुख के आस-पास धोना चाहिए। (और पढ़ें - योनि से रक्तस्राव के कारण)

आशा करते हैं कि यहाँ दी गयी योनि को साफ करने से जुड़ी जानकारी से आपको लाभ हुआ होगा। आखिर में, इस बातों का रखियेगा अपनी योनि को स्वस्थ रखने के लिए -

  • अपनी योनि को नियमित रूप से धोएं लेकिन बहुत ज्यादा नहीं। दिन में एक बार अपनी योनि की सफाई करना पर्याप्त है।
  • आपको अपनी योनि के साथ कठोर होने की आवश्यकता नहीं है। अपनी योनि पर और उसके आसपास स्पंज से हलके हाथ से साफ करें। धोने के अलावा नियमित रूप से अपने प्यूबिक हेयर को हटाएं। इससे सफाई में आसानी होगी और योनि के बाहर नमी में कमी आएगी। कम बालों का मतलब डर्मेटोफाइट संक्रमण की संभावना भी कम है। आप बस अतिरिक्त बालों को शेव कर सकती हैं या उन्हें थोड़ा ट्रिम कर सकती हैं या वैक्स करवा सकती हैं। योनि के आसपास के बाल हर महिला में भिन्न रूप से बढ़ते हैं। तो उन्हें काटने या हटाने की कोई सटीक अवधि नहीं दी जा सकती है। आपको अपने बालों के बढ़ने की गति को जानना होगा और उन्हें काटने के लिए उचित समय तय करना होगा।
  • सूती कपड़े पहनें और उन्हें रोज़ धोएं। सूती अंडरवीयर से हवा रूकती नहीं है जिससे पसीना और नमी कम होते हैं। पीरियड्स के दौरान अपने टैम्पोन, मेंस्ट्रुअल कप या सेनेटरी पैड को नियमित रूप से बदलें। कोई फर्क नहीं पड़ता कि आपको कितनी ब्लीडिंग हो रही है, हर 3-4 घंटे में एक नया पैड बदलना सबसे अच्छा है और हर 4-5 घंटे में टैम्पोन को बदलना। यह न केवल बैक्टीरिया और गंध को दूर रखने में मदद करता है बल्कि आकस्मिक दाग को भी रोकता है।

(और पढ़ें - वल्वाइटिस क्या है)

Dr. Deepika Manocha

Dr. Deepika Manocha

प्रसूति एवं स्त्री रोग
9 वर्षों का अनुभव

Dr. Prachi Tandon

Dr. Prachi Tandon

प्रसूति एवं स्त्री रोग
3 वर्षों का अनुभव

Dr. Sravanthi Sadhu

Dr. Sravanthi Sadhu

प्रसूति एवं स्त्री रोग
7 वर्षों का अनुभव

Dr. Satish Chandra  Saroj

Dr. Satish Chandra Saroj

प्रसूति एवं स्त्री रोग
2 वर्षों का अनुभव

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें