myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

आयुर्वेद में माना गया है कि रोजाना एक्सरसाइज और संतुलित आहार शरीर और मस्तिष्क दोनों के लिए जरूरी है। लेकिन जब बेहतर स्वास्थ्य की बात आती है, तो यह महज एक शुरुआत है। आयुर्वेद के अनुसार आपको अपने जीवन में कुछ ऐसे नियमों को शामिल करना चाहिए, जिससे आप बेहतर जिंदगी जी सकते हैं। जानिए, इन नियमों के बारे में।

करें मुंह और जीभ की सफाई
मुंह और जीभ की सफाई में दांतों को ब्रश करना और जीभ को साफ करना शामिल है। आयुर्वेद की मानें तो रोजाना अपने मुंह और जीभ की सफाई करने से विषाक्त पदार्थ बाहर निकल जाते हैं। जीभ की सफाई टंग क्लीनर की मदद से पीछे से आगे की ओर करें। ऐसा पूरे दिन में 8 से 10 बार करें। आपको दिखेगा कि जीभ के ऊपर मौजूद मोटी रंगीन परत निकल गई है। अगर इस परत की सफाई न की जाए, तो आपका स्वास्थ्य प्रभावित हो सकता है। इसके बाद अपने दांतों, मसूड़ों और जीभ की सफाई नर्म टूथब्रश से करें। हमेशा इस बात का ध्यान रखें कि आपके टूथपेस्ट में नीम हो, क्योंकि यह एंटीफंगल, एंटीबैक्टीरियल और एंटीवायरल होता है।

(और पढ़ें - मुंह की बदबू का इलाज)

रोजाना गुनगुना पानी और अदरक की चाय पिएं
आमतौर पर ठंडा पानी पीना पिया जाता है लेकिन रोजाना गुनगुना पानी पीने से शरीर को स्वस्थ रखा जा सकता है, पाचन तंत्र बेहतर होता है, मेटाबाॅलिक वेस्ट कम होता है, जिससे प्रतिरक्षा तंत्र बेहतर होता है। इसी तरह अदरक की चाय नियमित पीने से आपका पेट हमेशा भरा रहता है, मोटापा कम हेता है, यौन इच्छा में वृद्धि होती है, रक्त प्रवाह बेहतर होता है और सूजन वाले वायुमार्ग खुलते हैं।

(और पढ़ें - अदरक के फायदे)

शांति से खाना खाएं
खाना खाने के दौरान अक्सर लोग बातचीत करते हैं लेकिन कभी-कभी बिना बातचीत किए यानी शांति से भी खाना खाना चाहिए। जब आप ऐसा करते हैं, तो इससे आपको खाना ज्यादा पसंद आता है और अपने शरीर के संकेतों को महसूस कर सकते हैं, जो आपको ओवरईटिंग से बचाता है। इसके साथ ही खाना खाने के बाद आपको संतुष्टि का अहसास भी होता है।

(और पढ़ें - ज्यादा खाना खाने के नुकसान)

गर्म तेल से अभ्यंग (तेल मालिश की विधि) करना
अभ्यंग करने पर त्वचा का रूखापन कम होती है और यह शरीर को ठंडा करने में सहयोग करता है। इससे शरीर को पोषण मिलता है, मस्तिष्क को शांत रहता है, रक्त संचार बेहतर होता है और त्वचा चमकदार व जवां होती है। नहाने के पहले अभ्यंग किया जाना चाहिए। अभ्यंग करना आसान भी है।

(और पढ़ें- बॉडी मसाज करने का तरीका)

खुलकर हंसे
जोर से हंसने से एंडोर्फिन नामक हार्मोन रिलीज होता है जिससे रक्त संचार बढ़ता है और शरीर रिलैक्स होता है। खुलकर हंसने के लिए काॅमेडी फिल्में देखें, चुटकुलें सुनें और सुनाएं। इसके साथ ही कभी-कभी खुद पर भी हंसे। यह आपकी सेहत में सकारात्मक बदलाव करता है।

यूं तो जिंदगी जीने का सबका अपना तरीका होता है। लेकिन आयुर्वेद के कुछ नियमों को मानकर आप अपनी जिंदगी को सरल, सहज और सुखद बना सकते हैं।

और पढ़ें ...