myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

आयुर्वेद नीम को "सर्व रोग निवारिणी" के रूप में मानता है, जिसका मतलब है सभी बीमारियों, रोग व विकार के लिए मरहम। नीम में विभिन्न प्रकार के जैविक गुण होते हैं, जो कई बीमारियों के इलाज में मदद करते हैं।

नीम में विटामिन ई, कैरोटीनॉयड और विटामिन सी होता है। इसके अलावा नीम के पेड़ से तेल भी प्राप्त हो सकता है। इसमें विभिन्न फैटी एसिड जैसे लिनोलेइक एसिड, ओलिक एसिड, स्टीयरिक एसिड और पैलिसिक एसिड होते हैं। ये सभी विटामिन और फैटी एसिड त्वचा की गुणवत्ता में सुधार करने में मदद करते हैं और उम्र बढ़ने के संकेतों को भी कम करते हैं।

नीम में शामिल तत्व त्वचा के साथ-साथ बालों की विभिन्न स्थितियों जैसे डर्मेटाइटिस और स्कैल्प सोरायसिस (एक सामान्य त्वचा विकार है, जिसमें लाल व परतदार चकत्ते हो जाते हैं) के इलाज में भी मदद करते हैं। नीम के प्रमुख घटकों में से एक एजेडिरैक्टिन है, जो कीटों को मारने में सहायक है।

नीम को पेस्ट, पाउडर और तेल के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। इन सभी का उपयोग त्वचा, बाल, चेहरे के स्वास्थ के लिए किया जा सकता है। इसके अलावा मौखिक रूप से भी इसका सेवन किया जा सकता है। बालों को स्वस्थ और चमकदार बनाए रखने के लिए नीम के लाभ निम्नलिखित हैं

(और पढ़ें - बालों को स्वस्थ रखने के उपाय तरीके)

  1. बालों को झड़ने से रोकने में मददगार है नीम - Neem prevents hair loss in hindi
  2. रूसी से निजात दिलाता है नीम - Neem fights dandruff in hindi
  3. सिर के जूं को मारता है नीम - Neem kills head lice in hindi
  4. बालों को चिकना और सुलझा बनाता है - Neem makes hair smooth and frizz-free in hindi
  5. सफेद होने से रोकने में सक्षम - Neem prevents premature greying of hair in hindi
  6. बालों के लिए नीम के फायदे के डॉक्टर

नीम के तेल में एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटीबायोटिक और एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं, जो गंजेपन की समस्या को रोकने में मदद करते हैं। यह खोपड़ी में सोरायसिस के इलाज में प्रभावी साबित हो चुका है। सोरायसिस को छाल रोग नाम से भी जाना जाता है, यह एक ऐसी स्थिति है जिसमें खोपड़ी में सूजन के साथ लाल व पपड़ीदार चकत्ते हो जाते हैं।

नीम के तेल में पुनर्योजी गुण मौजूद होते हैं, जो तेजी से कोशिकाओं को विभाजित करने, बालों के रोम के विकास और उनके कार्यों को बढ़ावा देने में मदद करते हैं। इससे बालों के विकास में मदद मिलती है।

(और पढ़ें - बालों की देखभाल कैसे करें)

डैंड्रफ मैलेज्जिया नामक कवक के कारण होता है। यह कवक खोपड़ी की सतह पर पनपता है और सीबम (शरीर में मौजूद नेचुरल ऑयल जो त्वचा को नम रखकर उसकी रक्षा करता है) का उत्पादन बढ़ाता है। नीम के अर्क में पाए जाने वाले गेडिनिन और निंबिडोल जैसे रासायनिक यौगिकों में एंटी-फंगल गुण होते हैं, जो रूसी की समस्या को कम करने में मदद करते हैं। इसके अलावा नीम का तेल रूसी से होने वाली सूजन, खुजली और जलन को कम करने में मदद करता है।

इसके तेल में खोपड़ी की प्राकृतिक अम्लता को बनाए रखने की भी क्षमता होती है, जिसे खोपड़ी का पीएच संतुलन भी कहा जाता है। खोपड़ी का स्वाभाविक रूप से अम्लीय वातावरण भी फंगल संक्रमण को रोकने में मदद करता है।

(और पढ़ें - रूसी का होम्योपैथिक इलाज)

शोध से पता चला है कि नीम के तेल में सिर के जूं को मारने की क्षमता होती है। जूं को खत्म करने में नीम के तेल का प्रभाव निर्धारित करने के लिए एक शोध किया गया था। इसमें पता चला है कि नीम के तेल से बने शैम्पू का इस्तेमाल करने से 20 मिनट के अंदर सभी जूं मर सकते हैं। नीम में कीटनाशक तत्व मौजूद होते हैं, जिसे एजेडिरैचिन कहा जाता है, यह जूं के विकास और प्रजनन को रोकने में मदद करने के साथ-साथ उन्हें मारता है। इसके अलावा नीम के तेल की गंध से जूं का दम घुटने लगता है। इस प्रकार नीम का उपयोग सिर के जूं के खिलाफ निवारक उपाय के रूप में भी किया जा सकता है।

(और पढ़ें -  रूसी के लिए शैम्पू)

नीम के अर्क में विभिन्न फैटी एसिड जैसे लिनोलेइक एसिड, ओलिक एसिड और स्टीयरिक एसिड होते हैं, जो बालों को घना करते हैं और सुलझे व सूखे बालों को चमक प्रदान करते हैं। यदि कोई व्यक्ति चाहे तो अपने नियमित शैम्पू में नीम के तेल को मिलाकर इस्तेमाल कर सकता है।

(और पढ़ें - डैंड्रफ के लिए सबसे बढ़िया तेल)

नीम के तेल में अधिक मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट होता है, जो समय से पहले बालों को सफेद होने से रोकने में मदद करता है। हालांकि, बालों का समय से पहले सफेद होने के पीछे कई कारण हो सकते हैं, लेकिन यदि बाल सफेद होने का कारण हार्मोनल असंतुलन, सूरज की तेज रोशनी या अत्यधिक तनाव है, तो ऐसे में नीम का तेल अप्लाई करना फायदेमंद हो सकता है।

Dr. Ragini Puvvala

Dr. Ragini Puvvala

डर्माटोलॉजी

Dr. Priyanka Mutyala

Dr. Priyanka Mutyala

डर्माटोलॉजी

Dr. Siva Subramanian

Dr. Siva Subramanian

डर्माटोलॉजी

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें
कोरोना मामले - भारतx

कोरोना मामले - भारत

CoronaVirus
604643 भारत
2दमन दीव
100अंडमान निकोबार
15252आंध्र प्रदेश
195अरुणाचल प्रदेश
8582असम
10249बिहार
446चंडीगढ़
2940छत्तीसगढ़
215दादरा नगर हवेली
89802दिल्ली
1387गोवा
33232गुजरात
14941हरियाणा
979हिमाचल प्रदेश
7695जम्मू-कश्मीर
2521झारखंड
16514कर्नाटक
4593केरल
990लद्दाख
13861मध्य प्रदेश
180298महाराष्ट्र
1260मणिपुर
52मेघालय
160मिजोरम
459नगालैंड
7316ओडिशा
714पुडुचेरी
5668पंजाब
18312राजस्थान
101सिक्किम
94049तमिलनाडु
17357तेलंगाना
1396त्रिपुरा
2947उत्तराखंड
24056उत्तर प्रदेश
19170पश्चिम बंगाल
6832अवर्गीकृत मामले

मैप देखें