जब शरीर में पानी की कमी हो जाती है तब ओआरएस या इलेक्ट्रॉल का सेवन किया जाता है. लेकिन सवाल यह है कि ओआरएस या इलेक्ट्रॉल में क्या अंतर है? ओआरएस या इलेक्ट्रॉल में से कौन सा अच्छा है? ये निर्णय इन दोनों के अंदर मौजूद इलेक्ट्रोलाइट की मात्रा पर निर्भर करता है. ऐसे में सबसे पहले यह जानना जरूरी है कि इलेक्ट्रोलाइट क्या है. आज हम जानेंगे की इलेक्ट्रोलाइट क्या है? ओआरएस और इलेक्ट्रॉल में कौन-सा ज्यादा अच्छा है?

(और पढ़ें - नवजात शिशु को दस्त)

  1. इलेक्ट्रोलाइट क्या है? - What are electrolytes in Hindi
  2. इलेक्ट्रोलाइट्स के फायदे - Benefits of electrolytes in Hindi
  3. इलेक्ट्रॉल क्या है? - What is electral in Hindi?
  4. ओआरएस क्या है? - What is ORS in Hindi
  5. इलेक्ट्रॉल पाउडर और ओआरएस के साइड इफेक्ट्स - Side effects of ORS and Electral in Hindi
  6. सारांश - Takeaway
ओआरएस और इलेक्ट्रॉल पाउडर के बीच का अंतर के डॉक्टर

शरीर के लिए इलेक्ट्रोलाइट्स बेहद उपयोगी हैं. यह शरीर में मुख्य पांच तत्व सोडियम, पोटेशियम, मैग्नीशियम, कैल्शियम, क्लोराइड के रूप में मौजूद है.

(और पढ़ें - दस्त रोकने के घरेलू उपाय)

इलेक्ट्रोलाइट्स के लाभ इस प्रकार हैं -

  • इलेक्ट्रोलाइट से शरीर हाइड्रेट रहता है.
  • इलेक्ट्रोलाइट नर्वस सिस्टम को सपोर्ट करते हैं.
  • इलेक्ट्रोलाइट्स मांसपेशियों के संकुचन का भी समर्थन करते हैं.
  • शरीर के पीएच संतुलन को बनाए रखने में इलेक्ट्रोलाइट बेहद उपयोगी है.

(और पढ़ें - दस्त बंद करने के लिए क्या करना चाहिए)

यह एफडीसी प्राइवेट लिमिटेड (FDC private limited) का एक प्रोडक्ट है. इसका फार्मूला डब्ल्यूएचओ यानी वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन के ओआरएस फॉर्मले पर आधारित है. इलेक्ट्रॉल के एक पाउच में 21.80 ग्राम पाउडर मौजूद होता है.

एक पाउच के अंदर सोडियम क्लोराइड आईपी 2.60 ग्राम और पोटेशियम क्लोराइड आईपी 1.50 ग्राम मौजूद होता है. वहीं सोडियम साइट्रेट आईपी 2.0 ग्राम और डेक्सट्रोज एनहाइड्रोस आईपी 13.50 ग्राम है.

आमतौर पर जब किसी व्यक्ति के शरीर में गैस, सोडियम की कमी, पथरी की समस्या, इलेक्ट्रोलाइट असंतुलन, पानी की कमी आदि समस्याएं होती हैं तब इन समस्याओं को दूर करने के लिए इलेक्ट्रॉल दिया जाता है.

(और पढ़ें - दस्त में क्या खाना चाहिए)

बाज़ार में मिलने वाले ओआरएस का फॉर्मूला भी इलेक्ट्रॉल की तरह डब्ल्यूएचओ यानी वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन के ओआरएस फॉर्मले पर आधारित है. इसके एक पाउच में 21 ग्राम ओआरएस मौजूद है. वहीं इसके पोषक तत्व की बात की जाए तो एक पाउच के अंदर सोडियम क्लोराइड आईपी 2.6 ग्राम और पोटेशियम क्लोराइड आईपी 1.5 ग्राम मौजूद होता हैं. जबकि सोडियम साइट्रेट आईपी 2.9 ग्राम और डेक्सट्रोज एनहाइड्रोस आईपी 13.5 ग्राम है.

(और पढ़ें - दस्त की आयुर्वेदिक दवा)

इलेक्ट्रॉल पाउडर और ओआरएस से शरीर में कुछ साइड इफेक्ट्स भी नजर आ सकते हैं -

इलेक्ट्रॉल पाउर के साइड इफेक्ट

ओआरएस के साइड इफेक्ट

  • मतली आना
  • उल्टी आना

(और पढ़ें - दस्त की होम्योपैथिक दवा)

ओआरएस और इलेक्ट्रॉल दोनों ही अपनी-अपनी गुणवत्ता के कारण सेहत के लिए उपयोगी हैं. ऐसे में यदि कोई व्यक्ति दस्त, उल्टी या कब्ज की समस्या से परेशान हैं तो वह इलेक्ट्रोल या ओआरएस दोनों का सेवन अपनी समस्या को दूर करने के लिए कर सकता है. ओआरएस और इलेक्ट्रॉल दोनों की डोज़ आपकी मेडिकल स्थिति और उपचार के प्रति प्रतिक्रिया पर आधारित है.

Dr. Nida Mirza

Dr. Nida Mirza

पीडियाट्रिक
5 वर्षों का अनुभव

Dr. Vivek Kumar Athwani

Dr. Vivek Kumar Athwani

पीडियाट्रिक
7 वर्षों का अनुभव

Dr. Hemant Yadav

Dr. Hemant Yadav

पीडियाट्रिक
8 वर्षों का अनुभव

Dr. Rajesh Gangrade

Dr. Rajesh Gangrade

पीडियाट्रिक
20 वर्षों का अनुभव

और पढ़ें ...
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ