myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

टखने में दर्द किसी मोच, सूजन, अर्थराइटिस या मांसपेशियों में खिंचाव के कारण हो सकता है। यह तकलीफ कई बार बहुत तीव्र दर्द पैदा करती है, जिसे सहन कर पाना बेहद मुश्किल हो जाता है। अगर आपको लंबे समय से गठिया रोग है, तो यह दर्द उठना आपके लिए आम बात हो सकती है। यह दर्द किसी गंभीर स्थिति का संकेत हो सकता है जो टखने को हिलाने के दौरान या वजन उठाते समय महसूस होता है। 

टखने में दर्द के कारण को जान पाना थोड़ा मुश्किल हो सकता है लेकिन इसे कुछ घरेलू उपायों द्वारा ठीक किया जा सकता है। टखने के शुरुआती इलाज में आराम देना बेहद आवश्यक होता है इसके साथ आप नीचे दिए गए उपायों को भी अपना सकते हैं।

  1. अदरक से करें टखने में दर्द का घर पर इलाज - Adarak se karein takhne mein dard ka ghar par ilaj
  2. टखने में दर्द का घरेलू उपाय है गर्म सिकाई - Takhne mein dard ka gharelu upay hai garm sikai
  3. ठंडी सिकाई है टखने के दर्द का घरेलू उपाय - Thandi sikai hai ankle pain ka gharelu upay
  4. टखने के दर्द की देसी दवा है हल्दी - Takhne ke dard ki desi dawa hai Haldi
  5. टखने में दर्द का घरेलू उपचार है पुदीने का तेल - Takhne me dard ka gharelu upchar hai pudine ka tel
  6. ऑलिव ऑयल की मालिश दिलाती है टखने में दर्द से राहत - Olive oil ki massage dilati hai takhne ke dard se rahat
  7. लहसुन है टखने में दर्द का रामबाण इलाज - Garlic hai takhne mein dard ka rambaan ilaj

अदरक में ऐसे गुण पाए जाते हैं जो गठिया, गांठ, सूजन, मोच व नस चढ़ने के कारण पैदा हुए दर्द को ठीक करने में मदद करते हैं। अगर आपके टखने में इनमें से किसी लक्षण के कारण दर्द हो रहा है तो अदरक एक फायदेमंद विकल्प हो सकता है।

आवश्यक सामग्री

  • 1 छोटा टुकड़ा अदरक
  • 1 कप पानी 
  • 1 कपड़ा या पट्टी

इस्तेमाल का तरीका

  • अदरक को छोटे टुकड़ों में काट लें
  • अदरक को पानी में डालकर उसे 10 मिनट तक उबालते रहें
  • पानी को छान कर इसमें कपड़ा भिगोएं और अपने प्रभावित हिस्से पर 15 से 20 मिनट के लिए लगाए रखें

कब इस्तेमाल करें 

इस प्रक्रिया को दिन में दो बार 15 से 20 मिनट के लिए इस्तेमाल करें जब तक टखने का दर्द पूरी तरह से ठीक न हो जाए।

गर्म सिकाई सख्त जोड़ों को मुलायम बनाती है और मांसपेशियों को आराम पहुंचाती है इससे टखने में होने वाले दर्द से राहत मिलती है और कुछ ही समय में यह ठीक भी हो जाता है।

आवश्यक सामग्री

  • 1 कटोरा गर्म पानी
  • 1 कपड़ा 

इस्तेमाल का तरीका

  • कपड़े को गर्म पानी में भिगो कर अपने प्रभावित टखने की इससे सिकाई करें
  • कपड़े की जगह गर्म पट्टी या कम्प्रेशन स्टॉकिंग्स का भी इस्तेमाल किया जा सकता है
  • जरूरत पड़ने पर इस प्रक्रिया को फिर से दोहराएं

कब इस्तेमाल करें 

गर्म पानी की सिकाई को हर घंटे में एक बार करने की सलाह दी जाती है।

 

ठंडी सिकाई करने से रक्त वाहिकाएं जल्दी संकुचित हो जाती हैं, जिससे कुछ समय के लिए आराम मिलता है और नसे सुन्न पड़ जाती हैं जिसके कारण दर्द महसूस होना बंद हो जाता है।

आवश्यक सामग्री

  • बर्फ के 3-4 टुकड़े 
  • 1 छोटा कपड़ा

इस्तेमाल करने का तरीका

  • कपड़े में बर्फ के टुकड़ो को बांध लें 
  • अब इससे प्रभावित हिस्से की सिकाई करें 
  • 10 से 15 मिनट सिकाई करने के बाद त्वचा को सुखा लें
  • बर्फ को अपनी त्वचा पर सीधे न लगाएं, क्योंकि यह त्वचा को क्षतिग्रस्त कर सकता है

कब-कब इस्तेमाल करें

इस प्रक्रिया को हर दो घंटे में तब तक दोहराएं जब तक दर्द पूरी तरह से खत्म न हो जाए।

हल्दी में करक्यूमिन नाम का यौगिक होता है, जो अपने एंटीऑक्सीडेंट्स और एंटी इंफ्लेमेटरी प्रभाव के लिए जाना जाता है। हल्दी ठीक होने की प्रक्रिया को तेज करती है और दर्द की स्थिति को कम करने में मदद करती है। अगर आपको अर्थराइटिस है और उसके कारण टखने में दर्द हो रहा है तो हल्दी एक बेहतरीन उपाय रहेगा।

आवश्यक सामग्री

इस्तेमाल का तरीका

  • हल्दी को गर्म ऑलिव ऑयल में मिला लें
  • अब इसे अपने प्रभावित हिस्से पर लगाएं और पट्टी या कपड़ा बांध लें

इसके अलावा रोजाना 1 गिलास गर्म दूध या गर्म पानी में हल्दी पाउडर मिलाकर पिएं, आप चाहें तो हल्दी को अपने आहार में भी शामिल कर सकते हैं।

कब इस्तेमाल करें

इस हल्दी और ऑलिव ऑयल के मिश्रण को दिन में दो से तीन बार इस्तेमाल किया जा सकता है।

पुदीने पर अब तक कई अध्ययन किए जा चुके हैं। पुदीने को लगाने और खाने दोनों ही तरीकों से दर्द कम होता है। पुदीने के तेल को मोच, अर्थराइटिस, सूजन और दर्द आदि के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके सूजन रोधी गुण (एंटी इन्फ्लेमेटरी) मांसपेशियों की सूजन व लालिमा के ठीक होने में मदद करते हैं और दर्द से छुटकारा दिलाते हैं। वैसे तो आपको पुदीने का तेल भी बाजार में आसानी से मिल जाएगा लेकिन आप इसे नीचे दी गई विधि के जरिए घर पर भी बना सकते हैं:

आवश्यक सामग्री

  • पुदीने के 3-4 गुच्छे
  • 1 चम्मच ऑलिव ऑयल 
  • एक बड़ा चम्मच
  • एक खाली बर्तन 

इस्तेमाल का तरीका

  • पुदीने के पत्तों को चम्मच से पीस लें
  • पीसे हुए पत्तों से जार को भर कर उसके ऊपर ऑलिव ऑयल डाल दें
  • पीसे हुए पत्तों को तेल के अंदर भीगने के लिए छोड़ दें
  • जार को धूप में 2 दिन के लिए रखें और हर 12 घंटे में अच्छे से हिलाते रहें
  • अब इस तेल से 15 मिनट तक अपने प्रभावित टखने की हल्के हाथों से मालिश करें

कब-कब इस्तेमाल करें

पुदीने के तेल से एक हफ्ते तक दिन में 2 बार मालिश करने की सलाह दी जाती है।

ऑलिव ऑयल को कई तरह से इस्तेमाल किया जाता है जैसे कि खाना पकाने से लेकर ब्यूटी प्रोडक्ट्स को बनाने तक। टखने में दर्द या मोच के लिए ऑलिव ऑयल की मालिश एक बेहतरीन घरेलू उपाय मानी जाती है। ऑलिव ऑयल में ओलियोकैंथल (oleocanthal) नामक एक रसायन यौगिक होता है, जो मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द को कम करता है और ठीक होने की प्रक्रिया को तेज करता है।

आवश्यक सामग्री

  • 3 चम्मच ऑलिव ऑयल
  • 1 अंडा (अंडे का पीला हिस्सा)
  • बैंडेज या कपड़ा

इस्तेमाल का तरीका

  • ऑलिव ऑयल और अंडे के पीले हिस्सो को मिला लें
  • अब इस मिश्रण को अपने प्रभावित हिस्से पर हल्का मसाज करते हुए लगाएं
  • फिर बैंडेज या किसी कपड़े से इसे ढक लें
  • इसे 24 घंटे बाद हटाएं और जरूरत पड़ने पर फिर से दोहराएं

कब इस्तेमाल करें

इस प्रक्रिया को दिन या रात में किसी भी समय इस्तेमाल किया जा सकता है।

लहसुन टखने में मोच के कारण हुए दर्द का सीधा निवारण है, ऐसा लहसुन के एंटी इंफ्लेमेशन प्रभाव के कारण है। यह मांसपेशियों को मुलायम बनाकर उनके ठीक होने की प्रक्रिया को तेज करता है और इम्यून सिस्टम को बेहतर बनाता है।

आवश्यक सामग्री

इस्तेमाल का तरीका

  • लहसुन को अच्छे से पीस लें
  • अब इसे नारियल तेल के साथ मिलाकर अपने प्रभावित हिस्से की मालिश करें
  • इस प्रक्रिया को 10 मिनट तक करें और जरूरत पड़ने पर फिर से दोहराएं

इसके अलावा आप चाहें तो लहसुन के साथ बादाम के तेल का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। 

कब इस्तेमाल करें

इस उपाय को दिन में 2 बार इस्तेमाल करने की सलाह दी जाती है।

और पढ़ें ...