एंथ्रेक्स - Anthrax in Hindi

Dr. Ajay Mohan (AIIMS)MBBS

March 21, 2018

April 13, 2021

कई बार आवाज़ आने में कुछ क्षण का विलम्ब हो सकता है!
एंथ्रेक्स
कई बार आवाज़ आने में कुछ क्षण का विलम्ब हो सकता है!

एंथ्रेक्स एक कम पाई जाने वाली लेकिन गंभीर बीमारी है जो "बैसिलस एंथ्रेसीस" (Bacillus anthracis: एक तरह का बैक्टीरिया) के कारण होती है। बीमार जानवरों के संपर्क में आने से इंसानो तक पहुँच सकती है।  

इस बात का कोई सबूत नहीं है कि एंथ्रेक्स एक इंसान से दूसरे इंसान तक फ़ैल सकता है, लेकिन यह संभव है कि एंथ्रेक्स के कारण हुआ त्वचा घाव, अगर किसी इंसान के सीधे संपर्क में आता है तो ये उसे भी ग्रसित कर सकता है।  

साँस लेते समय अगर बीजाणु शरीर में प्रवेश कर जाए या आप दूषित मांस का सेवन कर ले, तो इस रोग से ग्रसित हो सकते हैं।

(और पढ़ें - बैक्टीरियल संक्रमण क्या है)

एंथ्रेक्स के प्रकार - Types of Anthrax in Hindi

एंथ्रेक्स संक्रमण के यूँ तो कोई प्रकार नहीं है लेकिन चार अलग तरीके हैं जिससे ये शरीर तक पहुँचता है-

  1. क्यूटेनियस एंथ्रेक्स (Cutaneous anthrax)
    क्यूटेनियस एंथ्रेक्स संक्रमण आपकी त्वचा पर एक चीरे या अन्य घाव के माध्यम से आपके शरीर में प्रवेश करता है। सभी तरीकों में से सबसे ज़्यादा इसके केस देखने को मिले हैं। यह शरीर को बहुत कम हानि पहुंचाता है और इसका उचित उपचार ना होने पर घातक साबित हो सकता है।  
     
  2. गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल एंथ्रेक्स (Gastrointestinal anthrax)
    एंथ्रेक्स संक्रमण का यह रूप एक संक्रमित जानवर के पूरी तरह से न पके हुए मांस को खाने से होता है। (और पढ़ें - मीट खाने के नुकसान)
     
  3. इनहेलेशन एंथ्रेक्स (Inhalation anthrax)
    जब एंथ्रेक्स बीजाणु (स्पोर्स) सांस लेते समय नाक के भीतर आते हैं तो इनहेलेशन एंथ्रेक्स विकसित होता है। ये सभी तरीकों में से सबसे घातक तरीका है और अगर सही समय पर इसका इलाज न किया जाए तो ये जान भी ले सकता है। 
     
  4. इंजेक्शन एंथ्रेक्स (Injection anthrax)
    हाल ही में इंजेक्शन एंथ्रेक्स की खोज की गयी है। यह अवैध ड्रग्स इंजेक्शन को लेने से होता है और अभी तक भारत में इसका कोई केस देखने को नहीं मिला है।

(और पढ़ें - फंगल इन्फेक्शन के उपचार)

एंथ्रेक्स के लक्षण - Anthrax Symptoms in Hindi

एंथ्रेक्स के लक्षण उसके शरीर में प्रवेश होने वाले विभिन्न तरीकों पर निर्भर करते हैं। ज्यादातर मामलों में लक्षण, जीवाणुओं (बैक्टीरिया) के संपर्क में आने के सात दिनों के भीतर विकसित होते हैं। इनहेलेशन एंथ्रेक्स के केस में लेकिन ऐसा नहीं है, लक्षण हफ्तों बाद नज़र आ सकते है।

1. क्यूटेनियस एंथ्रेक्स (Cutaneous anthrax)

  • कीड़े के काटने जैसा फोड़ा हो जाता है। इसका केंद्र जल्द ही काला हो जाता है, और इसमें किसी प्रकार का दर्द नहीं होता।
  • आसपास की लसीका ग्रंथियों (lymph glands- यह ग्रंथियां वायरस व बैक्टीरिया जैसे इंफेक्शन फैलाने वाले तत्वों को रोकती हैं) में सूजन और दर्द।

2. गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल एंथ्रेक्स (Gastrointestinal anthrax)

3. इनहेलेशन एंथ्रेक्स (Inhalation anthrax)

इनहेलेशन एंथ्रेक्स के शुरुआती संकेत और लक्षण:

जैसे-जैसे बीमारी बढ़ती है, आप अनुभव कर सकते हैं:

4. इंजेक्शन एंथ्रेक्स (Injection anthrax)

  • जहाँ इंजेक्शन लगाया गया था, वह जगह लाल हो जाती है, लेकिन क्यूटेनियस एंथ्रेक्स के जैसे काले बिंदु वाला फोड़ा नहीं होता है 
  • भारी सूजन

जैसे-जैसे बीमारी बढ़ती है, आप अनुभव कर सकते हैं:

  • सदमे का आभास
  • मेनिनजाइटिस
  • शरीर के कई अंग खराब हो जाना

डॉक्टर को मिलने का सही समय - 

कई आम बीमारियां फ्लू के समान लक्षणों से शुरू होती हैं। अगर आपके गले और मांसपेशियों में दर्द है तो, एंथ्रेक्स इसका कारण होने की सम्भावना बहुत कम है। अगर आपको लगता है कि आपको एंथ्रेक्स होने की सम्भावना है - उदाहरण के लिए, यदि आप ऐसे माहौल में काम करते हैं जहां आप एंथ्रेक्स से ग्रसित हो सकते हैं तो तुरंत ही देखभाल और उपयुक्त इलाज के लिए डॉक्टर से मिलें। शुरुआत में ही बीमारी का पता चल जाना और उपयुक्त उपचार महत्वपूर्ण है।

(और पढ़ें - मांसपेशियों में दर्द के घरेलू उपाय)

एंथ्रेक्स के कारण और जोखिम कारक - Anthrax Causes & Risk Factors in Hindi

एंथ्रेक्स क्यों होता है?

एंथ्रेक्स जीवाणु (spores), एंथ्रेक्स बैक्टीरिया द्वारा बनते हैं जो स्वाभाविक रूप से दुनिया के अधिकांश हिस्सों में मिट्टी में होता है। जीवाणु वर्षों तक निष्क्रिय रह सकता है जब तक कि वो किसी जानवर या इंसान तक नहीं पहुँच जाते। एंथ्रेक्स से आम तौर पर ग्रसित होने वाले जानवरों में शामिल हैं - भेड़, मवेशी, घोड़े और बकरियों जैसे जंगली या घरेलू जानवर।  

अक्टूबर 2014 में, भारत के एक गांव में एंथ्रेक्स के फैलने ने कथित रूप से सात लोगों की हत्या कर दी थी। यह गांव झारखंड के भारतीय राज्य के भीतर सिमदेगा जिले में स्थित था। जिसके कारण भारतीय सरकार के स्वास्थ्य कर्मियों ने 30 घरों को बीमारी से प्रभावित जगहों से दूर भेज दिया। अधिकारियों ने  एक गाय में एंथ्रेक्स बीजों के होने का पता किया, और पाया कि जिन लोगों ने मृत गाय को छुआ था या उसे खाया था, वे संक्रमित हो गए।

इंडियन नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल ने उस समय कहा था कि हाल के वर्षों में इस बीमारी से सबसे ज़्यादा मौतें अक्टूबर 2014 में देखने को मिलीं। सरकारी अधिकारियों ने पुष्टि परीक्षण के लिए दिल्ली में एक प्रयोगशाला में संदिग्ध एंथ्रेक्स के नमूने भेजे थे। पीड़ितों से जुड़े लोगों ने बताया था कि पीड़ितों ने खून की उल्टी की और छाती और पेट दर्द की शिकायत भी की थी।

किन कारणों से इसके होने की सम्भावना बढ़ जाती है?

एंथ्रेक्स से ग्रसित होने के लिए, एंथ्रेक्स स्पोर्स (बीजाणु) के साथ सीधे संपर्क में आना आवश्यक है। इसकी अधिक संभावना है यदि आप: 

  • सेना में हैं और ऐसी जगह तैनात हैं जहाँ एंथ्रेक्स के संपर्क में आने का जोखिम ज़्यादा हो 
  • एक प्रयोगशाला जिसमे एंथ्रेक्स मौजूद हो, वहां काम करते हैं 
  • यदि आप जानवरों की खाल, फर या ऊन से संबंधित काम करते हैं 
  • हेरोइन जैसे अवैध ड्रग्स इंजेक्शन के माध्यम से लेते हैं 

(और पढ़ें - वायरल इन्फेक्शन के लक्षण)

एंथ्रेक्स के बचाव के उपाय - Prevention of Anthrax in Hindi

अगर आप एंथ्रेक्स बैक्टीरिया से संपर्क में आ चुके हैं

एंथ्रेक्स से ग्रसित व्यक्ति में संक्रमण को रोकने के लिए एंटीबायोटिक्स लेने की सलाह दी जाती है। कृपया अपने डॉक्टर से बात करके ही दवाई लें।

बैक्टीरिया से संपर्क में आने से कैसे बचें?

आपके पास दो मुख्य रास्ते हैं -

  1. एंथ्रेक्स का टीका -
    मनुष्यों के लिए एक एंथ्रेक्स टीका उपलब्ध है। टीके में सक्रिय बैक्टीरिया नहीं होता है और इससे कोई इन्फेक्शन भी नहीं हो सकता है लेकिन इसके साइड इफेक्ट्स हैं, जिस जगह इंजेक्शन लगा हो उस जगह  दर्द से लेकर गंभीर एलर्जी की समस्या तक हो सकती है। इस टीके को बच्चों और वृद्ध लोगों को इस्तेमाल न करने की सलाह दी जाती है।
     
  2. संक्रमित जानवरों से बचाव -
    यदि आप ऐसे देश में रहते हैं या किसी ऐसी जगह यात्रा करते हैं जहां एंथ्रेक्स आम है और जानवरों का नियमित रूप से टीकाकरण नहीं किया जाता है, तो जितना संभव हो, उनके और उनकी खाल के संपर्क में आने से बचें। कच्चा मांस न खाएं। 

(और पढ़ें - एंटीबायोटिक दवा लेने के लिए सावधानियाँ)

एंथ्रेक्स का निदान - Diagnosis of Anthrax in Hindi

जैसा कि ऊपर बताया गया है की एंथ्रेक्स के लक्षण कई सामान्य बीमारियों से मेल खाते हैं। इसलिए आपके डॉक्टर पहले दूसरी,अधिक सामान्य बीमारियां जैसे फ़्लू (इन्फ्लूएंजा) या निमोनिया की जांच करेंगे। उदाहरण के तौर पर इन्फ्लूएंजा का तुरंत पता लगाने के लिए आपका फ्लू टेस्ट (परीक्षण) किया जा सकता है। अगर आपके ये सभी टेस्ट नकारात्मक (नेगेटिव) आते हैं, तो आपको फिर अन्य टेस्ट कराने की जरूरत पड़ सकती है, जिनसे एंथ्रेक्स की जांच की जा सके, जैसे कि -

  • स्किन टेस्टिंग (त्वचा परीक्षण) -
    संदिग्ध घाव वाली त्वचा से तरल पदार्थ का नमूना लेकर उसे लैब में क्यूटेनियस एंथ्रेक्स का पता लगाने के लिए टेस्ट किया जाता है जिसे आमतौर पर बायोप्सी कहते हैं।
     
  • ब्लड टेस्ट (रक्त परीक्षण) -
    एंथ्रेक्स बैक्टीरिया की जांच के लिए के लिए छोटी मात्रा में शरीर से खून लेकर लैब में जांचा जाता है।
     
  • चैस्ट (छाती) एक्स-रे या सीटी स्कैन -
    इनहेलेशन एंथ्रेक्स की जांच के लिए डॉक्टर आपका सीटी स्कैन करवा सकते हैं।
     
  • मल परीक्षण (Stool testing) -
    गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल एंथ्रेक्स का पता लगाने के लिए, आपके डॉक्टर आपके मल के नमूने की जांच कर सकते हैं।
     
  • स्पाइनल टैप (Spinal tap) -
    इस टैस्ट में, आपके डॉक्टर आपकी रीढ़ की हड्डी में एक सुई डालते हैं और तरल पदार्थ की थोड़ी मात्रा निकालकर उसकी जांच करते हैं। यह टैस्ट आमतौर पर एंथ्रेक्स मेनिंगजाइटिस की जांच के लिए किया जाता है।

(और पढ़ें - लैब टेस्ट)

एंथ्रेक्स का इलाज - Anthrax Treatment in Hindi

एंथ्रेक्स के उपयुक्त उपचार का एंटीबायोटिक का 60 दिन का कोर्स होता है। कौन सा एंटीबायोटिक आपके लिए सबसे प्रभावी होगा, ये कई बातों पर निर्भर करता है, जैसे कि ​

  • आप एंथ्रेक्स से कैसे संक्रमित हुए हैं?
  • आपकी उम्र कितनी है?
  • आपके शरीर का संपूर्ण स्वास्थ्य कैसा है? 
  • कुछ अन्य कारण

जल्द से जल्द शुरू करने पर उपचार सबसे प्रभावी सिद्ध होता है।

हालांकि इनहेलेशन एंथ्रेक्स अधिक बढ़ जाने के मामले में कभी-कभी एंटीबायोटिक्स भी अपना असर नहीं दिखाती है। अगर बीमारी आखिरी चरण या उसके आस पास हो तो उस केस में बैक्टीरिया शरीर में इतनी अधिक मात्रा में टोक्सिन (एक तरह का ज़हर) बना देता है जिसे दवाइयां ख़त्म नहीं कर पाती हैं।

अमेरिका में 2001 में बीमारी के प्रभाव के बाद, एंटीटॉक्सिन थेरेपी की शुरुआत की गयी। बीमारी के कारण होने वाले बैक्टीरिया को नष्ट करने के बजाय, ये तरीका संक्रमण के कारण पैदा हुए टोक्सिन (विषाक्त पदार्थ) को खत्म करने में मदद करता है। इन दवाओं को अभी भी प्रयोगात्मक माना जाता है।

इंजेक्शन एंथ्रेक्स के कुछ मामलों में संक्रमित ऊतक (tissue: मानव शरीर में कोशिकाओं से ऊतक बनते हैं, और ऊतक मिलकर अंदरूनी अंग बनाते हैं) को सफलतापूर्वक सर्जरी द्वारा शरीर से निकालकर इलाज किया गया था।

(और पढ़ें - सर्जरी)

एंथ्रेक्स की जटिलताएं - Anthrax Complications in Hindi

एंथ्रेक्स की सबसे गंभीर जटिलता, मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी को ढकने वाली झिल्ली और तरल पदार्थ की सूजन है। इससे "हेमोराजिक मैनिंजाइटिस" (hemorrhagic meningitis: बड़ी मात्रा में मस्तिष्क में खून का बहना) नामक बीमारी हो जाती है, और मृत्यु तक हो जाती है।

(और पढ़ें - सूजन कम करने के उपाय)



संदर्भ

  1. MedlinePlus Medical Encyclopedia: US National Library of Medicine; Anthrax
  2. Melissa Conrad Stöppler. Anthrax. eMedicineHealth. [health]
  3. orld Health Organization [Internet]. Geneva (SUI): World Health Organization; Guidance on anthrax: frequently asked questions
  4. National Institute of Health and Family Welfare. Anthrax. Health and Family Welfare. [internet]
  5. U.S. Department of Health & Human Services. A History of Anthrax. Centers for Disease Control and Prevention. [internet]

एंथ्रेक्स के डॉक्टर

Dr. Arun R Dr. Arun R संक्रामक रोग
5 वर्षों का अनुभव
Dr. Neha Gupta Dr. Neha Gupta संक्रामक रोग
16 वर्षों का अनुभव
Dr. Lalit Shishara Dr. Lalit Shishara संक्रामक रोग
8 वर्षों का अनुभव
Dr. Alok Mishra Dr. Alok Mishra संक्रामक रोग
5 वर्षों का अनुभव
डॉक्टर से सलाह लें

एंथ्रेक्स की दवा - Medicines for Anthrax in Hindi

एंथ्रेक्स के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

दवा का नाम

कीमत

₹90.3

20% छूट + 5% कैशबैक


₹96.36

20% छूट + 5% कैशबैक


₹90.29

20% छूट + 5% कैशबैक


₹137.83

20% छूट + 5% कैशबैक


₹46.9

20% छूट + 5% कैशबैक


₹29.65

20% छूट + 5% कैशबैक


₹91.0

20% छूट + 5% कैशबैक


₹16.23

20% छूट + 5% कैशबैक


₹182.7

20% छूट + 5% कैशबैक


₹91.7

20% छूट + 5% कैशबैक


Showing 1 to 10 of 986 entries
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ