दमा (अस्थमा) पर आम सवालों के जवाब

सवाललगभग 2 साल पहले

मेरे पति को रात 3 बजे के करीब खांसी होने लगती है। उन्हें बचपन में अस्थमा था। जैसे-जैसे यह बड़े होते गए यह प्रॉब्लम कम होती गई और फिर एकदम से रूक गई। अब उनकी उम्र 48 साल है, क्या उन्हें दोबारा अस्थमा हो सकता है और क्या रात को उन्हें अस्थमा अटैक ही आता है? अगर हां, तो अभी हमें क्या करना चाहिए?

Dr. R.K Singh MBBS

जी हां, अस्थमा का एक लक्षण खांसी भी है लेकिन इसका मुख्य लक्षण सांस लेने में दिक्कत है। हो सकता है जुकाम की वजह से उनकी छाती में कफ जम हो गया हो। बिना जांच किए ये नहीं बताया जा सकता है कि आपके पति को खांसी क्यों हो रही है। इसके लिए चेस्ट स्पेशलिस्ट या पल्मोनोलॉजिस्ट को दिखाएं। अस्थमा की बीमारी दोबारा हो सकती है।

सवाललगभग 2 साल पहले

मुझे एलर्जी की वजह से अस्थमा अटैक आया है। अटैक आने पर एक बार इनहेलर के इस्तेमाल से आराम नहीं मिल पाता है। मुझे इनहेलर के 2-3 डोज लेने पड़ते हैं। क्या 2-3 डोज लेना सही है?

Dr. Uday Nath Sahoo MBBS

अस्थमा के अटैक से बचने के लिए आप डाइट में प्रोटीन और वसा युक्त भोजन, ठन्डे पेय पदार्थ, मांस, अंडा आदि न खाएं और स्मोकिंग व शराब के सेवन से भी बचें। आपका इनहेलर अटैक को कंट्रोल नहीं कर पा रहा है तो हो सकता है कि आपकी स्थिति गंभीर रूप ले चुकी हो। आप तुरंत डॉक्टर को दिखाएं।

सवाललगभग 2 साल पहले

मेरी पत्नी को कल शाम अस्थमा अटैक आया था। अस्थमा के लिए वह डोज में 2 पफ साल्बुटामोल इनहेलर लेती है। उसने कल अटैक के दौरान 2 पफ लिए थे जिसका कोई असर नहीं हुआ और शाम के समय स्थिति और बिगड़ गई थी। इसके बाद उसने अगले स्टेज पर 5 मिनट में डोज के 10 पफ लिए जिसके बाद उसे आराम मिला। मैं जानना चाहता हूं कि 12 घंटे में कितनी बार इनहेलर पफ लेना चाहिए?

Aakash Shah MBBS, MBBS

अस्थमा अटैक को ट्रिगर करने वाली चीजों से दूर रहें ताकि पहले की तरह उन्हें दोबारा इतना तेज अटैक न पड़े। आपकी पत्नी को अस्थमा का अटैक आया था और अटैक के दौरान इनहेलर ने पूरी तरह से असर नहीं किया तो ये बात नॉर्मल नहीं है। आपकी पत्नी की स्थिति गंभीर हो सकती है। आप जल्द से जल्द उन्हें पल्मोनोलॉजिस्ट को दिखाएं। साल्बुटामोल इन्हेलर के पफ को 12 घंटे में 2 से 3 बार ही लेना होता है और बाकी साल्बुटामोल पफ जरूरत के हिसाब से ही लिया जाता है। 

सवाललगभग 2 साल पहले

मुझे अस्थमा है, कभी-कभी मेरी सांस फूलने लगती है। मैं अपनी प्रॉब्लम को कैसे ठीक कर सकता हूं?

Dr. Tarun kumar MBBS

अस्थमा को कंट्रोल में रखने के लिए एंटी-ऑक्सीडेंट युक्त फल और सब्जियां खाएं और इसी के साथ विटामिन-ए, विटामिन-सी और विटामिन-ई युक्त फल खाएं, सुबह योगा करें, रात को सोने से पहले एक गिलास गुनगुना पानी पी कर सोएं, एलर्जी से बचें और सकारात्मक एवं खुश रहा करें। सांस फूलने की प्रॉब्लम के लिए डॉक्टर की सलाह से इनहेलर लें। अस्थमा की समस्या में प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट और वसा युक्त चीजों का सेवन कम करना चाहिए। ठंडे पेय, आइसक्रीम जैसी ठंडी चीजों का सेवन बिलकुल ना करें। अंडे, मछली, मांस या चॉकलेट का अधिक सेवन अस्थमा की स्थिति को बिगाड़ सकता है। अचार और मसालेदार भोजन के सेवन से बचें। दमा के अटैक से बचने के लिए शराब और धूम्रपान का सेवन कभी नहीं करें। इन सब बातों का ध्यान रख कर आप अपनी प्रॉब्लम को कंट्रोल कर सकते हैं।

सवाललगभग 2 साल पहले

मुझे अस्थमा है जिसके लिए मैं इन्हेलर का इस्तेमाल करता हूं। मुझे क्या करना चाहिए जिससे मुझे भविष्य में अस्थमा अटैक न पड़े?

Dr. Saurabh Dhamdhere MBBS

अस्थमा को कंट्रोल में रखने के लिए एंटी-ऑक्सीडेंट युक्त फल और सब्जियां खाएं और इसी के साथ विटामिन-ए, विटामिन-सी और विटामिन-ई युक्त फल खाएं, सुबह योगा करें, रात को सोने से पहले एक गिलास गुनगुना पानी पी कर सोएं, एलर्जी से बचें और सकारात्मक एवं खुश रहा करें। सांस फूलने की प्रॉब्लम के लिए डॉक्टर की सलाह से इनहेलर लें। अस्थमा की समस्या में प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट और वसा युक्त चीजों का सेवन कम करना चाहिए। अगर आप इन सभी बातों का ध्यान रखते हैं तो भविष्य में अस्थमा अटैक को रोक सकते हैं।

सवाललगभग 2 साल पहले

मेरे बेटे को अस्थमा है, वह अभी छोटा है लेकिन उसे इस बारें में बताना जरूरी है। मुझे इस बीमारी के बारें में उसे किस तरह बताना चाहिए?

Dr. Manju Shekhawat MBBS

बच्चों से अस्थमा के बारें में बात करना आसान नहीं है क्योंकि कुछ बच्चे इस बारे में जानकर बहुत डर जाते हैं। अपने बेटे से खुलकर इस बारे में बात करें और इस काम में आप उसके डॉक्टर की मदद भी ले सकती हैं।

सवाललगभग 2 साल पहले

क्या अस्थमा से ग्रस्त बच्चे भी खेल सकते हैं?

Dr. Kumawat Vijay Kumar MBBS

पहले अस्थमा से ग्रस्त बच्चों को घर में रहने और कुछ न खेलने के लिए कहा जाता था लेकिन आज सामान्य तौर पर अस्थमा वाले बच्चों को भी खेलने की सलाह दी जाती है क्योंकि एक्सरसाइज से फेफड़ों की मांसपेशियों को मजबूती मिलती है और अस्थमा के लक्षणों को कम करने में मदद मिलती है। इसी के साथ फेफड़े लंबे समय तक ठीक तरह से काम कर पाते हैं। लेकिन फिर भी अपने बच्चे को किसी खेल में हिस्सा दिलाने से पहले डॉक्टर से बात जरूर कर लें। क्योंकि कुछ तरह के खेलों की वजह से उसकी स्थिति और बिगड़ सकती है। कोई खेल खेलने से पहले बच्चे को 20 से 30 मिनट पहले एल्ब्युटेरोल इनहेलर लेना चाहिए।

सवाललगभग 2 साल पहले

मेरे बेटे को अस्थमा है। उसके अस्थमा के लक्षण को कंट्रोल करने के लिए मुझे घर में किस तरह के बदलाव करने चाहिए?

Dr. Anjum Mujawar MBBS

अस्थमा के लक्षणों को कम करने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप अपने के वातावरण में बदलाव करें। उसे धूल-मिट्टी जैसी चीजों से दूर रखें क्योंकि ये अस्थमा को ट्रिगर करती हैं। उसे किसी तरह की एलर्जी न होने दें और सर्दी जुकाम से बचाएं। डॉक्टर द्वारा दी गई दवा का इस्तेमाल करें। इसके अलावा जिन चीजों से बच्चे को अस्थमा होता हो या एलर्जी हो, उसे उन चीजों से दूर रखें।

सवालएक साल के ऊपर पहले

अस्थमा को ठीक क्यों नहीं किया जा सकता है? ये लाइलाज क्यों है?

Dr. Saurabh Dhamdhere MBBS

अस्थमा ठीक नहीं हो सकता है लेकिन इसके लक्षणों को कंट्रोल किया जा सकता सकता है। अस्थमा की स्थिति समय के साथ बदलती रहती है। डॉक्टर के साथ मिलकर ट्रीटमेंट के साथ-साथ अस्थमा के अटैक को रोकने पर काम कर सकते हैं।

डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ