बदन दर्द - Body Pain in Hindi

Dr. Nadheer K M (AIIMS)MBBS

October 24, 2017

July 23, 2021

बदन दर्द
बदन दर्द

बदन में दर्द क्या है ?

दर्द, शरीर में एक अप्रिय सनसनी होती है जो तंत्रिका तंत्र से शुरू होती है। कई कारकों (जैसे पर्यावरण, जैविक, भावनात्मक, संज्ञानात्मक आदि) के आधार पर शरीर में दर्द की शुरुआत अचानक या धीरे-धीरे हो सकती है। दर्द से पीड़ित व्यक्ति ही उसकी तीव्रता और आवृत्ति को ब्यान कर सकता है।

अधिकांश विकसित देशों में चिकित्सक परामर्श लेने के लिए दर्द सबसे सामान्य कारण है। यह कई चिकित्सा स्थितियों का एक प्रमुख लक्षण है और एक व्यक्ति के जीवन और सामान्य कार्यों के साथ हस्तक्षेप कर सकता है। साधारण दर्द निवारक दवाएं 20% से 70% मामलों में उपयोगी होती हैं।

बदन दर्द के प्रकार - Types of Body Pain in Hindi

बदन दर्द के कितने प्रकार होते हैं ?

आमतौर पर बदन दर्द के निम्नलिखित दो प्रकार होते हैं -

1. एक्यूट (अचानक होने वाला) बदन दर्द
एक्यूट दर्द बदन में किसी बीमारी या घटना के कारण होता है, जैसे चोट या सर्जरी। यह दर्द आमतौर पर अचानक होता है और फिर धीरे-धीरे कम हो जाता है या चिकित्सा उपचार के साथ ख़त्म हो जाता है।

एक्यूट दर्द हल्के से गंभीर तक हो सकता है और कुछ सप्ताह या महीनों तक रह सकता है। यदि उचित तरीके से इलाज किया जाए, तो तीव्र शारीरिक दर्द छह महीने में कम हो जाता है। यदि उपचार बीच में बंद कर दिया जाए, तो तीव्र दर्द से एक बहुकालीन दर्द बन सकता है।

2. क्रोनिक (बहुकालीन) बदन दर्द
क्रोनिक बदन दर्द बिना किसी स्पष्ट कारण के समय के साथ बना रहता है और चोट या बीमारी के ठीक होने के बावजूद भी नहीं जाता। क्रोनिक बदन दर्द कई हफ्तों या सालों तक रह सकता है। इससे पीड़ित व्यक्तियों को यह कमज़ोरी का कारण लग सकता है, जिसके परिणामस्वरूप उन्हें सामान्य रूप से कार्य करने में अक्षमता और अनिद्रा महसूस हो सकते हैं।

बदन दर्द के कारण और कारक - Body Pain Causes & Risk Factors in Hindi

बदन दर्द क्यों होता है ?

बदन दर्द के निम्नलिखित कारण हो सकते हैं -

बदन दर्द के जोखिम कारक क्या हैं?

  • ख़राब मुद्रा।
  • खराब शारीरिक स्थिति।
  • उन गतिविधियों के लिए मांसपेशियों या जोड़ों का उपयोग करना जिनके लिए वे सक्षम नहीं हैं।
  • अत्यधिक या अनुचित वज़न उठाना।
  • अचानक से कोई ऐसी शारीरिक गतिविधी करना जिसकी आपको आदत न हो, जैसे कि भारी वज़न उठना या शरीर को ज्यादा मोड़ना।
  • कड़ी शारीरिक गतिविधियां करना।
  • रीढ़ की हड्डी का विघटन जो अक्सर उम्र बढ़ने के साथ होता है, पीठ दर्द का कारण हो सकता है।

बदन दर्द से बचाव - Prevention of Body Pain in Hindi

बदन दर्द से कैसे बचा जा सकता है ?

बदन दर्द को उचित आहार खाने, सही वज़न बनाए रखने और व्यायाम से मांसपेशियों को लचीला बनाए रखने से बदन दर्द को कम या रोका जा सकता है। यहां तक कि चलने या तैराकी जैसी कम प्रभाव वाली शारीरिक गतिविधियां, शक्ति, लचीलापन और धीरज बढ़ाकर शरीर में दर्द को रोकने में मदद कर सकती हैं।

बदन दर्द से बचने के कुछ अन्य तरीके निम्नलिखित हैं -

  1. बैठने और खड़े होने पर सही आसन बनाए रखें।
  2. भारी वस्तुओं को उठाने के लिए अपने पैरों का उपयोग करें।
  3. भारी वस्तुओं को अपने शरीर के पास रखकर उठाएं और दिशा बदलने के लिए अपनी कमर का नहीं बल्कि पैरों का उपयोग करें।
  4. शरीर का एक स्वस्थ वज़न बनाए रखें। अतिरिक्त वज़न शरीर की मांसपेशियों, विशेष रूप से पीठ की मांसपेशियों में दर्द कर सकता है।

बदन में दर्द का इलाज - Body Pain Treatment in Hindi

बदन दर्द का इलाज क्या है?

बदन दर्द का उपचार निम्नलिखित तरीकों से किया जा सकता है -

  1. दर्द की दवाएं
  2. इंजेक्शन
  3. एक्यूपंक्चर
  4. योग
  5. हिप्नोसिस
  6. मालिश
  7. कॉर्टिकोस्टेराइड इंजेक्शन - कॉर्टिकोस्टेराइड इंजेक्शन विभिन्न प्रकार की दर्दनाक परिस्थितियों जैसे खेल में लगने वाली चोट, जोड़ों के दर्द और पुराने ऑस्टियोआर्थ्राइटिस के दर्द में उपयोग किए जाते हैं। डॉक्टर से बात करे बिना इसको इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। 
  8. तंत्रिका ब्लॉक करने के लिए इंजेक्शन - जब तंत्रिका ब्लॉक करने के लिए इंजेक्शन दिया जाता है, तो इससे दर्द की सनसनी रुक जाती है। यह गंभीर मामलों में ही उपयोग किया जाता है। डॉक्टर की सलाह के बिना इसका उपयोग नहीं किया जाना चाहिए। 
  9. मादक दवाएं - गंभीर दर्द का इलाज करने के लिए मादक दवाओं (ऑपोएड) का उपयोग किया जाता है।

बदन में दर्द की जटिलताएं - Body Pain Complications in Hindi

बदन दर्द से क्या जटिलताएं पैदा हो सकती हैं?

निरंतर दर्द रहने से शरीर में निम्न से सम्बंधित समस्याएं हो सकती हैं और इन्हें निरंतर इलाज की आवश्यकता रह सकती है -

  1. अंतःस्रावी (Endocrine)
  2. हृदय (Heart)
  3. प्रतिरक्षा प्रणाली (Immune system)
  4. स्नायविक (Neurologic)
  5. मांसपेशियों व हड्डियों


संदर्भ

  1. Stuart Ralston, Ian Penman, Mark Strachan, Richard Hobson. Davidson's Principles and Practice of Medicine E-Book. 23rd Edition: Elsevier; 23rd April 2018. Page Count: 1440
  2. J. Larry Jameson et al. Rediff Books Flipkart Infibeam Find in a library All sellers » Shop for Books on Google Play Browse the world's largest eBookstore and start reading today on the web, tablet, phone, or ereader. Go to Google Play Now » Books on Google Play Harrison's P. 20, illustrated; McGraw-Hill Education, 2018. 4400 pages
  3. National Health Service [Internet]. UK; Treatment - Fibromyalgia
  4. U.S. Department of Health & Human Services. Myalgic Encephalomyelitis/Chronic Fatigue Syndrome. Centre for Disease Control and Prevention; [Internet]
  5. Sheldon Cohen et al. Chronic stress, glucocorticoid receptor resistance, inflammation, and disease risk. The Rockefeller University, New York, NY, and approved February 27, 2012.

बदन दर्द के डॉक्टर

Dr. Tushar Verma Dr. Tushar Verma ओर्थोपेडिक्स
5 वर्षों का अनुभव
Dr. Urmish Donga Dr. Urmish Donga ओर्थोपेडिक्स
3 वर्षों का अनुभव
Dr. Sridhar Reddy Dr. Sridhar Reddy ओर्थोपेडिक्स
4 वर्षों का अनुभव
Dr. Sunil Kumar Yadav Dr. Sunil Kumar Yadav ओर्थोपेडिक्स
3 वर्षों का अनुभव
डॉक्टर से सलाह लें

बदन दर्द की दवा - Medicines for Body Pain in Hindi

बदन दर्द के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

दवा का नाम

कीमत

₹35.0

20% छूट + 5% कैशबैक


₹52.5

20% छूट + 5% कैशबैक


₹113.4

20% छूट + 5% कैशबैक


₹103.0

20% छूट + 5% कैशबैक


₹52.75

20% छूट + 5% कैशबैक


₹119.0

20% छूट + 5% कैशबैक


₹97.85

20% छूट + 5% कैशबैक


₹86.45

20% छूट + 5% कैशबैक


₹33.3

20% छूट + 5% कैशबैक


₹71.76

20% छूट + 5% कैशबैक


Showing 1 to 10 of 995 entries

बदन दर्द की ओटीसी दवा - OTC Medicines for Body Pain in Hindi

बदन दर्द के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ