myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

केमिकल बर्न क्या है?

किसी रसायन से जलने की स्थिति को केमिकल बर्न कहा जाता है। यह अक्सर तब होता है जब किसी व्यक्ति की त्वचा या आंखें एसिड, क्षार या समतुल्य (इसी के समान कोई अन्य पदार्थ) के संपर्क में आती हैं। केमिकल बर्न को कॉस्टिक बर्न के रूप में भी जाना जाता है। अगर खतरनाक रसायन शरीर के अंदर चले जाएं तो ये आंतरिक अंगों को नुकसान पहुंचा सकते हैं। यदि ऐसा होता है तो आपको तुरंत इस बात की जांच करनी चाहिए कि मुंह में कहीं कट या जलन तो नहीं हो रही है। अगर ऐसा है, तो डॉक्टर के पास जाकर चेकअप कराने की जरूरत है। स्थिति गंभीर होने पर तुरंत अस्पताल या आपातकालीन कक्ष में जाएं।

  1. केमिकल बर्न के लक्षण कैसे होते हैं - Chemical burns kaise pehchane
  2. केमिकल से जलने के कारण - Chemical burn kis vajah se ho sakta hai
  3. केमिकल से जलने पर प्राथमिक उपचार - Chemical se jalne par kya karen
  4. केमिकल से जलने पर क्या करें के डॉक्टर
  • काली या मृत त्वचा
  • लालिमा या प्रभावित हिस्से में जलन
  • प्रभावित हिस्से का सुन्न या दर्द होना

केमिकल बर्न के लक्षण इसके कारण के आधार पर भिन्न हो सकते हैं, जैसे कि:

  • रसायन के संपर्क में कितनी देर तक थे 
  • रसायन सांस के माध्यम से या गलती से निगल लिया गया हो
  • शरीर का कौन-सा हिस्सा प्रभावित है 
  • रसायन की मात्रा और उसका असर 
  • क्या रसायन गैस, तरल या ठोस था
  • यदि कोई व्यक्ति क्षारीय (एल्केलाइन) रसायन निगल लेता है, तो यह उसके पेट में जलन पैदा कर सकता है और ऐसी स्थिति में लक्षण थोड़े अलग हो सकते हैं।

ज्यादातर केमिकल बर्न का मुख्य कारण एसिड होते हैं। केमिकल बर्न रासायनिक पदार्थों के संपर्क में आने वाली किसी भी जगह (स्कूल, ऑफिस या किसी भी स्थान) पर हो सकता है। रसायन से जलने के कारण निम्न हो सकते हैं:

  • कार की बैटरी से निकलने वाला एसिड
  • ब्लीच
  • अमोनिया
  • डेन्चर क्लीनर (नकली दांत साफ करने वाला पदार्थ)
  • दांतों को सफेद करने वाले पदार्थ

केमिकल बर्न की स्थिति में तुरंत प्राथमिक चिकित्सा दी जानी चाहिए। इसमें बर्न करने वाले केमिकल को निकाला जाता है और 10 से 20 मिनट तक त्वचा को बहते पानी में धोया जाता है। यदि कोई हानिकारक रसायन आंखों में चला जाए, तो कम से कम 20 मिनट तक आंखों को साफ पानी से बार-बार धोएं। 

अगर किसी कपड़े या गहने पर केमिकल गिरा है तो उसे तुरंत निकाल दें। यदि संभव हो तो प्रभावित हिस्से को किसी साफ और सूखे कपड़े से थोड़ा ढीला बांधें। यदि ऊपरी त्वचा जली है, तो ओवर-द-काउंटर यानी ओटीसी (डॉक्टर के पर्चे के बिना ली जाने वाली दवा) दर्द निवारक दवा जैसे इबुप्रोफेन या एसिटामिनोफेन दवाइयां ले सकते हैं। बर्न अधिक गंभीर होने पर आपको तुरंत अस्पताल जाना चाहिए।

निम्न स्थितियों में तुरंत अस्पताल जाना चाहिए:

  • जलने का निशान तीन इंच से बड़ा होने पर 
  • चेहरा, हाथ, पैर, कमर या नितंब के जलने पर
  • घुटने जैसे प्रमुख जोड़ के जलने पर 
  • जब ओटीसी दवाओं से दर्द नियंत्रित न हो

जितना हो सके हानिकारक और खतरनाक केमिकलों से दूर रहने की कोशिश करें। अगर गलती से केमिकल बर्न हो भी गया है तो तुरंत प्राथमिक उपचार अपनाएं और तब भी राहत न मिले तो डॉक्टर को दिखाने में देरी न करें।

Dr. Priya Punyani

Dr. Priya Punyani

आकस्मिक चिकित्सा
1 वर्षों का अनुभव

Dr. Priyam Upadhyay

Dr. Priyam Upadhyay

आकस्मिक चिकित्सा
8 वर्षों का अनुभव

Dr. Tushau Prasad

Dr. Tushau Prasad

आकस्मिक चिकित्सा
10 वर्षों का अनुभव

Dr. Saptarshi Bhattacharya

Dr. Saptarshi Bhattacharya

आकस्मिक चिकित्सा
12 वर्षों का अनुभव

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें