myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

बुखार के फफोले या फफोले होंठो के बाहर नजर आते हैं। इन्हें फीवर ब्लिस्टर या कोल्ड सोर (कोल्ड सोर्स) भी कहते हैं। ये होंठों के किनारों के आसपास सरल परिसर्प वायरस (हर्पीस सिम्पलेक्स वायरस) से होने वाला संक्रमण है। अक्सर लोग इनके और मुंह के छालों के बीच अंतर नहीं कर पाते जबकि मुंह के अंदर या मसूड़ों के निचले भाग में छोटा उथला छाला ही मुंह का छाला होता है और फफोले अमूमन मुंह के आसपास की त्वचा पर होते हैं। खास तौर से होंठ के आसपास। ये बेहद ही संक्रामक होते हैं। ये शरीर के अन्य हिस्सों जैसे कि नाक और यहां तक की जननांगों तक भी फैल सकते हैं। हालांकि ऐसा बहुत कम मामलों में होता है। इस बीमारी के साथ ही कुछ अन्य लक्षण भी शरीर में देखने को मिलते हैं जैसे कि बुखार, मतली, सिरदर्द, गले में खराश और शरीर में पानी की बहुत अधिक कमी हो जाना।

अध्ययन के मुताबिक करीब 80 फीसदी लोग अपने जीवन में एक बार इस वायरस की चपेट में आते हैं।

ये घाव आमतौर पर छाले के बाद एक झुनझुनी और खुजली की सनसनी के साथ शुरू होते हैं। सौभाग्य से, यह एक आत्म-सीमित स्थिति है और छाला लगभग दो सप्ताह में बिना कोई निशान छोड़े गायब हो जाता है। हालाँकि, आप निश्चित रूप से कुछ सरल उपचारों का उपयोग करके उपचार प्रक्रिया को तेज कर सकते हैं।

 

  1. कोल्ड सोर के लिए घरेलू उपचार - home remedies for cold sores
  2. कोल्ड सोर्स के लिए बर्फ - Ice for cold sores
  3. कोल्ड सोर्स के लिए हीट थेरेपी - Heat therapy for fever blisters
  4. फीवर ब्लिस्टर के लिए टी ट्री ऑइल - Tea tree oil for fever blisters
  5. कोल्ड सोर के लिए पोदीने का तेल - Peppermint oil for cold sore
  6. एप्पल साइडर सिरका का उपयोग फीवर ब्लिस्टर में - Use of Apple cider Vinegar in fever blister
  7. ग्रीन टी बैग का उपयोग कोल्ड सोर्स में - Green Tea bag in cold sore
  8. एलोवेरा जेल का प्रयोग फीवर ब्लिस्टर में - Aloe vera gel in fever blister
  9. कोल्ड सोर से कैसे निपटें - Tips for the management of cold sores

कोल्ड सोर वास्तव में दर्दनाक और असुविधाजनक हो सकते हैं। वे रोगी के दैनिक जीवन में हस्तक्षेप करते हैं जो खाने, पीने और बोलने में कठिनाई करते हैं, साथ ही होंठ पर दर्द होता है। यहां कुछ घरेलू उपचार दिए गए हैं जो आपको कोल्ड सोर्स के दर्द और परेशानी से राहत दिलाने में मदद कर सकते हैं।

कोल्ड सोर्स के लिए बर्फ उतनी ही प्रभावी होती है, जितनी किसी अन्य प्रकार के ब्लिस्टर के लिए। प्रभावित जगह पर बर्फ लगाने से दर्द से तुरंत राहत मिलती है और सूजन भी कम होती है। इसलिए बर्फ का प्रयोग राहत करने के लिए एक अच्छा विचार हो सकता है।

आवश्यक सामग्री:

  • बर्फ के टुकड़े
  • आईना

कैसे करें:

  • एक साफ कटोरे में कुछ बर्फ के टुकड़े लें।
  • एक शीशे के सामने खड़े हो जाएं।
  • अपने हाथ में एक आइस क्यूब उठाएं।
  • इसे प्रभावित जगह पर लगाएं।
  • इसे कुछ मिनटों के लिए रुक-रुक कर करें।
  • इसे दिन में तीन बाद दोहराएं और तब तक करें जब तक छाला रहे।

नोट:

  • संक्रमण फैलने से बचाने के लिए प्रभावित क्षेत्र पर बर्फ लगाने से पहले और बाद में अपने हाथों को अच्छी तरह से साफ करना सुनिश्चित करें। (और पढ़े - त्वचा पर बर्फ लगाने के फायदे)
  • अपनी त्वचा पर आइस क्यूब को एक बार में ज्यादा देर तक न रखें। (और पढ़े - बर्फ की सिकाई कैसे करे)
  • यदि आप ठंड की वजह से सीधे बर्फ नहीं लगा सकते हैं तो बस कुछ बर्फ को कपड़े के पतले टुकड़े में लपेट सकते हैं और इसे ठंडे सेक के रूप में उपयोग कर सकते हैं। फिर से उपयोग करने से पहले कपड़े को एंटीसेप्टिक के साथ धो लें। यह संक्रमण को फैलने से बचाएगा।

हीट थेरेपी बुखार के फफोले के लिए एक और अच्छा उपाय है। यह दाद के सिंप्लेक्स वायरस को बढ़ने से कम करने में मदद करता है। यदि कुछ सेकंड के लिए लगभग 50 डिग्री सेल्सियस का तापमान गले पर लगाया जाता है, तो यह वायरल प्रतिकृति को पूरी तरह से अवरुद्ध कर सकता है। आप घर पर हीट थेरेपी ले सकते हैं, इसके लिए आपको जरूरत होगी: (और पढ़े - सिकाई करने के फायदे)

आवश्यक सामग्री:

  • जल
  • बॉयलर
  • एक पतीला
  • साफ सूती कपड़ा

कैसे करें:

  • एक पतीले में थोड़ा पानी उबालें।
  • इसे ठंडे तापमान पर नॉर्मल होने दें।
  • अब, इस गर्म पानी में एक साफ सूती कपड़ा भिगोएँ।
  • अतिरिक्त पानी को हटा दें और प्रभावित क्षेत्र पर कपड़ा लगा दें।
  • इसे ठंडा होने तक रख दें।
  • कुछ और बार दोहराएं।
  • यह तीन बार दैनिक करें जब तक फीवर ब्लिस्टर गायब नहीं हो जाता। और पढ़े - ओवरहाइड्रेशन के लक्षण)

नोट:

पानी के तापमान का ध्यान रखें। अगर पानी बहुत गर्म है तो आप अपनी त्वचा को जला सकते हैं और अगर यह उतना गर्म नहीं है, तो इसका कोई असर नहीं होगा। इसलिए सुनिश्चित करें कि पानी का तापमान प्रभावी होने के लिए सही है। (और पढ़े - पानी कब कितना और कैसे पीना चाहिए)

टी ट्री ऑयल का प्रयोग हरपीज सिंप्लेक्स वायरस के खिलाफ प्रभावी पाया गया है। हालांकि प्रभावी परिणामों के लिए, संक्रमण के शुरुआती चरणों में इस तेल का उपयोग करना सबसे अच्छा है। घावों से जुड़े दर्द और सूजन पर इसका लगभग तत्काल प्रभाव पड़ता है। यहाँ आप कोल्ड सोर्स के मामले में टी ट्री ऑइल का उपयोग कर सकते हैं:

आवश्यक सामग्री :

  •  टी ट्री ऑयल
  •  तौलिया

कैसे करें

  • पहला और सबसे महत्वपूर्ण कदम है अपने हाथों को हैंडवॉश से ठीक से धोना।
  • अपने हाथों को एक साफ तौलिये से सुखाएं।
  • अब, अपनी उंगलियों पर कुछ टी ट्री ऑयल लें।
  • इसे प्रभावित जगह पर लगाएं।
  • इसे छोड़ दें और इसे अपना प्रभाव दिखाने दें।
  •  इसे रोजाना दो बार दोहराएं।
  •  संक्रमण फैलने से बचाने के लिए इस प्रक्रिया को पूरा करने के बाद अपना हाथ धोएं।

नोट:

  • कुछ लोग टी ट्री ऑयल के प्रति संवेदनशील हो सकते हैं। ऐसे में अकेला टी ट्री ऑयल लगाने की जगह इसे किसी अन्य तेल जैसे जैतून के तेल या नारियल के तेल के साथ मिला लें। अथवा घाव पर लगाने से पहले इसे एक बार त्वचा पर लगा कर इसका पैच टेस्ट कर लें और यह जांच लें कि आपको इससे एलर्जी तो नहीं है।
  • अगर फफोला एक दम मुंह के पास हो तो इसका उपयोग नहीं करें क्योंकि टी ट्री ऑयल मुंह में जाने पर घातक हो सकता है। इसका उपयोग बच्चों पर भी नहीं किया जाना चाहिए।

पेपरमिंट ऑयल एक अन्य तेल है जो फफोले के लिए वास्तव में मददगार हो सकता है। यह मेन्था पिपरेटा का सत यानि निचोड़ होता है। इसमें हर्पीस वायरस से निपटने के विशेष गुण होते हैं। इसके अलावा, पेपरमिंट ऑयल का त्वचा पर कोई दुष्प्रभाव नहीं होता है। इसलिए इसे चुनना एक अच्छा विकल्प हो सकता है। यहां बताया गया है कि आप फफोलों के इलाज के लिए पेपरमिंट तेल का उपयोग कैसे कर सकते हैं।

आवश्यक सामग्री:

कैसे करें:

  • हैंडवॉश से अपने हाथों को अच्छी तरह से धो लें और उन्हें सूखा दें।
  • अब अपनी उंगलियों पर पेपरमिंट ऑयल की कुछ बूंदें लें।
  • प्रभावित क्षेत्र पर तेल लगाएं।
  • आपको अपनी त्वचा नहीं धोनी है क्योंकि तेल अस्थिर होते हैं और वे कुछ ही मिनटों में खुद को वाष्पित कर लेते हैं।

ध्यान दें:

  • घोल बनाने के लिए नारियल तेल या बादाम के तेल में इस तेल की कुछ बूँदें मिलाएं।
  • यदि आप इसके प्रति संवेदनशील हैं, तो पेपरमिंट ऑयल के आवेदन से पहले आप पैच टेस्ट कर सकते हैं।
  • संक्रमण फैलने से बचाने के लिए पेपरमिंट ऑयल लगाने से पहले और बाद में अपने हाथ को अच्छी तरह से धोने की सलाह दी जाती है।

इसमें बहुत सारे मेडिकल फायदे होते हैं। इसमें एंटी इनफ्लेमेटरी गुण होते हैं जो सूजन से आराम दिलाते हैं। साथ ही दर्द से राहत भी प्रदान करते हैं। इसका लाभ उठाने के लिए या तो आप इसे ऐसे ही घाव पर लगाएं या अन्य तरीके से उपयोग लें। इसका उपयोग कैसे करना है यह हम आपको यहां बता रहे हैं।

आवश्यक सामग्री:

कैसे करें:

  •  एक साफ कटोरे में एक चम्मच एप्पल साइडर सिरका लें।
  •  इसे पतला करने के लिए 8-10 चम्मच पानी डालें।
  •  एक समरूप घोल बनाने के लिए ठीक से मिलाएं।
  •  अब एक कॉटन बॉल लें और उसे इस घोल में भिगो दें।
  • आवश्यकतानुसार इसे घाव पर लगाएं।
  • बेहतर परिणाम के लिए इसे रोजाना कम से कम दो बार करें।

टिप:

  • एप्पल साइडर सिरका के सीधे आवेदन से त्वचा में जलन हो सकती है। इसलिए आप इसका उपयोग करने से पहले पैच टेस्ट कर सकते हैं।
  • आप घोल में थोड़ा शहद भी मिला सकते हैं। शहद में घाव भरने के गुण होते हैं और छाले को जल्दी ठीक करने में मदद कर सकते हैं।

ग्रीन टी एक स्वास्थ्यप्रद पेय है। इसमें ढेर सारे एंटीऑक्सीडेंट्स और मेडिकल लाभ होते हैं। यह फीवर ब्लिस्टर्स के लिए भी एक प्रामाणिक औषधि है। यह त्वचा में हर्पीस वायरस के विकास को रोकती है। जिससे फफोले जल्दी से अच्छे हो जाते हैं। इसमें मौजूद बायोएक्टिव तत्व तंत्रिका तंत्र पर बेहद सकारात्मक प्रभाव ड़ालते हैं। इसे पीना और इसे लगाना दोनों ही बेहद फायदेमंद है। यहां हम आपको बता रहे हैं कि आप किस तरह बुखार के फफोलों में ग्रीन टी का इस्तेमाल कर सकते हैं।

आवश्यक सामग्री:

  •  ग्रीन टी के बैग्स
  •  पानी
  • बॉयलर
  • साफ बर्तन

कैसे करें:

  • साफ बर्तन में थोड़ा पानी लें
  •  पानी को गर्म करें
  • कुछ सेकंड के लिए इसमें एक टी बैग डुबोएं
  •  इस टी बैग को प्रभावित जगह पर रगड़ें और लगाएं।

ध्यान दें:

  • सुनिश्चित करें कि सुगंधित टी बैग न हों।
  • अपनी त्वचा पर लगाने से पहले टी बैग के ठंडे होने तक प्रतीक्षा करें।
  • यदि आप टी बैग के साथ सहज नहीं हैं, तो आप ग्रीन टी और शहद का घोल भी बना सकते हैं और इसे प्रभावित जगह पर लगा सकते हैं।

एलोवेरा जेल घावों सहित त्वचा की सभी समस्याओं के लिए सबसे अच्छा सामयिक उपचार है। एलोवेरा जेल का उपयोग करने का प्लस पॉइंट यह है कि इससे त्वचा में जलन या दुष्प्रभाव नहीं होता है। वास्तव में, इसका त्वचा पर ठंडा और सुखदायक प्रभाव होता है, जो फीवर ब्लिस्टर से जुड़े दर्द और जलन से राहत दिलाने में मदद करता है। अध्ययनों से पता चलता है कि इस में एक महत्वपूर्ण एंटीवायरल गुण होता है जो दाद सिंप्लेक्स वायरस के विकास को रोकने में मदद करता है। यह कोल्ड सोर्स के आसपास सूजन और लालिमा को कम करने में प्रभावी है।

बहुत सारे ब्रांडो ने बाजार में तरह तरह के एलोवेरा उत्पाद पेश किए हैं। इसमें क्रीम और लोशन दोनों शामिल है। हालांकि यदि आप घर ही पर एलोवेरा जैल बना कर इस्तेमाल करते हैं तो इसके फायदे कई गुना अधिक होंगे।

आवश्यक सामग्री:

  • एलोवेरा
  • ब्लेंडर
  • चाकू या छिलका उतारने वाला चाकू
  • स्वच्छ जल
  • कंटेनर
  • एक चम्मच

ऐसे बनाए:

  • एलोवेरा की पत्ती लें।
  • पत्ती पर कुछ छोटे-छोटे कट लगाएं और कुछ समय के लिए कटोरे में छोड़ दें।
  • थोड़ी देर के बाद, आप पीले चिपचिपे तरल को बाहर निकालते हुए देखेंगे। यह पीला पदार्थ लेटेक्स है। इसे पूरी तरह से सूखने दें।
  • पानी निकलने से पहले पत्ती को धो लें।
  • अब चाकू या छिलके का उपयोग करके उसका छिलका हटा दें।
  • आपको अंदर पारदर्शी एलोवेरा जेल मिलेगा।
  • धीरे से, चाकू के साथ एक साफ कटोरे में इस जेल को निकालें या आप चम्मच का उपयोग कर सकते हैं।
  • जेल को ठीक से ब्लेंड करें और एक साफ एयरटाइट कंटेनर में स्टोर करें।
  • एलो जेल बिना कुछ मिलाएं रेफ्रिजरेटर में लगभग एक सप्ताह तक रह सकता है।
    (और पढ़े - चेहरे पर एलोवेरा लगाने के फायदे)

ऊपर बताई गई घरेलू औषधियों के अलावा कुछ और भी ऐसी चीजें हैं जिनका उपयोग आप फीवर ब्लिसटर्स के नियंत्रण के लिए कर सकते हैं। आइए इन पर एक नजर ड़ालते हैं

  • फफोलों में सूखेपन के कारण होने वाली खुजली से बचने के लिए वैसलिन लगाएं।
  • बहुत अधिक मात्रा में शराब का सेवन न करें।
  • इन फफोलों को छुएं नहीं। इन्हें छूने और फिर कहीं और छू लेने से इसके वायरस फैल जाते हैं।
  • अपने हाथ नियमित रूप से धोएं और हाइजीन मैंटेन करें।
  • अगर झुनझुनी महसूस होने लगी है तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।
  • इस फफोले को मेकअप से न छुपाएं क्योंकि मेकअप के कैमिकल से इसमें खुजली और जलन हो सकती है।

डॉक्टर से कब मिलें?

फीवर ब्लिस्टर में डॉक्टर से मिलने की कोई आवश्यकता नहीं होती। हां, कुछ मामलों में स्थिति विकट हो सकती है। ऐसे में आपको तुरंत चिकित्सकीय सहायता लेनी चाहिए। यहां हम आपको कुछ परिस्थितियां बता रहे हैं, जिनमें आपको तुरंत डॉक्टर से मिलना चाहिए।

  • अगर आपका फफोला दो सप्ताह के बाद भी ठीक नहीं हो रहा हो।
  • अगर आपको यह तकलीफ बार बार हो जाती है।
  • अगर दर्द बहुत अधिक होता हो।
  • फफोलों के साथ तेज बुखार और उल्टी भी होती हो।
  • अगर नवजात शिशु को यह दिक्कत हो जाएं।
और पढ़ें ...

References

  1. Healthdirect Australia. Cold sores. Australian government: Department of Health
  2. National Health Service [Internet]. UK; Cold sores
  3. Better health channel. Department of Health and Human Services [internet]. State government of Victoria; Cold sores
  4. Wim Opstelten, Arie Knuistingh Neven, and Just Eekhof. Treatment and prevention of herpes labialis. 2008 Dec; 54(12): 1683–1687. PMID: 19074705.
  5. C. F. Carson,K. A. Hammer, and T. V. Riley. Melaleuca alternifolia (Tea Tree) Oil: a Review of Antimicrobial and Other Medicinal Properties. 2006 Jan; 19(1): 50–62, PMID: 16418522
  6. Schuhmacher A, Reichling J, Schnitzler P. Virucidal effect of peppermint oil on the enveloped viruses herpes simplex virus type 1 and type 2 in vitro.. 2003;10(6-7):504-10.PMID: 13678235.
  7. Gopal J, Anthonydhason V, Muthu M1, Gansukh E, Jung S, Chul S, Iyyakkannu S. Authenticating apple cider vinegar's home remedy claims: antibacterial, antifungal, antiviral properties and cytotoxicity aspect.. 2019 Mar;33(6):906-910. PMID: 29224370.
  8. Carol S. Johnston and Cindy A. Gaas. Vinegar: Medicinal Uses and Antiglycemic Effect. 2006; 8(2): 61.PMID: 16926800.
  9. Saeed Samarghandian, Tahereh Farkhondeh and Fariborz Samini. Honey and Health: A Review of Recent Clinical Research. 2017 Apr-Jun; 9(2): 121–127. PMID: 28539734.
  10. Aline de Oliveira, Sandra D. Adams, Lee H. Lee, Sean R. Murray, Stephen D, Jeffrey R. Hammond, Douglas Dickinson, Ping Chen, and Tin-Chun Chua. Inhibition of Herpes Simplex Virus type 1 with the modified green tea polyphenol palmitoyl-epigallocatechin gallate. 2012 Nov 23. PMID: 23182741.
  11. Fahimeh Rezazadeh, Maryam Moshaverinia, Mohammad Motamedifar and Montazer Alyaseri. Assessment of Anti HSV-1 Activity of Aloe Vera Gel Extract: an In Vitro Study. 2016 Mar; 17(1): 49–54.PMID: 26966709.