myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

भारत ने नए कोरोना वायरस (सीओवीआईडी-19) के चलते डायमंड प्रिंसेस क्रूज शिप में फंसे सौ से ज्यादा भारतीयों समेत अन्य देशों के नागरिकों को निकाल लिया है। खबरों के मुताबिक, एक विशेष विमान के जरिये करीब 119 लोगों को दिल्ली लाया गया है। इनमें पांच विदेशी नागरिक शामिल हैं। बताया जा रहा है कि ये पांचों लोग श्रीलंका, नेपाल, दक्षिण अफ्रीका और पेरू के रहने वाले हैं। वहीं, चीन से भी भारतीय वायु सेना का एक विमान 76 भारतीयों को लेकर स्वदेश लौटा है। यह विमान बुधवार को कोरोना वायरस से जूझ रहे चीन के लिए 15 टन मेडिकल राहत सामग्री लेकर वुहान शहर पहुंचा था। वापसी में विमान भारतीय नागरिकों समेत कई अन्य देशों के 36 नागरिकों को भी भारत लेकर आया है। इन विदेशियों में बांग्लादेश, म्यांमार, मालदीव, अमेरिका, दक्षिणा अफ्रीका और मैडागास्कर के नागरिक शामिल हैं।

भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर ने आज सुबह ट्विटर के जरिये ये दोनों अपडेट्स दीं। इस बीच पाकिस्तान से खबर आ रही है कि वहां कोरोना वायरस के पहले दो मामलों की पुष्टि की गई है। वहीं, अमेरिका में कोरोना वायरस को लेकर जताई जा रही आशंकाओं के बीच चिंताजनक खबरें सामने आ रही हैं।

(और पढ़ें - क्यों कोरोना वायरस को 'महामारी' घोषित करने से बच रहा है डब्ल्यूएचओ?)

तीन भारतीय विमान में नहीं चढ़े
भारतीय मीडिया में आई रिपोर्टों की मानें तो डायमंड्र प्रिंसेस के चालक दल के सदस्यों में शामिल तीन भारतीय भारत सरकार द्वारा भेजे गए विशेष विमान में नहीं चढ़े। ये सभी वायरस की जांच के लिए जापान सरकार द्वारा तय की गई अवधि के पूरा होने तक वहीं रहेंगे। बता दें कि बीती तीन फरवरी को जब योकोहामा बंदरगाह पर क्रूज शिप को रोका गया, उस समय उसमें कुल 138 भारतीय सवार थे। इनमें छह यात्री और बाकी चालक दल के सदस्य थे। अंतरराष्ट्रीय मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक, अभी तक 16 भारतीयों के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हो चुकी है। इन सभी का जापान के अलग-अलग अस्पतालों में इलाज किया जा रहा है।

अमेरिका में दहशत बढ़ी, चीन में सुधार जारी
अमेरिका में कोरोना वायरस की चर्चा जोर पकड़ती दिख रही है। बीते कुछ दिनों से यहां के वैज्ञानिक और मेडिकल जानकार चेतावनी दे रहे थे कि उनके देश में कोरोना वायरस के मामलों में तेज बढ़ोतरी हो सकती है। अब खबर है कि अमेरिका में एक ऐसे व्यक्ति के वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है, जो हाल के समय देश के बाहर नहीं गया। इसके बाद स्थानीय स्तर पर वायरस के फैलने की आशंका जताई गई है। यह जानकारी और आशंका सामने आते ही अमेरिकी मीडिया से लेकर सरकार तक में खलबली देखी जा रही है। कुछ देर पहले राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने खुद प्रेस को संबोधित करते हुए कहा कि अब कोरोना वायरस को रोकने के लिए किए जा रहे प्रयासों का नेतृत्व उपराष्ट्रपति माइक पेंस करेंगे।

(और पढ़ें - क्या वजह है कि कोरोना वायरस जैसे संक्रामक रोग पुरुषों के लिए ज्यादा घातक होते हैं?)

उधर, कोरोना वायरस के केंद्र चीन के हालात में सुधार जारी है। ताजा अपडेट्स के मुताबिक, बुधवार को चीन में केवल 32 नई मौतें दर्ज की गईं। वहीं, नए मामलों की संख्या केवल 435 रही। बीते एक हफ्ते से चीन में यही सिलसिला देखने को मिल रहा है, जिसे स्थानीय मेडिकल विशेषज्ञ अच्छा संकेत मान रहे हैं। 

फ्रांस में पहले नागरिक की मौत, इटली में हालात खराब
यूरोप में भी कोरोना वायरस का कहर जारी है। मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक, कोरोना वायरस से फ्रांस के पहले नागरिक के मारे जाने की पुष्टि हुई है। मृतक की उम्र 60 साल बताई जा रही है। बता दें कि फ्रांस में कोरोना वायरस से अब तक दो मौतें हुई हैं। इनमें से एक पीड़ित 80 वर्षीय चीनी नागरिक था। वहीं, इस यूरोपीय देश में सीओवीआईडी-19 के मामलों की संख्या में भी इजाफा हुआ है। बुधवार को तीन नए मामले सामने आने की पुष्टि हुई है। इससे कुल मामलों की संख्या 15 से 18 हो गई है।

(और पढ़ें - क्या लक्षण दिखे बिना भी फैल सकता है नया कोरोना वायरस?)

वहीं, सीओवीआईडी-19 से सबसे ज्यादा प्रभावित यूरोपीय देश इटली में कुल मामलों की संख्या 470 हो गई है। यूरोपीय मीडिया में आई खबरों के मुताबिक, बुधवार सुबह (स्थानीय समयानुसार) इटली में 400 मामलों की पुष्टि हुई थी। लेकिन शाम होते-होते यह संख्या 447 तक पहुंच गई और गुरुवार सुबह तक 23 और नए मामलों की पुष्टि हो चुकी थी। इस तरह कुल मामलों की संख्या 470 हो गई। हालांकि मृतकों की संख्या में बढ़ोतरी नहीं हुई है। इटली में कोरोना वायरस से अब तक 12 लोगों की मौत हो चुकी है।

दक्षिण कोरिया में 13वीं मौत, डायमंड प्रिंसेस के मरीज बढ़े
चीन के बाद कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित दक्षिण कोरिया में मरीजों की संख्या 1,500 के पार चली गई है और यह तेजी से नए आंकड़े की तरफ पहुंच रही है। कोरियाई मीडिया के मुताबिक, बुधवार को 334 नए मामलों की पुष्टि हुई। इससे कुल मामलों की संख्या 1,595 हो गई है। मृतकों की संख्या 12 से बढ़ कर 13 हो गई है। वहीं, डायमंड प्रिंसेस क्रूज शिप के मामलों में भी बढ़ोतरी देखी गई है। स्थानीय मीडिया के हवाले से आई खबरों की मानें तो इस क्रूज शिप के कुल मामले 691 से 705 हो गए हैं। इनमें से चार की मौत हो चुकी है और 36 की हालत गंभीर बनी हुई है।

(वीडियो देखें - जानें, कैसे फैलता है कोरोना वायरस)

वायरस की चपेट में और देश शामिल
कोरोना वायरस से प्रभावित देशों की सूची में वृद्धि जारी है। इस सूची के नए नामों में ब्राजील, फिनलैंड, जॉर्जिया, ग्रीस, उत्तरी मेसिडोनिया, नॉर्वे, रोमानिया और पाकिस्तान शामिल हैं। इसके साथ ही वायरस से प्रभावित देशों की संख्या 40 के आसपास हो गई है।

खबरों के मुताबिक, पाकिस्तानी प्रधानमंत्री के विशेष स्वास्थ्य सहायक डॉक्टर जफर मिर्जा ने दो लोगों में संक्रमण होने की पुष्टि की है। वहीं, ब्राजील में पहला मामला सामने आने के बाद कोरोना वायरस के लैटिन अमेरिका पहुंचने की पुष्टि हो गई है। बताया गया है कि ब्राजील के साओ पाउलो में एक 61 वर्षीय व्यक्ति में कोरोना वायरस पाया गया है। स्थानीय मीडिया के मुताबिक, यह व्यक्ति हाल ही में इटली से लौटा था।

ईरान में शहरों-कस्बों की मेडिकल जांच की योजना नहीं
ईरान में कोरोना वायरस के 139 मामलों की पुष्टि हो चुकी है। इनमें से 19 मरीजों की मौत हो गई है। हालांकि, बिगड़ते हालात के बीच ईरानी सरकार ने साफ किया है कि वह वायरस से प्रभावित जिलों या शहरों की जांच करने से जुड़ी किसी योजना पर नहीं चल रही है। यह बात खुद ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने कही है। उन्होंने कहा कि सरकार की इस वायरस से निपटने की ऐसी कोई योजना नहीं है, जिसके तहत शहरों और कस्बों की मेडिकल जांच की जा सके। रूहानी ने कहा कि स्वास्थ्य अधिकारी केवल व्यक्तिगत स्तर पर लोगों की जांच करेंगे।

(और पढ़ें - कोरोना वायरस के चलते भारत में दवा का संकट पैदा होने की आशंका कितनी सही है?)

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें