एंटेरोवायरस डी68 - Enterovirus D68 in Hindi

Dr. Ajay Mohan (AIIMS)MBBS

December 30, 2020

December 30, 2020

एंटेरोवायरस डी68
एंटेरोवायरस डी68

एंटेरोवायरस डी68 एक वायरस है जिसमें पीड़ित को सामान्य सर्दी-जुकाम का अनुभव होता है। अगर व्यक्ति वायरस से गंभीर रूप से ग्रसित है तो उसे घरघराहट की समस्या हो सकती है और सांस लेने में परेशानी हो सकती है, खासकर तब अगर रोगी पहले से ही अस्थमा या श्वसन संबंधी अन्य बीमारियों से पीड़ित हो। वैसे तो एंटेरोवायरस डी68 से संबंधित अधिकांश मामले हल्के लक्षणों वाले ही होते हैं जो करीब एक सप्ताह तक बने रहते हैं। लेकिन गंभीर मामलों में मरीज को अस्पताल में भर्ती होना पड़ सकता है।

स्वास्थ्य विशेषज्ञों की मानें तो नवजात शिशु, बच्चे और किशोरों को इस वायरस का सबसे अधिक खतरा होता है। वहीं दूसरी ओर वे लोग जिनका इम्यून सिस्टम कमजोर है या फिर वे लोग जो पहले से किसी क्रॉनिक (लंबे समय तक रहने वाली) बीमारी से पीड़ित हैं उनमें भी एंटेरोवायरस डी68 से जुड़ी गंभीर जटिलताएं होने का खतरा अधिक होता है।

(और पढ़ें- सर्दी-जुकाम के घरेलू उपाय)

हालांकि यह कोई नया वायरस नहीं है। वैज्ञानिकों ने पहली बार 1962 में एंटेरोवायरस डी68 की पहचान की थी। तब से लेकर इतने सालों में इस वायरस ने बहुत कम संख्या में लोगों को संक्रमित किया है। लेकिन साल 2014 में अमेरिकी एजेंसी सीडीसी ने अमेरिका में इस वायरस की वजह से नैशनल आउटब्रेक होने की जानकारी दी थी।

एंटेरोवायरस डी68 के लक्षण - Enterovirus D68 Symptoms in Hindi

एंटेरोवायरस डी68 के लक्षण हल्के और गंभीर दोनों प्रकार के हो सकते हैं-

हल्के या माइल्ड लक्षण

गंभीर लक्षण

  • सांस लेते वक्त घरघराहट
  • सांस लेने मे तकलीफ महसूस होना

एंटेरोवायरस डी68 का कारण - Enterovirus D68 Causes in Hindi

एंटेरोवायरस डी68 वायरस कैसे फैलता है?

एंटेरोवायरस डी68 वायरस किसी भी व्यक्ति को वैसे ही संक्रमित करता है जैसे कि आम सर्दी-जुकाम। मतलब किसी भी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने से व्यक्ति बीमार पड़ सकता है। खासकर तब अगर कोई व्यक्ति बिलकुल आपके सामने ही खांसता या छींकता है तो आप आसानी से संक्रमित हो सकते हैं। इसके अलावा दूषित सतह को छूने के बाद अगर स्वस्थ व्यक्ति अपने आंख, नाक, मुंह को टच करता है तो वह भी एंटेरोवायरस डी68 से संक्रमित हो सकता है। इसके अलावा संक्रमित व्यक्ति के लार, नेजल फ्लूइड (नाक से बहने वाला पानी) या बलगम के संपर्क में आने से भी स्वस्थ व्यक्ति एंटेरोवायरस डी68 से संक्रमित हो सकता है।

स्वास्थ्य संबंधी कुछ उपायों का पालन करके इस बीमारी के जोखिम को कम किया जा सकता है-

  • थोड़ी-थोड़ी देर में हाथ धोते रहें  (एक बार में 20 सेकंड तक, विशेषकर भोजन करने से पहले)
  • अपनी आंखें, नाक या मुंह बिल्कुल न छुएं (अगर आपने हाथ नहीं धोएं हैं तो)
  • किसी बीमार व्यक्ति को गले लगाने, किस करने या उसके साथ खाना शेयर करने से परहेज करें
  • अगर घर में कोई बीमार है तो घर में नियमित रूप से छुई जाने वाली सतहें जैसे- टेबल का ऊपरी हिस्सा, दरवाजे का हैंडल, कुंडी, खिलौने आदि को अच्छी तरह से साफ और कीटाणुमुक्त बनाएं
  • खांसते या छींकते समय मुंह को कवर करें या मास्क का इस्तेमाल करें और अपने हाथों को बार-बार धोते रहें। बीमार व्यक्ति अगर घर में अलग कमरे में रहे तो इंफेक्शन को फैलने से रोकने में मदद मिलती है।

एंटेरोवायरस डी68 का निदान - Diagnosis of Enterovirus D68 in Hindi

एंटेरोवायरस डी68 को डायग्नोज करने के लिए नाक या गले से निकलने वाले फ्लूइड के सैंपल की जांच की जाती है। इन सैंपल्स को टेस्टिंग के लिए विशेष लैब में भेजा जाता है। हालांकि इस बीमारी में टेस्ट तब तक नहीं किया जाता जब तक किसी  व्यक्ति को गंभीर बीमारी न हो और उसका कारण अज्ञात हो।

एंटेरोवायरस डी68 का इलाज - Enterovirus D68 Treatment in Hindi

एंटेरोवायरस डी68 का कोई स्पष्ट इलाज मौजूद नहीं है। ज्यादातर मामलों में, बीमारी अपने आप ठीक हो जाती है। लेकिन संक्रमित व्यक्ति दर्द और बुखार को कम करने के लिए ओवर-द-काउंटर (ओटीसी) दवाइयों का सेवन कर सकते हैं। हालांकि 18 वर्ष से कम उम्र के बच्चे यदि इस वायरस से संक्रमित हो जाते हैं तो उन्हें एस्पिरिन दवा नहीं देनी चाहिए। अगर सांस लेने में गंभीर रूप से समस्या हो रही हो तो व्यक्ति को अस्पताल में भर्ती कराना चाहिए जहां लक्षणों के आधार पर उनका उपचार किया जाता है।



एंटेरोवायरस डी68 के डॉक्टर

Dr. Arun R Dr. Arun R संक्रामक रोग
5 वर्षों का अनुभव
Dr. Neha Gupta Dr. Neha Gupta संक्रामक रोग
16 वर्षों का अनुभव
Dr. Lalit Shishara Dr. Lalit Shishara संक्रामक रोग
8 वर्षों का अनुभव
Dr. Alok Mishra Dr. Alok Mishra संक्रामक रोग
5 वर्षों का अनुभव
डॉक्टर से सलाह लें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ