myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

सदमा लगना क्या है?

किसी दुखद घटना के बाद लंबे समय तक दुखी या परेशान रहने को सदमा या सदमा लगना कहते हैं। वैसे तो सदमा लगने के मामले कम होते हैं, लेकिन ये व्यक्ति के साथ हुई घटना और परिस्थितियों पर निर्भर करता है।

सदमे से ग्रस्त व्यक्ति अपने दुख में इतना डूबा होता है कि उसे इस बात की खबर ही नहीं होती कि उसके आस-पास क्या हो रहा है और वह कौन है। व्यक्ति को ऐसा लगने लगता है कि भविष्य में उसके लिए कुछ अच्छा नहीं बचा है और उसकी जिंदगी अब बेकार है।

(और पढ़ें - तनाव का इलाज)

सदमा लगने के लक्षण क्या हैं?

सदमे से ग्रस्त व्यक्ति को कई तरह की समस्याएं व लक्षण अनुभव होते हैं, जैसे घटना के बारे में ही सोचते रहना, जिंदगी का आनंद न ले पाना, घटना के अलावा किसी और चीज पर ध्यान न लगा पाना, लोगों पर भरोसा न कर पाना, घटना या किसी की मौत को स्वीकार न कर पाना और हर चीज से अलगाव होना।

(और पढ़ें - तनाव दूर करने के उपाय)

सदमा क्यों लगता है?

सदमा लगने का मुख्य कारण होता है कोई दुखद घटना होना या किसी बहुत ही प्रिय व्यक्ति की मृत्यु हो जाना। कोई भी घटना होने पर अंदर दुख की भावना उत्पन्न होती है, लेकिन जब आप इस भावना से निकल नहीं पाते या खुद को संभाल नहीं पाते, तो आप सदमे में चले जाते हैं।

कई घटनाओं से आपको सदमा लग सकता है, जैसे नौकरी चले जाना, किसी प्रिय रिश्ते का टूटना, बिसजनस में नुकसान होना, पालतू जानवर से दूर हो जाना, कोई सपना टूटना या बहुत अच्छी दोस्ती खत्म हो जाना।

(और पढ़ें - तनाव के लिए योग)

सदमे का इलाज कैसे होता है?

सदमे का तुरंत इलाज करने का कोई तरीका नहीं होता। कोई बड़ी घटना होने पर आप कुछ महीनों तक रोजाना दुख महसूस करते हैं। हालांकि, सदमे से निकलने के लिए आप कुछ तरीके अपना सकते हैं ताकि आपका दुख कम हो और आप हल्का महसूस करें।

सबसे पहले इस बात का ध्यान रखें कि किसी परिवार के सदस्य, दोस्त, सलाहकार या डॉक्टर से बात करना आवश्यक है, बात करने से आपका मन हल्का होगा और आप बेहतर महसूस करेंगे। रोजाना का नियम बनाए रखना और पर्याप्त नींद लेना बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि सदमे में व्यक्ति अक्सर बहुत थक जाता है और उसे आराम ही आयश्यकता होती है।

(और पढ़ें - रिश्तों को बेहतर और मजबूत कैसे बनाये)

संतुलित और पोषण से भरपूर आहार लेने से आपको सदमे से निकलने में काफी मदद मिल सकती है। इसके अलावा अगर आपको महसूस हो रहा है कि आप सदमे से निकल नहीं पा रहे हैं और आपको सलाह की आवश्यकता है, तो किसी अच्छे काउंसलर के पास जाएं और उन्हें अपनी सारी समस्या के बारे में बताएं।

(और पढ़ें - डिप्रेशन का इलाज)

  1. सदमा की दवा - Medicines for Grief in Hindi

सदमा की दवा - Medicines for Grief in Hindi

सदमा के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

Medicine Name
ADEL 31 Upelva Drop खरीदें
ADEL Staphisagria Dilution खरीदें
ADEL 36 Pollon Drop खरीदें
Dr. Reckeweg Staphysagria Dilution खरीदें
Bjain Staphysagria LM खरीदें
ADEL 40 And ADEL 86 Kit खरीदें
ADEL 40 Verintex Drop खरीदें
SBL Staphysagria Mother Tincture Q खरीदें
ADEL 85 Neu-Regen Tonic खरीदें
SBL Staphysagria Dilution खरीदें
ADEL Staphysagria Mother Tincture Q खरीदें
Bjain Staphysagria Dilution खरीदें
Mama Natura Enukind खरीदें
Bjain Staphysagria Mother Tincture Q खरीदें
Schwabe Staphysagria LM खरीदें
ADEL 85 Ampoule खरीदें
Schwabe Staphysagria CH खरीदें
Schwabe Staphysagria MT खरीदें
Dr. Reckeweg Staphysagria Q खरीदें
Dr. Reckeweg R35 खरीदें
SBL Quarz Dilution खरीदें
Dr. Reckeweg R78 खरीदें
Bjain Quarz Dilution खरीदें
ADEL BC No 19 खरीदें
ADEL BC No 25 खरीदें
और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें