myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

लिपोडिस्ट्रॉफी सिंड्रोम क्या है?

लिपोडिस्ट्रॉफी या लिपोडायस्ट्रोफी आपके शरीर द्वारा फैट या वसा का उपयोग और भंडारण के तरीके में होने वाली समस्या है। लिपोडिस्ट्रॉफी सिंड्रोम एक मेडिकल समस्या को संदर्भित करता है जिसके कारण शरीर में वसा का वितरण असामान्य होता है।

यह बीमारी जन्म से हो सकती है या बाद में पैदा हो सकती है। जब आप इस बीमारी के साथ पैदा नहीं होते हैं तो इसे “अक्वायर्ड” कहा जाता है। यह अक्सर आपकी त्वचा के नीचे की वसा को प्रभावित करती है, इसलिए यह आपके शरीर की दिखावट को बदल सकती है। यह आपके शरीर में अन्य परिवर्तन भी कर सकती है।

लिपोडिस्ट्रॉफी सिंड्रोम वसा में कमी (लिपोअट्रॉफी) और फैट टिश्यू का असामान्य जमाव दोनों स्थितियों को संदर्भित कर सकता है। एचआईवी रोग वाले कुछ लोगों को लिपोडिस्ट्रॉफी (एलडी-एचआईवी) हो जाता है। ऐसा एचआईवी रोग के कारण या उन दवाइयों के कारण हो सकता है जो रोगी इलाज के लिए लेते हैं।

(और पढ़ें - एचआईवी टेस्ट कैसे होता है)

लिपोडिस्ट्रॉफी सिंड्रोम के लक्षण क्या हैं?

लिपोडिस्ट्रॉफी का सबसे प्रमुख लक्षण वसा की कमी या असामान्य वितरण है। वसा की कमी को लिपोअट्रॉफी के रूप में भी जाना जाता है। इस बीमारी के जन्मजात (वशांनुगत) होने पर, वसा की कमी से शरीर असामान्य दिखता है जिसे आम तौर पर पहले दो वर्षों में देखा जा सकता है।

लिपोडिस्ट्रॉफी सिंड्रोम क्यों होता है?

वास्तविक कारण के हिसाब से, यह फैट असामान्यता पूरे शरीर में देखी जा सकती है या शरीर के किसी एक विशेष क्षेत्र में देखी जा सकती है। उदाहरण के लिए, कुछ व्यक्तियों के शरीर के कुछ हिस्सों में अधिक फैट हो सकता है तो कुछ हिस्सों में कम फैट हो सकता है। कुछ लोगों के पूरे शरीर में वसा कम हो सकती है।

(और पढ़ें - हाथ की चर्बी कम करने के अचूक उपाय)

लिपोडिस्ट्रॉफी सिंड्रोम का इलाज कैसे होता है?

लिपोडिस्ट्रॉफी सिंड्रोम विविध प्रकार के होते हैं। क्लीनिकल ​​फेनोटाइप द्वारा इसकी जांच की जाती है। अनुवांशिक परीक्षणों के भी कुछ रूप उपयोग होते हैं। ज्यादातर लिपोडिस्ट्रॉफी सिंड्रोम वाले मरीजों की मधुमेह, डिस्लिपिडेमिया, लिवर, किडनी और हार्ट की बीमारी के लिए भी सालाना जांच की जानी चाहिए।

लिपोडिस्ट्रॉफी की मेटाबॉलिक जटिलताओं के प्रबंधन के लिए आहार पर ध्यान देना भी आवश्यक है। मेट्रिलेप्टिन (लेप्टिन हार्मोन का सिंथेटिक रूप) से सामान्य लिपोडिस्ट्रॉफी वाले हाइपोलेप्टिनेमिक रोगियों और आंशिक लिपोडिस्ट्रॉफी के कुछ मरीजों में मेटाबॉलिक जटिलताओं के लिए प्रभावी उपचार है।

(और पढ़ें - शुगर का आयुर्वेदिक इलाज)

क्या आप या आपके परिवार में किसी को यह बीमारी है? सर्वेक्षण करें और दूसरों की सहायता करें

References

  1. Rebecca J. Brown et al. The Diagnosis and Management of Lipodystrophy Syndromes: A Multi-Society Practice Guideline . The Journal of Clinical Endocrinology & Metabolism, Volume 101, Issue 12, 1 December 2016, Pages 4500–4511
  2. National Organization for Rare Disorders. Acquired Lipodystrophy. [Internet]
  3. thewellproject. Lipodystrophy and Body Changes. Oct 30, 2018
  4. Iram Hussaina, Abhimanyu Garg. LIPODYSTROPHY SYNDROMES. Dermatol Clin. Author manuscript; available in PMC 2016 Jul 16. PMID: 18793991
  5. National Library of Medicine. Congenital generalized lipodystrophy. U.S. Department of Health & Human Services
और पढ़ें ...