लिम्फोसाइटिक इंफिल्ट्रेट ऑफ जेसनर (चेहरे पर आसामान्य उभार) - Lymphocytic Infiltrate of Jessner in Hindi

Dr. Ayush PandeyMBBS,PG Diploma

December 16, 2020

December 16, 2020

लिम्फोसाइटिक इंफिल्ट्रेट ऑफ जेसनर
लिम्फोसाइटिक इंफिल्ट्रेट ऑफ जेसनर

लिम्फोसाइटिक इंफिल्ट्रेट ऑफ जेसनर (एलआईजे) त्वचा संबंधित एक स्थिति है जिसमें चेहरे, गर्दन और ऊपरी पीठ पर छोटे व लाल रंग के उभार (बंप्स) आ जाते हैं। यह उभार आमतौर पर कई महीनों या इससे अधिक समय तक बने रह सकते हैं और बंप्स बड़े भी हो सकते हैं। आमतौर पर इस स्थिति में कोई अन्य लक्षण नहीं होता है। हालांकि, दुर्लभ मामलों में लिम्फोसाइटिक इंफिल्ट्रेट ऑफ जेसनर से ग्रसित व्यक्तियों को जलन या खुजली हो सकती है। इन लक्षणों के बिगड़ने और सुधार की अवधि के बीच उतार-चढ़ाव हो सकते हैं। एलआईजे के कुछ मामले बोरेलिया संक्रमण (बैक्टीरिया जो लाइम रोग का कारण बनता है) से जुड़े हुए हैं। हालांकि, ज्यादातर मामलों में इसका कारण स्पष्ट नहीं हो पाया है। वैसे तो इस स्थिति में कोई खास उपचार की जरूरत नहीं होती है, क्योंकि इसमें होने वाले उभार या प्लाक समय के साथ अपने आप ठीक हो जाते हैं।

(और पढ़ें - चर्म रोगों का इलाज क्या है)

लिम्फोसाइटिक इंफिल्ट्रेट ऑफ जेसनर के लक्षण क्या हैं? - Lymphocytic Infiltrate of Jessner ke Symptoms in Hindi

कई बीमारियों की तरह लिम्फोसाइटिक इंफिल्ट्रेट ऑफ जेसनर के लक्षण एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भिन्न हो सकते हैं। नीचे दिए गए लक्षण एलआईजे से ग्रस्त सभी व्यक्तियों में नहीं दिख सकते हैं।

एलआईजे से ग्रस्त 80 से 99 प्रतिशत लोगों में निम्न लक्षण दिखाई दे सकते हैं

  • एरीथेमा
  • पाप्यूल, जिसमें त्वचा पर छोटे दाने के बराबर के उभार आ जाते हैं, जो कि करीब 1 सेमी तक के हो सकते हैं
  • स्किन प्लाक

30 से 79% प्रतिशत लोगों में निम्न लक्षण हो सकते हैं -

  • एब्नॉर्मल लिम्फोसाइट मोर्फोलॉजी
  • क्यूटेनियस फोटो सेंसिटिविटी

लिम्फोसाइटिक इंफिल्ट्रेट ऑफ जेसनर का कारण क्या है? - Lymphocytic Infiltrate of Jessner ka Cause in Hindi

लिम्फोसाइटिक इंफिल्ट्रेट ऑफ जेसनर का कारण पूरी तरह से स्पष्ट नहीं है। हालांकि, यह ज्ञात है कि इस स्थिति में त्वचा में 'टी हेल्पर कोशिकाओं' (सफेद रक्त कोशिकाओं का उपप्रकार) का अनुचित जमाव होने लगता है। कुछ क्लिनिकल साइंटिस्ट का मानना है कि यह स्थिति संभवतः ऑटोइम्यून रोग का एक उपप्रकार है, जिसे ल्यूपस एरिथेमेटोसस के रूप में जाना जाता है, जबकि अन्य का मानना है कि यह एक अलग वर्ग से हो सकता है।

एलआईजे का संबंध आनुवंशिक/वंशानुगत से हो सकता है। इसके अलावा, प्रभावित व्यक्तियों में फोटोफोबिया से जुड़ी यदि मेडिकल हिस्ट्री है, तो उसमें एलआईजे विकसित होने का जोखिम बढ़ जाता है।

लिम्फोसाइटिक इंफिल्ट्रेट ऑफ जेसनर का निदान कैसे किया जाता है? - Lymphocytic Infiltrate of Jessner Diagnosis in Hindi

लिम्फोसाइटिक इंफिल्ट्रेट ऑफ जेसनर के निदान के साथ संबंधित अन्य स्थितियों जैसे डिस्कॉइड ल्यूपस एरिथेमाटोसस और पॉलीमार्फस लाइट इरिप्शन का पता लगाने के लिए त्वचा की बायोप्सी की जाती है। हालांकि, कुछ लैब टेस्ट की भी मदद ली जा सकती है, जिनमें शामिल हैं : सीबीसी, एएनए, ईएसआर और एंटी-आरओ और एंटी-ला ऑटोएंटीबॉडी।

इसके अलावा मेडिकल हिस्ट्री और शारीरि​क परीक्षण भी किया जाता है।

(और पढ़ें - स्किन इंफेक्शन के लक्षण)

लिम्फोसाइटिक इंफिल्ट्रेट ऑफ जेसनर का इलाज कैसे किया जाता है? - Lymphocytic Infiltrate of Jessner ka Treatment in Hindi

लिम्फोसाइटिक इंफिल्ट्रेट ऑफ जेसनर के इलाज की आवश्यकता नहीं होती है, क्योंकि यह अपने आप कुछ समय में ठीक हो जाता है। लेकिन जो लोग चेहरे पर इन उभार या गांठ की वजह से ज्यादा असहज महसूस करते हैं वे निम्न तरीके अपना सकते हैं :



लिम्फोसाइटिक इंफिल्ट्रेट ऑफ जेसनर (चेहरे पर आसामान्य उभार) के डॉक्टर

Dr. Neha Baig Dr. Neha Baig डर्माटोलॉजी
3 वर्षों का अनुभव
Dr. Avinash Jhariya Dr. Avinash Jhariya डर्माटोलॉजी
5 वर्षों का अनुभव
Dr. R.K . Tripathi Dr. R.K . Tripathi डर्माटोलॉजी
12 वर्षों का अनुभव
Dr. Deepak Kumar Yadav Dr. Deepak Kumar Yadav डर्माटोलॉजी
2 वर्षों का अनुभव
डॉक्टर से सलाह लें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ