सेहत को बेहतर बनाए रखने में हार्मोंस का अहम योगदान होता है. ऐसा ही एक हार्मोन प्रोलैक्टिन है. ये महिला व पुरुष दोनों में पाया जाता है, लेकिन दोनों के लिए इसके कार्य अलग-अलग होते हैं. ये हार्मोन मुख्य रूप से रक्त में पाया जाता है. जहां, गर्भावस्था के व स्तनपान के लिए ये हार्मोन महिलाओं के लिए जरूरी होता है, वहीं पुरुषों की बेहतर प्रजनन क्षमता के लिए इस हार्मोन का होना आवश्यक है. इस हार्मोन के कम या ज्यादा होने से कई स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं.

आज इस लेख में आप प्रोलैक्टिन हार्मोन के सामान्य स्तर व महत्व के बारे में जानेंगे -

(और पढ़ें - हार्मोन असंतुलन का इलाज)

  1. प्रोलैक्टिन क्या है?
  2. प्रोलैक्टिन की नॉर्मल रेंज कितनी होती है?
  3. प्रोलैक्टिन बढ़ने के नुकसान
  4. सारांश
प्रोलैक्टिन क्या है? के डॉक्टर

प्रोलैक्टिन (PRL) एक प्रकार का पॉलीपेप्टाइड हार्मोन है, जो पिट्यूटरी ग्रंथि में बनता है. पिट्यूटरी ग्रंथि मस्तिष्क के ठीक नीचे होती है. डोपामाइन (मस्तिष्क रसायन) और एस्ट्रोजन (हार्मोन) पिट्यूटरी ग्रंथि से प्रोलैक्टिन हार्मोन के उत्पादन और स्राव को नियंत्रित करते हैं. दरअसल, प्रोलैक्टिन हार्मोन रक्त में पाया जाता है. यह हार्मोन महिला व पुरुष की प्रजनन क्षमता के लिए जरूरी होता है. वहीं, शिशु के जन्म के बाद महिलाओं में ब्रेस्ट मिल्क बनाने का काम करता है. इसे लैक्टोट्रोपिन भी कहा जाता है. रक्त में प्रोलैक्टिन हार्मोन की मात्रा जानने के लिए प्रोलैक्टिन टेस्ट किया जाता है.

(और पढ़ें - एंडोर्फिन हार्मोन का महत्त्व)

प्रोलैक्टिन हार्मोन के स्तर को चेक करने के लिए प्रोलैक्टिन टेस्ट किया जाता है. इसके लिए व्यक्ति को अस्पताल में ब्लड सैंपल देना होता है. प्रोलैक्टिन टेस्ट का रिजल्ट कुछ दिनों में ही आ जाता है. जो महिलाएं स्तनपान करवाती हैं या जो गर्भवती हैं, उनमें प्रोलैक्टिन का स्तर अधिक हो सकता है. इसके विपरीत जन्म के समय लड़कों में प्रोलैक्टिन लेवल सामान्य से कम हो सकता है. साथ ही जो महिला स्तनपान नहीं करवा रही है व गर्भवती नहीं है, उनमें भी प्रोलैक्टिन लेवल कम हो सकता है. आइए, प्रोलैक्टिन की नॉर्मल रेंज जानते हैं -

  • पुरुषों में प्रोलैक्टिन हार्मोन की नॉर्मल रेंज 2 से 18 नैनोग्राम प्रति मिलीलीटर (एनजी/एमएल) होनी चाहिए.
  • महिलाओं में प्रोलैक्टिन हार्मोन की नॉर्मल रेंज 2 से 29 एनजी/एमएल होनी चाहिए.
  • वहीं, गर्भवती महिलाओं में प्रोलैक्टिन हार्मोन का सामान्य स्तर 10 से 210 एनजी/एमएल हो सकता है.
  • प्रोलैक्टिनोमा की अवस्था में प्रोलैक्टिन हार्मोन का स्तर 200 एनजी/एमएल से अधिक हो सकता है. पिट्यूटरी ग्रंथि में प्रोलैक्टिन हार्मोन का सामान्य से अधिक निर्माण होने की अवस्था को प्रोलैक्टिनोमा कहा जाता है. इसमें कैंसर रहित ट्यूमर बन जाता है.

(और पढ़ें - सेक्स हार्मोन टेस्ट)

मेनोपॉज के बाद प्रोलैक्टिन हार्मोन बढ़ना हाइपोथायरायडिज्म का कारण बन सकता है, क्योंकि इस स्थिति में शरीर पर्याप्त थायराइड हार्मोन नहीं बना पाता है. अगर प्रोलैक्टिन हार्मोन बढ़ता है, तो पुरुषों और जो महिलाएं स्तनपान नहीं करवा रही हैं या गर्भवती नहीं हैं, उन्हें गैलेक्टोरिया (Galactorrhea) हो सकता है. 

(और पढ़ें - महिलाओं के स्वास्थ्य के लिए हार्मोन्स का महत्व)

प्रोलैक्टिन प्रेगनेंसी और ब्रेस्टफीडिंग के लिए एक जरूरी हार्मोन है. साथ ही पुरुषों की बेहतर प्रजनन क्षमता के लिए भी यह हार्मोन जरूरी है. यह स्तन ग्रंथियों को उत्तेजित करता है. अगर रक्त में उस समय प्रोलैक्टिन हार्मोन बढ़ता है, जब कोई महिला न ही गर्भवती हैं और न ही स्तनपान करवा रही हैं, तो यह स्थिति बांझपन का कारण बन सकती है. इसलिए अगर प्रोलैक्टिन हार्मोन लेवल बढ़ने के लक्षण महसूस करते हैं, तो इन्हें बिल्कुल नजरअंदाज न करें और तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें. महिला और पुरुषों दोनों में प्रोलैक्टिन हार्मोन का स्तर सामान्य होना जरूरी है.

(और पढ़ें - ग्रोथ हार्मोन की कमी का इलाज)

Dr. Narayanan N K

Dr. Narayanan N K

एंडोक्राइन ग्रंथियों और होर्मोनेस सम्बन्धी विज्ञान
16 वर्षों का अनुभव

Dr. Tanmay Bharani

Dr. Tanmay Bharani

एंडोक्राइन ग्रंथियों और होर्मोनेस सम्बन्धी विज्ञान
15 वर्षों का अनुभव

Dr. Sunil Kumar Mishra

Dr. Sunil Kumar Mishra

एंडोक्राइन ग्रंथियों और होर्मोनेस सम्बन्धी विज्ञान
23 वर्षों का अनुभव

Dr. Parjeet Kaur

Dr. Parjeet Kaur

एंडोक्राइन ग्रंथियों और होर्मोनेस सम्बन्धी विज्ञान
19 वर्षों का अनुभव

ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ