myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

हमारी स्पाइनल कॉर्ड (रीढ़ की हड्डी) कई छोटी-छोटी हड्डियों या कशेरुकाओं की एक श्रृंखला से बनी होती है। इन कशेरुकाओं के बीच में गद्देदार डिस्क होती है, जो कुशन का काम करती है यानी यह रीढ़ की हड्डी को झटकों से बचाने के साथ-साथ इन्हें लचीला बनाए रखने में मदद करती हैं। इन डिस्क की संरचना किसी अंगूठी की तरह होती है, जिसे एनलस के रूप में जाना जाता है।

किसी डिस्क के क्षतिग्रस्त (चोट, खिंचाव या अन्य किसी तरह का नुकसान) हो जाने पर, यह टूट सकती हैं या इनमें सूजन आ सकती है, इस स्थिति को स्लिप डिस्क कहते हैं। इसे हर्नियेटेड डिस्क के रूप में भी जाना जाता है।

स्लिप्ड डिस्क के लक्षण रीढ़ के प्रभावित हिस्से पर निर्भर करते हैं। हर्नियेटेड डिस्क से उत्पन्न होने वाली सामान्य परिस्थितियां हैं :

  • साइटिका पेन : इस स्थिति में, पीठ के निचले हिस्से में स्लिप्ड डिस्क होने से साइटिका नस पर दबाव पड़ता है। साइटिका नस, पीठ के निचले हिस्से से शुरू होकर दोनों पैरों के निचले हिस्से तक जाती है। यह हमारे शरीर की सबसे बड़ी तंत्रिका है। इस नस पर किसी तरह की चोट लगने से पैरों पर नियंत्रण कम हो सकता है। गंभीर मामलों में, आपके पैरों में कुछ महसूस होना या हिलना-डुलना भी बंद हो सकता है। साइटिका के सबसे आम लक्षणों में पैरों में तेज दर्द शामिल है। आमतौर पर, इसमें पीठ के निचले हिस्से के साथ-साथ किसी एक पैर में दर्द होता है, जो हिलने-डुलने से और बदतर हो जाता है।
  • सर्वाइकल पेन : सर्वाइकल दर्द गर्दन के पास रीढ़ की ​हड्डी में स्लिप्ड डिस्क की वजह से उत्पन्न हो सकता है। आमतौर पर यह दर्द गर्दन से बाहों तक फैलता है और यह साइटिका दर्द से मिलता-जुलता होता है।

स्लिप्ड डिस्क के अधिकांश मामलों को पर्याप्त मात्रा में आराम, फिजियोथेरेपी और उचित दवाओं के साथ सही किया जा सकता है। दुर्लभ मामलों में सर्जरी की जरूरत हो सकती है।

फिलहाल, होम्योपैथी में प्रभावित व्यक्तियों के लक्षणों के आधार पर स्लिप्ड डिस्क के लिए दवाएं उपलब्ध हैं। यह दवाएं व्यक्ति के मानसिक स्थिति जैसे वह खुश है, दुखी है या गुस्सा आने की प्रवृत्ति के आधार पर दी जाती हैं। स्लिप्ड डिस्क के लिए निर्धारित कुछ सबसे सामान्य होम्योपैथिक उपचारों में एस्क्युलस हिप्पोकैस्टेनम, अर्निका मोंटाना, ब्रायोनिया अल्बा और रस टॉक्सोडेंड्रोन हैं।

ये दवाएं होम्योपैथिक के 'लाइक क्योर लाइक' सिद्धांत पर आधारित हैं, जिसका मतलब है कि किसी स्वस्थ व्यक्ति में लक्षण पैदा करने वाले पदार्थ का उपयोग करके किसी बीमार व्यक्ति में समान लक्षणों को प्रबंधित करने का प्रयास किया जा सकता है, बशर्ते इन दवाओं की खुराक उचित मात्रा में ली जाए। ध्यान रहे, होम्योपैथिक उपचार शुरू करने से पहले हमेशा योग्य चिकित्सक से परामर्श लें।

होम्योपैथिक दवाओं को सुरक्षित रूप से पारंपरिक चिकित्सा के साथ भी लिया जा सकता है, क्योंकि होम्योपैथिक और अन्य पारंपरिक दवाएं एक-दूसरे के कार्यों में हस्तक्षेप नहीं करती हैं।

  1. स्लिप्ड डिस्क के लिए होम्योपैथिक दवा - Homeopathic medicines for slipped disc in Hindi
  2. स्लिप्ड डिस्क रोगी के लिए आहार और जीवन शैली में बदलाव - Dietary and lifestyle changes for a slipped disc patient as per homeopathy in Hindi
  3. स्लिप्ड डिस्क में होम्योपैथिक दवाएं और उपचार कितने प्रभावी हैं - How effective are homeopathic medicines and treatments for slipped disc in Hindi
  4. स्लिप्ड डिस्क के लिए होम्योपैथिक दवा के साइड इफेक्ट्स और जोखिम - Side effects and risks of homeopathic medicine and treatments for slipped disc in Hindi
  5. टिप्स - Takeaway in Hindi

एस्कुलस हिप्पोकैस्टनम
सामान्य नाम : 
हॉर्स चेस्टनट
लक्षण : जिनके पीठ के निचले हिस्से में दर्द की समस्या है उनमें एस्कुलस हिप्पोकैस्टनम का असर अच्छा होता है। निम्नलिखित लक्षणों की स्थिति में इस उपाय की आवश्यकता हो सकती है :

  • कूल्हों और पीठ के निचले हिस्से में दर्द, जो व्यक्ति के झुकने या चलने के दौरान बढ़ जाता है
  • पैरों के तलवों में दर्द और सूजन (और पढ़ें - पैरों में सूजन का होम्योपैथिक इलाज)
  • बाहों और पैरों में दर्द
  • रीढ़ में कमजोरी, विशेष रूप से पीठ के निचले हिस्से में
  • गुदा वाले हिस्से में दर्द के साथ जलन होना

सुबह उठने और दोपहर में उठने, कुछ खाने के बाद और किसी भी तरह की गतिविधि करने पर लक्षण बिगड़ जाते हैं, लेकिन शांत जगह और खुली हवा में दर्द से राहत मिल सकती है।

ब्रायोनिया अल्बा
सामान्य नाम : 
वाइल्ड हॉप्स
लक्षण : ब्रायोनिया अल्बा स्वस्थ, सांवले रंग के व्यक्ति जो चिड़चिड़े स्वभाव के होते हैं, उनमें अच्छा असर करती है। ब्रायोनिया अल्बा के साथ इलाज किए जा सकने वाले लक्षण हैं :

  • श्लेष्मा झिल्ली का सूखना (श्लेष्म झिल्ली शरीर के अंदर के हिस्सों की रक्षा करती है)
  • मांसपेशियां फटने जैसा दर्द होना 
  • गर्दन और पीठ के निचले हिस्से में जकड़न और दर्द
  • उठने-बैठने पर बेहोशी छाना

कैल्केरिया कार्बोनिका
सामान्य नाम : 
कार्बोनेट ऑफ लाइम
लक्षण : कैल्केरिया कार्बोनिका उन व्यक्तियों को लाभान्वित करती है, जो अधिक परिश्रम के कारण मानसिक और शारीरिक रूप से थक चुके हैं। यह बड़े पेट वाले मोटे लोगों में भी उपयोगी है। यह उपाय निम्नलिखित लक्षणों से राहत देने में मदद करता है :

  • काठ वाले हिस्से में गठिया संबंधी विकार (जिसके कारण सूजन और दर्द होता है)
  • कंधे में दर्द, जिससे सांस लेना मुश्किल हो जाता है
  • गर्दन और ऊपरी पीठ में अकड़न और पीठ के निचले हिस्से में कमजोरी
  • अत्यधिक वजन उठाने के कारण पीठ में मोच से दर्द

कैल्केरिया फॉस्फोरिका
सामान्य नाम : 
फॉस्फेट ऑफ लाइम
लक्षण : कैल्केरिया कार्बोनिका की तरह कैल्केरिया फॉस्फोरिका के लक्षण दिखाई देते हैं। हालांकि, इस दवा का उपयोग आमतौर पर सुस्त या असमान दांतों वाले बच्चे, मोटे बच्चे और कमजोर पाचन शक्ति वाले बच्चों में किया जाता है। यह उपाय निम्नलिखित लक्षणों से राहत देने में भी मदद करता है :

सिमिकिफुगा रेसमोसा
सामान्य नाम : 
ब्लैक स्नेक रूट
लक्षण : सिमिकिफुगा रेसमोसा मांसपेशियों और मस्तिष्क संबंधी प्रणालियों की स्थितियों में प्रभावी है। इस उपाय के साथ निम्नलिखित लक्षणों को ठीक किया जा सकता है :

  • बिजली के झटके जैसा दर्द महसूस होना
  • पीठ और गर्दन की मांसपेशियों में सूजन, जकड़न और दर्द
  • रीढ़ का ऊपरी हिस्सा संवेदनशील होना
  • पीठ के निचले हिस्से में दर्द, जो कूल्हों से होता हुआ पैरों की ओर बढ़ता है
  • रीढ़ या गर्दन पर दबाव, जिसके कारण मतली व उल्टी की समस्या हो सकती है

कैलियम कार्बोनिकम
सामान्य नाम : 
कार्बोनेट ऑफ पोटेशियम
लक्षण : शरीर के किसी भी हिस्से में तेज दर्द के लिए कैलियम कार्बोनिकम एक आम नुस्खा है। इस उपाय से निम्नलिखित लक्षणों में राहत मिल सकती है :

  • पीठ के ऊपर और नीचे तेज दर्द, जो घुटनों की ओर बढ़ता है
  • रीढ़ की हड्डियों में जलन
  • घुटनों, जांघों और कूल्हे के जोड़ों में दर्द
  • थकान
  • कंधों से कलाई तक दर्द
  • खट्टी डकार के साथ मतली की समस्या

कैलमिया लैटीफोलिया
सामान्य नाम : 
माउंटेन लॉरेल
लक्षण : आमतौर पर कैलमिया लैटीफोलिया अंगों में सुन्नता और दर्द से निवारण में मदद करता है, साथ ही यह निम्नलिखित लक्षणों को कम करने में भी सहायक है :

  • गर्दन में दर्द, जो कंधे की हड्डी और हाथों तक फैलता है
  • चक्कर आना, जो आगे झुकने पर स्थिति को और खराब कर सकता है
  • पीठ के निचले हिस्से, रीढ़ और कंधों में गंभीर दर्द होना, जिसमें रोगी को ऐसा लगता है जैसे उनकी पीठ टूट जाएगी
  • पीठ के निचले हिस्से में दर्द

लैशेसिस म्यूटस
सामान्य नाम : 
बुशमास्टर
लक्षण : बुशमास्टर शरीर में तनाव को दूर करने के लिए निर्धारित है, लेकिन यह निम्नलिखित लक्षणों को भी ठीक कर सकता है :

  • सर्वाइकल का दर्द
  • साइटिका की तरह दर्द, सुन्नता और दाहिनी तरफ कमजोरी
  • बैठने या उठते समय टेल बोन में तेज दर्द होना

मेडोरिनम 
सामान्य नाम : 
द गोनोरियल वायरस
लक्षण : मेडोरिनम एक गुणकारी दवा है, जो आमतौर पर क्रोनिक (लंबे समय तक प्रभावित करने वाली) पेल्विक डिसऑर्डर वाली महिलाओं के लिए निर्धारित की जाती है। मेडोरिनम के साथ निम्नलिखित लक्षणों का इलाज किया जा सकता है :

  • सिर में जलन व दर्द, जो सिर के पिछले हिस्से में बढ़ जाता है
  • पीठ दर्द के साथ-साथ पीठ में जलन/गर्मी
  • जलन
  • पैरों में दर्द

नक्स वोमिका
सामान्य नाम : 
पॉइजन-नट
लक्षण : नक्स वोमिका आमतौर पर पतले, सक्रिय व्यक्तियों के लिए निर्धारित की जाती है। निम्निलिखित सामान्य लक्षण दिए गए हैं, जिन्हें नक्स वोमिका के माध्यम से ठीक किया जा सकता है :

  • पीठ के निचले हिस्से में दर्द
  • पैरों में सुन्न होने की समस्या, इसमें पैरों में लकवाग्रस्त जैसा महसूस होता है
  • रीढ़ में जलन महसूस होना, जो सुबह 3 से 4 बजे के बीच बढ़ सकता है
  • गर्दन का दर्द, जो बांहों तक फैल सकता है
  • दर्द और लेटते समय पोजिशन बदलने में असमर्थता
  • मल त्याग के दौरान अधिक दर्द
  • दर्द के कारण बैठने में असमर्थता

रस टॉक्सीकोडेंड्रन
सामान्य नाम :
 पॉइजन आइवी
लक्षण : रस टॉक्सीकोडेंड्रन उन व्यक्तियों में प्रभावी उपाय है, जो प्रभावित अंग या हिस्से को हिलाने पर बेहतर महसूस करते हैं। निम्नलिखित संकेत और लक्षण होने पर रस टॉक्सीकोडेंड्रन फायदेमंद होती है :

  • पीठ के निचले हिस्से में दर्द, जो सख्त सतह पर लेटने पर ठीक हो जाता है
  • गर्दन में अकड़न
  • साइटिका दर्द, जो ठंडे मौसम में बढ़ सकता है

क्या करना चाहिए

  • संतुलित आहार लें
  • व्यक्तिगत तौर पर स्वच्छ रहें और अपने आस-पास के स्थान को भी साफ सुथरा रखें।
  • घर में एक स्टैंडर्ड तापमान (रोगी की पसंद के अनुसार) बनाए रखें।

क्या नहीं करना चाहिए

  • उपचार की अवधि के दौरान शराब और तम्बाकू के सेवन से बचना चाहिए। कड़क पेय पदार्थ या उच्च कैफीन वाले पदार्थों के सेवन से भी बचना चाहिए, क्योंकि वे होम्योपैथिक दवाओं के काम में हस्तक्षेप करते हैं।
  • मसालेदार भोजन, लंबे समय से रखा हुआ पनीर, औषधीय गुण वाले खाद्य पदार्थ और बतख व गीज के मांस के सेवन से बचा जाना चाहिए, क्योंकि वे होम्योपैथिक उपचार के काम को नकारात्मक रूप से प्रभावित करते हैं।
  • नमक और चीनी की अधिकता से बचें।
  • ऐसी किसी भी चीज से बचें, जिसमें तेज गंध (जैसे इत्र) आती है, क्योंकि वे दवाइयों के असर को प्रभावित कर सकती हैं।
  • कोई भी ऐसा व्यायाम न करें, जो दर्द और परेशानी को बढ़ा सकता है।

(और पढ़ें - स्लिप डिस्क का आयुर्वेदिक इलाज)

स्लिप्ड डिस्क एक अपरिवर्तनीय स्थिति है। हालांकि, सही दवा और सावधानियों के साथ, कोई भी आसानी से स्थिति का इलाज कर सकता है और दर्द से उबर सकता है। होम्योपैथी एक समग्र उपचार पद्धति है, जो शरीर के रोगों को ठीक करने लिए प्राकृतिक उपचार का उपयोग करती है।

होम्योपैथी का 'जनरल वर्किंग' सिद्धांत प्रभावित व्यक्ति में मौजूद विशेष लक्षणों को ठीक करने से जुड़ा होता है। हालांकि, होम्योपैथिक चिकित्सक एक दवा को निर्धारित करने से पहले व्यक्ति के शारीरिक और मानसिक स्थिति का पता करते हैं।

भारत में सर्वाइकल दर्द वाले 10 रोगियों पर एक अध्ययन किया गया। इसमें इन सभी मरीजों का इलाज होम्योपैथिक दवाओं और वर्मन थेरेपी के जरिए किया गया। वर्मन थेरेपी दक्षिण भारत की एक पारंपरिक उपचार पद्धति है, जिसमें मानव शरीर में महत्वपूर्ण बिंदुओं पर ध्यान केंद्रित किया जाता है।

यह अध्ययन चार सप्ताह के लिए किया गया और इस शोध के अंत में किसी भी रोगी को दुष्प्रभाव का अनुभव नहीं हुआ।

(और पढ़ें - स्लिप डिस्क के लिए योग)

आमतौर पर होम्योपैथिक दवाओं का कोई दुष्प्रभाव नहीं होता है, क्योंकि ये दवाएं मूल रूप से प्राकृतिक होती हैं और इनकी खुराक हल्की मात्रा में ली जाती है। होम्योपैथिक उपचार शिशुओं, बुजुर्गों व गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए सुरक्षित माना जाता है।

हालांकि, किसी भी दवा को लेने से पहले एक अनुभवी होम्योपैथिक चिकित्सक से परामर्श किया जाना जरूरी है। डॉक्टर रोगी के लक्षणों और मानसिक स्थिति के आधार पर उपचार तय करते हैं, इसलिए भले किसी दूसरे व्यक्ति में भी समान लक्षण हों, लेकिन यह दवाइयां सभी में एक समान असर नहीं करती हैं।

(और पढ़ें - स्लिप डिस्क के घरेलू उपाय)

हर्नियेटेड डिस्क या स्लिप्ड डिस्क मध्यम आयु वर्ग और बुजुर्गों में एक सामान्य स्थिति है, जिसमें सर्वाइकल दर्द और साइटिका दर्द जैसे लक्षण होते हैं। स्लिप्ड डिस्क के लक्षणों के प्रबंधन के लिए होम्योपैथी एक सुरक्षित और प्रभावी चिकित्सा है। अध्ययनों से पता चलता है कि होम्योपैथिक दवाएं, जब सही खुराक में ली जाती हैं, तो साइटिका और सर्वाइकल दर्द से राहत दिला सकता है।

और पढ़ें ...

References

  1. American Association of Neurological Surgeons. Herniated Disc. Rolling Meadows, Illinois; [Internet]
  2. National Center for Homeopathy [Internet] Mount Laurel, New Jersey, U.S Backaches
  3. British Homeopathic Association. What is homeopathy?. London; [Internet]
  4. Katharina Schnabel, Stefan N Willich, Claudia M Witt et al. Homeopathic treatment of elderly patients - a prospective observational study with follow-up over a two year period. 2010 Feb 22. PMID: 20175887
  5. William Boericke. Homoeopathic Materia Medica. Kessinger Publishing: Médi-T 1999, Volume 1
  6. Wenda Brewster O’Reilly. Organon of the Medical art by Wenda Brewster O’Reilly . B jain; New Delhi
ऐप पर पढ़ें
कोरोना मामले - भारतx

कोरोना मामले - भारत

CoronaVirus
604643 भारत
2दमन दीव
100अंडमान निकोबार
15252आंध्र प्रदेश
195अरुणाचल प्रदेश
8582असम
10249बिहार
446चंडीगढ़
2940छत्तीसगढ़
215दादरा नगर हवेली
89802दिल्ली
1387गोवा
33232गुजरात
14941हरियाणा
979हिमाचल प्रदेश
7695जम्मू-कश्मीर
2521झारखंड
16514कर्नाटक
4593केरल
990लद्दाख
13861मध्य प्रदेश
180298महाराष्ट्र
1260मणिपुर
52मेघालय
160मिजोरम
459नगालैंड
7316ओडिशा
714पुडुचेरी
5668पंजाब
18312राजस्थान
101सिक्किम
94049तमिलनाडु
17357तेलंगाना
1396त्रिपुरा
2947उत्तराखंड
24056उत्तर प्रदेश
19170पश्चिम बंगाल
6832अवर्गीकृत मामले

मैप देखें