myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

हम सबके साथ कभी-न-कभी ऐसा जरूर होता है कि जब हम वॉशरूम में यूरिन डिस्चार्ज करने जाते हैं और तभी महसूस होता है कि पता नहीं ये क्या इतनी गंदी और अजीब सी बदबू आ रही है? ऐसे में बहुत से लोगों को लग सकता है कि यह ऑफिस या पब्लिक वॉशरूम से आ रही गंदी स्मेल है, लेकिन ऐक्चुअली वो बदबू आपके ही यूरिन से आ रही होती है। वैसे तो पेशाब की अपनी एक गंध होती है, लेकिन कई बार ऐसा होता है कि पेशाब से आने वाली गंध सामान्य से ज्यादा बदबूदार होती है। वैसे तो पेशाब की बदबू सामान्य कारणों से भी हो सकती है और इसमें ज्यादा चिंता करने की बात नहीं है, लेकिन कई बार किसी अंतर्निहित बीमारी की वजह से भी पेशाब में से बदबू आने लगती है, जिसका इलाज करवाना जरूरी हो जाता है।

(और पढ़ें - यूरिन इंफेक्शन की आयुर्वेदिक दवा और इलाज)

पेशाब में मुख्य रूप से पानी होता है। लेकिन किडनी के द्वारा जिन अपशिष्ट पदार्थों को पेशाब के जरिए शरीर से बाहर निकाला जाता है उसकी मात्रा और सघनता कितनी अधिक है, इस पर ही निर्भर करता है कि पेशाब से आने वाली गंध कैसी होगी। जिस यूरिन में पानी अधिक और अपशिष्ट पदार्थ कम होते हैं उसमें बेहद कम या कोई गंध नहीं होती है। लेकिन अगर यूरिन बहुत अधिक गाढ़ा हो जाए और उसमें पानी की मात्रा कम और अपशिष्ट पदार्थों की मात्रा बहुत अधिक हो जाए तो पेशाब में से अमोनिया जैसी तेज बदबू आने लगती है। हालांकि पेशाब से आने वाली बदबू कई बार यूरिन इंफेक्शन का भी संकेत हो सकती है। ऐसे में हम आपको इस आर्टिकल में उन कारणों के बारे में बता रहे हैं जिनकी वजह से किसी व्यक्ति के पेशाब से गंदी बदबू आने लगती है।

(और पढ़ें - यूरिन इंफेक्शन के घरेलू उपाय)

  1. पेशाब में बदबू आने का लक्षण - Smelly Urine Symptoms in Hindi
  2. पेशाब में बदबू आने का कारण - Smelly Urine Causes in Hindi
  3. पेशाब में बदबू आने का निदान - Diagnosis of Smelly Urine in Hindi
  4. पेशाब में बदबू आने का उपचार - Smelly Urine Treatment in Hindi
  5. पेशाब में बदबू आना के डॉक्टर

पेशाब में बदबू आने का लक्षण - Smelly Urine Symptoms in Hindi

पेशाब में बदबू आना वैसे तो खुद में ही एक लक्षण है, लेकिन इसके अलावा भी आपको खुद में कई और लक्षण और संकेत नजर आ सकते हैं जिससे पता चलता है कि आपको यूरिन संबंधी कोई समस्या है, जैसे-

पेशाब में बदबू आने का कारण - Smelly Urine Causes in Hindi

ऐसी कई स्थितियां और समस्याएं हैं जिनकी वजह से पेशाब से आने वाली गंध ज्यादा तेज और बदबूदार हो सकती है। इनमें सबसे कॉमन कारण निम्नलिखित हैं:

1. पेशाब में बदबू का कारण है डिहाईड्रेशन : जब आप पर्याप्त मात्रा में पानी और तरल पदार्थों का सेवन नहीं करते हैं तो शरीर में पानी की कमी हो जाती है जिसे डिहाइड्रेशन कहते हैं। आपने ध्यान दिया होगा कि जब आप पानी कम पीते हैं तो आपका यूरिन गहरे पीले या नारंगी रंग का हो जाता है और उसमें से अमोनिया जैसी बदबू भी आने लगती है। जिन लोगों में सामान्य डिहाईड्रेशन होता है वे अगर पर्याप्त मात्रा में पानी पिएं तो उनके पेशाब से आने वाली गंध फिर से सामान्य हो जाती है। लेकिन अगर पेशाब में बदबू के साथ ही कमजोरीअत्यधिक थकानमानसिक भ्रम जैसे लक्षण भी दिखें तो यह गंभीर डिहाईड्रेशन के लक्षण हो सकते हैं जिसके लिए तुरंत इलाज की जरूरत होती है।

(और पढ़ें - पानी की कमी को दूर करने के लिए जरूर खाएं ये फल)

2. पेशाब में बदबू का कारण है यूटीआई: यूरिन इंफेक्शन जिसे यूटीआई कहते हैं यह भी पेशाब में तेज बदबू का अहम कारण है। पेशाब करने की तीव्र इच्छा, बार-बार पेशाब करने की जरूरत महसूस होना, ब्लैडर को खाली करने में मुश्किल आना, पेशाब का रंग गहरा होना और पेशाब करने के दौरान तेज जलन महसूस होना- ये सब यूटीआई के सबसे कॉमन लक्षणों में से एक हैं। पेशाब में बैक्टीरिया की वजह से यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन होता है और इन बैक्टीरिया को मारने के लिए डॉक्टर मरीज को एंटीबायोटिक्स देते हैं। अगर यूटीआई की समस्या दूर हो जाए तो पेशाब में बदबू की समस्या भी दूर हो जाती है।

3. पेशाब में बदबू का कारण है डायबिटीज: डॉक्टरों की मानें तो जिन लोगों में डायबिटीज डायग्नोज नहीं होता है उनके यूरिन में शुगर बाहर आ रहा होता है। इसका कारण ये है कि उनका शरीर उस तरह से शुगर को प्रोसेस नहीं कर पाता है जिस तरह से ज्यादातर लोगों के शरीर करता है। इसका मतलब ये हुआ कि उनके खून में अतिरिक्त ग्लूकोज होता है जिसे उनका शरीर पेशाब के रास्ते शरीर से बाहर निकालने की कोशिश करता है। जब पेशाब में शुगर की मात्रा बढ़ जाती है तो उसकी गंध बेहद तेज और अजीब सी हो जाती है। जिन लोगों के शरीर में डायबिटीज अनियंत्रित हो जाता है उनकी पेशाब करने की तीव्रता भी बढ़ जाती है क्योंकि शुगर उनके ब्लैडर को उत्तेजित करने लगता है।

(और पढ़ें - शुगर कम करने के घरेलू उपाय)

4. ब्लैडर में फिस्टुला भी है पेशाब में बदबू का कारण : ब्लैडर फिस्टुला या भगंदर तब होता है जब किसी तरह की चोट या खराबी की वजह से बैक्टीरिया आंत से ब्लैडर तक पहुंच जाता है। बाउल यानी आंत से जुड़ी बीमारियां जैसे- इन्फ्लेमेटरी बाउल डिजीज (आईबीडी), अल्सरेटिव कोलाइटिस या क्रोन्स डिजीज आदि की वजह से भी या फिर किसी तरह की सर्जरी के दौरान लगी चोट की वजह से ब्लैडर फिस्टुला की समस्या हो सकती है। ब्लैडर में बैक्टीरिया आने की वजह से भी पेशाब से बहुत ज्यादा बदबू आने लगती है।

(और पढ़ें - फिस्टुला के घरेलू उपाय)

5. बैक्टीरियल वेजिनोसिस भी है पेशाब में बदबू का कारण: वजाइना यानी योनि में होने वाला इंफेक्शन जिसे बैक्टीरियल वेजिनोसिस भी कहते हैं कि वजह से एक बेहद अजीब सी गंदी बदबू या मछली जैसी गंध आने लगती है जो सेक्स करने के बाद और ज्यादा बदतर हो जाती है। इस समस्या में यूरिन पास करने के दौरान भी पेशाब से गंदी बदबू आती है। बैक्टीरियल वेजिनोसिस के कई और लक्षण हैं जिसमें- तेज दर्द, खुजली, पेशाब करते वक्त जलन महसूस होना, सफेद या ग्रे कलर का डिस्चार्ज होना जैसे लक्षण शामिल हैं।

(और पढ़ें - योनि में खुजली और इंफेक्शन के घरेलू उपाय)

6. पेशाब में बदबू का कारण है यौन रोग (एसटीआई): डॉक्टरों की मानें तो एसटीआई यानी सेक्शुअली ट्रांसमिटेड डिजीज की वजह से यूरेथ्राइटिस या यूरेथ्रा में इन्फ्लेमेशन की समस्या भी हो सकती है। कोई भी चीज जिसकी वजह से इरिटेशन या इन्फ्लेमेशन होता है उसमें संभावित रूप से बैक्टीरिया, पस या रक्तस्त्राव शामिल होता है और ये सारी चीजें पेशाब में बदबू का कारण बन सकती हैं। क्लैमाइडिया, ट्राइकोमोनिआसिस और गोनोरिया आदि सेक्शुअली ट्रांसमिटेड यौन रोग हैं जिनकी वजह से योनि में उत्तेजना, खुजली और जलन होने लगती है और इसकी वजह से भी पेशाब में से एक अजीब सी बदबू आने लगती है।

(और पढ़ें - योनि में जलन दूर करने के घरेलू उपाय)

7. पेशाब में बदबू का कारण है मेपल सिरप यूरिन डिजीज: मेपल सिरप यूरिन डिजीज एक दुलर्भ लेकिन लाइलाज जेनिटक बीमारी है जिसकी वजह से पेशाब में से मेपल सिरप जैसी गंध आने लगती है। जिन लोगों को यह बीमारी होती है उनका शरीर अमीनो एसिड ल्यूसिन, आइसोल्यूसिन और वैलीन को तोड़ने में सक्षम नहीं होता। अगर इस बीमारी का सही तरीके से इलाज न हो पाए तो इसकी वजह से मरीज का मस्तिष्क क्षतिग्रस्त हो सकता है और मरीज की मौत भी हो सकती है।

(और पढ़ें - बच्चों में यूरिन इंफेक्शन का कारण और इलाज)

8. खाने-पीने की चीजों की वजह से भी पेशाब से बदबू आती है: एक ऐसा खाद्य पदार्थ है जिसे खाने के बाद लोगों के पेशाब में से तेज बदबू आने लगती है वह है- ऐस्पारगस या शतावरी। दरअसल, शतावरी में प्राकृतिक रूप से सल्फर कम्पाउंड अधिक होता है जिसे ऐस्पारगुसिक एसिड कहते हैं। वैसे तो यह शरीर की किसी भी तरह से नुकसान नहीं पहुंचाता है लेकिन इसे पूरी तरह से तोड़ने के लिए जिस एंजाइम की जरूरत होती है वह बहुत से लोगों के शरीर में नहीं होता है जिस कारण शतावरी को खाने के बाद सल्फर मेटाबोलाइट बनता है जिसकी वजह से पेशाब में सल्फर या अमोनिया जैसी तेज बदबू आने लगती है। 

(और पढ़ें - पेशाब कम आने के लक्षण, कारण, इलाज)

शतावरी के अलावा ब्रूसेल्स स्प्राउट्स यानी चोकीगोभी, प्याज, लहसुन, सैल्मन और अल्कोहल जैसी चीजों का सेवन करने पर भी यूरिन में से अजीब सी तेज बदबू आने लगती है। साथ ही अगर बहुत ज्यादा कॉफी का सेवन किया जाए तो इसकी वजह से भी यूरिन से बदबू आने लगती है। 

9. प्रेगनेंसी में भी पेशाब से आने लगती है बदबू : गर्भावस्था के दौरान गर्भवती महिला के शरीर में प्रेगनेंसी हार्मोन एचसीजी के लेवल में बढ़ोतरी हो जाती है। इस बढ़ोतरी की वजह से भी पेशाब में से एक अजीब और बेहद तेज गंध या बदबू आने लगती है। खासकर प्रेगनेंसी के शुरुआती महीनों में तो ऐसा होना बेहद सामान्य सी बात है। हालांकि गर्भावस्था के दौरान महिलाओं की सूंघने की क्षमता भी बढ़ जाती है, इस वजह से भी उन्हें अपने पेशाब में से तेज बदबू महसूस होने लगती है। लिहाजा गर्भवती महिलाओं को प्रेगनेंसी के दौरान खूब सारा पानी पीना चाहिए ताकि उनके शरीर में पानी की कमी न हो जाए। जैसा कि हम पहले ही बता चुके हैं कि अगर शरीर में पानी की कमी हो जाए यानी डिहाईड्रेशन की वजह से यूरिन में अपशिष्ट पदार्थों और यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ जाती है जिससे पेशाब में से बदबू आने लगती है।

(और पढ़ें - गर्भावस्था के लिए बेस्ट हैं ये सूपरफूड्स)

पेशाब में बदबू आने का निदान - Diagnosis of Smelly Urine in Hindi

आपके पेशाब में से बदबू आने की समस्या किसी तरह की बीमारी की वजह से है या नहीं, इसकी जांच करने के लिए सामान्य तौर पर डॉक्टर निम्नलिखित टेस्ट करते हैं:

  • पेशाब की जांच : यूरिन के सैंपल की जांच की जाती है यह देखने के लिए उसमें किसी तरह का कोई बैक्टीरिया, वायरस या कोई और समस्या तो नहीं है (और पढ़ें- यूरिन टेस्ट क्या है)
  • सिस्टोस्कोपी : सिस्टोस्कोपी में एक पतली सी ट्यूब होती है जिसके आखिरी सिरे पर कैमरा लगा होता है उसे ब्लैडर के अंदर डाला जाता है यह देखने के लिए व्यक्ति को पेशाब से जुड़ी कोई बीमारी है या नहीं।
  • स्कैन और इमेजिंग : पेशाब में बदबू को डायग्नोज करने के लिए वैसे तो सामान्य रूप से इमेजिंग का इस्तेमाल नहीं होता। लेकिन अगर बदबू की समस्या जारी रहती है और पेशाब की जांच के बाद भी संक्रमण का कोई संकेत दिखायी नहीं देता तो डॉक्टर आपको एक्स-रे या अल्ट्रासाउंड करवाने की सलाह दे सकते हैं।

पेशाब में बदबू आने का उपचार - Smelly Urine Treatment in Hindi

अगर आपके यूरिन से भी गंदी बदबू आती है तो इस समस्या को दूर करने के लिए आप निम्नलिखित उपायों को अपना सकते हैं:

1. पर्याप्त मात्रा में पानी और तरल पदार्थों का सेवन करें
बहुत से लोगों को लगता है कि अगर वो ज्यादा पानी पिएंगे तो उन्हें बार-बार पेशाब करने के लिए जाना पड़ेगा या फिर यूरिन लीक होने का भी खतरा हो सकता है। लेकिन अगर पानी या तरल पदार्थों का कम सेवन करें तो इससे भी डिहाईड्रेशन की समस्या हो सकती है जिससे पेशाब में अपशिष्ट पदार्थों की मात्रा सघन हो जाती है और इस कारण पेशाब में से गंदी बदबू आने लगती है। अगर पेशाब में पानी मात्रा अधिक होगी तो उससे बदबू भी कम आएगी। लिहाजा रोजाना 6 से 8 गिलास पानी या तरल पदार्थों का सेवन जरूर करें। साथ ही पानी और तरल पदार्थ किडनी से जुड़ी समस्याएं और यूटीआई को भी दूर रखने में मदद करते हैं।

2. शतावरी, कॉफी आदि चीजें जिन्हें खाने या पीने के बाद पेशाब में तेज बदबू आती हो उनका ज्यादा सेवन करने से बचें।

3. क्रैनबेरी जूस पिएं। क्रैनबेरी का जूस पेशाब में ऐसिडिटी को बढ़ाने में मदद करता है जिससे बदबू को कम करने में मदद मिल सकती है। (और पढ़ें- क्रैनबेरी के फायदे और नुकसान)

4. विटामिन सी टैबलेट्स भी पेशाब में से दुर्गंध को दूर करने में मदद कर सकता है, लेकिन अगर आप पहले से कोई दवा या इलाज ले रहे हैं तो यह उन पर नकारात्मक असर भी डाल सकता है। लिहाजा इन विटामिन सी टैबलेट्स का सेवन करने से पहले अपने डॉक्टर से जरूर बात कर लें।

5. साफ-सफाई का रखें ध्यान - अगर आप अपने यौन अंगों की रोजाना सफाई करें और साफ-सुथरे अंडरगार्मेंट्स पहनें तो पेशाब में आने वाली बदबू को कंट्रोल करने में काफी हद तक मदद मिल सकती है। इसके साथ ही हर बार यूरिन पास करने के बाद भी क्लीनिंग करना न भूलें। (और पढ़ें- शिशु के नाजुक अंगों की कैसे करें सफाई, जानें)

Dr. Virender Kaur Sekhon

Dr. Virender Kaur Sekhon

यूरोलॉजी
14 वर्षों का अनुभव

Dr. Rajesh Ahlawat

Dr. Rajesh Ahlawat

यूरोलॉजी
44 वर्षों का अनुभव

Dr. Prasun Ghosh

Dr. Prasun Ghosh

यूरोलॉजी
26 वर्षों का अनुभव

Dr. Pankaj Wadhwa

Dr. Pankaj Wadhwa

यूरोलॉजी
26 वर्षों का अनुभव

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ