myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

आंखों से पानी आने का मतलब है, आंखों से अधिक आंसू आना, इस स्थिति में व्यक्ति की आंखों में जलन और खुजली जैसी परेशानी हो सकती हैं। आंखों से आंसू आना वैसे तो आम बात है लेकिन अगर यह बहुत लंबे समय से बिना किसी कारण के हो रहा है तो यह स्थिति अच्छी नहीं होती। 

आंखों से अधिक आंसू आने के कई कारण और लक्षण हो सकते हैं जैसे की आंखों की चोट या खरोंच लगना, आंखों में केमिकल चला जाना, आंख से खून बहना, आंख के अंदर कोई बाहरी पदार्थ फंस जाना, आंखों में लालिमा, जलन, दर्दसूजन और आदि होना। इस स्थिति को आंखों को बिना नुकसान पहुंचाए कई घरेलू उपचारों द्वारा ठीक किया जा सकता है।

  1. नमक का पानी है आंखों से आंसू आने का घरेलू उपाय - Namak ka pani hai aankhon se ansu aane ka gharelu upay
  2. आंखों से पानी आने का देसी इलाज है गर्म सिकाई - Aankhon se pani aane ka desi ilaj hai garam sikai
  3. ठंडी सिकाई है आंखों से पानी आने का रामबाण इलाज - Thandi sikai hai aankhon se pani aane ka rambaan ilaj
  4. आंखों से पानी आने का आयुर्वेदिक नुस्खा है शहद - Aankhon se pani aane ka ayurvedic nuskha hai shahad
  5. आंखों से पानी आने का घरेलू उपचार है खीरा - Aankhon se pani aane ka gharelu upchar hai kheera
  6. टी-बैग से करें आंखों से पानी आने का घर पर इलाज - Tea bag se karein aankhon se pani aane ka ghar par ilaj
  7. लौंग से रोकें आंखों में पानी आना - Loung se rokein aankhon mein pani aana
  8. टी-ट्री ऑयल है आंखों से अधिक आंसू आने की देसी दवा - Tea tree oil hai aankhon se adhik ansu aane ki desi dawa
  9. गुलाब जल से ठीक होती है आंखों में पानी आने की समस्या - Gulab jal se thik hoti hai aankhon mein pani aane ki samsya
  10. आलू है आंखों से अधिक आंसू आने का घरेलू इलाज - Potato hai aankhon se adhik ansu aane ka ghrelu ilaj
  11. आंखों में पानी आने से छुटकारा दिलाता है ठंडा दूध - Aankhon mein pani aane se chuthkara dilata hai thanda dudh
  12. आंखों में पानी आने का मरहम है एलोवेरा - Aankhon mein pani aane ka marham hai aloevera

नमक का पानी एक बेहद प्रभावशाली घरेलू उपचार है जो आंखों में इन्फेक्शन के कारण आंखों में आने वाले पानी का इलाज करता है। नमक का पानी आंसुओं की बूंद की तरह होता है जो आंखों को साफ करने में मदद करता है। नमक में एंटीमाइक्रोबियल गुण भी होते हैं। इसी कारण नमक आंखों के इन्फेक्शन और पानी आने की स्तिथि को ठीक कर पाता है। इसके साथ नमक में ऊतकों में से अतिरिक्त पानी निकालने की क्षमता भी होती है।

आवश्यक सामग्री

  • ¼ चम्मच नमक
  • 1/2  कप पानी
  • थोड़ी सी रूई

इस्तेमाल का तरीका

  • नमक को पानी में मिलाएं
  • अब इस मिश्रण को रूई की मदद से अपनी आंखों में आई ड्रॉप्स की तरह डालें

कब इस्तेमाल करें

इस विधि को दिन में दो से 3 बार इस्तेमाल करें जब तक आंखों में पानी आने की समस्या ठीक न हो जाए।

अगर आपकी आंख में पानी किसी सूजन या जलन की वजह से आता है, तो गर्म सिकाई इसे दूर करने में मदद कर सकती है। आंखों में पानी आने का कारण ब्लेफेराइटिस (पलकों की सूजन) है, तो इस स्थिति में पलकों के ऊपर जलन होना आम बात है। गर्म सिकाई से यह स्थिति कुछ समय के लिए ठीक की जा सकती है और आंखों से पानी आने की स्थिति को रोका जा सकता है।

आवश्यक सामग्री

  • 1 कप गर्म पानी 
  • 1 छोटा कपड़ा

इस्तेमाल का तरीका

  • एक कप पानी को गर्म कर लें 
  • अब इसमें एक छोटा कपड़ा भिगोएं और हल्के दबाव के साथ अपनी प्रभावित आंख पर लगाएं
  • ज्यादा गर्म पानी की जगह हल्के गर्म पानी का इस्तेमाल करें क्योंकि अधिक गर्म पानी से आपकी त्वचा जल भी सकती
  • साफ कपड़े का उपयोग करें ताकि आपकी आंख में अन्य प्रकार के बैक्टीरिया या अन्य रोगाणु न जा पाएं

कब इस्तेमाल करें

इस प्रक्रिया को दिन में दो से तीन बार इस्तेमाल करें।

ठंडी सिकाई गर्म सिकाई की तरह आंखों के इन्फेक्शन को पूरी तरह से ठीक नहीं कर पाती। लेकिन यह आंखों में हो रही तकलीफ से काफी हद तक आराम प्रदान करती है। कई मामलों में सूजन के कारण आंखों में पानी आता है और ठंडी सिकाई सूजन को कम करने में मदद करती है। जिसके कारण आंखों में पानी आना बंद हो जाता है। इसके अलावा ठंडी सिकाई आंख पर लगी चोट का भी इलाज कर सकती है।

आवश्यक सामग्री

  • 1 कप ठंडा पानी
  • 1 साफ कपड़ा 

इस्तेमाल का तरीका

  • कपड़े को ठंडे पानी में भिगो लें 
  • अब इसे हल्के दबाव के साथ अपनी प्रभावित आंख पर लगाएं
  • इसे ज्यादा न दबाएं और न ही बर्फ को सीधे अपनी आंख या उसके आसपास की त्वचा पर लगाएं 

इसके अलावा चाहें तो गीले कपड़े को प्लास्टिक बैग में रख कर थोड़ी देर के लिए फ्रीज में रखें और उसके बाद हल्के प्रेशर के साथ आंख पर लगाएं

कब इस्तेमाल करें

ठंडी सिकाई को दिन में 2 से 3 बार इस्तेमाल करें जब तक आंखों से पानी आना कम न हो जाए।

आयुर्वेद में शहद कंजक्टिवाइटिस (आंख आना) के लिए एक बेहतरीन घरेलू उपचार है, क्योंकि यह आंखों की लालिमा, सूजन, पस और कीटाणुओं को साफ करता है। शहद में एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं। अगर आपकी आंख में पानी आने का कारण कंजक्टिवाइटिस ही है, तो शहद इसके इलाज के लिए एक अच्छा विकल्प होगा।

पहला तरीका

आवश्यक सामग्री

  • 1 चम्मच शहद

इस्तेमाल का तरीका

  • शहद को उंगली की मदद से अपनी पलकों पर लगाएं
  • अब इसे 10 से 15 मिनट के लिए ऐसे ही छोड़ दें और उसके बाद पानी से धों लें

कब इस्तेमाल करें

इस प्रक्रिया को दिन में 2 बार इस्तेमाल करें

दूसरा तरीका

आवश्यक सामग्री

  • 3-4 चम्मच शहद
  • 2 कप पानी

इस्तेमाल का तरीका

  • उबलते पानी में कुछ चम्मच शहद डालें
  • इसके बाद इस मिश्रण को गुनगुना होने दें
  • अब इसे अपनी प्रभावित आंख के आसपास लगाएं

कब इस्तेमाल करें

इस उपाय को दिन में 3 से 4 बार दोहराएं।

खीरा आंखों की कई समस्याओं को ठीक करता है, जैसे कि आंखों के काले घेरे और आंखों के नीचे सूजन के साथ-साथ आंखों में पानी आने जैसी समस्या के लिए भी यह सबसे बेहतरीन घरेलू उपचार माना जाता है। खीरे में एंटी-इंफ्लामेटरी और एनाल्जेसिक (दर्द खत्म करने वाले) गुण पाए जाते हैं। इसके अलावा खीरा आंखों में होनी वाले रोगों जैसे, कंजक्टिवाइटिस, काले दाग धब्बे, मोतियाबिंद और ग्लूकोमा (काला मोतियाबिंद) आदि के लक्षण कम करने की भी सहायक होता है।

आवश्यक सामग्री

  • 1 खीरा

इस्तेमाल का तरीका 

  • चाकू की मदद से खीरे के दो स्लाइस काट लें
  • काटी हुई स्लाइस को अपनी दोनों आंखों के ऊपर रखें और 15 से 20 मिनट के लिए छोड़ दें

कब इस्तेमाल करें

इस प्रकिया को दिन में 2 से 3 बार इस्तेमाल करने की सलाह दी जाती है। बेहतर रिजल्ट प्राप्त करने के लिए ताजे और अच्छी गुणवत्ता के खीरे का उपयोग करें।

टी-बैग को चाय बनाने के अलावा घरेलू उपायों में भी इस्तेमाल किया जाता है। कुछ अध्ययनों से यह पता चला है कि टी-बैग में एंटीऑक्सीडेंट्स और एंटी-इंफ्लामेटरी यौगिक होते हैं जो आंखों की कई समस्याओं को ठीक करने में मदद करते हैं। 

आवश्यक सामग्री 

  • 2  टी-बैग

इस्तेमाल का तरीका 

  • 2 टी-बैग को 3 से 5 मिनट के लिए पानी में भिगोएं
  • अब दोनों टी-बैग को फ्रिज के अंदर 10 मिनट के लिए ठंडा होने दें
  • टी-बैग में मौजूद अतिरिक्त रस को निकाल दें और अपनी आंखों के ऊपर रख लें
  • टी-बैग को 15 से 30 मिनट के लिए ऐसे ही छोड़ दें

कब-कब इस्तेमाल करें

इस प्रक्रिया को 15 से 30 मिनट के लिए 3 दिन तक करें।

लौंग के तेल में एंटीसेप्टिक यौगिक होते हैं, जिस कारण यह दर्द से आराम दिलाने में मदद करता है। लौंग एक अच्छा प्राकृतिक घरेलू नुस्खा है, जो आंखों में कीटाणुओं को नष्ट करने की क्षमता रखता है। अपनी इसी क्षमता के कारण लौंग आंखों की समस्या का इलाज करता है और आंखों से पानी आने की स्थिति को दूर करता है।

आवश्यक सामग्री

  • 3-4 लौंग
  • कुछ बूंद पानी

इस्तेमाल का तरीका

  • लौंग को कुछ बूंद पानी के साथ अच्छे से पीस लें
  • अब इस पेस्ट को अपनी आंखों के आसपास लगाए और कुछ देर के लिए छोड़ दें
  • ध्यान रहे की पेस्ट आपकी आंखों के अंदर न जाए

कब इस्तेमाल करें

इस नुस्खे को दिन में एक बार से अधिक इस्तेमाल नहीं करें।

टी-ट्री ऑयल पलकों के ऊपर होने वाले इन्फेक्शन या रोग के कारण आंखों में पानी आने की स्थिति को ठीक करने में मदद करता है। कई बार आंखों में पानी आने के पीछे का कारण आंख संबंधी कोई रोग हो सकता है। टी-ट्री ऑयल में एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं जो बैक्टीरिया को नष्ट कर के आंखों में पानी आने की स्थिति को रोकते हैं।

आवश्यक सामग्री

  • 1 बूंद टी-ट्री ऑयल
  • आधा चम्मच नारियल तेल
  • थोड़ी सी रूई

इस्तेमाल का तरीका

  • टी-ट्री ऑयल को नारियल तेल के साथ अच्छे से मिला लें
  • अब अपनी आंखें बंद कर लें और मिश्रण में रूई को भिगो लें
  • अपनी आंखों और पलकों के ऊपर और आसपास इस मिश्रण को रूई की मदद से लगाएं

कब इस्तेमाल करें

इस प्रक्रिया को दिन में दो से तीन बार इस्तेमाल करें।

गुलाब जल में कई गुण होते हैं, जिनमें सबसे लोकप्रिय है इसका हमारी आंखों का इलाज करना। गुलाब जल में सूजन और जलन कम करने के गुण होते हैं। साथ ही यह आंखों में हो रही परेशानियों को खत्म कर के उसके कारण आंखों में पानी आने की स्थिति से छुटकारा दिलाने में भी मदद करता है।

आवश्यक सामग्री

  • 2 चम्मच गुलाब जल
  • थोड़ी सी रूई

इस्तेमाल का तरीका

  • थोड़ी सी रूई लें को गुलाब जल में भिगो लें
  • अब रूई की मदद से गुलाब जल को अपनी आंखों के ऊपर लगाएं
  • गुलाब जल को 15 मिनट के लिए ऐसे लगा रहने दें
  • इसके अलावा गुलाब जल की कुछ बूंदे आंखों में डालें

कब इस्तेमाल करें

इस उपाय को दिन में 4 से 5 बार दोहराएं, जब तक आंख से पानी आने की स्थिति से आराम ना मिल जाए।

आलू आंखों के लिए एक बेहद पुराना घरेलू उपचार है। इस उपाय में आलू की स्लाइस आंखों में हो रही जलन को खत्म करती हैं। आलू एक एस्ट्रिजेंट की तरह काम करता है, जिसकी वजह से आंखों में हो रही खुजली और आंख से अधिक पानी बहने की स्थिति को खत्म किया जा सकता है।

आवश्यक सामग्री 

  • 1 आलू

इस्तेमाल का तरीका 

  • चाकू की मदद से आलू की दो स्लाइस काट लें
  • काटी हुई स्लाइस को 30 मिनट के लिए फ्रिज में रख दें 
  • अब अपनी आंखों के ऊपर आलू की स्लाइस को रखें और 15 से 20 मिनट के लिए ऐसे ही छोड़ दें
  • उसके बाद गुनगुने पानी से आंखों को धो लें

कब-कब इस्तेमाल करें

इस उपाय को सूजन से छुटकारा पाने के लिए दिन में एक बार जरूर करें।

ठंडा दूध आंखों में जलन और पानी आने के लिए एक काफी प्रभावशाली घरेलू नुस्खा है। ठंडा दूध, ठंडी सिकाई की तरह काम करता है और जलन, सूजन व आंखों में पानी आने की समस्या को ठीक करने में मदद करता है। 

आवश्यक सामग्री

  • 3-4 चम्मच ठंडा दूध
  • थोड़ी सी रूई

इस्तेमाल का तरीका

  • ठंडे दूध में रूई को भिगो लें
  • अब इसे अपनी आंखों के ऊपर और उसके आसपास के हिस्से पर लगाएं
  • थोड़ी देर तक इसे ऐसे ही लगा रहने दें जब तक आंखों को आराम न मिल जाए

कब इस्तेमाल करें

इस प्रक्रिया को आप एक दिन में तीन से चार बार इस्तेमाल कर सकते हैं।

एलोवेरा में कई प्रकार के रोगों से आराम दिलाने के गुण होते हैं और यह एंटी-इचिंग (खुजली रोकने वाले) भी होता है जो की आंखों की समस्या को ठीक करने में बेहतरीन काम करता है।

आवश्यक सामग्री

  • 1 गिलास एलोवेरा जूस
  • 1 चम्मच शहद

इस्तेमाल का तरीका

  • एलोवेरा जूस से अपनी आंखें धोए
  • इसके अलावा एलोवेरा पौधे की एक टहनी लें और उसे दो हिस्सों में काट लें 
  • अब इससे निकले रस को एक कटोरी में भरकर थोड़ी देर के लिए फ्रिज में रख दें
  • इसके बाद इसमें शहद मिला लें 
  • फिर अपनी आंखों पर लगाएं और कुछ देर के लिए छोड़ दें

कब इस्तेमाल करें

इस उपाय को हफ्ते में रोजाना 2 बार इस्तेमाल करें।

और पढ़ें ...