myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

घर के सब लोग मिलकर डिनर करने बैठे हैं। डिनर में मछली ग्रेवी से सजी थाली सामने है। अभी मछली के स्वाद का मजा लेना शुरू ही किया कि गले में मछली का कांटा फंस गया। डिनर का सारा मजा किरकिरा हो गया। साथ ही गले में फंसे कांटे ने दर्द से परेशान कर दिया। दरअसल जिन घरों में मछली खाई जाती है, उन घरों में इस तरह की समस्या कोई हैरानी का विषय नहीं है। लेकिन कुछ लोग गले में फंसे कांटे से बहुत परेशान हो जाते हैं और डर भी जाते हैं क्योंकि उन्हें गले से कांटा निकालना नहीं आता। जबकि गले में फंसा मछली का कांटा निकालना बिल्कुल भी मुश्किल नहीं है। जानिए, मछली का कांटा निकालने के कुछ उपाय।

(और पढ़ें - मछली के तेल के फायदे)

  1. गले में मछली का कांटा फसने पर जोर से खांसे - Gale me machli ka kanta fasne par jor se khanse
  2. गले में मछली का कांटा निकालने के लिए जैतून का तेल पिएं - Gale me machli ka kanta nikalne ke liye jaitun ka tel piyen
  3. मछली का कांटा गले में अटक जाने पर खाएं केला - Machli ka kanta gale me atak jane par khayen kela
  4. मछली का कांटा गले में अटक जाए तो विनेगर पिएं - Machli ka kanta gle me atak jaye to piyen vinegar
  5. गले में फंसा मछली का कांटा निकालने के लिए गुनगुने पानी में मिलाएं ब्रेड - Gale me fansa machli ka kanta nikalne ke liye gugune pani me milyen bread

कई बार मछली का कांटा गले के बिल्कुल पीछे वाले हिस्से और टाॅन्सिल्स के इर्द-गिर्द फंस जाता है। जैसे ही लगे कि गले में कांटा फंस गया है तो जितनी जोर से संभव हो खांसे। ऐसा कई बार करें इससे गले में फंसा कांटा खांसी के झटकों से मुंह से बाहर निकल सकता है या फिर अपनी जगह से हिल सकता है। जगह से हिलने पर अपनी उंगली की मदद से कांटा निकालकर बाहर कर सकते हैं।

जैतून का तेल प्राकृतिक स्नेहक (चिकना करने वाला) है। अगर आपके गले में मछली का कांटा फंस गया है तो एक से दो चम्मच जैतून का तेल पी लें। इससे आपके गले और मछली के कांटे में चिकनाई की एक परत बन जाएगी। इससे कांटे को आप आसानी से निकाल पाएंगे। अगर निगलने पर कांटा न अंदर जाए तो जोर से खांसे। कांटे में लगी चिकनाई की वजह से वह आसानी से खांसने पर मुंह से बाहर निकल जाएगा।

कुछ लोग गले में कांटा फंसने पर केला खाते हैं। दरअसल केला खाने पर पेट में जाने के दौरान गले में फंसा काटा केले में अटक जाता है। इस तरह कांटा केले के साथ पेट में चला जाता है। इसके लिए केले का बड़ा निवाला बनाएं और एक मिनट तक मुंह में फंसाएं रखें। इससे मुंह में लार का स्राव बढ़ जाएगा। जब आप केला निगलेंगे तो मछली का कांटा भी इसके साथ-साथ अंदर चला जाएगा।

(और पढ़ें - कच्चा केला खाने के फायदे)

मछली का कांटा निकालने के लिए पतले सिरके का सेवन कर सकते हैं। हालांकि पतला विनेगर किस तरह गले में फंसे मछली के कांटे को निकालने में मददगार है, इस संबंध में कोई शोध नहीं हुआ है। लेकिन कुछ लोगों का मानना है कि विनेगर और पानी के मिश्रण को पीने से गले में फंसा मछली का कांटा घुल जाता है। आपको बताते चलें कि मछलियों की हड्डी बहुत नाजुक होती है जबकि विनेगर यानी सिरका एसिड है। अतः यह माना जाता है कि सिरका पेट के एसिड प्रक्रिया को तेज कर मछली के कांटें को घुलने में मदद करता है। हालांकि इस प्रक्रिया में अन्य तरीकों से ज्यादा समय लग सकता है।

गुनगुने पानी में मिलाएं ब्रेड

यह प्रक्रिया भी काफी हद तक केला खाने जैसी है। इसके लिए एक ब्रेड लें और गुनगुने पानी या दूध में इसे मिलाएं। ब्रेड के गलने पर इस मिश्रण को पी लें। इस तरह ब्रेड और दूध या पानी की चिकनाई अपने साथ-साथ कांटे को भी गले से निकालकर पेट के अंदर ले जाती है।

(और पढ़ें - सफेद ब्रेड या ब्राउन ब्रेड: क्या है स्वस्थ्यवर्धक)

कुछ लोग मछली का कांटा उंगली से निकालते हैं। नतीजतन कई बार गले में चोट लग जाती है, जिससे गले से खून निकल आता है। अतः इस तरह की तरकीबों को न आजमाएं। इसके बजाय यहां बताए गए उपायों की मदद लें। इससे गले में फंसा कांटा आसानी से बाहर निकल जाएगा।

और पढ़ें ...