स्वास्थ्य देखभाल पर बढ़ते घरेलू खर्च के परिणामस्वरूप बहुत से परिवार गरीबी रेखा से नीचे चले गए हैं। बीमारियां, चाहे वह दीर्घकालिक हों, पुरानी हों या अचानक सामने आने वाले रोग हों, यह समस्त परिवार पर ऐसा असर छोड़ जाती हैं, जो लंबे समय तक नजर आता है। लोअर मिडिल क्लास और मिडिल क्लास परिवारों में भी, जब गंभीर बीमारियां लगती हैं, तो उनकी भी गुणवत्तापूर्ण इलाज तक पहुंच आसान नहीं होती, क्योंकि किसी भी बीमारी का इलाज सस्ता नहीं रह गया है। ऐसी ही स्थितियों के लिए केंद्र सरकार और विभिन्न राज्य सरकारों ने अपने नागरिकों के लिए हेल्थ इन्शुरन्स की व्यवस्था की है। भारत के उत्तर-पूर्वी राज्य असम में भी राज्य सरकार अटल अमृत अभियान हेल्थ इन्शुरन्स स्कीम और असम आरोग्य निधि के रूप में दो ऐसी ही योजनाएं चल रही है। इस लेख में हम इन्हीं दो योजनाओं के बारे में बात करेंगे और बताएंगे कि इनकी खूबियां क्या हैं, योजनाओं के लिए पात्रता क्या है, कैसे आवेदन करें और क्या लाभ मिलेंगे।

(और पढ़ें - सबसे अच्छा हेल्थ इन्शुरन्स कौन सा है?)

  1. अटल अमृत अभियान हेल्थ इन्शुरन्स स्कीम क्या है - What is Atal Amrit Abhiyan Health Insurance Scheme in Hindi?
  2. असम आरोग्य निधि क्या है - What is Assam Arogya Nidhi in Hindi
  3. अटल अमृत अभियान की पात्रता - Eligibility Criteria for Atal Amrit Abhiyan in Hindi
  4. असम आरोग्य निधि की पात्रता - - Eligibility Criteria for Assam Arogya Nidhi in Hindi
  5. अटल अमृत अभियान के लिए दस्तावेजों की आवश्यकता - Document Requirements for Atal Amrit Abhiyan in Hindi
  6. असम आरोग्य निधि का लाभ कैसे लें - Process for Assam Arogya Nidhi in Hindi
  7. अटल अमृत अभियान में कौन-कौन सी बीमारियां कवर होती हैं - Diseases Covered Under Atal Amrit Abhiyan in Hindi

स्वास्थ्य सुविधाओं की कमी और महंगाई के कारण अच्छी स्वास्थ्य सुविधाओं तक हर किसी की पहुंच न होने के चलते ही राज्य सरकार ने यह योजना शुरू की। राज्य के गरीब और निम्न आय वर्ग के परिवारों के लिए राज्य सरकार अटल अमृत अभियान हेल्थ इन्शुरन्स स्कीम चलाती है। अटल अमृत अभियान हेल्थ इन्शुरन्स स्कीम के तहत लाभार्थी परिवारों को कैशलेस इलाज की सुविधा मिलती है और खासतौर पर क्रिटिकल इलनेस केयर पर ध्यान दिया जाता है। इस योजना का उद्देश्य बीमारी पर होने वाले इलाज के कारण परिवार पर पड़ने वाले घातक वित्तीय बोझ से गरीब परिवारों को मुक्ति दिलाना है।

अटल अमृत अभियान हेल्थ इन्शुरन्स स्कीम के तहत राज्य के प्रत्येक परिवार को हर वर्ष 2 लाख रुपये तक की हेल्थ कवरेज मिलती है। इस योजना के तहत कैंसर, हृदय रोग, किडनी रोग, नवजात बच्चों को होने वाली बीमारियां, मस्तिष्क और हृदय संबंधी बीमारियां और जलने जैसी तमाम समस्याओं को शामिल किया गया है। लाभार्थी सरकार द्वारा सहायता प्राप्त और सीजीएचएस के पैनल में मौजूद अस्पतालों में इन रोगों का इलाज करवा सकता है। योजना के तहत लाभार्थियों को राज्य और राज्य के बाहर भी सरकारी और सूचीबद्ध प्राइवट अस्पतालों में कैशलेस इलाज की सुविधा मिलती है।

(और पढ़ें - भारत में परिवार के लिए सबसे अच्छा कैशलेस मेडिक्लेम पॉलिसी)

असम आरोग्य निधि एक प्रतिपूर्ति (रिइम्बर्समेंट) आधारित योजना है, जिसके तहत लाभार्थी को गंभीर बीमारियों और एक्सीडेंट के मामले में इलाज के लिए वित्तीय मदद दी जाती है। इस योजना का लाभ 5 लाख रुपये या इससे कम वार्षिक आय वाले प्रत्येक परिवार को दिया जाता है।

(और पढ़ें - मेडिक्लेम पॉलिसी क्या है?)

अटल अमृत अभियान के तहत लाभ पाने के लिए आवेदक के लिए निम्न पात्रताएं आवश्यक हैं -

  • राज्य के सभी बीपीएल परिवार जिनकी वार्षिक आय 1 लाख, 20 हजार रुपये से कम है, वे इस योजना के तहत मुफ्त स्वास्थ्य सुविधा पाने के हकदार हैं।
  • 1.2 लाख रुपये से लेकर 5 लाख रुपये तक वार्षिक आय वाले एपीएल परिवार भी इस योजना का लाभ ले सकते हैं। इसके लिए उन्हें 100 रुपये प्रतिवर्ष के मामूली प्रीमियम का भुगतान करना होगा।
  • केंद्र या राज्य सरकार में कार्यरत या वहां से रिटायर हो चुके कर्मचारी इस योजना के लिए पात्र नहीं हैं।
  • नामांकन के लिए आए प्रत्येक दस्तावेज की जांच की जाएगी और जांचा जाएगा कि आवेदन कर्ता बीपीएल श्रेणी में आता है या एपीएल श्रेणी में।

(और पढ़ें - मैटरनिटी इन्शुरन्स पॉलिसी चुनते हुए रखे इन खास बातों का ख़याल)

असम आरोग्य निधि के तहत गरीब और मध्यम आय वर्ग के लोगों को बीमारी और एक्सीडेंट जैसे विपत्तियों के समय वित्तीय मदद दी जाती है। इस योजना का लाभ पाने के लिए निम्न पात्रताएं होना अनिवार्य है।

  • आवेदक को असम का स्थायी निवासी होना चाहिए।
  • आवेदक के परिवार की वार्षिक आय पांच लाख रुपये या उससे कम होनी चाहिए।
  • इस योजना का लाभ लेने के लिए आवेदक पर उम्र सीमा का बंधन नहीं लगाया गया है।
  • सरकारी कर्मचारी और सरकारी पेंशन ले रहे रिटायर्ड कर्मचारियों को इस योजना का लाभ नहीं मिलता है।
  • इसके तहत इलाज किसी भी सरकारी अस्पताल में होना चाहिए, जिसमें गवर्मेंट मेडिकल कॉलेज भी शामिल हैं। राज्य या देशभर में क्लिनिकल इस्टैब्लिशमेंट एक्ट के तहत पंजीकृत प्रतिष्ठित प्राइवेट अस्पताल में भी इलाज करवा सकते हैं।

(और पढ़ें - क्लेम सेटलमेंट के दौरान पॉलिसीधारक की जिम्मेदारियां)

अटल अमृत अभियान के तहत नामांकन के लिए आपको कई दस्तावेजों की आवश्यकता होती है। नीचे सभी दस्तावेजों के बारे में जानकारी दी गई है -

  • आधार कार्ड
  • वोटर आईडी कार्ड
  • आवेदक 18 वर्ष से कम उम्र का हो तो उसके जन्म प्रमाण पत्र की मूल कॉपी
  • आय प्रमाणपत्र
  • अन्य जरूरी दस्तावेज
  • यदि आपके पास राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा राशन कार्ड हो तो वह भी मान्य है।
  • डॉक्टर द्वारा सत्यापित मरीज की एक फोटो

(और पढ़ें - प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना)

नेशनल हेल्थ असम की वेबसाइट www.nhm.assam.gov.in से आवेदन पत्र डाउनलोड करें।
आवेदन के साथ निम्नलिखित दस्तावेज प्रस्तुत करें -

  • किसी भी डॉक्टर द्वारा सत्यापित रोगी की एक तस्वीर
  • आय प्रमाण पत्र की फोटोकॉपी, जो रेवेन्यू सर्कल अफसर द्वारा सत्यापित हो
  • पहचान पत्र और एड्रेस प्रूफ (वोटर आईडी, आधार कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस) की सत्यापित फोटोकॉपी
  • असली बिल, वाउचर और रसीदें आदि
  • प्रिस्क्रिप्शन की फोटोकॉपी
  • डिस्चार्ज समरी
  • बैंक पास बुक के पहले पेज की सत्यापित फोटोकॉपी
  • प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (पीएम-जय) या अटल अमृत अभियान कार्ड की सत्यापित फोटोकॉपी।

ऊपर बताए गए सभी दस्तावेजों को आवेदन पत्र के साथ मिशन डायरेक्टर, नेशनल हेल्थ मिशन, साइकिया कॉमर्शियल कॉम्पलेक्स, क्रिश्चिन बस्ती, गुवाहाटी - 781005 में जमा करवा दें। एक एक्सपर्ट कमेटी आवेदन और पात्र मामलों की जांच करती है, जिसमें गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज के स्पेशलिस्ट डॉक्टर भी शामिल होते हैं। इस समिती की सिफारिशों के आधार पर लाभार्थी के बैंक अकाउंट में सीधे वित्तीय मदद पहुंचा दी जाती है।

(और पढ़ें - फिक्स बेनिफिट और इंडेमिनिटी आधारित हेल्थ इन्शुरन्स में अंतर)

अटल अमृत अभियान के तहत कुल 437 बीमारियों को कवर किया जाता है। इन सभी 400 से ज्यादा बीमारियों को 6 समूहों में बांटा गया है -

  • हृदय रोग
  • कैंसर
  • गुर्दे के रोग
  • नवजात बच्चों से जुड़े रोग
  • न्यूरोलॉजिकल स्थितियां
  • बर्न्स (जलना)

(और पढ़ें - ईएसआई क्या है, कवरेज, लाभ)

और पढ़ें ...
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ