काम के बढ़ते दबाव के कारण किसी भी व्यक्ति के पास खुद का ख्याल रखने का समय भी नहीं रह पाता है और ऐसे में चिंता और डिप्रेशन जैसी समस्याएं भी होने लगती हैं जो शरीर में नई-नई बीमारियां पैदा करने का काम करती है। ठीक इसी तरह से महंगाई भी लगातार बढ़ती ही जा रही है, जिस कारण भविष्य के लिए सेविंग करना एक आम आदमी के बस से बाहर हो गया है। ऐसी स्थितियों के देखते हुए गरीब व वित्तीय रूप से कमजोर लोगों को मदद करने के लिए सरकार द्वारा भी कई बीमा योजनाएं चलाई गई हैं जिनमें से एक जनश्री बीमा योजना भी है।

जेबीवाई एक सरकारी बीमा योजना है, जिसे भारत सरकार ने एलआईसी इंडिया के साथ मिलकर जारी किया है। इस बीमा योजना के तहत 45 अलग-अलग व्यवसायिक समूहों से जुड़े लोगों को कवरेज दी जाती है। इस बीमा योजना में दुर्घटना या प्राकृतिक कारणों से मृत्यु या फिर विकलांगता होने पर एक विशेष राशि कवरेज के रूप में दी जाती है, जिसके बारे में नीचे बताया गया है। इस लेख में जनश्री बीमा योजना क्या है, इसके लाभ, फीचर और इसके लिए आवेदन कैसे करना है आदि के बारे में जानकारी दी गई है। 

(और पढ़ें - राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना क्या है)

  1. जनश्री बीमा योजना क्या है - What is Janashree Bima Yojana in Hindi
  2. जनश्री बीमा योजना के लाभ क्या हैं - What are the Benefits of Janashree Bima Yojana in Hindi
  3. जनश्री बीमा योजना में कितना प्रीमियम देना पड़ता है - How much premium has to be paid in Janashree Bima Yojana in Hindi
  4. जनश्री बीमा योजना की पात्रता के क्या मापदंड हैं - What are the eligibility criteria of Janashree Bima Yojana in Hindi
  5. जेबीवाई के लिए आवेदन कैसे करें - How to Apply for JBY in Hindi
  6. जनश्री बीमा योजना के लिए कौन अप्लाई कर सकता है - Who can apply for Janashree Bima Yojana in Hindi

जेबीवाई सरकार व जीवन बीमा निगम द्वारा शुरू की गई एक विशेष जीवन बीमा योजना है, जिससे ग्रामीण व शहरी दोनों क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को कवरेज प्रदान की जाती है। इस बीमा योजना को सन 2000 में जारी किया गया था, जिसमें मुख्य रूप से उन लोगों को कवरेज प्रदान की जाती है, जो गरीबी रेखा के नीचे या फिर थोड़ा बहुत ऊपर हैं। 

वर्तमान में इस स्कीम के तहत लगभग 45 अलग-अलग व्यवसायिक समूहों में काम करने वाले लोगों को को कवर किया जाता है। यह बीमा योजना दो अलग-अलग प्रणालियों से मिलकर बनी है, जिन्हें सामाजिक सुरक्षा समूह बीमा योजना और ग्रामीण समूह जीवन बीमा योजना शामिल हैं।

(और पढ़ें - आयुष्मान भारत सरबत सेहत बीमा योजना क्या है)

जनश्री बीमा योजना में लाभार्थियों को कई लाभ मिलते हैं, जिनमें से कुछ के बारे में नीचे बताया गया है -

  • यदि बीमित व्यक्ति की प्राकृति कारणों से मृत्यु हो जाती है, तो उसके द्वारा चुने गए नोमिनी को 30 हजार रुपये की राशि प्रदान की जाती है।
  • किसी दुर्घटना के कारण यदि बीमित व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है या फिर वह स्थायी रूप से विकलांग हो जाता है, तो नोमिनी को मुआवजे के रूप में 75 हजार रुपये दिए जाते हैं।
  • यदि किसी दुर्घटना के कारण बीमित व्यक्ति का कोई अंग स्थायी रूप से अपंग हो जाता है, तो उसे मुआवजे के रूप में 37 हजार पांच सौ रुपये दिए जाते हैं।

इसके अलावा जनश्री बीमा योजना द्वारा कवरेज प्राप्त करने वाले लोगों को कुछ विशेष फीचर भी मिलती हैं, जिनमें निम्न शामिल हैं -

  • महिला स्वयं सहायता ग्रुप -
    जनश्री बीमा योजना वुमन सेल्फ हेल्प ग्रुप से जुड़ी महिलाओं को विशेष फीचर प्रदान करती है। यह योजना एसएचजी की महिलाओं को उनके बच्चों को शिक्षा प्रदान करने में मदद करती है। इस समूह की सदस्य महिलाओं को टर्म इन्शुरन्स के रूप में 30 हजार रुपये तक की कवरेज मिलती है, जिसका सालाना प्रीमियम 200 रुपये होता है। इस प्रीमियम का 50 फीसद हिस्सा एलआईसी और बाकी का 50 फीसद स्वयं सहायता समूह की मेम्बर महिला द्वारा भुगतान किया जाता है।
     
  • शिक्षा सहयोग योजना -
    यह एक सोशल सिक्योरिटी स्कीम है। यह योजना के तहत उन बच्चों को कवरेज दी जाती है, जिनके माता-पिता जनश्री बीमा योजना के लाभार्थी हैं। बच्चों को यह लाभ छात्रवृति के रूप में मिलता है, जिसमें नवीं और दसवीं कक्षा में पढ़ने वाले विद्यार्थियों को हर छह महीने में 600 रुपये की राशि प्रदान की जाती है। साथ ही यह लाभ उन शिक्षार्थियों को भी मिलता है, जो आईटीआई की पढ़ाई कर रहे हैं। इस योजना के तहत एक परिवार में अधिकतम दो बच्चों को ही यह कवरेज दी जाती है।

(और पढ़ें - व्यक्तिगत स्वास्थ्य बीमा क्या है)

जनश्री बीमा योजना का प्रीमियम सालाना 200 रुपये प्रति सदस्य होता है। इस प्रीमियम का 50 फीसद हिस्सा लाभार्थी या राज्य सरकार/नोडल एजेंसी द्वारा भुगतान किया जाता है। बाकी का 50 फीसद हिस्सा सोशल सिक्योरिटी फंड (सामाजिक सुरक्षा कोष) से लिया जाता है।

नोडल एजेंसियों में आमतौर पर सेल्फ हेल्प ग्रुप (SHG), एनजीओ, पंचायत और अन्य संस्थागत प्रणालियां आदि शामिल हैं।

यदि आप जेबीवाई का लाभ लेना चाहते हैं, तो आपको इसकी पात्रता के निम्न मापदंडों को पूरा करना जरूरी है, जिनमें निम्न शामिल हैं -

  • व्यक्ति की आयु 18 से 59 वर्ष के बीच होनी चाहिए।
  • वह नोडल एजेंसी द्वारा अनुमोदित किसी व्यवसाय या व्यवसायिक समूह से जुड़ा हो
  • व्यक्ति गरीबी रेखा से नीचे या फिर थोड़ा बहुत ऊपर हो
  • समूह कम से कम 25 सदस्यों का होना चाहिए

(और पढ़ें - सबसे सस्ता स्वास्थ्य बीमा कौन सा है)

जनश्री बीमा योजना की अधिकृत वेबसाइट पर जाकर आप फॉर्म को डाउनलोड कर सकते हैं। इसके अलावा व्यक्ति नोडल या सेल्फ हेल्प ग्रुप या फिर जिसका भी वह सदस्य है उस समूह के माध्यम से भी वह आवेदन कर सकता है।

जनश्री बीमा योजना के लिए अप्लाई करने का एक तरीका एलआईसी ऑफिस भी है। आप जीवन बीमा निगम के दफ्तर जाकर भी जेबीवाई के लिए अप्लाई कर सकते हैं।

जनश्री बीमा योजना का लक्ष्य आर्थिक रूप से वंचित कामगारों व उनके बच्चों के लिए बीमा पॉलिसियों की कवरेज का विस्तार करना भी है। यह योजना महिलाओं और बच्चों को एक अलग कवरेज के रूप में भी वित्तीय सहायता प्रदान करती है।

(और पढ़ें - आपके लिए myUpchar बीमा प्लस पॉलिसी क्यों है बेहतर)

निम्न समूहों या व्यवसायों में काम करने वाले लोगों को जेबीवाई से लाभ मिल सकता है -

  • बीड़ी श्रमिक
  • ईंट भट्ठा श्रमिक
  • बढ़ई
  • मोची
  • मछुआरे
  • हस्तशिल्प कारीगर
  • हैंडलूम और खादी बुनकर
  • महिला दर्जी
  • चमड़ा और चमड़े का काम करने वाले श्रमिक
  • पापड़ श्रमिक 'सेवा' से जुड़े हैं।
  • दुग्ध उत्पादक
  • रिक्शा खींचने वाले
  • ऑटो चालक
  • सफाई कर्मचारी
  • वन श्रमिक
  • तेंदूपत्ता संग्राहक
  • रेशम उत्पादक
  • पावरलूम श्रमिक

इसके अलावा यह योजना उन लोगों को भी कवरेज प्रदान करती है, जो शारीरिक रूप से विकलांग हैं व खुद का कोई काम करते हैं, शहरी क्षेत्रों में रहते हैं व वित्तीय रूप से कमजोर हैं और वे महिलाएं जो शहरों से दूर क्षेत्रों जैसे पहाड़ी क्षेत्रों में रहती हैं।

(और पढ़ें - myUpchar बीमा प्लस में आपको क्या-क्या कवर मिलता है)

और पढ़ें ...
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ