किसी भी व्यक्ति के लिए उसका परिवार ही सबसे महत्वपूर्ण होता है। आप अपने परिवार को हर हाल खुश रखना चाहते हैं, फिर चाहे आप उनके साथ हों या न हों। आप चाहते हैं कि आपके बाद भी आपका परिवार खुश रहे। इस लेख में हम आपकी इसी चाहत के बारे में बात करेंगे, यानी आपके रहते आपका परिवार स्वस्थ और खुश रहने के साथ ही आपके न रहने पर भी बिना किसी परेशानी के जीवन जी सकें। आपके जीते जी आप अपने परिवार को खुश और स्वस्थ देखना चाहते हैं तो आपको इसके लिए स्वास्थ्य बीमा की आवश्यकता होती है। अगर आप चाहते हैं कि आपके बाद भी आपका परिवार बिना किसी परेशानी के जीवन यापन कर सके तो इसके लिए टर्म इन्शुरन्स का विकल्प आपको चुनना होगा।

अगर आप अपने परिवार के स्वास्थ्य के प्रति चिंतित रहते हैं तो आपको स्वास्थ्य बीमा में जरूर निवेश करना चाहिए। क्योंकि कोई भी बीमारी पूछकर नहीं आती है और कोई भी व्यक्ति इतना मजबूत नहीं है कि वह कभी बीमार ही नहीं पड़ेगा या उसे कभी चोट नहीं लगेगी। महंगाई के कारण मेडिकल के क्षेत्र में बिल लगातार बड़े होते जा रहे हैं, ऐसे में आपको अपनी सेविंग्स को बचाने और पर्स की सेहत को दुरुस्त रखने के लिए भी हेल्थ इन्शुरन्स की जरूरत होती है।

(और पढ़ें - हेल्थ इन्शुरन्स में फ्री लुक पीरियड क्या है?)

टर्म इन्शुरन्स के बारे में अक्सर लोग यह कहते हुए पाए जाते हैं कि यह उन लोगों के लिए होता है, जो कुछ ज्यादा ही डरते हैं। हालांकि, सच्चाई यह नहीं है। अगर आप सालाना कुछ रुपये खर्च कर सकते हैं और उससे आपके जीवन में शांति आती है तो यह सौदा बुरा नहीं है। टर्म इन्शुरन्स लेकर आप इस बात के लिए निश्चिंत हो सकते हैं कि आपके बाद आपके परिवार का क्या होगा। आपके अपने परिवार के स्वास्थ्य और सुख-सुविधाओं के लिए बड़ी ही सावधानी से खर्च करना चाहिए। इसलिए स्मार्ट बनें, परिवार के स्वास्थ्य और अपने लिए शांति का चुनाव करें।

  1. स्वास्थ्य बीमा क्या है - What is Health Insurance in Hindi?
  2. टर्म इन्शुरन्स क्या होता है - What is Term Insurance in Hindi?
  3. हेल्थ इन्शुरन्स और टर्म इन्शुरन्स में बेहतर क्या है - Which is Better Health or Term Insurance in Hindi?
  4. हमें हेल्थ और टर्म इन्शुरन्स दोनों क्यों चाहिए - Why do we need both Term and Health Insurance in Hindi?

आज की तेज रफ्तार जिंदगी में सब कुछ बहुत तेजी से बदल जाता है। इसी तेजी से महंगाई भी बढ़ती जाती है और हमारा लिविंग स्टैंडर्ड भी बदल रहा है। सैलरी या हमारी कमाई ज्यादातर तो महीने के पहले हफ्ते में ही क्रेडिट कार्ड, फोन, बिजली, पानी, इंटरनेट, डीटीएच आदि का बिल चुकाने में ही खत्म हो जाती है। इन सभी बिलों को चुकाने के बाद जो पैसा बचता है वह दूध, सब्जी और राशन में खत्म हो जाता है। अचानक बीमार पड़ने या एक्सीडेंट होने पर हमारे पास इलाज के लिए भी पैसा नहीं बचता है? ऐसे में स्वास्थ्य बीमा हमारी मदद करता है। यदि हम साल में कुछ पैसे बचाकर हेल्थ इन्शुरन्स ले लेते हैं तो अचानक आने वाले ऐसे खर्चों के प्रति निश्चिंत हो सकते हैं। किसी भी इमरजेंसी में हम अस्पतालों में कैशलेस इलाज करवा सकते हैं, अगर कैशलेस की सुविधा नहीं है तो बाद में इन्शुरन्स कंपनी से बिल को रिइम्बर्स भी करवा सकते हैं।

(और पढ़ें - हेल्थ इन्शुरन्स में क्या-क्या कवर होता है)

बढ़ती महंगाई से बीमा प्लस आपको और भी राहत देता है। myUpchar बीमा प्लस अन्य पॉलिसी से सस्ता होने के साथ ही आपको सभी तरह की सुविधाओं के अलावा 24x7 टेली ओपीडी की सुविधा भी मुफ्त देता है।

आपका परिवार ही आपका पूरा संसार होता है। अपने परिवार की खुशी और उन्हें सर्वोत्तम देने के लिए आप कुछ भी करने को तैयार हो जाते हैं। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि आपके जाने के बाद आपके परिवार का क्या होगा। अगर कभी सोचा भी होगा यह ख्याल ही आपके शरीर में सिहरन पैदा कर देता होगा। हम सब जानते हैं कि मौत अंतिम सत्य है और एक न एक दिन हर किसी को मौत आनी ही है। अगर आप चाहते हैं कि आपके इस संसार से चले जाने के बावजूद भी आपका परिवार खुश रहे और आज की जीवनशैली को बनाए रखे तो उसके लिए आपको अभी से तैयारी करनी होगी। यह तैयारी कुछ और नहीं बल्कि एक अच्छा टर्म इन्शुरन्स है।

(और पढ़ें - सबसे अच्छा हेल्थ इन्शुरन्स कौन सा है?)

अगर आप अपने परिवार की स्वास्थ्य की चिंता करते हुए स्वास्थ्य बीमा लेना चाहते हैं और सोच रहे हैं कि मेरे पास टर्म इन्शुरन्स है, फिर भी मुझे स्वास्थ्य बीमा की जरूरत क्यों है? तो आपको यह समझना चाहिए कि हमारे लिए यह दोनों तरह के इन्शुरन्स प्लान बहुत जरूरी हैं। इन दोनों में बुनियादी फर्क भी है। जहां एक ओर स्वास्थ्य बीमा एक व्यक्ति के जीवन में अहम भूमिका निभाता है, वहीं टर्म इन्शुरन्स व्यक्ति की मौत के बाद उसके परिवार की फाइनेंशियल मदद करता है। स्वास्थ्य बीमा हमें बीमारियों या एक्सीडेंट के दौरान कवर देता है और हमारे अस्पताल में भर्ती होने के साथ ही प्री और पोस्ट हॉस्पिटलाइजेशन के खर्चों को कवर करता हैं, वहीं टर्म इन्शुरन्स हमारे न रहने पर हमारे परिवार को अपनी मौजूदा जीवनशैली को बनाए रखने में मदद करता है। टर्म इन्शुरन्स का लाभ हम जिंदा रहते हुए नहीं ले सकते हैं, किसी भी स्थिति में टर्म इन्शुरन्स का पैसा हम जीवित रहते नहीं ले सकते हैं। हालांकि, यदि आपके इसके साथ क्रिटिकल इलनेस इन्शुरन्स और अन्य राइडर लिए हैं तो आपको उनका लाभ मिल सकता है। उसी तरह स्वास्थ्य बीमा आपके जीवित रहने पर ही काम आएगा, इसके तहत मृत्यु होने पर परिवार को कोई वित्तीय मदद नहीं मिलेगी।

(और पढ़ें - रूम रेंट कैपिंग क्या है?)

स्वास्थ्य बीमा और हेल्थ इन्शुरन्स दोनों के अपने अलग-अलग फायदे हैं। यह दोनों इन्शुरन्स के सबसे महत्वपूर्ण प्रकार हैं। इसलिए हमारी तो आपको यही सलाह है कि आपको स्वास्थ्य बीमा और टर्म इन्शुरन्स दोनों लेने चाहिए, क्योंकि दोनों का अपना अलग-अलग महत्व है। जहां एक ओर टर्म इन्शुरन्स आपकी अनुपस्थिति में आपके परिजनों को पैसों की किल्लत नहीं होने देगा और मौजूदा जीवनशैली को बरकरार रखने में मदद करेगा। वहीं, दूसरी ओर स्वास्थ्य बीमा आपके बीमार होने पर परिवार पर अतिरिक्त बोझ नहीं आने देगा और अच्छे अस्पताल में आसानी से उचित इलाज मिल जाएगा। यहां आपको अस्पताल के बिल की भी चिंता नहीं करनी होगी, क्योंकि बीमा कंपनी अस्पताल के साथ बिल को सैटल कर लेगी।

(और पढ़ें - हेल्थ इन्शुरन्स में टीपीए क्या है और उसके कार्य)

और पढ़ें ...
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ