myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

भारतीय लोगों को चाय पीना बेहद पसंद है। यही कारण है कि चीन के बाद चाय उत्पादन में भारत दूसरे नंबर पर है और अपने उत्पादन की 80 फीसदी चाय की खपत हम खुद ही कर जाते हैं। फुटपाथ की 10 रुपये वाली चाय से लेकर 5 स्टार तक की 500 रुपये वाली चाय तक भारत में चाय के दीवानों की कमी नहीं है। भारत में लगभग हर दूसरे व्यक्ति के दिन की शुरुआत इसी गर्मागर्म पेय के साथ होती है। हमारे देश में लोग चाय के इतने दीवाने हैं कि दिन में 4 से 5 कप आम बात है। 2007 में टी बोर्ड ऑफ इंडिया की स्टडी के अनुसार भारत में सबसे अधिक चाय का सेवन लोग घर में ही करना पसंद करते हैं, खासतौर से ब्रेकफास्ट से पहले या उसके साथ। इसे “एनी टाइम ऑफ दी डे” ड्रिंक भी कहा जाता है।

चाय को वैसे तो कई रूपों में पीया जा सकता है जैसे ब्लैक टी, ग्रीन टी, हर्बल टी, लेमन टी और भी न जाने क्या-क्या, लेकिन भारतीय लोगों को चाय सबसे अधिक दूध और चीनी (शक्कर) के साथ पसंद आती है। फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया के अनुसार लोगों की मनपसंद चाय में इस्तेमाल की जाने वाली पत्तियों में भी मिलावट के मामले सामने आए हैं। नकली चाय की पत्ती से कई गंभीर बीमारियां होने का खतरा भी रहता है, इसीलिए आज हम आपको एक ऐसा तरीका बताएंगे, जिसकी मदद से आप घर पर ही चाय की पत्ती की जांच कर सकते हैं।

चाय की पत्ती

  • एक फिल्टर पेपर लें और उसके ऊपर चाय की पत्तियां फैला दें।
  • पत्तियों के ऊपर पानी की कुछ बूंदे छिड़कें।
  • फिल्टर पेपर को नल के पानी में धोएं और दाग को रौशनी में ध्यान दे देखें।
  • शुद्ध पत्तियां फिल्टर पेपर पर कोई दाग नहीं छोड़तीं।
  • अगर पत्तियों में कोयला या टार की मिलावट होगी तो फिल्टर पेपर पर दाग और धब्बे नजर आने लगेंगे।

चाय की ही तरह भारतीय लोगों की कॉफी में भी काफी दिलचस्पी बढ़ती जा रही है। सामान्य कॉफी से अधिक लोग नए प्रकार की कॉफी को पसंद कर रहे हैं, जिसमें कोल्ड कॉफी, कॉफी मिक्सेस और इंस्टेंट कॉफी शामिल हैं। इन सभी को बनाने में कॉफी पाउडर का इस्तेमाल किया जाता है। भारत विश्व में कॉफी का छठा सबसे बढ़ा उत्पादक है। लगभग हर घर में कोई न कोई ऐसा व्यक्ति जरूर होता है जो कॉफी पीता है। 2012 में जहां कॉफी मार्किट 2420 करोड़ थी वहीं वह 2016 में बढ़कर 4200 करोड़ पहुंच गई। इतने अधिक स्तर पर कॉफी का व्यापार होने के कारण इसमें मिलावट की आशंका भी बढ़ जाती है।

चाय की ही तरह कॉफी पाउडर में भी मिलावट के मामले सामने आएं है। कॉफी पाउडर की शुद्धता पहचानने के लिए नीचे दी गई विधि को अपनाएं।

कॉफी पाउडर

  • ½ चम्मच कॉफी पाउडर को एक गिलास पानी में डालें।
  • एक मिनट तक इसे मिलाएं और उसके बाद 5 मिनट के लिए छोड़ दें। 
  • गिलास के नीचले हिस्से को देखें। 
  • शुद्ध कॉफी पाउडर कभी भी नीचे मिट्टी के कण नहीं छोड़ता है। 
  • अगर कॉफी पाउडर अशुद्ध है तो उसके अंदर मौजूद मिट्टी के कण गिलास के नीचले हिस्से में बैठ जाएंगे।
और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें