myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

नए कोरोना वायरस सार्स-सीओवी-2 से होने वाली बीमारी कोविड-19 ने भारत समेत दुनियाभर के कई देशों को बुरी तरह से प्रभावित कर रखा है। 23 जून 2020 तक के आंकड़ों की बात करें तो भारत में कोविड-19 से संक्रमित मरीजों की संख्या 4 लाख 40 हजार हो गई है। हर किसी के मन में बस यही डर है कि कहीं वह इस महामारी की चपेट में न आ जाए। इस वक्त दुनियाभर की कई दवा कंपनियां कोविड-19 के इलाज के लिए दवा बनाने की होड़ में जुटी हैं लेकिन हकीकत यही है कि मौजूदा समय में कोविड-19 के इलाज के लिए कोई दवा या वैक्सीन अब तक तैयार नहीं हो पायी है।   

नियमित रूप से साबुन-पानी या अल्कोहल बेस्ड सैनिटाइजर से हाथों को साफ करने, बाहर निकलते वक्त मास्क या फेस कवर का इस्तेमाल करने और दूसरों से दो गज की दूरी रखने के अलावा भी एक और तरीका है जिसकी मदद से आप कोविड-19 महामारी की चपेट में आने से बच सकते हैं और वह है अपनी इम्यूनिटी यानी शरीर के प्रतिरक्षा तंत्र को मजबूत बनाना।

(और पढ़ें : सोने से कैसे मजबूत होता है आपका इम्यून सिस्टम, जानें)

हालांकि यह बात अब तक साबित नहीं हुई है कि किसी व्यक्ति की मजबूत इम्यूनिटी उसे कोरोना वायरस के संक्रमण से बचा सकती है या फिर अगर कोविड-19 हो जाए तो उसके इलाज में किसी तरह से मददगार साबित हो सकती है। लेकिन अगर आपकी इम्यूनिटी यानी बीमारियों से लड़ने की क्षमता मजबूत होगी तो बाहरी रोगाणु आपके शरीर पर हमला नहीं कर पाएंगे और आपकी ओवरऑल सेहत बेहतर बनी रहेगी और आप स्वस्थ और निरोग रहेंगे। 

नियमित रूप से योग करने, सांस संबंधी व्यायाम करने और हेल्दी डायट का सेवन करने से भी आपकी इम्यूनिटी मजबूत हो सकती है लेकिन एक और तरीका है जिसके जरिए आप कोरोना से बचने के लिए अपनी प्रतिरक्षा तंत्र को मजबूत बना सकते हैं और वह है- प्राकृतिक और औषधीय गुणों से भरपूर जड़ी बूटियों से बनने वाला काढ़ा। कोरोना से बचने के लिए किन चीजों का इस्तेमाल कर काढ़ा कैसे बनाना है, इस बारे में हम आपको इस आर्टिकल में बता रहे हैं। साथ ही आयुष मंत्रालय ने कोरोना से बचने के लिए किन बातों का पालन करने के लिए कहा है वह भी जानें।

(और पढ़ें : मजबूत इम्यूनिटी वालों को भी पलभर में धराशायी कर सकता है कोरोना वायरस)

  1. कोरोना के लिए काढ़ा बनाने की विधि - Corona ke liye kadha kaise banaye?
  2. इम्यूनिटी मजबूत करने के लिए आयुष मंत्रालय का सुझाव - Ayush ministry recommendation for strong immunity in hindi

जब बात काढ़े की आती है तो यह प्राकृतिक जड़ी बूटियों और औषधीय गुणों से भरपूर मसालों का एक ऐसा मिश्रण है जिसका इस्तेमाल सदियों से भारत में होता आ रहा है। जब भी किसी को सर्दी-जुकाम या बुखार जैसी बीमारी होती है तो उसमें दादी मां के नुस्खे में काढ़े का जिक्र अवश्य होता है क्योंकि नैचरल चीजों से बनने वाला यह काढ़ा हमारी इम्यूनिटी को मजबूत बनाने में मदद करता है। आयुर्वेद की मानें तो काढ़ा बनाने के लिए जिन चीजों का इस्तेमाल होता है वे न सिर्फ इंफेक्शन से लड़ने में मदद करती हैं कि बल्कि आपके शरीर को अंदर से मजबूत भी बनाती हैं। 

तुलसी के पत्ते का काढ़ा
सामग्री

तुलसी की पत्तियां- 8 से 10
दालचीनी- 1 छोटा टुकड़ा
काली मिर्च- 10-12
सोंठ या शुन्ठी (सूखी अदरक)- आधा चम्मच
मुनक्का या किशमिश- 4 से 5
पानी- 3 से 4 कप
गुड़ या शहद (वैकल्पिक स्वाद अनुसार)
नींबू का रस  (वैकल्पिक स्वाद अनुसार)

बनाने की विधि

  • सबसे पहले एक पैन में पानी डालें और तुलसी की पत्तियों को अच्छी तरह से धोकर उसमें डालें और बाकी की सभी सामग्रियों को भी पानी में डाल दें, सिवाय गुड़/शहद और नींबू के रस के।
  • 15 से 20 मिनट तक धीमी आंच पर इन सारी चीजों को पानी के साथ उबलने दें।
  • जब पानी उबलकर आधा हो जाए तो गैस बंद कर दें और काढ़े को हल्का सा ठंडा कर लें।
  • इसके बाद काढ़े को छान लें और इसमें अपनी पसंद के अनुसार गुड़, शहद या नींबू का रस मिलाकर पिएं।

तुलसी में यूजीनॉल नामक तत्व पाया जाता है जो सेहत के लिए बेहद लाभकारी है। यही वजह है कि तुलसी हजारों साल से आयुर्वेद का अहम हिस्सा है। तुलसी के काढ़े में सूजन को कम करने की क्षमता होती है। इसके अलावा इसमें एंटीऑक्सिडेंट, एंटीसेप्टिक, जीवाणुरोधी, पाचन को दुरुस्त रखने वाला और तनाव से मुक्ति दिलाने का गुण पाया जाता है। यह कफ को बाहर निकालने में भी मदद करती है और श्वसन समस्याओं के लक्षणों के साथ-साथ कारणों का भी इलाज करती है। जो लोग नैचरल हीलिंग पर भरोसा करते हैं उनके लिए तुलसी का काढ़ा बेहद फायदेमंद माना जाता है।

हल्दी, अदरक, मुलेठी का काढ़ा
सामग्री

अदरक- 1 इंच
कच्ची हल्दी- 1 इंच
मुलेठी- 4 से 5
दालचीनी- 4 से 5
लौंग- 10 से 12
काली मिर्च- 10 से 12
पानी- 8 से 10 कप

बनाने की विधि

  • एक पैन में पानी डालें और सभी चीजों को उसमें डालकर उबलने दें।
  • करीब 30 से 40 मिनट तक इस पानी को उबालें और फिर छानकर ठंडा कर लें।
  • आप चाहें तो काढ़े में अपनी पसंद के अनुसार नींबू का रस या शहद मिलाकर भी पी सकते हैं। 

इस काढ़े की बात करें तो हल्दी में भी तुलसी की ही तरह जीवाणुरोधी, एंटीवायरल और एंटीफंगल एजेंट होता है जो प्रतिरक्षा प्रणाली यानी इम्यूनिटी को मजबूत बनाने में मदद करता है। तो वहीं अदरक भी एंटीवायरल, एंटीटॉक्सिक और एंटीफंगल गुणों से भरपूर होता है तो इम्यूनिटी को मजबूत बनाने का काम करता है। इसके अलावा मुलेठी भी शरीर को वायरस, बैक्टीरिया और संक्रमण से बचाकर रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। कुल मिलाकर देखें तो ये सभी चीजें आपकी इम्यूनिटी को मजबूत बनाने का काम करती हैं।

(और पढ़ें : करता है दसियों परेशानियों का हल ये एक मात्र पेय)

भारत सरकार के आयुष मंत्रालय का भी यही सुझाव है कि बचाव, इलाज से बेहतर है यानी बीमारी होने के बाद उसका इलाज करवाने से बेहतर है कि आप बीमारी को होने से रोक लें। इसके लिए सुरक्षात्मक उपायों को अपनाकर अपनी इम्यूनिटी को मजबूत बनाना बेहद जरूरी है। इसी क्रम में केंद्रीय आयुष मंत्रालय ने कोविड-19 महामारी के समय स्वास्थ्य से संबंधित कई सुझाव दिए हैं जिसका पालन कर आप बीमारी की चपेट में आने से बच सकते हैं:

कोरोना महामारी के ऐसे समय में जहां तक संभव हो हर व्यक्ति को अपनी सुविधा अनुसार इन सुझावों का पालन अवश्य करना चाहिए।

(और पढ़ें : इम्यून सिस्टम मजबूत रखना चाहते हैं तो न करें ये गलतियां)

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें
कोरोना मामले - भारतx

कोरोना मामले - भारत

CoronaVirus
604643 भारत
2दमन दीव
100अंडमान निकोबार
15252आंध्र प्रदेश
195अरुणाचल प्रदेश
8582असम
10249बिहार
446चंडीगढ़
2940छत्तीसगढ़
215दादरा नगर हवेली
89802दिल्ली
1387गोवा
33232गुजरात
14941हरियाणा
979हिमाचल प्रदेश
7695जम्मू-कश्मीर
2521झारखंड
16514कर्नाटक
4593केरल
990लद्दाख
13861मध्य प्रदेश
180298महाराष्ट्र
1260मणिपुर
52मेघालय
160मिजोरम
459नगालैंड
7316ओडिशा
714पुडुचेरी
5668पंजाब
18312राजस्थान
101सिक्किम
94049तमिलनाडु
17357तेलंगाना
1396त्रिपुरा
2947उत्तराखंड
24056उत्तर प्रदेश
19170पश्चिम बंगाल
6832अवर्गीकृत मामले

मैप देखें