myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

गोजी बेरी लाल रंग का एक छोटा फल है, जो मूल रूप से चीन में पाया जाता है। भारत में यह मुख्य रूप से हिमालय के निचले क्षेत्रों में उगता है। गोजी बेरी सिर्फ खाने में ही स्वादिष्ट नहीं है, इसमें खूब मात्रा में पोषक तत्व भी पाए जाते हैं।

गोजी बेरी का स्वाद इतना अच्छा होता है कि आजकल मार्केट में इसके फ्लेवर के कई प्रोडक्ट मिलने लगे हैं, जिनमें गोजी बेरी चॉकलेट सबसे मुख्य है।

ऐसा माना जाता है कि नियमित रूप से गोजी बेरी फल खाने पर स्वास्थ्य संबंधी कई लाभ मिलते हैं, जैसे हृदय, आंखों व नसों को सुरक्षा प्रदान करना। इन्ही गुणों के कारण इसे “सुपरफूड्स” कहा जाता है।

(और पढ़ें - फलों के फायदे)

  1. गोजी बेरी की न्यूट्रिश्नल वैल्यू - Goji berries ki Nutritional value
  2. गोजी बेरी के फायदे - Goji berries ke fayde
  3. संक्षेप - Takeaways

गोजी बेरी में पोषक तत्वों की मात्रा

गोजी बेरी काफी मात्रा में ऊर्जा प्रदान करता है इसलिए इसे “एनर्जी बॉम्ब” भी कहा जाता है। दुनियाभर में लोग एक्सरसाइज शुरु करने से पहले गोजी बेरी फल को खाना पसंद करते हैं। संयुक्त राज्य अमेरिका के कृषि विभाग (USDA) के अनुसार 100 ग्राम गोजी बेरीज में लगभग 1461 किलोजॉल्स मौजूद होती है। गोजी बेरी फल के पोषक तत्वों की मात्रा निम्न टेबल में दी गई है।

न्यूट्रिशन वैल्यू (प्रति 100 में)

पानी

7.50 ग्राम
प्रोटीन 14.26 ग्राम
लिपिड (फैट) 00.39 ग्राम
कार्बोहाइड्रेट 77.06 ग्राम
फाइबर 13.00 ग्राम
शुगर 45.61 ग्राम

 

मिनरल वैल्यू (प्रति 100 ग्राम में)
कैल्शियम 190 एमजी
आयरन 6.80 एमजी
सोडियम 298 एमजी

 

विटामिन वैल्यू (प्रति 100 ग्राम में)
विटामिन सी 48 एमजी
विटामिन ए 26822 आईयू

 

अमीनो एसिड वैल्यू (प्रति 100 ग्राम में)
आर्जिनाइन 0.722 ग्राम
एस्पर्टिक एसिड 1.711 ग्राम
ग्लूटामिक एसिड 1.431 ग्राम
प्रोलीन 1.000 ग्राम

 

आंखों की नसों को सुरक्षित रखने के साथ-साथ यह हृदय संबंधी रोगों से भी बचाता है। कुछ अध्ययनों के अनुसार गोजी बेरी शरीर के कई अंदरुनी अंगों को लिए लाभदायक है। गोजी बेरी से मिलने वाले लाभों में निम्न भी शामिल हैं:

  1. तुरंत ऊर्जा प्रदान करना - Turant energy pradan karna
  2. आंखों को सुरक्षित रखना - Eyes ko surakshit rakhna
  3. हृदय की सुरक्षा करना - Heart ki surksha karna
  4. डायबिटीज मेलिटस से बचाव करना - Diabetes mellitus se bachav karna
  5. ट्यूमर से बचाव करना - Tumor se bachav karna
  6. तंत्रिका संबंधी विकारों से बचाव - Neurological disorders se bachav karna
  7. वजन घटाना में मदद करना - Weight loss me madad karna
  8. एंटी-एजिंग गुण - Anti-ageing gun

तुरंत ऊर्जा प्रदान करना - Turant energy pradan karna

जैसा कि हमने ऊपर बताया है, गोजी बेरी में खूब मात्रा में एनर्जी होती है। मात्र 100 ग्राम गोजी बेरी फल लगभग 1461 किलोजॉल्स एनर्जी प्रदान करते हैं। मतलब यह केले के मुकाबले लगभग 3 गुना ज्यादा ऊर्जा प्रदान करता है।

इसकी कुल ऊर्जा का लगभग 40 प्रतिशत भाग कार्बोहाइड्रेट्स से आता है, जो जल्द ही अवशोषित हो जाता है। इसलिए यदि आप एक्सरसाइज शुरु करने से पहले गोजी बेरी फल खाते हैं, तो आपका शरीर ऊर्जा से भर जाता है।

आंखों को सुरक्षित रखना - Eyes ko surakshit rakhna

गोजी बेरी में मौजूद विटामिन ए में न्यूरोप्रोटेक्टिव गुण भी होते हैं। इसका मतलब है कि ये आंखों की नसों को सुरक्षा प्रदान करता है। विटामिन ए में “बीटा केरोटीन्स” होता है, जो रेटिना और तंत्रिका कोशिकाओं को सुरक्षित रखने में मदद करता है। 100 ग्राम गोजी बेरी में 26822 आईयू विटामिन ए होता है, जबकि हमें रोजाना सिर्फ 5000 आईयू विटामिन ए चाहिए होता है। इसलिए रोजाना 10 से 20 ग्राम गोजी बेरी खाना विटामिन ए की जरूरत को पूरा कर देता है।

इसके अतिरिक्त गोजी बेरी में एंथोसायनिन्स (Anthocyanins) होता है, जो उम्र के साथ होने वाली मांसपेशियों की क्षति को कम कर देता है।

हृदय की सुरक्षा करना - Heart ki surksha karna

गोजी बेरी में काफी मात्रा में पॉलिफेनल्स (Polyphenols), एंथोसायनिन, माइक्रोन्यूट्रिएंट्स और फाइबर पाए जाते हैं। ये सभी न्यूट्रिएंट्स हृदय रोग के खतरे को कम करने में मदद करते हैं।

एंथोसायनिन एक प्रकार के एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं, जिनकी वजह से गोजी बेरी का रंग लाल होता है। ये एलडीएल (Low density lipoproteins) की मात्रा को कम करने में मदद करते हैं। एलडीएल को “बैड कोलेस्ट्रॉल” के नाम से भी जाना जाता है, क्योंकि एलडीएल की अधिक मात्रा अधिक होने से हाई बीपी, रक्त वाहिकाओं में रुकावट और एथेरोस्क्लेरोसिस (नसों व धमनियों में प्लाक जम जाना) आदि रोग विकसित हो सकते हैं।

डायबिटीज मेलिटस से बचाव करना - Diabetes mellitus se bachav karna

गोजी बेरी खून में शुगर का स्तर कम करके हाइपोग्लाइसेमिक (Hypoglycaemic) प्रभाव डालता है। काफी लोग गोजी बेरी को डायबिटीज मेलिटस का आयुर्वेदिक उपचार मानते हैं।

डायबिटीज मेलिटस आमतौर पर डायबिटीज का सबसे आम प्रकार है, यह तब होता है जब शरीर इन्सुलिन (एक विशेष हार्मोन) का ठीक से उपयोग नहीं कर पाता और जब ब्लड शुगर का स्तर सामान्य से बढ़ जाता है।

ट्यूमर से बचाव करना - Tumor se bachav karna

चीन में गोजी बेरी का उपयोग ट्यूमर का इलाज करने के लिए भी किया जाता है।

2011 में चीन की निंगजिया यूनिवर्सिटी में एक अध्ययन के दौरान पाया गया है कि गोजी बेरी में एक विशेष प्रकार का विटामिन (2-O-β-D-glucopyranosyl-L-ascorbic acid) होता है, जो सर्वाइकल कैंसर की कोशिकाओं को बढ़ने से रोकता है।

2017 में एचएसयू. एच.जे. इटी. एएल (Hsu H.J. et al.) नाम के एक रिसर्चर ने पाया कि लाइसियम बारबेरम (एक तरह का गोजी बेरी फल) में पाया जाने वाला केरोटेनोइड (Carotenoid) कोलन कैंसर की एचटी-29 सेल्स को बढ़ने से रोकता है।

तंत्रिका संबंधी विकारों से बचाव - Neurological disorders se bachav karna

ऐसा भी माना जाता है कि गोजी बेरी तंत्रिकाओं संबंधी विकारों को रोकने में भी मदद करता है, जैसे पार्किंसन रोग और अल्जाइमर रोग आदि।

गोजी बेरी ग्लूटामेट टॉक्सीसिटी को कम करने में भी मदद करता है, इसे एक्साइटोटॉक्सिटी के नाम से भी जाना जाता है। यह एक ऐसी प्रक्रिया होती है, जिसमें न्यूरोन्स क्षतिग्रस्त होकर नष्ट हो जाते हैं। इस स्थिति में कई मानसिक रोग विकसित हो जाते हैं। सामान्य कार्य प्रणाली में ग्लूटामेट्स, तंत्रिका कोशिकाओं को संदेश भेजती है, जो व्यक्ति को नई चीजें सीखने व याददाश्त रखने में मदद करती है।

वजन घटाना में मदद करना - Weight loss me madad karna

गोजी बेरी में बहुत ही कम वसा होती है, इसलिए जो लोग वजन घटाने के लिए डाइट ले रहे हैं, उनके लिए यह काफी लाभदायक फल हो सकता है। यह अन्य बे-स्वाद डाइट आहार की तरह नहीं है, इसलिए आपको वजन घटाने के लिए अपने स्वाद की कुर्बानी नहीं देनी पड़ेगी। लगातार 2 हफ्ते गोजी बेरी फल खाने से ही रिजल्ट आपको साफ दिख जाएगा। यह जरूर नोट कर लें कि वजन घटाने के लिए आपको गोजी बेरी का फल खाना पड़ेगा, इसका जूस पीने से इतना लाभ नहीं मिलता है।

एंटी-एजिंग गुण - Anti-ageing gun

गोजी बेरी में काफी मात्रा में एंटी-ऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं, इसलिए ऐसा माना जाता है कि गोजी बेरी में हमे जवान रखने के गुण भी होते हैं।

खाने में स्वादिष्ट और न्यूट्रिएंट्स से भरपूर होने पर भी गोजी बेरी फल को अपने स्वास्थ्य, उम्र व अन्य कारकों के अनुसार एक सीमित मात्रा में ही खाना चाहिए। कुछ लोग गोजी बेरी फल के प्रति एलर्जिक भी हो सकते हैं, यदि आपको या आपके किसी करीबी को गोजी बेरी फल खाने पर खुजली, जलन या लालिमा जैसे लक्षण महसूस हो रहे हैं, तो उसी समय उसका सेवन बंद कर देना चाहिए। यदि स्थिति गंभीर लग रही है, तो जल्द से जल्द डॉक्टर के पास चले जाना चाहिए।

वैसे तो चीन में सदियों से गोजी बेरीज का इस्तेमाल एक पारंपरिक दवा के रूप में किया जाता है, लेकिन अभी तक भी इस पर कोई मेडिकल स्टडी नहीं की गई है। इसीलिए गोजी बेरीज के लाभों को आजकल की विज्ञान के सख्त परीक्षणों का सामना करना पड़ रहा है।

और पढ़ें ...

References

  1. United States Department of Agriculture. Full Report (All Nutrients): Goji berries, dried. National Nutrient Database for Standard Reference Legacy Release; Agricultural Research Service
  2. Zheng Feei Ma et.al. Goji Berries as a Potential Natural Antioxidant Medicine: An Insight into Their Molecular Mechanisms of Action. Oxid Med Cell Longev. 2019; 2019: 2437397. PMID: 30728882
  3. Arpita Basu et.al. Berries: emerging impact on cardiovascular health. Nutr Rev. 2010 Mar; 68(3): 168–177. PMID: 20384847
  4. Zhang Z et.al. Selective suppression of cervical cancer Hela cells by 2-O-β-D-glucopyranosyl-L-ascorbic acid isolated from the fruit of Lycium barbarum L. Cell Biol Toxicol. 2011 Apr;27(2):107-21. PMID: 20717715
  5. MedlinePlus Medical: US National Library of Medicine; Goji
  6. Shirin Hasani-Ranjbar et. al. A Systematic Review of the Efficacy and Safety of Anti-aging Herbs in Animals and Human. Volume 7 (8): 621-640, 2012