myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

कुंकुमादि तैलम को केसर ऑयल के नाम से जाना जाता है। यह 26 तत्वों का एक अद्भुत मिश्रण है जो त्वचा को नर्म बना कर उस पर चमक लाता है। सुंदरता हमेशा से लोगों के लिए बहुमूल्य रही है। सुंदरता दूसरों का ध्यान आकर्षित करने का एक अच्छा साधन है। आज के समय में हर कोई सुन्दर दिखने के लिए क्या नहीं करता है क्योंकि इससे उनका आत्मविश्वास बढ़ता है। इसलिए आयुर्वेद ने हमें कुंकुमादि तैलम के रूप में बहुमूल्य उपहार दिया है जो हमारी सभी प्रकार की त्वचा सम्बंधित समस्या से छुटकारा दिलाने में मदद करता है। 

कुंकुमादि तेल में एंटीऑक्सीडेंट, एंटी-ह्यपरपिगमेंटशन, मॉइस्चराइजर, डेमल्सेण्ट, एंटीबैक्टीरियल, एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटी-माइक्रोबियल, एंटी-प्रुरितिक, नेचुरल सनस्क्रीन गुण होते हैं। (और पढ़ें – 15 मिनट में पाएं मुंहासों से छुट्टी)

हर दिन हमारी त्वचा को पर्यावरण के घातक जैसे धूप, हवा, धुआं, धूल और शुष्क मौसम से लड़ना पड़ता है। इसके परिणामस्वरूप त्वचा पर काले घेरे, मुहासें, दाग़ और त्वचा के टोन आदि की समस्या उत्पन्न होती है। कुंकुमादि तेल त्वचा के लिए बहुत फायदेमंद होता है। यह कठोर रसायनों से निर्मित सौंदर्य प्रसाधन के दुष्प्रभावों से भी त्वचा को बचाता है।

तो चलिए कुंकुमादि तेल के लाभों के बारे में जानते हैं।

  1. कुंकुमादि तेल के फायदे - Kumkumadi oil benefits in hindi
  2. कुंकुमादि तेल के नुकसान - Kumkumadi oil side effects in hindi

कुंकुमादि तेल के फायदे हाइपरपिग्मेंटेशन के लिए - Kumkumadi tailam for Hyperpigmentation in hindi

कुंकुमादि तेल त्वचा को चमकीला बनाता है और पिगमेंटेशन (pigmentation) को कम करता है। यह इसमें मौजूद एपिडर्मल इंफ्लेमेटरी (epidermal inflammatory) प्रभाव के कारण होता है जो एरिकिडोनिक एसिड के ऑक्सीकरण को उत्पन्न करता है और लीकोट्रियन, प्रोस्टाग्लैंडीन आदि को बढ़ाता है। ये रसायन मेलनॉइट्स और प्रतिरक्षा कोशिकाओं की एक्टिविटी को बदल देते हैं और हाइपरप्लगमेंटेशन की समस्या को होने से रोकते हैं। कुंकुमादि तेल में एंटीऑक्सिडेंट, एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी-हाइपरपिग्मेंटेशन गुण होते हैं जिसके कारण यह रासायनिक प्रक्रियाओं से उत्पन्न सूजन को कम करता है और एंटीऑक्सीडेंट प्रक्रिया को बढ़ाता है। यह मेलेनिन पिग्मेंट (melanin pigment) के निर्माण को कम करता है। (और पढ़ें – यदि मुँहासे और उनके दाग कर रहे हैं परेशान तो पाए शहनाज हुसैन के पिम्पल रिमूवल टिप्स से इनका समाधान)

कुंकुमादि तैलम के लाभ सनस्क्रीन के लिए - Kumkumadi tailam as sunscreen in hindi

कुंकुमादि तेल में केसर पराग होता है। इसलिए यह प्राकृतिक सनस्क्रीन के रूप में कार्य करता है। केसर पराग युक्त तेल त्वचा पर मॉइस्चराइजर प्रभाव डालता हैं। एक अध्ययन से पता चलता है कि केसर पराग युक्त लोशन आम सनस्क्रीन की तुलना में एंटी-सोलर प्रभाव के लिए अधिक अच्छा है और यूवी किरणों को अवशोषित करने और त्वचा की रक्षा करने में मदद करता है। (और पढ़ें – एक अच्छी सनस्क्रीन कैसे चुनें, इसके लिए ये टिप्स आएँगे काम)

कुंकुमादि तेल के गुण दूर करे मुँहासे - Kumkumadi tailam good for pimples in hindi

इसमें एंटीबायोटिक, एंटीऑक्सिडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं जो मुँहासों को रोकने और उनका इलाज करने में मदद करता है। कुंकुमादि तेल में हल्का क्लींजिंग प्रभाव होता है जो मुँहासों को रोकने में मदद करता है। इसकी नियमित मालिश त्वचा की मृत कोशिकाओं को निकालती है और त्वचा के वसामय ग्रंथियों में संक्रमण को रोकती है। यह त्वचा पर एंटी-इंफ्लेमेटरी प्रभाव डालता है और मुँहासों की लाली को कम करता है। मुँहासों के इलाज में मौखिक आयुर्वेदिक दवाओं के साथ कुंकुमादि तेल को मुँहासों पर लगाने से मुँहासों के इलाज में मदद मिलती है। (और पढ़ें – मुँहासों के निशान और दाग-धब्बे मिटाने के ज़बरदस्त उपाय)

कुंकुमादि तेल का उपयोग दाग धब्बों के लिए - Kumkumadi tailam for acne scars in hindi

कुंकुमादि तेल त्वचा के दाग को कम करके त्वचा के रंग को सुधारने में मदद करता है। आमतौर पर इसका उपयोग मुँहासों के निशान के लिए किया जाता है। यह त्वचा के सूजन को भी कम करने में मदद करता है। (और पढ़ें – सामान्य, सूखी, तैलीय त्वचा के लिए सबसे अच्छे प्राकृतिक टोनर)

कुंकुमादि आयल बेनिफिट फॉर ब्लेमिशेस - Kumkumadi thailam helps blemishes in hindi

कुंकुमादि तेल हार्मोनल असंतुलन, सूरज एक्सपोज़र, बुरी आहार की आदतें, बुढ़ापे आदि के कारण त्वचा के रंग को बिगड़ने से रोकता है। कुंकुमादि तेल को लगाने से त्वचा को प्राकृतिक रंग मिलता है। आयुर्वेद के अनुसार त्वचा पर दाग-धब्बे पित और वात दोष के कारण उत्पन्न होते हैं। कुंकुमादि तेल में यष्टिमधु का उपयोग किया जाता है जो अमालाकी रसायण के साथ बढ़ते अंतर्निहित दोषों के इलाज के लिए उपयोगी है। इसका लगातार 3 से 6 महीने उपयोग करने से त्वचा के दाग-धब्बे गायब हो जाते हैं। (और पढ़ें – प्रदूषण से त्वचा को सुरक्षित रखने के लिए अपनाएं ये आसान तरीके)

कुंकुमादि आयल के अन्य फायदें - Kumkumadi tel ke any fayde in hindi

कुंकुमादि तेल में हल्दी और चंदन होता है जो त्वचा की टोन को हल्का करने में मदद करते हैं। यह त्वचा की समस्या से छुटकारा दिलाने के साथ साथ आंखों के नीचे त्वचा को साफ करने में मदद करता है। केसर तेल त्वचा के लिए बहुत अच्छा होता है यह त्वचा को पोषण प्रदान करता है। यह चेहरे की मांसपेशियों को नरम करने और त्वचा की बनावट को बनाए रखने में मदद करता है। यह रोमकूप (follicles) और त्वचा की टोन को साफ करता है जिससे आपकी त्वचा स्वस्थ और चमकदार बनती है। कुंकुमादि तेल त्वचा को पोषण प्रदान करता है और त्वचा स्वास्थ्य बनता है। इसका नियमित उपयोग एंटी-एजिंग काम करता है और त्वचा को युवा और स्वस्थ रखता है। कुंकुमादि तेल त्वचा को टोन देता है और त्वचा में रक्त परिसंचरण को बढ़ाता है। (और पढ़ें – आँखों के काले घेरे हटाने के घरेलू उपाय)

कुंकुमादि तेल का बाहरी रूप से उपयोग काफी सुरक्षित हैं। यह शुष्क त्वचा वाले लोगों के लिए बेहद फायदेमंद है। नाक में इसका उपयोग करने से पहले आयुर्वेदिक चिकित्सक से परामर्श करना चाहिए।

आम तौर पर कुंकुमादि तेल का कोई दुष्प्रभाव नहीं होता है। लेकिन कुछ लोगों को तेल से एलर्जी हो सकती है। यह तेलिए त्वचा बाले लोगों के लिए उपयुक्त नहीं होता है। (और पढ़ें –  त्वचा के लिए चंदन किसी संजीवनी से कम नहीं

 

कुंकुमादि तेल में पाए जाने वाले तत्व - kumkumadi tailam ingredients in hindi 

 

कुंकुमादि तेल को योगरत्नाकर, क्षुद्र-रोगाधिकार, कुमकुमा, चंदना, लोध्रा, पतंगा, कलियक, उशिरा, मंजिष्ठा, मधु, तेजपत्र, पद्मका , कमला, कुष्ठ, गोरोचन, हरिद्रा, लाक्षा , दरहरिद्र, गैरिका, नागकेशर, पलाशा कुसुम, प्रियंगु, वातमकुरा, जाटी, मधुक्कीष्टा, सर्षप, सुरभि, वच, पायस, तैल मिला कर बनाया जाता है।

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें