जैसा कि नाम से ही पता चलता है, ये तरबूज में पाए जाने वाले बीज हैं। तरबूज के बीज बहुत लाभदायक होते हैं क्योंकि इनमें पोषक तत्व अधिक होते हैं और इनमें कैलोरी की मात्रा कम होती है। साथ ही यह ह्रदय को स्वस्थ रखने में, इम्युनिटी बढ़ाने में और ब्लड शुगर को नियंत्रित रखने में मदद करते हैं। इन बीजों में पोटेशियम, तांबा, सेलेनियम और जस्ता जैसे कई सूक्ष्म पोषक तत्व भी पाए जाते हैं। और आपको जानकारी होनी चाहिए कि तरबूज के बीज ज़हरीले नहीं होते हैं।

(और पढ़ें - हृदय रोग का इलाज)

आप तरबूज के बीज का उपयोग स्वास्थ्य लाभ के लिए कर सकते हैं। न सिर्फ बीज, बल्कि बीज का तेल भी काफी लाभकारी होता है। यह तेल खनिज, विटामिन और अन्य आवश्यक फैटी एसिड में समृद्ध होता है। इसकी महत्वपूर्ण सामग्री में से एक लिनोलिक एसिड है - जो त्वचा के लिए बहुत अच्छी होती है और इससे हृदय रोग और स्ट्रोक का खतरा कम होता है। तो आइये जानते हैं, इससे होने वाले लाभों के बारे में -

(और पढ़ें - त्वचा रोग का इलाज)

  1. तरबूज के बीज के फायदे रखें हृदय को स्वस्थ - Watermelon seed good for heart in Hindi
  2. तरबूज के बीज के लाभ बनाए इम्युनिटी को मजबूत - Watermelon seeds benefits for immunity in Hindi
  3. तरबूज के बीज खाने के फायदे पुरुष प्रजनन प्रणाली के लिए - Watermelon seeds for male fertility in Hindi
  4. तरबूज के बीज का उपयोग है डायबिटीज में सहायक - Watermelon seeds for diabetes in Hindi
  5. तरबूज के बीज के गुण हैं मस्तिष्क के लिए - Watermelon seeds for brain in Hindi
  6. वाटरमेलन सीड्स फॉर हेयर - Watermelon seeds for hair in Hindi
  7. तरबूज के बीज हैं त्वचा के लिए उपयोगी - Watermelon seeds for skin in Hindi
  8. बढ़ती उम्र के लक्षणों को रोकें तरबूज के बीज से - Watermelon seeds for anti aging in Hindi

तरबूज के बीज में मैग्नीशियम बहुत अधिक मात्रा में पाया जाता है। यह हृदय के सामान्य कार्य और ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करता है। एक अध्ययन के मुताबिक, दिल के लिए तरबूज के बीज फायदेमंद होते हैं, क्योंकि इसमें एंटीऑक्सीडेंट, सूजन को कम करने वाले और रक्त वाहिकाओं को चौड़ा करने वाले गुण होते हैं। इसके बीज के अर्क में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने वाले गुण पाए जाते हैं।

(और पढ़ें - कोलेस्ट्रॉल कम करने के उपाय)

मैग्नीशियम एक खनिज है जो शरीर में इलेक्ट्रोलाइट संतुलन में योगदान करता है, जो हृदय की स्थिरता के लिए महत्वपूर्ण कारण है। यह हार्ट फेलियर को रोकने में बहुत ही लाभकारी होता है। मैग्नीशियम की कमी घातक हो सकती है, विशेष रूप से हृदय रोगियों के लिए। एक रिपोर्ट के अनुसार, तरबूज के बीज निम्न रक्तचाप के स्तर को कम करने में मदद कर सकते हैं।

(और पढ़ें - ब्लड प्रेशर में क्या खाना चाहिए)

मैरीलैंड मेडिकल सेंटर विश्वविद्यालय के अनुसार, मैग्नीशियम युक्त आहार का सेवन अचानक कार्डियक डेथ के जोखिम को कम करने के साथ जुड़ा हुआ है। इसके अलावा, कैल्शियम को आपके हृदय के कार्यों को ठीक से सुनिश्चित करने के लिए मैग्नीशियम (सटीक अनुपात पर) की आवश्यकता होती है। लेकिन फिर, जब भी मैग्नीशियम की खुराक लेने की बात आती है तो सावधानी बरतनी चाहिए और चिकित्सक की सलाह लेनी चाहिए। मैग्नीशियम रक्त वाहिकाओं को आराम पहुँचाने में मदद करता है - लेकिन यह भी ध्यान देना महत्वपूर्ण है कि बहुत अधिक मात्रा में मैग्नीशियम, मूत्रवर्धक प्रभाव पैदा कर सकता है।

(और पढ़ें - कैल्शियम युक्त आहार)

 

तरबूज के बीज, लोहे और खनिज से परिपूर्ण होते हैं। ये बीज प्रतिरक्षा के कार्यों को बढ़ाते हैं। विटामिन बी इम्युनिटी को स्ट्रांग करने के लिए बहुत लाभकारी होता है। क्यूबा के एक अध्ययन के अनुसार, मैग्नीशियम भी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने के लिए जाना जाता है। एक अन्य अध्ययन के अनुसार, मैग्नीशियम एलर्जी प्रतिक्रियाओं में भी सुरक्षात्मक भूमिका निभाता है।

(और पढ़ें - इम्युनिटी बढ़ाने के उपाय)

तरबूज के बीज में मौजूद जस्ता पुरुष प्रजनन प्रणाली के लिए महत्वपूर्ण होता है। एक चीनी अध्ययन के मुताबिक, जस्ता बांझ पुरुषों की शुक्राणु गुणवत्ता को काफी बढ़ा सकते हैं। इसके अलावा, तरबूज के बीज मैंगनीज के अच्छे स्रोत हैं। मैरीलैंड मेडिकल सेंटर विश्वविद्यालय के अनुसार, मैंगनीज का निम्न स्तर भी बांझपन बढ़ाने में योगदान करता है।

(और पढ़ें - शुक्राणु बढ़ाने के तरीके)

एक ईरानी अध्ययन के अनुसार, तरबूज के बीज ग्लाइकोजन भंडार के संचय पर सकारात्मक प्रभाव डालते हैं तथा डायबिटीज के इलाज में सहायता कर सकते हैं। तरबूज के बीजों के अर्क को एंटी डायबिटिक माना जाता है, जिससे प्लाज्मा ग्लूकोज के स्तर में कमी आ सकती है। बेसिक और एप्लाइड साइंसेज के इंटरनेशनल जर्नल की एक रिपोर्ट के अनुसार, तरबूज के बीज में मौजूद ओमेगा -6 फैटी एसिड टाइप 2 डायबिटीज को रोकने में मदद करते हैं। एक अन्य अध्ययन के अनुसार, कम मैग्नीशियम का सेवन टाइप 2 डायबिटीज और मेटाबोलिक सिंड्रोम के विकास के लिए जिम्मेदार हो सकता है।

(और पढ़ें - डायबिटीज का आयुर्वेदिक इलाज)

शोध अध्ययनों के अनुसार, तरबूज के बीज में मौजूद जस्ता का ग्लाइकेमिक नियंत्रण पर बहुत ही अच्छा प्रभाव पड़ता है। यह खनिज इंसुलिन की कार्रवाई और कार्बोहाइड्रेट चयापचय में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। अमेरिकन डायबिटीज एसोसिएशन के मुताबिक, उच्च जस्ता का सेवन महिलाओं में टाइप 2 डायबिटीज को कम करने के लिए लाभकारी पाया गया है।

(और पढ़ें - डायबिटीज के घरेलू उपाय)

तरबूज के बीज में मौजूद मैग्नीशियम स्मृति को बेहतर बनाने में मदद करता है। यह उम्र बढ़ने से जुड़ी मेमोरी की कमी से भी लड़ता है। अध्ययन यह भी दिखाते हैं कि मैग्नीशियम आधारित उपचार आयु-संबंधित स्मृति हानि के लिए बड़ी सफलता के साथ काम करते हैं।

(और पढ़ें - आयु के संबंधी याददाश्त की कमी का इलाज)

एक अमेरिकी अध्ययन बताता है कि मैग्नीशियम मस्तिष्क स्मृति में सुधार करते हैं। मैग्नीशियम का निम्न स्तर अल्जाइमर से भी जोड़ा गया है। यह पाया गया है कि पोषण संबंधी मैग्नीशियम, मनोभ्रंश रोग के इलाज में सुधार कर सकता है। यह खनिज भी कई जैव रासायनिक तंत्रों को प्रभावित कर सकता है, जो न्यूरोनल फ़ंक्शन के लिए महत्वपूर्ण होते हैं। इसमें न्यूरोप्रोटेक्टिव प्रभाव होता है और प्रारंभिक दौर में मैग्नीशियम अल्जाइमर रोग के रोगियों में संज्ञानात्मक गिरावट का खतरा कम कर सकता है।

(और पढ़ें - याददाश्त बढ़ाने के उपाय)

बालों को मजबूत करने के अलावा, मैग्नीशियम बालों के टूटने से रोकने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। परिणामस्वरूप यह बालों के विकास को बढ़ावा देना के लिए जाना जाता है। कुछ अध्ययनों के अनुसार, मैग्नीशियम का निम्न स्तर बालों के झड़ने में तेजी ला सकता है। एक कोरियाई अध्ययन के अनुसार, जस्ता हेयर फॉलिकल रिग्रेशन (Hair follicle regression) को रोकता है और यहां तक कि हेयर फॉलिकल को रिपेयर करता है।

(और पढ़ें - बाल झड़ने का इलाज)

तरबूज के बीज में मौजूद मैग्नीशियम आपकी त्वचा को बेहतर बनाने में मदद करता है। यह मुँहासे कम करता है और अन्य त्वचा की समस्याओं को भी ठीक करता है। यह सेलुलर प्रक्रियाओं में सुधार और हार्मोन संतुलन में मदद करता है। मैग्नीशियम त्वचा की लालिमा या रोसेसी का भी इलाज करता है। यह त्वचा को अंदर से साफ करता है। यह झुर्रियों को भी रोक सकता है, क्योंकि एंजाइम डीएनए प्रतिकृति को नियंत्रित करते हैं।

(और पढ़ें - चेहरा साफ करने का उपाय)

मैग्नीशियम के बिना बढ़ने वाली त्वचा कोशिकाओं को मुक्त कणों के हमलों से पीड़ित होने की संभावना अधिक होता है। एक्जिमा जैसे त्वचा एलर्जी मैग्नीशियम की कमी का एक सामान्य लक्षण है। इसके अलावा यह पिम्पल्स के इलाज के लिए भी लाभकारी होता है।

(और पढ़ें - एक्जिमा का उपाय)

एक अध्ययन के अनुसार, मैग्नीशियम बढ़ती उम्र के लक्षणों को धीमा करता है। तरबूज के बीज में मौजूद जिंक प्रोटीन संश्लेषण, कोशिका विभाजन और सेलुलर के रिपेयर में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यहीं वजह है कि इससे बुढ़ापे की गति को कम करने में मदद मिल सकती है।

(और पढ़ें - बढ़ती उम्र को कम करने उपाय)

cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ