myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

जामुन के फायदों से तो आप सभी वाकिफ हैं। यह एक ऐसा फल है, जिसके असंख्य औषधीय फायदे होते हैं। गर्मी लगने पर जामुन खूब खाया जाता है। सेहत के लिए जामुन ही नहीं इसके पत्ते भी फायदेमंद होते हैं। कई गंभीर बीमारियों में जामुन की पत्तियों का इस्तेमाल किया जाता है। इस लेख में हम जामुन की पत्तियों से संबंधित स्वास्थ्यवर्धक फायदों के बारे में बताएंगे। 

डायबिटीज 

2 ग्राम जामुन की पत्तियों में एक लीटर पानी मिलाकर चाय बनाई जाती है। ऐसा माना जाता है कि ये चाय डायबिटीज में फायदेमंद होती है लेकिन ऐसा प्रमाणित नहीं हो पाया है कि जामुन की पत्तियों से टाइप 2 डायबिटीज के मरीजों में फास्टिंग ब्लड शुगर के स्तर में सुधार आ सकता है।

हालांकि, पशुओं पर हुए अध्ययन से पता चलता है कि जामुन के बीज और छाल ब्लड शुगर को कम कर सकते हैं, लेकिन इंसानों पर इस तरह का कोई प्रभाव अब तक सामने नहीं आया है। एक अन्य रिसर्च के अनुसार जामुन के बीज हाई कोलेस्ट्राॅल से ग्रस्त डायबिटीज के मरीजों में कोलेस्ट्राॅल के स्तर को कम करते हैं। लेकिन इंसानों पर इस प्रभाव की भी अब तक पुष्टि नहीं हुई है।

(और पढ़ें - शुगर कम करने के घरेलू उपाय)

पेचिश

अगर आप पेचिश (खून और श्लेम वाले दस्त) से परेशान हैं तो जामुन के पत्ते आपकी मदद कर सकते हैं। ये पत्ते पेचिश के इलाज में बहुत असरकारी होते हैं और इससे दोबारा पेचिश की समस्या होने से भी निजात मिलती है। जामुन की पत्तियां पेचिश का इलाज करने का प्राकृतिक स्रोत हैं, जिसका कोई नकारात्मक प्रभाव नहीं होता है।

(और पढ़ें - पेचिश के घरेलू उपाय)

कैंसर

जामुन की पत्तियों के कैंसर-रोधी गुण कैंसर से बचाव कर सकते हैं। ये शरीर की कोशिकाओं के ऊतकों को नुकसान पहुंचाने वाली कैंसर की कोशिकाओं के हमले से शरीर की रक्षा करती हैं।

(और पढ़ें - कैंसर में क्या खाना चाहिए)

ट्यूमर

इस बीमारी के होने पर असामान्य कोशिकाओं के समूह गांठ के रूप में विकसित होते हैं। अगर समय रहते इसे रोका न जाए तो ट्यूमर, कैंसर में भी बदल सकता है। जामुन की पत्तियां ट्यूमर से बचाने में उपयोगी हैं। इसमें ऐसे प्राकृतिक तत्व होते हैं जो बिना किसी साइड इफेक्ट के ट्यूमर को पैदा होने और बढ़ने से रोकते हैं।

बुखार

अगर तीन या इससे ज्यादा दिनों तक बुखार रहता है तो ये किसी गंभीर बीमारी या समस्या का संकेत हो सकता है। बुखार में आप जामुन के पत्तों का उपयोग कर सकते हैं। बुखार के पहले दिन से ही आप इसका इस्तेमाल करना शुरू कर सकते हैं। इससे शरीर के गर्म तापमान से राहत मिलती है। जामुन की पत्तियों का तब तक उपयोग करें जब तक की बुखार कम न हो जाए।

(और पढ़ें - तेज बुखार होने पर क्या करें)

रक्त प्रवाह बेहतर होता है

स्वस्थ रहने के लिए शरीर में रक्त प्रवाह का बेहतर होना जरूरी है। जामुन की पत्तियों से ब्लड सर्कुलेशन को भी बेहतर किया जा सकता है। जामुन की पत्तियों से रक्त प्रवाह बेहतर होता है जिससे हृदय ठीक तरह से काम कर पाता है और हृदय पूरे शरीर में अच्छी तरह से खून को पंप करता है।

(और पढ़ें - ब्लड सर्कुलेशन धीमा होने के कारण)

किडनी स्टोन

जामुन की पत्तियां किडनी स्टोन में भी काफी प्रभावी हैं। 10 से 15 ग्राम जामुन की पत्तियां लें। इसे अच्छी तरह से धोकर इनका जूस बना लें। इस जूस में 3 काली मिर्च मिलाएं और रोज़ाना दिन में दो बार पिएं। 

(और पढ़ें - पथरी में क्या खाएं)

इसके अलावा निम्न बीमारियों में जामुन की पत्तियों के लाभकारी होने के पर्याप्त प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं: 

इन सभी बीमारियों में जामुन की पत्तियां मददगार हो सकती हैं लेकिन इसके लिए इसमें अन्य जड़ी-बूटियां भी मिलानी पड़ेंगी तभी इससे आपको फायदा मिल पाएगा।

और पढ़ें ...