myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

नारियल पानी एक स्फूर्तिदायक मीठा पेय है। यह अपने अनेक गुणों और असंख्य पोषण लाभों के लिए जाना जाता है। गर्भवती महिलाओं में यह पाचन तंत्र को नियमित करने में मदद करता है। यह मॉर्निंग सिकनेस, कब्ज से राहत दिलाता है।

गर्भावस्था में जरूरी होता है स्वस्थ आहार, पैकेटबंद पेय का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए क्योंकि इसमें चीनी की अधिक मात्रा होती है जो बच्चे के लिए ठीक नहीं है। नारियल पानी एक बेहतरीन, स्वास्थ्यवर्धक पेय हो सकता है जो पौष्टिक और स्वादिष्ट दोनों है।

कोकोनट डेवलपमेंट बोर्ड(सीडीबी) के विशेषज्ञों के अनुसार गर्भावस्था के दौरान नारियल पानी को पोषक तत्वों का सबसे अच्छा स्रोत माना जाता है क्योंकि इसमें क्लोराइड, इलेक्ट्रोलाइट्स, राइबोफ्लेविन, कैल्शियम, मैग्नीशियम और विटामिन सी का मिश्रण होता है।

  1. गर्भावस्था में नारियल पानी पीने के फायदे - Pregnancy me nariyal pani pine ke fayde
  2. गर्भावस्था में नारियल पानी पीने के नुकसान - Pregnancy me nariyal pani pine ke nuksan
  3. प्रेगनेंसी में नारियल पानी कब और किस महीने से पिएं - Pregnancy me nariyal pani kab piye
  4. गर्भावस्था में नारियल पानी कितनी मात्रा में पीना चाहिए - Pregnancy me nariyal pani kitni matra me pina chahiye

नारियल पानी में फैट नहीं होता। यह हेल्दी, कूल और रिफ्रेशिंग ड्रिंक है, जो पसीने के जरिए हमारे शरीर से निकलने वाले प्राकृतिक लवणों की भरपाई करके बॉडी को हाइड्रेट रखने में मदद करता है। गर्भावस्था के दौरान निम्नलिखित कारणों से मां और बच्चे के स्वास्थ्य के लिए नारियल पानी अच्छा है:

  • पहली तिमाही में नारियल पानी का सेवन करने से मॉर्निंग सिकनेस और थकान से राहत मिलती है।
  • आवश्यक विटामिन, खनिज और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर नारियल पानी प्रतिरक्षा प्रणाली को सुचारू रूप से कार्य करने में मदद करता है जिससे मां और बच्चे दोनों अनेक बीमारियों से राहत मिलती है।
  • यह पाचन प्रक्रिया को बेहतर बनाने में मदद करता है इसके सेवन से पाचन तंत्र को मजबूती मिलती है। इसका सेवन करने से कब्ज नहीं होती।  
  • नारियल पानी में कैलोरी की मात्रा कम होती है और इसमें फाइबर, ओमेगा फैटी एसिड होते हैं जो गर्भवती महिलाओं के वजन को नियंत्रित रखते हैं।

नारियल पानी अधिक मात्रा में पीने के सम्भवतः निम्नलिखित नुकसान हो सकते हैं :

  • नारियल पानी सामान्य पानी नहीं होता इसलिए इसका सेवन सीमित मात्रा में ही करना चाहिए।
  • पके नारियल का पानी पीने से कब्ज हो सकती है। भूरे के जगह हरे नारियल का चयन करें।
  • अगर किसी गर्भवती को एलर्जी है या नारियल पानी का स्वाद नहीं पसंद है। ऐसी स्थिति में नारियल पानी पीने की सलाह नहीं दी जाती है।

पहली तिमाही से ही नारियल पानी का सेवन सुरक्षित रहता है। इस समय नारियल पानी का सेवन करने से मॉर्निंग सिकनेस और थकान से राहत मिलती है और यही वो समय होता है जब बच्चे के दिमाग का विकास हो रहा होता है। ऐसे में पोषक आहार लेना जरूरी होता है। नारियल पानी में सभी जरूरी पोषक तत्व पाए जाते हैं। इसे सुबह खाली पेट भी पी सकते हैं।

प्रति दिन एक गिलास नारियल पानी पिया जा सकता है, इससे ज्यादा मात्रा में सेवन हानिकारक हो सकता है। नारियल पानी की यह मात्रा एक गर्भवती महिला के लिए उचित है और इससे सभी जरूरी दैनिक पोषक तत्व मिलते हैं।

अब तक नारियल पानी के कोई गंभीर दुष्परिणाम सामने आने की पुष्टि नहीं हुई है लेकिन फिर भी किसी भी खाद्य सामग्री या तरल पदार्थ को गर्भवती के आहार का हिस्सा बनाने के पहले डॉक्टर से सलाह लेना ज्यादा सुरक्षित होता है। किसीभी खाद्य पदार्थ को मां के आहार से जोड़ने में सतर्कता बरतनी जरूरी है क्योंकि गर्भवती द्वारा सेवन किया गया आहार गर्भस्थ शिशु पर प्रभाव डालता है।

और पढ़ें ...