myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

गर्भावधि ट्रॉफोब्लास्टिक रोग (Gestational trophoblastic disease/ GTD/ जीटीडी) दुर्लभ रोगों का एक समूह है, जिसमें गर्भाधारण के बाद असामान्य ट्रोफोबैस्ट (trophoblast) कोशिकाएं गर्भाशय के अंदर बढ़ती हैं। हाईडेटीडीफॉर्म मोल (Hydatidiform mole/ HM/ एचएम) जीटीडी का सबसे सामान्य प्रकार है। गर्भकालीन ट्राफोबलास्टिक नेपलाशिया (जीटीएन) एक प्रकार का गर्भावधि ट्रॉफोब्लास्टिक रोग (जीटीडी) है, जो मुख्यतः गंभीर रूप में होता है। इसमें अत्याधिक तिल, चोरिकार्सिनोमा (Choriocarcinomas/ एक प्रकार का कैंसर), प्लेसेन्टल-साइट ट्रॉफोब्लास्टिक ट्यूमर (Placental-site trophoblastic tumors), एपिथेलियोइड ट्रॉफोब्लास्टिक ट्यूमर (Epithelioid trophoblastic tumors) आदि समस्याओं को शामिल किया जाता है।  अधिक उम्र या मोलर प्रेग्नेंसी (molar pregnancy/ गर्भाधान में निषेचन में आने वाली कमी) के चलते जीटीडी का जोखिम बढ़ जाता है। योनि से खून आना और गर्भाशय का बढ़ जाना जीटीडी के संकेतों में से एक हैं। गर्भावधि ट्रॉफोब्लास्टिक रोग को पहचानने के लिए गर्भाशय से संबंधी कुछ टेस्ट किये जाते हैं। गर्भावधि ट्रॉफोब्लास्टिक रोग को ठीक किया जा सकता है। इसका इलाज और प्रतिक्रिया निम्न बातों पर निर्भर करती हैं।

(और पढ़ें - प्रेगनेंसी टेस्ट कब करे और प्रेगनेंसी के लक्षण)

महिला के द्वारा भविष्य में गर्भवती होने की इच्छा पर भी इस रोग के उपचार का विकल्प निर्भर करता है।

(और पढ़ें - गर्भ में लड़का होने के संकेत और लड़का पैदा करने के लिए क्या करें और बच्चा गोरा पैदा करने के तरीके से जुड़े मिथक)

  1. गर्भावधि ट्रॉफोब्लास्टिक रोग के डॉक्टर
Dr. Gaurav Chauhan

Dr. Gaurav Chauhan

सामान्य चिकित्सा

Dr. Sushila Kataria

Dr. Sushila Kataria

सामान्य चिकित्सा

Dr. Sanjay Mittal

Dr. Sanjay Mittal

सामान्य चिकित्सा

और पढ़ें ...