myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

क्लैमिडिया निमोनियाए एंटीबॉडीज टेस्ट क्या है?

क्लैमिडिया निमोनियाए एक बैक्टीरिया है, जो कि श्वसन तंत्र को क्षतिग्रस्त करता है और गले की परत, श्वास नली व फेफड़ों को क्षति पहुंचाता है। यह शरीर के अंदर हवा में मौजूद बूंदों से पहुंचता है, जो कि किसी संक्रमित व्यक्ति के छींकने और खांसने से हवा में आती हैं। इनसे फेफड़ों के गंभीर संक्रमण हो सकते हैं जैसे निमोनिया

जब एक स्वस्थ व्यक्ति किसी बीमार व्यक्ति के मुंह से निकली द्रव की बूंदों को छू लेता है और फिर उन्हीं हाथों से अपने मुंह या नाक को छू लेता है, तो ऐसी स्थिति में भी यह संक्रमण फैल सकता है। लक्षण आमतौर पर संक्रमण के संपर्क में आने के तीन से चार हफ़्तों बाद ही दिखाई देते हैं। 

क्लैमिडिया निमोनियाए टेस्ट व्यक्ति के ब्लड सैंपल में एंटीबॉडीज की पहचान करके क्लैमिडिया के संक्रमण का पता लगता है, क्योंकि ये एंटीबॉडीज बैक्टीरिया के विरोध में बने होते हैं। एंटीबॉडीज हमारे शरीर द्वारा बनाए जाने वाले प्रोटीन होते हैं, जो कि संक्रमण से लड़ने और शरीर से हानिकारक माइक्रोब्स को निकालने में मदद करते हैं।

  1. क्लैमिडिया निमोनियाए एंटीबॉडीज टेस्ट क्यों किया जाता है - Chlamydia pneumoniae antibodies Test Kyu Kiya Jata Hai
  2. क्लैमिडिया निमोनियाए एंटीबॉडीज टेस्ट से पहले - Chlamydia pneumoniae antibodies Test Se Pahle
  3. क्लैमिडिया निमोनियाए एंटीबॉडीज टेस्ट के दौरान - Chlamydia pneumoniae antibodies Test Ke Dauran
  4. क्लैमिडिया निमोनियाए एंटीबॉडीज टेस्ट के परिणाम क्या बताते हैं - Chlamydia pneumoniae antibodies Test Ke Parinam Kya Batate Hain

क्लैमिडिया निमोनियाए एंटीबॉडीज टेस्ट क्यों किया जाता है?

यह टेस्ट शरीर में एंटी-क्लैमिडिया निमोनियाए की उपस्थिति की जांच करने के लिए किया जाता है। इन एंटीबॉडीज की मौजूदगी इस बात की पुष्टि करती है कि आप किसी संक्रमण से ग्रस्त हैं। जितनी जल्दी परीक्षण कर लिया जाता है बीमारी से उतना ही जल्दी ठीक होने की संभावना होती है। 

यदि आपको निम्न लक्षण दिखाई देते हैं तो डॉक्टर इस टेस्ट की सलाह देंगे:

क्लैमिडिया निमोनियाए एंटीबॉडीज टेस्ट की तैयारी कैसे करें?

चूंकि ये एक ब्लड टेस्ट है इसलिए इससे पहले विशेष तैयारी और सावधानियां बरतने की जरुरत नहीं पड़ती है। अपने पिछले स्वास्थ्य और जो भी दवा या सप्लीमेंट आप ले रहे इसके बारे में आप डॉक्टर से बातचीत जरूर कर लें। 

डॉक्टर की सलाह के अनुसार आप टेस्ट से कुछ घंटे पहले खाना पीना बंद करें। हालांकि, ऐसा सिर्फ तभी करें जब डॉक्टर ऐसा करने की सलाह दें।

यदि आपने हाल ही में कोई अन्य परीक्षण प्रक्रिया करवाई है, तो अपने डॉक्टर को इसके बारे में जरूर बता दें, क्योंकि शरीर में किसी भी तरह के रेडियोएक्टिव पदार्थ (अन्य टेस्ट में प्रयुक्त) के होने से इस टेस्ट के परिणाम प्रभावित हो सकते हैं।

क्लैमिडिया निमोनियाए एंटीबॉडीज टेस्ट कैसे किया जाता है?

टेस्ट के लिए रक्त की थोड़ी सी मात्रा की जरूरत होगी। डॉक्टर सुई की मदद से पर्याप्त मात्रा में रक्त के सैंपल ले लेंगे और एक कंटेनर में रखेंगे। कभी-कभी एक से ज्यादा सुईयों की जरूरत पड़ सकती है। हो सकता है कि सुई लगने से आपको बिलकुल दर्द न हो या हल्की सी चुभन हो सकती है। 

ब्लड टेस्ट से जुड़े कुछ अन्य खतरे निम्न हैं:

  • सैंपल लेने में कठिनाई 
  • रक्त ली गई जगह से अत्यधिक खून बहना
  • बेहोशी 
  • हीमेटोमा (त्वचा के अंदर रक्त का जमना)
  • सुई लगी जगह पर संक्रमण 

उचित सावधानियां बरतने पर इनमें से कई जोखिमों को कम किया जा सकता है।

क्लैमिडिया निमोनियाए एंटीबॉडीज टेस्ट के परिणाम क्या बताते हैं?

सामान्य परिणाम:
एंटीबाडी टाइटर को रेश्यो में प्रदर्शित किया जाता है। <0.8 रेश्यो सामान्य परिणाम होता है, जिसे नेगेटिव रिजल्ट भी कहा जाता है।

यदि टेस्ट नेगेटिव आता है, तो इसका मतलब है कि शरीर में एंटीबॉडीज नहीं हैं। हालांकि, ऐसा जरूरी नहीं है कि ये टेस्ट संक्रमण के न होने की पुष्टि करे। संक्रमण की पहचान के लिए अन्य टेस्ट की जरूरत हो सकती है।

असामान्य परिणाम:
पॉजिटिव रिजल्ट का मतलब है कि शरीर में संक्रमण है और श्वसन तंत्र को क्षति पहुंचाने वाले बैक्टीरिया के विरोध में एंटीबॉडीज भी बने हैं। बीमारी के कारण की पुष्टि के लिए डॉक्टर अन्य टेस्ट भी कर सकते हैं।

और पढ़ें ...

References

  1. Health.vic [internet]. Department of Health & Human Services: State Government of Victoria, Australia. Chlamydophila pneumoniae infection
  2. Center for Disease Control and Prevention [internet], Atlanta (GA): US Department of Health and Human Services; Chlamydia pneumoniae infection: Diagnostic Methods
  3. Beatty WL. Persistent chlamydiae: from cell culture to a paradigm for chlamydial pathogenesis. Microbiol Rev. 1994 Dec;58(4):686-99. PMID: 7854252
  4. Blasi F. Chlamydophila pneumoniae. Clin Microbiol Infect. 2009 Jan;15(1):29-35. PMID: 19220337.
  5. Burillo A. Chlamydophila pneumoniae. Infect Dis Clin North Am. 2010 Mar;24(1):61-71.