गर्दन का एक्स-रे क्या है?

गले के एक्स-रे को सर्वाइकल स्पाइन एक्स-रे भी कहा जाता है। यह एक नैदानिक तरीका है, जिसकी मदद से गर्दन की सात सर्वाइकल कशेरुकाओं (जिन्हें सर्वाइकल वर्टेब्रे कहते हैं), थोरासिक स्पाइन (सर्वाइकल के नीचे और स्पाइनल कॉर्ड के ऊपर वाला हिस्सा) का पहला वाला वर्टेब्रा और और डिस्क स्पेस (प्रत्येक कशेरुका के बीच वाली जगह) की जांच की जाती है।

टेस्ट के दौरान, एक्स-रे में निकलने वाली किरणें एक विशेष प्लेट से होते हुए शरीर तक जाती हैं। ऊतकों के प्रकार के आधार पर, रेडिएशन की मात्रा अलग-अलग हो सकती है। हड्डियां रेडिएशन को बहुत कम मात्रा में पास करती हैं, यही कारण है कि एक्स-रे फिल्म में यह सफेद दिखाई देती हैं। जबकि खून, त्वचा, वसा और मांसपेशियों जैसे नरम ऊतक गहरे भूरे रंग के दिखते हैं, क्योंकि उनके माध्यम से रेडिएशन ज्यादा मात्रा में पास होता है। उदाहरण के लिए, यदि हड्डी टूटी है, तो ऐसे में सफेद दिखने वाली हड्डी में गहरे रंग की रेखा देखी जा सकती है।

(और पढ़ें - गर्दन की मोच का इलाज​)

  1. गर्दन का एक्सरे कौन नहीं करा सकता है? - Who cannot have a neck x-ray in Hindi?
  2. गर्दन का एक्स-रे क्यों किया जाता है? - Why is a neck x-ray done in Hindi?
  3. गर्दन का एक्स-रे से पहले की तैयारी? - Neck x-ray preparation in Hindi?
  4. गर्दन का एक्स-रे कैसे होता है? - How is a neck x-ray done in Hindi?
  5. गर्दन के एक्स-रे के दौरान कैसा महसूस होगा? - How will a neck x-ray feel in Hindi?
  6. गर्दन के एक्स-रे के परिणामों का क्या मतलब है? - Results of a neck x-ray mean in Hindi?
  7. गर्दन के एक्स-रे के जोखिम और लाभ क्या हैं? - Risks and benefits of a neck x-ray in Hindi?
  8. गर्दन के एक्स-रे के बाद क्या होता है? - What happens after a neck x-ray in Hindi?
  9. गर्दन के एक्स-रे के साथ कौन से अन्य टेस्ट किए जा सकते हैं? - Other tests that can be done with a neck x-ray in Hindi?

गर्दन का एक्स-रे गर्भवती महिलाओं को नहीं करना चाहिए, क्योंकि इस टेस्ट में रेडिएशन का इस्तेमाल होता है, जो कि गर्भ में पल रहे बच्चे में जन्म दोष का कारण बन सकता है।

(और पढ़ें - गर्भावस्था में होने वाली परेशानी)

गर्दन का एक्स-रे निम्नलिखित स्थितियों का पता लगाने के लिए किया जाता है :

  • गर्दन की चोट के कारण ग्रीवा कशेरुकओं को हुए नुकसान की जांच के लिए
  • यदि कशेरुक अव्यवस्थित है, तो इसकी जांच के लिए
  • ट्यूमर या संक्रमण के निदान के लिए
  • गर्दन में सूजन या अन्य समस्या के कारण वायु मार्ग में आई किसी रुकावट या बाधा की जांच के लिए
  • गर्दन की सर्जरी से पहले और बाद में रोगी की स्थिति का आकलन करने के लिए

यदि निम्नलिखित लक्षण हैं, तो ऐसे में भी गर्दन का एक्सरे कराने का सुझाव दिया जाता है :

(और पढ़ें - गर्दन में अकड़न का इलाज)

गर्दन का एक्स-रे से पहले निम्नलिखित तैयारियां कर लेनी चाहिए :

  • टेस्ट से पहले धातु से बनी वस्तुओं व आभूषणों को निकाल दें।
  • यदि आपने कभी गर्दन, जबड़े या मुंह में मेडिकल डिवाइस इम्प्लांट कराई हो, तो टेस्ट से पहले डॉक्टर से परामर्श करें।
  • यदि आप गर्भवती हैं या हाल ही में बेरियम एक्स-रे कराया है, तो डॉक्टर को इस बारे में पहले से बताएं। गर्दन की चोट के मामले में, गर्दन की मूवमेंट को सीमित करने के लिए विशेष कॉलर या ब्रेस दे सकते हैं।

सर्वाइकल स्पाइन एक्स-रे के लिए निम्नलिखित स्टेप्स लिए जाते हैं :

  • सबसे पहले आपको अस्पताल/नैदानिक सेंटर में पहनने के लिए गाउन दिया जा सकता है।
  • इसके बाद टेक्नोलॉजिस्ट आपको स्कैनिंग टेबल पर लेटने में मदद कर सकते हैं। जिन हिस्सों की जांच नहीं की जानी है, उन्हें प्रोटेक्ट करने की जरूरत होती है।
  • टेक्नोलॉजिस्ट एक विशेष ​स्थान पर खड़े होंगे और छवियों (फोटो) को कैप्चर करते समय आपको कुछ सेकंड के लिए अपनी सांस रोकने के लिए कह सकते हैं।
  • एक बार फोटो लेने वाली प्रक्रिया पूरी होने के बाद, टेक्नोलॉजिस्ट फोटो की स्पष्टता की जांच कर सकते हैं। यदि किसी वजह से फोटो धुंधली है, तो टेस्ट फिर से करने की जरूरत होती है।

इस प्रक्रिया में आमतौर पर 15 मिनट से कम समय लगता है।

इस टेस्ट में दर्द नहीं होता है। हालांकि, टेस्ट से पहले कुछ लोग असहज महसूस कर सकते हैं, खासकर जिन्हें गर्दन में चोट की समस्या है। चूंकि, जिस कमरे में टेस्ट किया जाना है, वहां एयर कंडीशनिंग के कारण आपको ठंड लग सकती है।

(और पढ़ें - ठंड लगने का कारण)

सर्वाइकल स्पाइन एक्स-रे की मदद से निम्नलिखित स्थितियों का निदान किया जा सकता है :

(और पढ़ें - सर्वाइकल पेन का इलाज)

गर्दन के एक्सरे के लाभ :

  • टेस्ट के बाद शरीर में किसी तरह का कोई रेडिएशन नहीं रह जाता है।

गर्दन के एक्सरे के जोखिम :

  • डायग्नोस्टिक रेंज में एक्स-रे एक्सपोजर के दुष्प्रभाव के बारे में जानकारी मौजूद नहीं है।

गर्दन के एक्स-रे के बाद किसी विशेष देखभाल की आवश्यकता नहीं है। आप आसानी से सामान्य गतिविधियों में शामिल हो सकते हैं।

गर्दन के एक्स-रे के साथ किए जाने वाले अन्य टेस्ट इस प्रकार हैं :

ध्यान रहे, इन टेस्ट के परिणाम रोगी के लक्षणों के साथ चिकित्सकीय यानी मेडिकल रूप से सहसंबद्ध होने चाहिए। उपरोक्त जानकारी पूरी तरह से शैक्षिक दृष्टिकोण से दी गई है, यह किसी भी डॉक्टर द्वारा दी गई मेडिकल सलाह का विकल्प नहीं है।

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ