साइनस एक्स-रे जांच का एक तरीका है, जिसमें एक्स-रे की मदद से साइनस की जांच की जाती है। साइनस खोखली हवा से भरी गुहाएं हैं, जो नाक के पास होती हैं।

एक्स-रे इमेजिंग प्रक्रिया के दौरान, रेडिएशन की एक छोटी मात्रा शरीर के उस हिस्से से गुजरती है, जिसकी जांच की जाती है, इसकी एक छवि तैयारी की जाती है। एक्स-रे फिल्म पर यह हड्डियां सफेद दिखाई देती हैं, जबकि हवा काले रंग की दिखाई देती है।

साइनस एक्स-रे की मदद से साइनस में समस्याओं की पहचान करने में मदद मिलता है। हालांकि, इससे कारणों का पता नहीं चल पाता है। साइनस एक्स-रे को 'पैरानेजल साइनस रेडियोग्राफी' भी कहा जाता है।

(और पढ़ें - साइनस के लिए योग)

  1. साइनस एक्स-रे किसे नहीं कराना चाहिए? - Who cannot have a sinus x-ray in Hindi?
  2. साइनस एक्स-रे क्यों किया जाता है? - Why is a sinus x-ray done in Hindi?
  3. साइनस एक्स-रे के लिए तैयारी - How should I prepare for a sinus x-ray in Hindi?
  4. साइनस एक्स-रे कैसे किया जाता है? - How is a sinus x-ray done in Hindi?
  5. साइनस एक्स-रे में कैसा महसूस होता है? - How will sinus x-ray feel in Hindi?
  6. साइनस एक्स-रे टेस्ट रिपोर्ट का अर्थ? - Sinus x-ray test report mean in Hindi?
  7. साइनस एक्स-रे के जोखिम और लाभ क्या हैं? - Risks and benefits of a sinus x-ray in Hindi?
  8. साइनस एक्स-रे के बाद क्या होता है? - What happens after a sinus x-ray in Hindi?
  9. साइनस एक्स-रे के साथ किए जाने वाले टेस्ट - Other tests that can be done with a sinus x-ray in Hindi?

आमतौर पर गर्भवती महिलाओं में एक्स-रे तब तक नहीं किया जाता है जब ​तक कि कोई आपातकालीन स्थिति न हो।

(और पढ़ें - प्रेगनेंसी में होने वाली समस्या)

निम्नलिखित स्थितियां होने पर डॉक्टर साइनस एक्स-रे करवाने की सलाह दे सकते हैं :

साइनसाइटिस एक सूजन वाली स्थिति है, जिसमें साइनस में द्रव भर जाता है। एक्यूट साइनसाइटिस तब होता है, जब लक्षण अचानक दिखाई देते हैं और दस दिनों के बाद भी ठीक नहीं होते हैं, जबकि क्रोनिक साइनसाइटिस में लक्षण कम से कम 12 सप्ताह तक बने रहते हैं। साइनसाइटिस के कुछ लक्षण इस प्रकार हैं :

(और पढ़ें - साइनोसाइटिस का होम्योपैथिक इलाज)

(और पढ़ें - थकान दूर करने के उपाय)

मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी के सुरक्षात्मक आवरण में होने वाले संक्रमण को मैनिंजाइटिस कहते हैं। इसके लक्षणों में शामिल हो सकते हैं :

ऑर्बिटल सेल्युलाइटिस आंखों के आसपास की मांसपेशियों और वसा में होने वाला एक संक्रमण है। इसके लक्षणों में शामिल हो सकते हैं :

साइनस सर्जरी के बाद साइनस की स्थिति जांचने के लिए साइनस एक्स-रे का उपयोग किया जाता है।

(और पढ़ें - बुखार में क्या खाना चाहिए)

सबसे पहले डॉक्टर इस पूरे प्रोसीजर के बारे में आपको बताएंगे जैसे - यह क्या है, इसका जोखिम क्या है। वह टेस्ट से पहले कुछ निश्चित निर्देश दे सकते हैं, जिन्हें ठीक से फॉलो करना जरूरी है। साइनस एक्स-रे प्रोसीजर से पहले डॉक्टर को सूचित करें यदि आप :

  • गर्भवती हैं (और पढ़ें - गर्भवस्था में देखभाल)
  • नकली आंख है, क्योंकि यह साइनस एक्स-रे पर एक छाया (शैडो) बना सकती है, जो डॉक्टर को भ्रमित कर सकती है।
  • प्रोसीजर से पहले सभी आभूषणों व ऐसी चीजों को निकाल देना चाहिए जो टेस्ट की गुणवत्ता को प्रभावित कर सकते हैं।

(और पढ़ें - चेस्ट एक्स रे कैसे की जाती है)

टेक्नोलॉजिस्ट निम्नलिखित तरीके से साइनस एक्स-रे करते हैं :

  • सबसे पहले व्यक्ति को एक्स-रे टेबल पर बैठने या लेटने के लिए कहा जाएगा।
  • टेक्नोलॉजिस्ट शरीर को एप्रन से ढक सकते हैं, ताकि वो हिस्सा एक्स-रे में न आए जिसकी जरूरत नहीं है।
  • फिर, वे सावधानी से सिर की पोजीशन को मशीन के अनुसार सही करेंगे।
  • टेक्नीशियन आपको सिर रखने के लिए कहेंगे या सिर की पोजीशन को सही रखने के लिए सपोटर का प्रयोग कर सकते हैं।
  • आपको अपनी पोजीशन बदलने की भी जरूरत पड़ सकती है ताकि अलग अलग कोणों से चित्र तैयार किया जा सके।
  • यह परीक्षण आमतौर पर कुछ ही मिनटों में पूरा हो जाता है। 

(और पढ़ें - फीटल इको टेस्‍ट क्या है)

साइनस एक्स-रे प्रोसीजर के दौरान रोगी को कुछ भी महसूस नहीं होता है।

(और पढ़ें - साइनस में क्या खाएं)

एक्स-रे साइनस निम्नलिखित समस्याओं का पता लगा सकता है :

(और पढ़ें - सूजन की आयुर्वेदिक दवा)

साइनस एक्स-रे के जोखिम और लाभ निम्नलिखित हैं :

  • नॉन-इनवेसिव (गैर-अक्रामक)
  • यह प्रोसीजर जल्दी पूरा हो जाता है

इस परीक्षण से जुड़े जोखिम निम्न हैं :

  • गर्भावस्था के दौरान एक्स-रे एक्सपोजर बच्चे के लिए जन्म दोष का कारण हो सकता है।

(और पढ़ें - गर्भावस्था में अल्ट्रासाउंड कब करना चाहिए)

साइनस एक्स-रे टेस्ट के बाद, यदि डॉक्टर द्वारा न कहा जाए, तो किसी विशेष देखभाल की जरूरत नहीं होती है।

(और पढ़ें - साइनस का होम्योपैथिक इलाज)

साइनस की ज्यादा स्पष्ट व विस्तृत फोटो के लिए सीटी स्कैन या एमआरआई कराने का भी सुझाव दिया जा सकता है।

पूर्ण और सटीक निदान करने के लिए इन टेस्ट के परिणाम रोगी के नैदानिक स्थितियों से जुड़े होने चाहिए। बता दें, ऊपर मौजूद जानकारी पूरी तरह से सीखने समझने के लिहाज से बताई गई है।

(और पढ़ें - साइनस का आयुर्वेदिक इलाज)

और पढ़ें ...

संदर्भ

  1. Johns Hopkins Medicine [Internet]. The Johns Hopkins University, The Johns Hopkins Hospital, and Johns Hopkins Health System; Sinus X-ray
  2. University of Rochester Medical Center [Internet]. University of Rochester. New York. US; Sinus X-ray
  3. UCSF Benioff Children's Hospital - San Francisco [Internet]. California. US; Sinuses X-ray
  4. National Health Service [Internet]. UK; X-ray
  5. Cleveland Clinic [Internet]. Ohio. US; Sinus Infection (Sinusitis)
  6. Nemours Children’s Health System [Internet]. Jacksonville (FL): The Nemours Foundation; c2017; Meningitis
  7. McNab AA. Orbital infection and inflammation. In: Yanoff M, Duker JS, eds. Ophthalmology. 5th ed. Philadelphia, PA: Elsevier; 2019:chap 12.14.
  8. Bhatt A. Ocular infections. In: Cherry JD, Harrison GJ, Kaplan SL, Steinbach WJ, Hotez PJ, eds. Feigin and Cherry's Textbook of Pediatric Infectious Diseases. 8th ed. Philadelphia, PA: Elsevier; 2019:chap 61
  9. Durand ML. Periocular infections. Bennett JE, Dolin R, Blaser MJ, eds. In: Bennett John, Dolin Raphael, Blaser Martin J. Mandell, Douglas, and Bennett's Principles and Practice of Infectious Diseases, Updated Edition. 8th ed. Philadelphia, PA: Elsevier Saunders; 2015:chap 118
  10. Chernecky CC, Berger BJ. Sinus radiography - diagnostic. In: Chernecky CC, Berger BJ, eds. Laboratory Tests and Diagnostic Procedures. 6th ed. St Louis, MO: Elsevier Saunders; 2013:1020-1021
  11. Beale T, Brown J, Rout J. ENT, neck, and dental radiology. In: Adam A, Dixon AK, Gillard JH, Schaefer-Prokop CM, eds. Grainger & Allison's Diagnostic Radiology: A Textbook of Medical Imaging. 6th ed. Philadelphia, PA: Elsevier Churchill Livingstone; 2015:chap 67
ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ