myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

यीस्ट ससेप्टिबिलिटी टेस्ट क्या है?

यीस्ट एक प्रकार की फफूंद है, जो कि शरीर में मौजूद प्राकृतिक फ़्लोरा को बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। हालांकि, शरीर में यदि यीस्ट के स्तर में असंतुलन आ जाता है तो व्यक्ति को कैंडिडिआसिस (योनि में यीस्ट संक्रमण) हो सकता है।

सेंसिटिविटी या यीस्ट सस्पेक्टिबिलिटी टेस्ट माइक्रोब्स या सूक्ष्मजीवों की जांच करता है, जिसका प्रयोग किसी विशेष दवा के कीटाणुओं को मारने की क्षमता का पता लगाने के लिए किया जाता है। चूंकि, किसी विशेष सूक्षणजीव का एक से अधिक स्ट्रेन मिलना संक्रमण की तरफ संकेत करता है तो इस टेस्ट से सही दवा का पता लगाने में मदद मिलती है जिससे किसी भी संक्रमण को ठीक किया जाता है, जैसे बैक्टीरियल इन्फेकशनफंगल इन्फेक्शन या यीस्ट संक्रमण।

यीस्ट ससेप्टिबिलिटी टेस्ट एंटी माइक्रोबियल पैनल का एक टेस्ट है, जिसे एंटी फंगल ससेप्टिबिलिटी भी कहा जाता है। यह टेस्ट फफूंद के संक्रमित स्थानों पर एंटी फंगल दवाओं की प्रभावशीलता का पता लगाता है।

यह मिनिमम इन्हीबिटरी कन्संट्रेशन (MIC) को निर्धारित करने में मदद करता है। एंटीफंगल दवाओं का सबसे निम्न कन्संट्रेशन होता है, जो बढ़ रहे फंगल को पूर्ण रूप से रोक देता है।

इस टेस्ट के लिए सबसे ज्यादा एमफोटेरिसिन, इट्राकोनाजोल, फ्लूकोनाज़ोल और 5- फ्लूसाइटोसिन का प्रयोग किया जाता है।

एएफएसटी टेस्ट आमतौर पर कैंडिडा प्रजातियों पर किया जाता है। कैंडिडा से कैंडिडिआसिस होता है। कैंडिडिआसिस इंसानों को होने वाला सबसे सामान्य यीस्ट संक्रमण है, जिससे सुपरफीशियल रोगों के साथ-साथ सिस्टमिक रोग भी हो सकते हैं। अस्पतालों में आने वाले मामलों में रक्त संक्रमणों के अंदर यह चौथे स्थान पर है। सभी कैंडिडा प्रजातियों में कैंडिडा एलबीसियन सबसे अधिक फैलता है और एंटी फंगल दवाओं के अजोल ग्रुप के लिए यह रेसिस्टेंट (दवा की मौजूदगी में भी बढ़ना) होता है।

  1. यीस्ट ससेप्टिबिलिटी टेस्ट क्यों किया जाता है - Yeast Susceptibility test kyon kiya jata hai
  2. यीस्ट ससेप्टिबिलिटी टेस्ट से पहले - Yeast susceptibility test se pahle
  3. यीस्ट ससेप्टिबिलिटी टेस्ट के दौरान - Yeast susceptibility test ke dauran
  4. यीस्ट ससेप्टिबिलिटी टेस्ट के परिणाम का क्या मतलब है - Yeast susceptibility test ke result ka matlab

डॉक्टर इस टेस्ट की सलाह आपको निम्न स्थितियों में दे सकते हैं - 

  • रिफ्रेक्टरी ओरोफेरीनजियल कैंडिडा संक्रमण, जो कि ट्रीटमेंट के प्रति प्रतिक्रिया नहीं देते हैं। ओरोफेरीनजियल कैंडिडा संक्रमण के कुछ लक्षण निम्न हैं -
    • मुंह और गले में दर्द व लालिमा
    • स्वाद न आना
    • खाते और निगलते समय दर्द होना
    • मुंह के कोनों पर लालिमा और सूखापन
    • गालों के अंदर, जीभ पर और तालू पर सफेद धब्बे 
    • निगलने में कठिनाई
  • इनवेसिव इन्फेक्शन जो कि कैंडिडा प्रजाति के कारण होते हैं, जिसमें ऐजोल एंटी फंगल के फायदे ठीक तरह से नहीं होते। इनवेसिव संक्रमण में कैंडिडा रक्त में चला जाता है और आपके मस्तिष्क, हृदय, हड्डियों व अन्य भागों तक फैल सकता है।

यीस्ट ससेप्टिबिलिटी को कई तरीकों से किया जाता है, जिनमें से किसी के लिए भी कोई विशेष तैयारी की जरूरत नहीं होती है।

संक्रमण के लिए सैंपल को विभिन्न प्रकार से लिया जा सकता है, जिनमें निम्न शामिल हैं -

  • ब्लड सैंपल - डॉक्टर या लैब टेक्नीशियन आपकी बांह की नस में सुई लगाकर ब्लड सैंपल ले लेंगे। यह निम्न प्रक्रिया द्वारा किया जाता है -
    • वे आपकी बांह के ऊपरी हिस्से में एक इलास्टिक बैंड बांधेंगे और आपसे मुट्ठी कस के बंद करने को कहा जाएगा। जिससे सैंपल लेने के लिए नस ढूंढने में उन्हें आसानी होगी।
    • एक बार सही नस मिल जाने पर डॉक्टर एक कीटाणुरहित सुई को ट्यूब से जोड़कर पर्याप्त मात्रा में सैंपल ले लेंगे।
    • इसके बाद वे इलास्टिक बैंड और सुई को निकाल देंगे और सैंपल पर लेबल लगाकर इसे टेस्टिंग के लिए भेज दिया जाएगा।
  • यूरिन सैंपल - पेशाब का सैंपल लेने के लिए आपको लैब से एक कीटाणुरहित कंटेनर दिया जाएगा, जिसमें निम्न निर्देशों का पालन करते हुए आपको सैंपल लेने होंगे -
    • कंटेनर पर अपना नाम और सैंपल लेने की तारिख लिख लें।
    • सैंपल लेने से पहले अपने हाथों को अच्छे से धो लें।
    • इसके बाद टॉयलेट बाउल में पेशाब करना शुरू करें।
    • ध्यान रखें कि पेशाब की शुरुआती और अंतिम बूंदों को सैंपल के लिए नहीं लेना है। इसलिए मध्य धारा से सैंपल लेना शुरू करें।
    • सैंपल लेने के बाद ढक्कन को ठीक तरह से बंद कर दें और इसे लैब में टेस्टिंग के लिए भेज दें।
  • वजाइनल स्वैब - 
    • डॉक्टर आपसे पैरों को खोलकर टेबल पर लेटने के लिए कहेंगे।
    • इसे बाद डॉक्टर योनि को खोलने के लिए स्पेक्युलम का प्रयोग करके योनि के मुंह को खोल लेंगे, ताकि जांच की जा सके। एक कॉटन स्वैब को योनि में दो से तीन इंच अंदर डाला जाएगा।
    • इसके बाद डॉक्टर योनि में स्वैब को लगभग तीस सेकेंड तक घुमाएंगे ताकि सारी नमी को कॉटन स्वैब सोख ले।
    • सैंपल लेने के बाद डॉक्टर स्वैब को निकाल देंगे और इसे एक कंटेनर में रख देंगे।
    • इसके बाद सैंपल को तुरंत टेस्टिंग के लिए लैब में भेज दिया जाएगा।
  • बलगम का सैंपल -
    • डॉक्टर आपको सैंपल लेने के लिए एक कंटेनर देंगे और आपसे बलगम को खांसी में लाने को कहा जाएगा। इसके बाद लिए गए सैंपल को तुरंत टेस्टिंग के लिए भेज दिया जाएगा।

एमआईसी के आधार पर कैंडिडा प्रजातियों के लिए कुछ ड्रग्स के परिणाम निम्न लिखित हैं -

ड्रग

एमआईसी रेंज माइक्रोग्राम प्रति मिलीलीटर में (एमसीजी/एमएल)

ससेप्टिबल

रेसिस्टेंट

फ्लुकोनाजोल 

< or = 8

> 32

इट्राकोनाज़ोल

< or = 0.125

> 0.5

फ्लूकोनाज़ोल

< or = 4

> 16

एमआईसी रेंज जो कि ससेप्टिबल और रेसिस्टेंट के बीच आती है, उसे मध्य रूप से संदिग्ध माना जाता है। टेस्ट के परिणामों के आधार पर डॉक्टर आपके लिए सही एंटीफंगल ड्रग का चयन करेंगे ताकि संक्रमण का ट्रीटमेंट किया जा सके।

और पढ़ें ...

References

  1. Centers for Disease Control and Prevention [internet]. Atlanta (GA): US Department of Health and Human Services; Candidiasis
  2. Penn Medicine: University of Pennsylvania [internet]. Philadelphia, Pennsylvania, United States; University of Pennsylvania Medical Center Guidelines for Antibiotic Use: Antimicrobial Susceptibility Testing
  3. Lab Tests Online [Internet]. Washington D.C. American Association for Clinical Chemistry; Antibiotic Susceptibility Testing
  4. Merck Manual Professional Version [Internet]. Kenilworth (NJ): Merck & Co. Inc.; c2019. Susceptibility Testing
  5. Bayot ML, Bragg BN. Antimicrobial Susceptibility Testing. [Updated 2019 Mar 18]. In: StatPearls [Internet]. Treasure Island (FL): StatPearls Publishing; 2020 Jan
  6. Pappas PG, Rex JH, Sobel JD, et al. Guidelines for treatment of candidiasis. Clin Infect Dis. 2004;38(2):161–189. PMID: 14699449.
  7. Sanguinetti M, Posteraro B. New approaches for antifungal susceptibility testing. Clin Microbiol Infect. 2017;23(12):931–934. PMID: 28377311.
  8. Marak Munmun B. and Dhanashree Biranthabail. Antifungal Susceptibility and Biofilm Production of Candida spp. Isolated from Clinical Samples. International Journal of Microbiology. 2018 Oct; (7495218).
  9. University of Rochester Medical Center [Internet]. Rochester (NY): University of Rochester Medical Center; Tinea Infection
  10. Hinkle J, Cheever K. Brunner & Suddarth's Handbook of Laboratory and Diagnostic Tests. 2nd Ed, Kindle. Philadelphia: Wolters Kluwer Health, Lippincott Williams & Wilkins; c2014. Fungal Serology; 312 p.
  11. Merck Manual Consumer Version [Internet]. Kenilworth (NJ): Merck & Co. Inc.; c2018. Candidiasis (Yeast Infection)
  12. Mount Sinai [Internet]. Icahan School of Medicine. New York City (NY), U.S.A. Skin or nail culture
  13. National Heart, Lung, and Blood Institute [Internet]. Bethesda (MD): U.S. Department of Health and Human Services; Blood Tests
  14. Mônica Bastos de Lima Barros, Rodrigo de Almeida Paes, and Armando Oliveira Schubach. Sporothrix schenckii and Sporotrichosis. Clin Microbiol Rev. 2011 Oct; 24(4): 633–654. PMID: 21976602.
  15. National Health Service [internet]. UK; How should I collect and store a pee (urine) sample?
  16. Harvard Health Publishing. Harvard Medical School [internet]: Harvard University; Testing for Vaginitis (Yeast Infections, Trichomonas, and Gardnerella)
ऐप पर पढ़ें