myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

जब भी बात पसीने की आती है तो हमें गर्मी और चिपचिपापन महसूस होने लगता है और यही वजह है कि हम में ज्यादातर लोग यही कोशिश करते हैं कि उन्हें पसीना न आए। बहुत से लोग पसीने की बदबू की वजह से शर्मिंदगी महसूस करते हैं और इसलिए भी हम सभी पसीने से नफरत करते हैं और पसीना आने से रोकने के लिए कितने ही उपाय और जतन करते नजर आते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि पसीना निकलना हमारी सेहत के लिए कितना जरूरी है?

पसीने की ग्रंथि (स्वेट ग्लैंड्स) का सक्रिय रहना सेहत के लिए कितना फायदेमंद है यह शायद बहुत लोग ही जानते होंगे। ऐसे में आपको ये पसंद हो चाहे न हो लेकिन पसीना आपका दुश्मन नहीं है। कभी-कभार बहुत ज्यादा पसीना आना और गलत समय पर पसीना आने की वजह से ज्यादातर लोग पसीने को पसंद नहीं करते। लेकिन हकीकत यही है कि पसीना निकलने के कई फायदे हैं।

(औऱ पढ़ें: ज्यादा पसीना आना, रोकने के उपाय)

  • पसीना शरीर के तापमान को नियंत्रित करता है जिससे शरीर बहुत ज्यादा गर्म होने से बच जाता है
  • पसीना निकलने से शरीर डीटॉक्स होता है यानी शरीर की गंदगी बाहर निकलती है
  • एक्सरसाइज के दौरान पसीना निकलने से एन्डॉर्फिन का उत्पादन होता है जो नैचरल पेनकिलर का काम करता है
  • पसीना आने से त्वचा के रोमछिद्र खुल जाते हैं जिससे उनमें जमा मैल बाहर निकल जाता है, अगर ये अंदर ही रह जाएं तो कील-मुंहासों की समस्या हो सकती है
  • पसीना आपकी त्वचा और बालों को भी स्वस्थ रखने में मदद करता है

पसीना निकलने के इन सभी फायदों के बारे में हम आपको इस आर्टिकल में विस्तार से बता रहे हैं।

  1. पसीना क्या है?
  2. पसीना निकलने के फायदे

पसीना निकलने के फायदों के बारे में जानने से पहले यह जानना जरूरी है कि आखिर पसीना है क्या? पसीना मुख्य रूप से पानी की छोटी-छोटी बूंदें हैं जिसमें कई तरह के केमिकल्स जैसे- अमोनिया, यूरिया, नमक और चीनी मौजूद रहता है। आमतौर पर हमें पसीना तब निकलता है जब हम कोई मेहनत वाला काम करते हैं, एक्सरसाइज करते हैं, हमें बुखार हो या फिर हमें डर या बेचैनी महसूस हो रही हो। 

जब हमारा शरीर गर्म हो जाता है तो शरीर से पसीना निकलता है। यह शरीर का तरीका है खुद को ठंडा रखने का। दरअसल, जब अंदर से शरीर का तापमान बढ़ने लगता है तो पसीने की ग्रंथियां पानी रिलीज करती हैं तो त्वचा की सतह पर आता है। जैसे ही यह पसीना वाष्पित होकर उड़ता है तो आपकी त्वचा और त्वचा के नीचे मौजूद खून दोनों ठंडे हो जाते हैं।

(और पढ़ें: रात को ज्यादा पसीना आने की हो सकती है ये वजह)

बहुत ज्यादा पसीना आना
हीट यानी गर्मी को नियंत्रित करने के लिए जितना पसीना निकलना जरूरी है अगर आपको उससे ज्यादा पसीना आता है तो इसका मतलब है कि आपको हाइपरहाइड्रोसिस की समस्या है। हाइपरहाइड्रोसिस कई वजहों या बीमारियों के कारण भी हो सकता है, जैसे- थायराइड की समस्या, लो ब्लड शुगर की समस्या, तंत्रिका तंत्र से जुड़ी बीमारी आदि।

बहुत कम पसीना आना
अगर किसी व्यक्ति को पसीना नहीं निकलता या औसत से बहुत कम निकलता है तो उसे अनहाइड्रोसिस की समस्या हो सकती है। अनहाइड्रोसिस होने पर व्यक्ति का शरीर जानलेवा रूप से गर्म हो सकता है। डिहाइड्रेशन यानी शरीर में पानी की कमी की वजह से, नसों से जुड़ी किसी समस्या या स्किन से जुड़ी किसी बीमारी की वजह से पसीना नहीं आने की दिक्कत हो सकती है। 

पसीने से बदबू क्यों आती है?
सच्चाई दरअसल ये है कि पसीने में तो बदबू होती ही नहीं। पसीना जिस चीज के साथ मिल जाता है बदबू उससे आती है जैसे- बैक्टीरिया जो हमारी त्वचा पर मौजूद रहते हैं या फिर हार्मोन्स के स्त्राव की वजह से जो पसीना निकलने वाली जगह से आते हैं।

(और पढ़ें: बगल से आने वाली पसीने की बदबू दूर करने के उपाय)

शरीर के तापमान को नियंत्रित करता है पसीना

हमारे शरीर से पसीना निकलने की सबसे अहम वजह यही है कि पसीना शरीर के तापमान को रेग्युलेट यानी नियंत्रित करने में मदद करता है। ऐसा होना बेहद जरूरी है क्योंकि इससे शरीर में हीट स्ट्रोक की समस्या नहीं होती। जब शरीर का तापमान सामान्य रहता है तो शरीर के सभी अंग सही और सामान्य तरीके से काम करते हैं। लिहाजा जब आपके शरीर का अंदरूनी मूलभूत हिस्सा गर्म हो जाता है तो सुरक्षात्मक उपाय के तौर पर शरीर से पसीना निकलने लगता है।

एक्सरसाइज के दौरान पसीना निकलने के फायदे

जब भी कोई व्यक्ति एक्सरसाइज करता है तो उसका शरीर गर्म हो जाता है और हृदय की धड़कन बढ़ जाती है। इन दोनों ही परिस्थितियों की वजह से पसीना आने लगता है और जैसे ही यह पसीना वाष्पित होकर उड़ जाता है शरीर ठंडा हो जाता है। एक्सरसाइज या वर्कआउट के बाद पसीना आना इसलिए भी अच्छा है क्योंकि इससे आपका शरीर ओवरहीट होने से बच जाता है और आप बेहोश नहीं होते। ऐसे में एक्सरसाइज के दौरान पसीना निकलने से:

  • एनर्जी बढ़ती है
  • स्वस्थ वजन बना रहता है
  • मूड बेहतर होता है
  • अच्छी नींद आती है

(और पढ़ें: एक्सरसाइज के दौरान ज्यादा पसीना आना मतलब ज्यादा फैट लॉस, दूर करें गलतफहमी)

बीमारी में पसीना आने के फायदे

जब कोई व्यक्ति बीमार होता है, खासकर जब बुखार होता है तब भी पसीना निकलता है। इसका संबंध भी शरीर के तापमान से ही है। पसीना निकलने पर शरीर का तापमान नियंत्रित होता है जिससे बुखार जल्दी ठीक हो जाता है। पसीना निकलने का मतलब है कि वे कीटाणु या बैक्टीरिया जिन्होंने आपको बीमार बनाया था वे पसीने के जरिए शरीर से बाहर निकल जाते हैं। अगर बुखार होने पर पसीना निकलने लगे तो बुखार के बहुत ज्यादा बढ़ने की आशंका कम हो जाती है।

(और पढ़ें: बुखार कम करने के घरेलू उपाय)

घाव भरने में मदद करती है पसीने की ग्रंथि

पिछले कुछ सालों में एक्राइन पसीने की ग्रंथि जो स्किन पर लाखों की संख्या में मौजूद होती है पर काफी रिसर्च की जा रही है। अमेरिका की यूनिवर्सिटी ऑफ मिशिगन के अनुसंधानकर्ता इस बात का पता लगाने में जुटे हैं पसीने की ये ग्रंथियां किस तरह से घाव को भरने में मदद करती हैं।

केमिल्स और धातुओं को बाहर निकालता है पसीना

पसीने के जरिए शरीर का विषहरण (डिटॉक्सिफिकेशन) होता है या नहीं इस पर लोगों की अलग-अलग राय है। लेकिन साल 2016 की चीन में हुई एक स्टडी की मानें तो वैसे लोग जो नियमित रूप से एक्सरसाइज करते हैं और जिनका पसीना निकलता है उनके शरीर में भारी धातुओं का लेवल कम था। यानी पसीने के जरिए शरीर से भारी धातुओं को बाहर निकालने में मदद मिलती है।

इसके अलावा बीपीए यानी बिस्फेनॉल ए एक केमिकल है जिसका इस्तेमाल प्लास्टिक और कई दूसरी चीजों को बनाने में होता है। बीपीए के संपर्क में आने पर शरीर में कई तरह के नुकसान देखने को मिल सकते हैं। 2011 की एक स्टडी की मानें तो पसीना, शरीर से बीपीए को बाहर निकालने का एक असरदार रास्ता है। पसीना शरीर से इन केमिकल्स और धातुओं को बाहर करता है ताकि स्वास्थ्य जोखिम कम हो सके।

(और पढ़ें: डिटॉक्स वॉटर के फायदे)

स्किन और बालों के लिए फायदेमंद है पसीना

शायद आप इस बात पर यकीन न करें लेकिन पसीना आपकी स्किन की सेहत के लिए भी फायदेमंद है। जब पसीना निकलता है तो त्वचा के पोर्स यानी रोमछिद्र खुल जाते हैं और अंदर जमा गंदगी और मैल बाहर निकल जाती है। अक्सर पोर्स में जमा इन्हीं गंदगियों की वजह से मुंहासे भी निकलते हैं। लिहाजा पसीना निकलने से पोर्स प्राकृतिक रूप से साफ हो जाते हैं जिससे चेहरे पर अनचाहे दाग-धब्बे नहीं होते। चेहरे पर पसीना आने के बाद उसे जेंटल क्लीन्जर से साफ कर लें और फिर देखें चेहरे पर कैसी चमक दिखती है।

इसके अलावा जब सिर के स्कैल्प से पसीना निकलता है जो बालों की पुटिकाएं (हेयर फॉलिकल्स) खुल जाती हैं जिससे नए बाल के विकास में भी मदद मिलती है। स्किन की ही तरह स्कैल्प के भी पोर्स पसीना निकलने पर खुल जाते हैं जिससे उसके अंदर जमा गंदगी बाहर आ जाती है। लेकिन बालों में पसीना आने के बाद बालों को शैंपू से धोना जरूरी है। अगर बालों में पसीना बना रहे तो स्कैल्प में खुजली की समस्या हो सकती है।

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें
कोरोना मामले - भारतx

कोरोना मामले - भारत

CoronaVirus
604643 भारत
2दमन दीव
100अंडमान निकोबार
15252आंध्र प्रदेश
195अरुणाचल प्रदेश
8582असम
10249बिहार
446चंडीगढ़
2940छत्तीसगढ़
215दादरा नगर हवेली
89802दिल्ली
1387गोवा
33232गुजरात
14941हरियाणा
979हिमाचल प्रदेश
7695जम्मू-कश्मीर
2521झारखंड
16514कर्नाटक
4593केरल
990लद्दाख
13861मध्य प्रदेश
180298महाराष्ट्र
1260मणिपुर
52मेघालय
160मिजोरम
459नगालैंड
7316ओडिशा
714पुडुचेरी
5668पंजाब
18312राजस्थान
101सिक्किम
94049तमिलनाडु
17357तेलंगाना
1396त्रिपुरा
2947उत्तराखंड
24056उत्तर प्रदेश
19170पश्चिम बंगाल
6832अवर्गीकृत मामले

मैप देखें