myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

कैमोमाइल चाय हर्बल चाय की अच्छी किस्मों में से एक है। इसका पौधा एस्ट्रैसी (Asteraceae) परिवार का सदस्य है। इस पौधे के फूल को सूखे और तैयार रूप में कई हर्बल और प्राकृतिक उपचार के लिए उपयोग किया जाता है| साथ ही इसका लेप लगाने के लिए भी उपयोग किया जाता है। हम में से कई लोग इसका लोकप्रिय चाय के रूप में भी उपयोग करते हैं।

इसके पौधे दुनिया भर में अलग-अलग रूपों में मिलते हैं इसलिए दुनिया के एक हिस्से में मिलने वाली कैमोमाइल चाय किसी और हिस्से में मिलने वाली चाय के समान नहीं हो सकती है। लेकिन पौधों के मूलभूत तत्व काफी समान होते हैं और समान प्रभाव प्रदान करते हैं।

अध्ययनों से पता चला है कि जर्मन और रोम में पाए जाने वाले कैमोमाइल में सबसे मजबूत लाभकारी यौगिक और पोषक तत्व होते हैं जो नियमित रूप से इस लोकप्रिय चाय को पीने वाले लोगों को लाभ प्रदान करते हैं।

कैमोमाइल चाय के सुखद स्वाद और पहुंच के अलावा इसमें मौजूद फ्लेवोनॉयड, सेस्क्टीरपेनस (sesquiterpenes) और अन्य शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट की मौजूदगी के कारण यह हमारे शरीर के लिए बहुत लाभदायक है।

कैमोमाइल में पाए जाने वाले यौगिकों और रसायनों की शक्तिशाली प्रवृति के कारण गर्भवती महिलाओं और कई सारी दवाओं का सेवन करने वाले लोगों को सतर्क होकर इसका सेवन करने की सलाह दी जाती है। कैमोमाइल चाय को अपने आहार का नियमित हिस्सा बनाने से पहले अपने चिकित्सक से सलाह लेनी चाहिए।

तो चलिए इस चाय के लाभों के बारे में विस्तार से जानते हैं -

  1. कैमोमाइल चाय के फायदे - Chamomile tea ke fayde in hindi
  2. कैमोमाइल चाय के नुकसान - Chamomile tea ke nuksan in hindi

कैमोमाइल चाय के लाभ बालों के लिए - Drinking chamomile tea for hair growth in hindi

कैमोमाइल चाय के इन अन्य प्रभावशाली विशेषताओं के अलावा यह बालों को बढ़ाने और उनको मजबूत बनाने में मदद करती है। इसमें मौजूद एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण सर पर किसी भी जलन को कम करने में मदद करते हैं। इसके मजबूत रसायन आपके बालों को मजबूती देने के अलावा रूसी को खत्म करने में मदद करते हैं जिसके कारण आपके बाल बेहतर और रेशमी लगते हैं।

(और पढ़ें – हरी चाय का लाभ बालों के नुकसान को रोकने के लिए)

कैमोमाइल चाय के फायदे बढ़ाएं इम्युनिटी - Chamomile chai boosts immune system in hindi

यदि आप संक्रमण को रोकने के लिए अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करना चाहते हैं, तो कैमोमाइल चाय का सेवन करें| यह आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत बनाने में मदद करेगी। कैमोमाइल चाय में फीनोलिक यौगिक है जो बैक्टीरिया संक्रमण से लड़ने में मदद करते हैं। अध्ययनों से पता चला है कि दो सप्ताह में 5-6 गिलास कैमोमाइल चाय का सेवन करने से संक्रमण से लड़ने के लिए शरीर की क्षमता में काफी सुधार होता है।

(और पढ़ें – पुदीना टी बेनिफिट्स फॉर इम्यून सिस्टम)

कैमोमाइल चाय का उपयोग माहवारी समस्या के लिए - Chamomile tea relieves menstrual cramps in hindi

कैमोमाइल चाय के एंटी-इंफ्लेमेटरी और आरामदायक स्वभाव के कारण महिलाओं को माहवारी से संबंधित लक्षणों जैसे ब्लोटिंग, ऐंठन, चिंता, पसीना, नींद ना आना, मिजाज में बदलाव आदि से निपटने में मदद मिलती है। कैमोमाइल चाय इन लक्षणों पर सीधे प्रभाव डालकर मन और शरीर को सुखदायक एहसास देती है और सूजन को कम करती है।

(और पढ़ें – सौंफ की चाय के लाभ मासिक धर्म के लिए)

कैमोमाइल चाय से लाभ चिंता करे दूर - Chamomile tea reduces stress in hindi

कैमोमाइल चाय तनाव और चिंता को दूर करने में मदद करती है। एक लंबे दिन के बाद इस पेय का गर्म और सुखदायक स्वभाव आपके शरीर में सेरोटोनिन और मेलाटोनिन के स्तर को बढ़ाने में मदद करता है जो सफलतापूर्वक तनाव और चिंता को दूर करता है। प्रतिदिन कैमोमाइल चाय के 1-2 कप आपके दीर्घकालिक तनाव के लक्षणों को भी दूर करने में मदद करते हैँ। लेकिन गर्भावस्था एक तनावपूर्ण समय ज़रूर हो सकता है पर गर्भावस्था के दौरान कैमोमाइल चाय का सेवन गर्भपात का खतरा पैदा कर सकता है।

(और पढ़ें - गर्भावस्था में पेट दर्द और गर्भ में लड़का कैसे हो से जुड़े मिथक)

कैमोमाइल चाय पीने के फायदे दिलाए अच्छी नींद - Chamomile tea helps sleep in hindi

हम जानते हैं कैमोमाइल चाय तनाव और चिंता को कम करने में मदद करती है। इसलिए यह अच्छी नींद लेने में भी मदद कर कर सकती है, खासकर उन लोगों के लिए जो अस्वस्थ और अच्छी और सुकून भरी नींद नहीं ले पाते हैं। यहां तक कि स्लीप एपनिया और अन्य विकारों से जूझ रहे लोगों के लिए भी कैमोमाइल चाय के सेवन से लाभ होता है। कैफिन रहित कैमोमाइल चाय का एक गर्म कप पीने से जल्दी नींद आने में मदद मिलती है और आप जागने पर और अधिक ताज़ा महसूस कर सकते हैं।

(और पढ़ें – तनाव को दूर करने के लिए जूस)

कैमोमाइल टी के गुण मधुमेह के लिए - Chamomile tea fights diabetes in hindi

अनुसंधान में देखा गया है कि कैमोमाइल चाय मधुमेह से ग्रस्त लोगों के लिए भी उपयोगी है। यह रक्त शर्करा के स्तर को कम करने और रक्त में इंसुलिन की मात्रा को नियंत्रित करने में मदद करती है। कैमोमाइल चाय में मौजूद शक्तिशाली कार्बनिक रसायन रक्त शर्करा में बड़े पैमाने पर कमी और बढ़ोतरी को खत्म करने में मदद करते हैं। मधुमेह रोगियों को हमेशा सलाह दी जाती है कि किसी भी हर्बल उपचार को करने से पहले अपने डॉक्टर से जरूर बात करें।

(और पढ़ें – मधुमेह के घरेलू उपचार)

कैमोमाइल की चाय का उपयोग पेट की समस्या में - Chamomile tea good for stomach issues in hindi

यदि आप पेट में जलन या इरिटेबल बाउल सिंड्रोम से पीड़ित हैं तो कैमोमाइल चाय इस समस्या से छुटकारा दिलाने में आपकी मदद कर सकती है। कैमोमाइल चाय में मौजूद एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण मल त्याग की प्रक्रिया को आराम से होने देते हैं। एक कप कैमोमाइल चाय आपको बेहतर महसूस करने में मदद कर सकती है। साथ ही इस चाय का नियमित उपयोग आपकी पेट की गंभीर स्थितियों को रोकने में मदद कर सकता है।

(और पढ़ें - पेट दर्द के घरेलू उपाय)

कैमोमाइल फूल की चाय त्वचा समस्या के लिए - Chamomile tea benefits for skin in hindi

कैमोमाइल चाय में एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सिडेंट गुण होते हैं। इस चाय को एक्जिमा वाली त्वचा पर लगाने से काफी लाभ प्राप्त होता है। अनुसंधान में पाया गया है कि इसको त्वचा पर लगाने से उपचार में काफी सुधार हो सकता है और दाग-धब्बे और झुर्रियां गायब हो जाती हैं। यह त्वचा के ऑक्सीडेटिव तनाव (मुक्त कणों के बनने और उनके शरीर के प्रति हानिकरक प्रभाव को न रोक पाने के बीच का असंतुलन) को खत्म करके उस क्षेत्र की प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को बढ़ाती है।

(और पढ़ें – त्वचा के लिए चमेली के फायदे)

कैमोमाइल टी फॉर एलर्जी - Chamomile tea for allergy in hindi

जिन लोगों को रागवीड (ragweed ), गुलबहार (daisies) और गुलदाउदी (chrysanthemum) से एलर्जी है, उन लोगों को अक्सर कैमोमाइल से भी एलर्जी होती है पर कैमोमाइल चाय उन लोगों के शरीर में एलर्जी के प्रति प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को व्यवस्थित करने में भी मदद करती है। एक कप कैमोमाइल चाय एक एंटी-हिस्टामाइन के रूप में काम करके पूरे शरीर में उन एलर्जी प्रतिक्रियाओं को शांत कर सकती है और एलर्जी के लक्षणों के बिगड़ने से पहले उन्हें रोक सकती है।

(और पढ़ें – एलर्जी का आयुर्वेदिक उपचार)

जैसा कि पहले बताया गया है कि गर्भवती महिलाओं को कैमोमाइल चाय का उपभोग नहीं करना चाहिए क्योंकि इससे गर्भपात का खतरा बढ़ जाता है।

बहुत से लोगों को रागवीड से एलर्जी होती है। ऐसे में कैमोमाइल का नियमित उपयोग करना, खास तौर से उसे शरीर पर लगाना, इन लक्षणों को बिगाड़ सकता है।

और पढ़ें ...