myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

इसमें कोई शक नहीं कि भारतीय खाने में धनिया का काफी इस्तेमाल होता है। फिर चाहे हरे धनिया के पत्तों की चटनी हो, उसे बारीक-बारीक काटकर सब्जी में ऊपर से डालकर सब्जी का स्वाद बढ़ाना हो या फिर धनिया के बीज को साबुत या पाउडर फॉर्म में मसाले के तौर इस्तेमाल करना हो। डायट्री फाइबर और औषधीय गुणों से भरपूर धनिया की तासीर ठंडी होती है और इसलिए यह न सिर्फ पाचन में मदद करता है बल्कि स्किन और बालों के लिए भी कई तरह से फायदेमंद है।

(और पढ़ें - इन जड़ी बूटियों को पानी में डालकर पिएंगे तो रोगमुक्त हो जाएंगे)

धनिया के पत्ते और बीज का सेवन तो फायदेमंद है ही, लेकिन अगर आप धनिया के पानी का सेवन करें तो यह भी आपको कई बीमारियों से बचाने के साथ ही सेहतमंद रखने में मददगार साबित हो सकता है। खासकर थायराइड और वजन कम करने में तो रामबाण के समान माना जाता है धनिया का पानी। आप चाहें तो धनिया के पत्तों का भी पानी बना सकते हैं या फिर धनिया के बीज का भी। सुबह खाली पेट धनिया का पानी पीने के कई फायदे हैं। तो आखिर धनिया का पानी कैसा बनाया जाता है, इसे पीने के फायदे और नुकसान क्या-क्या हैं इस बारे में हम आपको इस आर्टिकल में बता रहे हैं।

  1. धनिया का पानी कैसे बनाएं? - Dhania water kaise banaye?
  2. धनिया का पानी पीने के फायदे - Benefits of dhaniya water in hindi
  3. धनिया का पानी पीने के नुकसान - Side effects of dhaniya water in hindi
  4. धनिया का पानी पीने के फायदे और नुकसान के डॉक्टर

आप 2 अलग-अलग तरीकों से धनिया के पानी को तैयार कर सकते हैं :

पहला तरीका : धनिया के बीज का पानी
क्या चाहिए- 1 चम्मच धनिया के बीज, 1 कप पानी
बनाने की विधि- 1 चम्मच धनिया के बीज को 1 कप पानी में डालें और बीज को रातभर पानी में भीगने दें। अगले दिन सुबह इस पानी को छान लें, बीज को अलग कर दें और पानी को सुबह खाली पेट पी लें। आप चाहें तो इस बीज को सुखाकर वापस से सब्जी बनाने में इस्तेमाल कर सकते हैं।

दूसरी विधि- 1 गिलास पानी को उबालें और उसमें 1 चम्मच धनिया के बीज डाल दें। बीज को 1 मिनट के लिए पानी के साथ उबलने दें और फिर इस पानी को गैस से हटा लें। इसे कुछ देर के लिए ठंडा कर लें और फिर छानकर सुबह खाली पेट पिएं। 

दूसरा तरीका : धनिया के पत्तों का पानी
क्या चाहिए-
15-20 धनिया के पत्ते, 1 गिलास पानी, नींबू का रस
बनाने की विधि- धनिया के इन पत्तों को पानी में डालें और अच्छी तरह से मिक्स कर रातभर पानी में ही भीगने दें। अगली सुबह पानी को छानकर धनिया के पत्ते अलग कर लें और इस पानी में नींबू की कुछ बूंदें मिलाकर इसका सेवन करें।

दूसरी विधि- धनिया के पत्तों को अच्छी तरह से धोकर मिक्सी में पीस लें। इसमें आधा कप गर्म पानी और नींबू की कुछ बूंदें डालें और रोजाना सुबह खाली पेट पिएं।

(और पढ़ें- जीरे के पानी के फायदे नुकसान)

धनिया का पानी के फायदे वजन घटाने के लिए - Dhaniya water for weight loss in hindi

डाइटरी फाइबर से भरपूर धनिया के पानी में क्वेरसेटिन नाम का तत्व भी पाया जाता है जो आपके मेटाबॉलिज्म की प्रक्रिया को तेज करता है। इससे शरीर में जमा फैट को जलाने में मदद मिलती है जिससे तेजी से आपका वजन कम होने लगता है। आयुर्वेद के अनुसार धनिया के बीज का पानी खून में लिपिड के स्तर को कम करता है और साथ ही इसमें मौजूद स्टेरॉल शरीर में कोलेस्ट्रॉल के अवशोषण को रोकता है जिससे व्यक्ति का वजन नहीं बढ़ता।

(और पढ़ें- वजन घटाने के लिए अपनाएं ये मजेदार टिप्स)

धनिया के पानी के फायदे पाचन में सुधार के लिए - Dhaniya water for digestion in hindi

विटामिन सी, मैग्नीशियम, पोटैशियम, कैल्शियम और आयरन से भरपूर धनिया पाचन से जुड़ी समस्याओं को दूर करने में मदद करता है। धनिया, पाचन अग्नि को नियंत्रित करके पेट में पित्त और ऐसिडिटी के लेवल में बढ़ोतरी होने से रोकता है जिससे पेट में दर्द, पेट में गैस बनना, पेट फूलना, बदहजमी आदि पाचन से जुड़ी समस्याओं को दूर करने में मदद मिलती है।

(और पढें- पाचन तंत्र के रोग, लक्षण, कारण, इलाज)

धनिया के पानी के फायदे शरीर को डीटॉक्स करने के लिए - Dhaniya water for detox in hindi

धनिया का पानी एक बेहद फायदेमंद और लाभकारी डीटॉक्स वॉटर के रूप में भी जाना जाता है। इसका कारण ये है कि धनिया विषाक्त पदार्थों को शरीर से बाहर निकालकर शरीर को अंदर से साफ और डीटॉक्स करता है। यह फैट और नेक्रोसिस को शरीर से बाहर निकालकर लिवर को भी साफ करने में मदद करता है। अध्ययनों से पता चला है कि यह बैक्टीरिया और फंगल संक्रमण के साथ-साथ परजीवियों के इलाज में भी प्रभावी है।

(और पढ़ें- बॉडी को अंदर से साफ कैसे करें)

धनिया के पानी के फायदे थायराइड के लिए - Dhaniya water for thyroid in hindi

अगर आपके शरीर में थायराइड की कमी है (हाइपोथायरायडिज्म) या फिर अगर थायराइड की अधिकता है (हाइपरथायरायडिज्म) तो दोनों ही तरह की बीमारी में धनिया का पानी आपके लिए बहुत फायदेमंद हो सकता है। धनिया में फोलेट, एंटीऑक्सिडेंट, विटामिन सी, बीटा-कैरोटीन समेत कई प्रकार के खनिज और विटामिन्स भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं जो थायराइड हार्मोन को विनियमित करने में मदद करता है। आप चाहें तो धनिया के पानी के अलावा धनिया की चाय, धनिया का काढ़ा या धनिया की स्मूदी का भी सेवन कर सकते हैं।

(और पढ़ें- थायराइड डाइट चार्ट, क्या खाएं क्या नहीं)

धनिया के पानी के फायदे ब्लड शुगर कम करने के लिए - Dhaniya water to reduce blood sugar in hindi

धनिया के बीज का पानी अग्नाशय या पैनक्रियाज से इंसुलिन हार्मोन रिलीज को नियंत्रित करने में मददगार साबित हो सकता है। धनिया के बीजों में मौजूद इथेनॉल को सीरम ग्लूकोज या ब्लड शुगर को कम करने के लिए प्रभावी माना जाता है। खून में ब्लड शुगर की अधिक मात्रा टाइप 2 डायबिटीज का एक प्रमुख जोखिम कारक है। लिहाजा वे लोग जिनका ब्लड शुगर लेवल पहले से कम हो उन्हें धनिया का पानी पीने से बचना चाहिए वरना उनका ब्लड शुगर लेवल औऱ ज्यादा कम होने का खतरा हो सकता है।

(और पढ़ें- ब्लड शुगर लेवल कम होने पर क्या करें)

धनिया के पानी के फायदे हार्ट को हेल्दी रखने के लिए - Dhaniya water for heart health in hindi

धनिया के बीजों से बने धनिया के पानी में मूत्रवर्धक (डाइयूरेटिक) प्रभाव भी होता है जो यूरिन पास करने में मदद करता है। यूरिन के माध्यम से, सिस्टम में जमा अतिरिक्त सोडियम शरीर से बाहर निकल जाता है जिससे ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने में मदद मिलती है। इसके अलावा धनिया का पानी गुड कोलेस्ट्रॉल को प्रभावित किए बिना बैड कोलेस्ट्रॉल को कम करने में भी मदद करता है। जब बीपी और कोलेस्ट्रॉल दोनों कंट्रोल में रहते हैं तो जाहिर सी बात है कि आपको हृदय रोग का जोखिम भी कम हो जाता है और आपका हार्ट हेल्दी रहता है।

(और पढ़ें- हृदय रोग से बचने के उपाय)

धनिया की ही तरह धनिया के पानी का भी अगर सीमित मात्रा में औषधीय रूप में सेवन किया जाए तो यह ज्यादातर लोगों के लिए सुरक्षित ही माना जाता है। लेकिन जिन लोगों को एलर्जी हो उन्हें इसका सेवन नहीं करना चाहिए और अगर बहुत ज्यादा मात्रा में धनिया का पानी पिएं तो इससे भी शरीर में कुछ नुकसान हो सकता है:

  • धनिया का पानी पीने से होने वाले दुष्प्रभावों की बात करें तो इसमें एलर्जिक रिऐक्शन और धूप के प्रति संवेदनशीलता में वृद्धि शामिल है। धूप की संवेदनशीलता में वृद्धि के कारण आपको सनबर्न और स्किन कैंसर का जोखिम अधिक हो सकता है। (और पढ़ें- सनबर्न हटाने के घरेलू उपाय)
  • यदि आप गर्भवती हैं या बच्चे को अपना दूध पिलाती हैं तो इस बात की पर्याप्त विश्वसनीय जानकारी मौजूद नहीं है कि धनिया का पानी आपके लिए पूरी तरह से सुरक्षित है या नहीं। लिहाजा बेहतर यही होगा कि आप गर्भावस्था और बच्चे को स्तनपान कराने के दौरान धनिया का पानी का सेवन करने से बचें।
  • जिन लोगों को सौंफ, जीरा, अजवाइन, अजमोद आदि मिलते जुलते पौधे या इनके बीज से एलर्जी होती है उन्हें धनिया के पत्ते और धनिया के बीज से भी दूर रहना चाहिए।
  • जैसा कि हमने पहले ही बताया कि धनिया का पानी ब्लड प्रेशर को कम कर सकता है। लिहाजा अगर आपको पहले से ही लो ब्लड प्रेशर की समस्या हो या फिर अगर आप ब्लड प्रेशर कम करने के लिए दवाएं लेते हैं तो सावधानी से धनिया के पानी का उपयोग करें।

(और पढ़ें- लो बीपी की समस्या दूर करने के घरेलू उपाय)

Dt. Akanksha Mishra

Dt. Akanksha Mishra

पोषणविद्‍
7 वर्षों का अनुभव

Surbhi Singh

Surbhi Singh

पोषणविद्‍
22 वर्षों का अनुभव

Dr. Avtar Singh Kochar

Dr. Avtar Singh Kochar

पोषणविद्‍
20 वर्षों का अनुभव

Dr. priyamwada

Dr. priyamwada

पोषणविद्‍
7 वर्षों का अनुभव

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें