myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

आयुर्वेद में तीन दोष वात, पित्त और कफ होते हैं। जब दोष संतुलित होते हैं, तो व्यक्ति स्वस्थ रहता है, लेकिन दोष में असंतुलन कई विकारों का कारण बनता है। इसलिए इनके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित करने वाले तरीके को समझना बहुत महत्वपूर्ण है।

मूल रूप से 2 प्रकार के असंतुलन होते हैं  - प्राकृतिक और अप्राकृतिक। प्राकृतिक असंतुलन उम्र, दिन या मौसम के कारण हो सकता है। उदाहरण के लिए, कफ असंतुलन बचपन के दौरान, सर्दियों और वसंत के दौरान प्रबल होता है, पित्त मध्यम आयु में और गर्मियों के दौरान हावी होता है, जबकि वात बुढ़ापे में और पतझड़ ऋतु के मौसम (fall season) में हावी होता है। असंतुलन का यह प्रकार स्वाभाविक है और किसी भी प्रकार के विकार या बिमारी का कारण नहीं होता है।

अप्राकृतिक असंतुलन समस्याएं पैदा करता है। अनुचित आहार या जीवनशैली, परजीवी और वायरस के कारण दोषों का अप्राकृतिक असंतुलन आम तौर पर होता है। किसी भी दोष में असंतुलन की वृद्धि विकार का मुख्य कारण बनती है। किसी एक दोष की कमी भी एक बीमारी का कारण हो सकती है, लेकिन इसकी सम्भावना बहुत कम होती है। इसलिए दोषों को चेक में रखना महत्वपूर्ण है क्योंकि असंतुलन हमारे शरीर के कार्यों में हस्तक्षेप करता है और कई रोगों का कारण भी बनता है। आइये अलग-अलग तीन दोषों के असंतुलन और लक्षणों के बारे में जानें –

  1. वात दोष असंतुलन के लक्षण - Vata Dosha Imbalance Symptoms in Hindi
  2. पित्त दोष असंतुलन के लक्षण - Pitta Dosha Imbalance Symptoms in Hindi
  3. कफ दोष असंतुलन के लक्षण - Kapha Dosha Imbalance Symptoms in Hindi

वात दोष को सर्वोच्च दोष माना जाता है। यह हमारे शरीर की गति के लिए जिम्मेदार होता है। कई कारणों से वात दोष का कारण बढ़ सकता है जिसमें अनियमित दिनचर्या, अनुचित खाने की आदत, पर्याप्त नींद नहीं मिलना, वात बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थों का सेवन, तनाव आदि शामिल हो सकते हैं। आइयें उन लक्षणों पर नजर डालें जो वात असंतुलन को निर्धारित करने के लिए जाने जाते हैं।

(और पढ़ें - नींद के लिए घरेलू उपाय)

लक्षण-

वात दोष असंतुलन को समझने के लिए, आपको उन लक्षणों की बारीकी से देखने की जरूरत है जो इसके प्रति इशारा कर सकते हैं। ये लक्षण गैस और पेट में सूजन के रूप में देखे जा सकते हैं। इसके अलावा एक वात व्यक्ति को वजन घटने और कमजोरी का अनुभव हो सकता है। अन्य लक्षणों में विशेष रूप से पिछले क्षेत्र में अत्यधिक दर्द, शरीर के हिस्सों में सूखापन, सुन्न हो जाना और झटके शामिल हो सकते हैं। मानसिक रूप से, व्यक्ति को चिंता, बेचैनी, अनिद्रा और गर्म और मसालेदार भोजन आदि का अनुभव हो सकता है। इसमें मांसपेशियों में भी दर्द हो सकता है। महिलाओं में पीएमएस का परिणाम वात असंतुलन है। ये सभी लक्षण बड़े और अधिक हानिकारक बन सकते हैं और जिनका स्वास्थ्य पर गंभीर प्रभाव पड़ सकता है। 

(और पढ़ें – योग निद्रा के माध्यम से पायें सुखद गहरी नींद)

पित्त दोष पाचन की गर्मी जैसी चयापचय गतिविधियों को नियंत्रित करता है। यह शरीर के तापमान को भी बनाये रखता है और भूख को नियंत्रित करता है। पित्त असंतुलन के कुछ कारणों में मसालेदार और तला हुआ भोजन, लम्बे समय तक धुप में रहना, लंबे समय तक कुछ नहीं खाना, आक्रामकता, नफरत आदि शामिल हो सकते हैं।

लक्षण-

पित्त असंतुलन के आम लक्षणों में आम तौर पर अपच पेट और पेट में एसिड का अत्यधिक उत्पादन शामिल होता है जो पेप्टिक अल्सर का कारण बन सकता है। मुँहासे, रशेस, मतली, त्वचा की सूजन, सीने में जलन, रक्त में विषैले पदार्थ आदि सभी पित्त असंतुलन के लक्षण होते हैं। अन्य चीजें जो इस बात की ओर इशारा करती हैं वो है हॉट फ़्लूशेस, क्रोध, चिड़चिड़ापन, समय से पहले बाल सफ़ेद होना, दृष्टि समस्याएं, बुखारदस्त आदि शामिल हो सकते हैं।

(और पढ़ें – ये आयुर्वेदिक फेस मास्क करेगा आपकी स्किन से मुहासों और बढ़ती उम्र के लक्षणों को गुम)

कफ एक व्यक्ति में वृद्धि को प्रभावित करने के लिए जाना जाता है। कुछ तरीके हैं जिससे कफ शरीर में असंतुलित हो सकता है जिसमें बहुत ही मीठा और तेलयुक्त भोजन शामिल हो सकते हैं। इसके अलावा पर्याप्त व्यायाम न करना, अधिक भोजन करना, आवश्यकता से अधिक सोना आदि। कुछ संकेतों और लक्षणों के अनुसार कफ असंतुलन का नेतृत्व निम्नानुसार है -

लक्षण-

अधिक बलग़म, कंजेस्टिव, फ्लूइड रिटेंशन, सूजन और खुजली का उत्पादन जैसे आम लक्षण हैं जो संकेत करते हैं कि आपके शरीर में कफ असंतुलित है। यदि आपको लगता है कि आपको ये समस्याएं हैं तो आप कफ असंतुलन से पीड़ित हो सकते हैं। असंतुलन के अन्य लक्षणों में आसानी से वजन काम होना या मोटापा, बार बार खांसी, जागने में समस्या, भावनात्मक, अवसादमधुमेह, ट्यूमर, बढ़ा हुआ कोलेस्ट्रॉल और जोड़ों में दर्द आदि हो सकते हैं। दोषों के असंतुलन के संकेतों और लक्षणों पर एक नज़र डालना समस्या को समझने के लिए पहला कदम है।

(और पढ़ें - आयुर्वेद के अनुसार स्वास्थ्य को रखने के लिए बेहतर अपनाएँ ये टिप्स)

और पढ़ें ...