myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

रोजाना न जाने अपने हाथों से आप कितना काम करते हैं, कितनी चीजों को छूते हैं, कितने लोगों से हाथ मिलाते हैं। लेकिन क्या कभी आपने हाथों को गौर से देखा है? अगर नहीं, तो अब देखें। आपके दो हाथ आपके पूरे स्वास्थ्य की कहानी बयां करते हैं। मतलब यह कि आप स्वस्थ हैं, बीमार हैं या किसी बीमारी के आने की आशंका है, इन सबका अपने हाथों से पता लगा सकते हैं। सवाल है कैसे? आइए इस बारे में जानने के लिए आगे पढ़ते हैं।

हाथों का कांपना

अगर अनियंत्रित तरीके से आपके हाथ कांपते हैं तो परेशान न हों। हाथों का अनियंत्रित तरीके से हिलने का मलतब है कि आपने काफी ज्यादा कैफीन का सेवन किया है। इसके साथ ही कुछ दवाईयों जैसे अस्थमा की दवाई या एंटीडिप्रेसेंट के दुष्प्रभाव के कारण भी हाथ कांपते हैं। अगर इनमें से कोई भी वजह आपके हाथ की कंपकपाहट के लिए जिम्मेदार नहीं है, तो बिना देरी किए डॉक्टर से संपर्क करें। यह पार्किंसन डिजीज (नर्वस सिस्टम का विकार जो शारीरिक गतिविधियों को प्रभावित करता है) का लक्षण हो सकता है। हालांकि दुर्लभ मामलों में ही ऐसा देखने को मिलता है।

(और पढ़ें - हाथ कांपने क इलाज)

फटे या कमजोर नाखून

अगर आपके नाखून बहुत ज्यादा कमजोर हैं तो संभवतः आपके शरीर में जिंक की कमी है। विशेषज्ञों के मुताबिक जिंक त्वचा की कोशिकाओं के बनने में मदद करता है। इसलिए अगर आपके नाखून कमजोर हैं और आसानी से टूट जाते हैं तो डाइट में जिंक युक्त आहार शामिल करें। इसके लिए जरूरी हो तो डाॅक्टर से संपर्क कर सकते हैं। ओट्स, नट्स, मीट भी जिंक की पूर्ति के लिए बेहतरीन आहार में शामिल होते हैं।

(और पढ़ें - हाथों की देखभाल करें इन घरेलू नुस्खों से)

हाथों में बहुत ज्याद पसीना आना

एक्सरसाइज के दौरान या बहुत ज्यादा चिंता होने पर पसीना आना सामान्य बात है। लेकिन हर समय हथेली में बहुत ज्यादा पसीना रहना, यहां तक कि दरवाजों की कुंडी तक खोलने में दिक्कत हो तो समझें कि यह हाइपरहाइड्रोसिस के लक्षण हो सकते हैं। सामान्यतः यह जेनेटिक कोम्पोनेंट है, जो बचपन में ही शुरू हो जाता है। अतः इस तरह के कुछ लक्षण दिखने पर डाॅक्टर से मिलें। ये भी सच है कि रात को यह समस्या नजर नहीं आती। 

(और पढ़ें - इन कारणों से लगते हैं आपके हाथ बूढ़े)

नाखून का सफेद-भूरा रंग

भारतीय शोधकर्ताओं ने गंभीर किडनी रोग से पीड़ित 100 मरीजों पर अध्ययन किया। अध्ययन से पता चला कि 36 फीसदी मरीजों को हाफ-एंड-हाफ नेल्स (नाखून का निचला हिस्सा सफेद और ऊपरी हिस्सा ब्राउन होना) है। ऐसा शायद कुछ हार्मोन में हुए बदलाव और गंभीर एनीमिया की वजह से है। ये दोनों स्थितियां गंभीर और लंबे समय से चल रहे किडनी रोग से जुड़ी हुई है। ऐसी स्थिति में डाॅक्टर से मिलें और अपने स्वास्थ्य के बारे में विस्तार से बात करें। इसके इतर यदि नाखून का रंग गाढ़ा है, नाखून पर लंबी-लंबी धारियां हैं, तो यह मेलानोमा (स्किन कैंसर) का संकेत हो सकता है।

(और पढ़ें - आपके नाखूनों में छिपे हैं आपकी सेहत के ये राज)

हाथ में खुजली या दाने होना

क्या आपके हाथ असामान्यत तरीके से रूखे हैं, जिसमें लगातार खुजली और रैशेज होते रहते हैं। ऐसी स्थिति में बहुत सारे मॉइस्चराइजर के इस्तेमाल के बजाय विशेषज्ञ से संपर्क करें। हाथ में नजर आ रही इस तरह की समस्या एक्जिमा के संकेत हैं। एक्जिमा त्वचा संबंधी समस्या है। अमेरिकन एकेडेमी ऑफ डर्मोटोलाॅजी के अनुसार एक्जिमा की वजह से हाथ में दर्द भरे दाने, रूखी त्वचा, जलन और त्वचा से खून भी निकल सकता है। डाॅक्टर आपकी स्थिति को देखकर जरूरी ऑइंटमेंट या क्रीम दे सकते हैं। अगर डाॅक्टर सुनिश्चित करें कि आपको एक्जिमा नहीं है तो ऐसे में विटामिन ए युक्त माॅइस्चराइजर का उपयोग करें। ध्यान रखें कि बार-बार हाथ धोने की वजह से भी हाथ रूखे हो जाते हैं।

और पढ़ें ...