myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

हाथ न धोने के कारण सबसे अधिक बीमारियां होती हैं। इस बात की पुष्टि कई डॉक्टर करते हैं। हाथों के जरिए शरीर में संक्रमण और बैक्टीरिया बेहद आसानी से चले जाते हैं। बिना हाथ धोए कुछ भी खाने से हाथ में मौजूद गंदगी या संक्रमण के कारण व्यक्ति कई गंभीर बीमारियों से ग्रस्त हो सकता है। इसलिए हर वर्ष भारत सरकार द्वारा नेशनल हैंडवॉशिंग अवेयरनेस वीक मनाया जाता है, जिसमें लोगों को हाथ धोने के महत्व के प्रति जागरुक किया जाता है।

नेशनल हैंडवॉशिंग अवेयरनेस वीक हर वर्ष दिसंबर के पहले सप्ताह में मनाया जाता है। इसमें लोगों को उनके स्वास्थ्य व स्वच्छता को बेहतर बनाने के बारे में बताया जाता है। हमारी खुद की स्वच्छता हमारे हाथों से शुरू होकर उन्हीं पर खत्म होती है। हाथ धोने से कई प्रकार की बीमारियों को रोका जा सकता है। तो आइए जान लेते हैं हाथों को साफ न रखने से कौन-कौन सी गंभीर बीमारियां हो सकती हैं :

हाथ न धोने के कारण होने वाली बीमारियां :

हाथों को कब और कैसे धोएं
अगर सही समय पर बीमारियों का परीक्षण और इलाज नहीं करवाया जाए तो यह कई गंभीर बीमारियों का रूप ले सकती हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि हाथ साफ करने के लिए साबुन और साफ पानी से 20 सेकंड तक हाथ धोने चाहिए और एक साफ कपड़े से हाथ पोछने चाहिए।

सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के तहत हाथ धोते समय हमेशा 5 आसान स्टेप्स को याद रखें :

  • हाथों को गिला करें
  • साबुन से झाग बनाएं
  • अच्छे से रगड़े
  • धोएं
  • सुखा लें

इनके अलावा अमेरिकन मेडिकल एसोसिएशन और अमेरिकन एकेडमी ऑफ फैमिली फिजिशियन के तहत हाथों के प्रति जागरुकता के 4 सिद्धांत हैं, जिनका स्वच्छता के लिए पालन करना आवश्यक होता है :

  • गंदे व खाना खाने से पहले हाथ जरूर धोएं
  • अपने हाथों पर न खांसें
  • अपने हाथों में न छींके
  • अपनी आंख, नाक और मुंह में उंगली न डालें

क्यों हाथ धोना इतना आवश्यक है
सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) के अनुसार हाथ धोने से 3 में से 1 बार दस्त संबंधित रोगों और 5 में से 1 संक्रमित बीमारियों को रोका जा सकता है।

विश्व भर में हर साल 5 वर्ष से कम उम्र के करीब 14 लाख बच्चे गंदगी के कारण निमोनिया और दस्त की चपेट में आ जाते हैं।

सीडीसी की रिपोर्ट के मुताबिक करीब 31 प्रतिशत पुरुष और 65 प्रतिशत महिलाएं पब्लिक वॉशरूम इस्तेमाल करने के बाद हाथ नहीं धोते हैं।

एक छींक में करीब 40 हजार बूंदे होती हैं जो 200 मील प्रति घंटे की रफ्तार से हवा में फैल जाती हैं। इसीलिए जुकाम के समय हमेशा रुमाल जरूर रखें।

हाथ धोना एक दवा है, यदि आप हाथ नहीं धोते हैं तो आप संक्रमण और बैक्टीरिया के संपर्क में आ सकते हैं, जिसके कारण आपको दवाओं की आवश्यकता पड़ती है और वहीं अगर आप पहले से ही हाथ धोना नहीं भूलेंगे तो न तो आपको संक्रमण होगा और न ही किसी दवा की जरूरत पड़ेगी।

और पढ़ें ...