myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

कोविड-19 महामारी को फैले 9 महीने से ज्यादा का समय बीत चुका है लेकिन अब तक इस बीमारी की रोकथाम और बचाव को लेकर कोई ठोस विकल्प नहीं मिला। यही वजह है हर कोई संक्रमण से बचाव में हर संभव कोशिश में जुटा है जिसमें इम्यूनिटी यानी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ना वायरस से बचने का सबसे अच्छा तरीका है। इसी के चलते व्यक्ति इम्यूनिटी बूस्ट करने के प्रयास में लगा है जिसके लिए घरेलू उपाय को भी अहमियत दी जा रही है, जैसे की जड़ी बूटियों से बना हर्बल काढ़ा (हर्बल) या फिर अन्य इम्यूनिटी बूस्टर। लेकिन इस बीच मेडिकल एक्सपर्ट ने काढ़ा या घरेलू उत्पादों के अत्यधिक उपयोग को लेकर एक चेतावनी जारी की है।

(और पढ़ें- कोविड-19: दुनियाभर में 3.50 करोड़ से ज्यादा संक्रमित, 10.42 लाख की मौत, रूस में कोरोना वायरस की वापसी, कोलंबिया 5 सबसे अधिक प्रभावित देशों में शामिल)

ज्यादा मात्रा में हर्बल उत्पाद का इस्तेमाल नुकसानदायक- डॉक्टर 
चिकित्सा विशेषज्ञों ने इन डाइटरी सप्लिमेंट्स (आहार पूरक) को अधिक मात्रा में लेने के खिलाफ आम लोगों को सचेत किया है। डॉक्टरों का कहना है कि घरेलू उपचार की प्राकृतिक विशेषताओं से मामूली संक्रमण का इलाज करने और प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाने में मदद मिल सकती है। लेकिन यह सुनिश्चित करना चाहिए कि लोग इनका इस्तेमाल करते वक्त बहुत सावधानी बरतें।

घरेलू उत्पादों पर अभी शोध की जरूरत
एक प्रसिद्ध कैंसर विशेषज्ञ और द एसोसिएशन ऑफ सर्जन्स ऑफ इंडिया के अध्यक्ष डॉ. रघुराम का कहना है "चूंकि कोविड-19 संक्रमण का ज्यादा खतरा उन लोगों को हो सकता है जो इम्यूकॉम्प्रोमाइज्ड हैं यानी जिनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता (इम्यूनिटी) बहुत कमजोर है। इसलिए इम्यूनिटी को बेहतर करने के लिए इन उत्पादों को अत्यधिक मात्रा में लिया जा रहा है। हालांकि हमें यह ध्यान रखने की जरूरत है कि इन प्राकृतिक सामग्रियों में भले ही कुछ एंटी-वायरल गुण हों, लेकिन इन हर्बल उत्पादों के लंबे समय (दीर्घकालिक) तक सकारात्मक प्रभाव को जानने के लिए अभी भी बहुत सारे शोध की आवश्यकता है।"

(और पढ़ें- रूस की कोविड-19 वैक्सीन स्पूतनिक 5 के मानव परीक्षण के लिए डॉ. रेड्डीज ने डीसीजीआई से औपचारिक अनुमति मांगी)
 
घरेलू इम्यूनिटी बूस्टर के हो सकते हैं कुछ साइड इफेक्ट
डॉक्टर रघु राम का कहना है कि यह भी महत्वपूर्ण है कि जब किसी मरीज की सर्जरी होनी हो या फिर रोगी का किसी तरह का इलाज चल रहा हो तो उसे इन पूरक आहारों के बारे में पूरी जानकारी अपने डॉक्टर को देनी चाहिए। यही वजह है कि कुछ डॉक्टर तो लोगों को घर पर बने इन इम्यूनिटी बूस्टर के कुछ दुष्प्रभावों के बारे में भी सोशल मीडिया के जरिए बता रहे हैं। 

आंख के प्लास्टिक सर्जन डॉ. रघुराज हेगड़े ने ट्वीट के जरिए जानकारी साझा करते हुए बताया कि "कल ऑपरेशन टेबल पर एक मरीज की सर्जरी के दौरान उसका काफी खून बहा। वह खून को पतला करने वाली दवा का सेवन नहीं कर रहा था। लेकिन सर्जरी के बाद रोगी ने मुझे बताया कि वह कोविड-19 संक्रमण से बचने के लिए रोजाना तीन बार अदरक, लहसुन, हल्दी और हींग का हर्बल काढ़ा पी रहा था।"

(और पढ़ें- कोविड-19 में होने वाले दर्द से राहत देता है कोरोना वायरस का स्पाइक प्रोटीन, जिससे बढ़ रही है बीमारी: वैज्ञानिक)

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें