myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

एक ही टाॅयलेट का कई लोगों द्वारा इस्तेमाल किया जाना हमेशा हानिकारक होता है। जब कई लोग एक ही शौचालय का यूज करते हैं तो सीट, वाॅश बेसिन, टाॅयलेट फ्लश पर बैक्टीरिया और वायरस का जमा होना स्वाभाविक है। पब्लिक टाॅयलेट प्रयोग करने की वजह से कई सारी बीमारियों के होने की आशंका बनी रहती है। हालांकि अगर आपका इम्यून सिस्टम स्वस्थ है, तो बीमार होने की आशंका कम हो जाती है। इसके बावजूद पब्लिक टाॅयलेट यूज करने से पहले कुछ बातों का ध्यान अवश्य रखें जैसे यूज करने के बाद हाथ धोएं, सार्वजनिक शौचालय के दरवाजों को टिश्यू पेपर से पकड़ें, सीट को साफ करके बैठें आदि। बहरहाल इस लेख में आपको बताते हैं सार्वजनिक शौचालय का बहुतायत में इस्तेमाल करने से किस-किस तरह की बीमारियां हो सकती हैं।

(और पढ़ें - पेशाब कम आने के लक्षण)

आंत में संक्रमण

मल जनित जीवाणु यानी मल से होने वाले जीवाणु जैसे ई कोलाई, स्ट्रेप्टोकोकस, स्टेफिलोकोकस आदि सार्वजनिक शौचालय में होते हैं। यदि आप ऐसी टाॅयलेट सीट में बैठते हैं, जहां इस तरह के जीवाणु मौजूद हैं तो ये जीवाणु आपमें भी उत्पन्न हो सकते हैं। नतीजतन आपको डायरिया और आंत में संक्रमण जैसी समस्या हो सकती है।

(और पढ़ें - पेशाब रोकने के नुकसान)

यूरिन इन्फेक्शन

महिलाएं ही नहीं पुरूष भी सार्वजनिक शौचालयों के इस्तेमाल से आसानी से संक्रमित हो सकते हैं। ध्यान रखें कि पब्लिक टाॅयलेट के इस्तेमाल के बाद आमतौर पर बहुत कम लोग वहां पानी डालते हैं। परिणामस्वरूप न सिर्फ टाॅयलेट सीट में बल्कि आसपास की जगह में भी पेशाब के छींटें गिरे होते हैं। ऐसी जगहों पर बैठना यूटीआई यानी यूरिन इन्फेक्शन को बढ़ावा देता है। इसलिए पब्लिक टाॅयलेट का इस्तेमाल करने के बाद अपने गुप्तांगों को अच्छी तरह से धोएं ताकि कोई बैक्टीरिया शरीर के अंदर प्रवेश न कर सके।

(और पढ़ें - पेशाब का रिसना के लक्षण)

वायरल संक्रमण

अमूमन सर्दी-जुकाम के वायरस लंबे समय तक जीवित नहीं रह सकते। इसलिए पब्लिक टाॅयलेट से सर्दी-जुकाम होने का खतरा कम होता है। इसके बावजूद पब्लिक टाॅयलेट के फ्लश, सिंक में कुछ वायरस मौजूद रह जाते हैं। इनके संपर्क में आते ही आपको संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है। खासकर ध्यान रखें टाॅयलेट सीट में जो संक्रमण हैं, वह आपके गुप्तांग के जरिए शरीर के अंदर प्रवेश कर सकते हैं। नतीजतन आपको बुखार या वायरल संक्रमण हो सकता है।

(और पढ़ें - बार बार पेशाब आने का इलाज)

त्वचा संक्रमण

स्टेफिलोकोकस बैक्टीरिया लंबे समय तक टाॅयलेट सीट और आस-पास की जगह पर मौजूद रहते हैं। यह बैक्टीरिया आपकी त्वचा के लिए घातक है। इसके संपर्क में आते ही आपको त्वचा संबंधी समस्या हो सकती है। यही नहीं निमोनिया जैसी बीमारियां भी आपको अपनी जद में ले सकती हैं।

(और पढ़ें - पेशाब में जलन के घरेलू उपाय)

बीमारियों से बचने के लिए आप क्या करें

पब्लिक टाॅयलेट से होने वाली बीमारियों से बचे रहना बहुत मुश्किल नहीं है। इसके लिए बस जरूरी बातों पर गौर करें-

  • जब भी सार्वजनिक शौचालयों का इस्तेमाल करें तो सबसे पहले देखें कि वहां कैसी सीट लगी हुई है। यदि वेस्टर्न पाॅट है तो सीट को अच्छी तरह पोंछ लें। पोंछने के लिए टिश्यू पेपर का इस्तेमाल करें।
  • अगर आपके पास ग्लव्स की सुविधा है तो हमेशा इन जगहों में ग्लव्स पहनकर जाएं ताकि फ्लश या सीट के ढक्कन को अपने हाथों से इस्तेमाल न करना पड़े।
  • ध्यान रखें कि यदि किसी व्यक्ति को संक्रमण रहा होगा तो उसकी पेशाब में वह संक्रमण मौजूद होगा। संक्रमित व्यक्ति के इस्तेमाल के बाद जो भी दूसरा व्यक्ति पब्लिक टाॅयलेट का यूज करता है, उसे भी संक्रमण की आशंका हो जाती है। अतः पब्लिक टाॅयलेट के यूज के बाद अपनी सफाई का पूरा ध्यान रखें।
  • संभव हो तो सार्वजनिक शौचालयों का इस्तेमाल न करें। गंदे शौचालयों का कतई यूज न करें।

कुल मिलाकर कहने की बात ये है कि सार्वजनकि शौचालयों की बीमारी से दूर रहना है तो यहाँ बताई गई  बातों पर अमल करें और स्वस्थ रहें।

और पढ़ें ...