myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

आप में से अधिकांश लोग यह मानते हैं कि भोजन के बाद स्नान करना अच्छा नहीं है। हालांकि, अधिकतर इसके पीछे का कारण नहीं जानते हैं। पर कई लोग ऐसे भी हैं जो सोचते हैं कि यह केवल एक धारणा है।

खाने के बाद स्नान करने से रक्त वाहिकाएं चौड़ी हो जाती हैं और इससे आपकी त्वचा में रक्त प्रवाह बढ़ जाता है। दूसरे शब्दों में, ठंडे पानी की प्रतिक्रिया के रूप में, एक प्रकार का रासायनिक पदार्थ आपके शरीर में रिलीज़ होता है। इस रासायनिक पदार्थ के साथ संकुचित नसें फैल जाती हैं और तंत्रिकाओं और सूक्ष्म नसों में अधिक रक्त का परिवहन होता है।

स्नान करते समय रक्‍त का प्रवाह अधिक मात्रा में त्‍वचा तक पहुंचता है, जिसकी वजह से शरीर में गर्मी पैदा होती है। इसलिए हम खाना खाने के तुरंत बाद नहाने को नहीं कहते हैं क्‍योंकि पेट के आस पास जो ब्लड होता है, वह खाना पचाने में मदद करता है। लेकिन स्नान से वही ब्लड शरीर के अन्‍य भागों में चला जाता है और लंबे समय तक रहता है, जिससे खाना ठीक से नहीं पचता है या फिर धीरे धीरे पचता है।

अगर आप गर्म पानी से भी स्नान करते हैं, तो भी रक्त वाहिकाएं चौड़ी होंगी ताकि अधिक रक्त से स्किन में जो गर्मी पैदा हो रही है, उसे ठंडा कर सकें।

उन रक्त वाहिकाओं के माध्यम से अधिक रक्त बह जाता है जो शरीर के अन्य कामों के लिए उपयोग हो जाता है। ऐसे में मस्तिष्क में रक्त की कमी हो जाती है जिसके कारण हमें चक्‍कर आते है और हम बेहोश हो जाते हैं। यह समस्‍या हर किसी को प्रभावित नहीं कर सकती है लेकिन जिन लोगों को स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याएं हैं और जिनके शरीर में रक्त संचलन ठीक से नहीं हो रहा है, उन्हें ये समस्याएं हो सकती हैं।

इसलिए खाना खाने के एक या आधे घंटे बाद तक नहाने से बचना चाहिए। इसके अलावा खाना खाने के बाद भारी काम या एक्‍सरसाइज भी नहीं करनी चाहिए।

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें
कोरोना मामले - भारतx

कोरोना मामले - भारत

CoronaVirus
4067 भारत
226आंध्र प्रदेश
10अंडमान निकोबार
1अरुणाचल प्रदेश
26असम
30बिहार
18चंडीगढ़
9छत्तीसगढ़
503दिल्ली
7गोवा
122गुजरात
84हरियाणा
13हिमाचल प्रदेश
106जम्मू-कश्मीर
3झारखंड
151कर्नाटक
314केरल
14लद्दाख
165मध्य प्रदेश
690महाराष्ट्र
2मणिपुर
1मिजोरम
21ओडिशा
5पुडुचेरी
68पंजाब
253राजस्थान
571तमिलनाडु
321तेलंगाना
26उत्तराखंड
227उत्तर प्रदेश
80पश्चिम बंगाल

मैप देखें