myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

गांजा के पौधे के बीजों, जड़, फूलों और सूखे पत्तों से बनी दवा को मारिजुआना कहा जाता है। गर्भावस्था में सामान्य तौर पर मारिजुआना दवा का इस्तेमाल किया जाता है। अधिकांश देशों में मारिजुआना पर प्रतिबंध है, लेकिन कुछ देशों में इसका उपयोग वैध है और कई बीमारियों के इलाज में इसका इस्तेमाल किया जाता है।

आपको जानकर हैरानी होगी कि गर्भावस्था के दौरान मारिजुआना सबसे अधिक इस्तेमाल की जाने वाली दवा है। इसमें एक रसायन होता है, जिसे डेल्टा-9 टेट्राहाइड्रोकेनबिनोल या टीएचसी (सक्रिय रसायन, जो मारिजुआना से होने वाले प्रभावों के लिए जिम्मेदार है) भी कहा जाता है। यह रसायन, मस्तिष्क के काम करने के तरीके और सोचने-समझने की शक्ति को प्रभावित कर सकता है। इसमें मौजूद टीएचसी और अन्य रसायन आपके देखने, सुनने और स्पर्श करने की शक्ति को बदल सकते हैं। प्रेगनेंसी के दौरान मारिजुआना लेने से शिशु को जन्म से पहले और बाद में कोई परेशानी हो सकती है।

गर्भावस्था के दौरान बढ़ता जा रहा है मारिजुआना का प्रयोग 

कैलिफोर्निया में महिलाओं पर हुए एक अध्ययन में पाया गया कि मारिजुआना का प्रयोग करने वाली गर्भवती महिलाओं की संख्या बढ़ती जा रही है, जबकि गर्भावस्था के पहले चरण में गंभीर रूप से जी मितली और उल्टी से ग्रस्त गर्भवती महिलाओं में इसका उपयोग करने की संभावना लगभग चार गुना अधिक थी। 

(और पढ़ें - गर्भावस्था में क्या खाएं)

गर्भावस्था में मारिजुआना से शिशु पर प्रभाव

गर्भावस्था के दौरान यदि मारिजुआना का उपयोग किया जाए तो बच्चे के जन्म से पहले और बाद में समस्याएं हो सकती हैं क्योंकि इस दौरान टीएचसी व अन्य रसायन आपके बच्चे में गर्भनाल के माध्यम से पहुंच सकते हैं। गर्भनाल आपके गर्भाशय (गर्भ) में बढ़ता है और आपके बच्चे को इसके माध्यम से भोजन और ऑक्सीजन की आपूर्ति होती है और इसी नाल के जरिए मारिजुआना से रसायन भी आपके बच्चे के मस्तिष्क में जा सकते हैं।

(और पढ़ें - गर्भनाल को संक्रमण से कैसे बचाएं)

गर्भावस्था से पहले के प्रभाव 

जो महिलाएं मारिजुआना के सेवन के साथ सिगरेट या शराब या अन्य किसी दवा का सेवन करती हैं उनमें यह जानना कठिन हो जाता है कि मारिजुआना गर्भावस्था को कैसे प्रभावित करता है। कुछ अध्ययनों से पता चलता है कि यदि आप गर्भावस्था के दौरान मारिजुआना का उपयोग करती हैं तो आपके बच्चे को निम्नलिखित समस्याएं हो सकती हैं -

  • समय से पूर्व जन्म: 9 माह से पहले ही बच्चे का जन्म होना
  • एनीमिया: इसमे खून की कमी हो सकती है। ऐसा तब होता है जब आपके बच्चे के शरीर में ऑक्सीजन को ले जाने के लिए पर्याप्त स्वस्थ लाल रक्त कोशिकाओं का निर्माण नहीं हो पाता है।
  • गर्भ में शिशु की मृत्यु : गर्भावस्था के 20वे सप्ताह के बाद गर्भ में बच्चे की मृत्यु हो सकती है

गर्भावस्था के बाद के प्रभाव 

यदि आप गर्भावस्था के दौरान मारिजुआना का उपयोग करती हैं, तो आपके बच्चे को जन्म के बाद भी कुछ समस्याएं हो सकती हैं। ऐसा भी संभव है कि नवजात शिशु को अन्य शिशुओं की तुलना में एनआईसीयू (नवजात बच्चों की देखभाल के लिए विशेष यूनिट) में अधिक समय रहना पड़े। गर्भावस्था के दौरान मारिजुआना के संपर्क में आने से आपके बच्चे को जन्म के बाद निम्नलिखित समस्याएं हो सकती हैं:

  • कंपकंपी (झटके) या जन्म के बाद लंबे समय तक रोना। ये लक्षण आमतौर पर जन्म के बाद कुछ दिनों के भीतर दूर हो जाते हैं
  • नींद से संबंधित समस्या 
  • व्यवहार, याददाश्त, सीखने, किसी समस्या को सुलझाने की क्षमता, अवसाद और काम पर ध्यान न दे पाना

''साइकोलॉजिकल मेडिसिन'' में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, मारिजुआना का उपयोग भ्रूण के मस्तिष्क के विकास और शुरूआती बचपन में व्यवहार पर नकारात्मक प्रभाव ड़ाल सकता है।

और पढ़ें ...