myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

एक समय था जब माना जाता था कि सेहत के लिए सबसे उपयुक्त गाय का दूध है। उस समय दूध के किसी अन्य विकल्प को लोग कम ही चुनते थे। लेकिन आज सिर्फ गाय का दूध ही अलग-अलग प्रकार में मार्केट में मौजूद है जैसे फुल क्रीम, डबल टोंड, टोंड, स्किम (वसा रहित) और लैक्टोज फ्री दूध आदि। आज की तारीख में जिन लोगों को गाय के दूध से एलर्जी है, उनके लिए भी मार्केट में बादाम, सोया दूध, चावल, नारियल और अन्य पौधों पर आधारित दूध जैसे तरह-तरह के विकल्प मौजूद हैं। आपको बताते चलें कि हर तरह के दूध के अपने फायदे और नुकसान हैं। यह पूर्णतया दूध पीने वाले व्यक्ति की डाइट, सेहत और उसकी रोजाना पोषक तत्वों की जरूरतों पर निर्भर करता है।

बहरहाल यहां यह सवाल उठता है कि बादाम, सोया या गाय के दूध में कौन सा दूध सबसे बेहतर होता है? उदाहरण के रूप में समझें कि दो साल या इससे ज्यादा उम्र के बच्चे, किशोर और गर्भवती महिलाओं को प्रोटीन, विटामिन डी और कैल्शियम की जरूरत होती है। ये सभी तत्व गाय के दूध में मिलते हैं। इसी तरह जरूरत के अनुसर यह कहा जा सकता है कि कौन सा दूध बेहतर है। इस लेख में हम अलग-अलग दूध में मौजूद पोषक तत्वों के बारे में जानेंगे और यह भी कि स्वास्थ्य के लिहाज से बेहतर कौन सा दूध है।

(और पढ़ें - कच्चा दूध पीने के फायदे)

गाय का दूध

फुल क्रीम, दूध का एक प्रकार है। इसमें से जरा भी वसा निकाली नहीं जाती। गाय के एक कप दूध में 150 कैलोरी, लेक्टोस (मिल्क शुगर) के रूप में 12 ग्राम कार्बोहाइड्रेट, 8 ग्राम वसा, 8 ग्राम प्रोटीन होता है। इनमें से किसी भी प्राकृतिक तत्व को निकाला नहीं जाता। इसका मतलब यह है कि व्होल मिल्क प्रोटीन, वसा, कैल्शियम का प्राकृतिक स्रोत है। गाय के अन्य प्रकार के दूध में समान मात्रा में कार्बोहाइड्रेट और प्रोटीन होता है। जबकि कुछ तत्व और वसा को पूरी तरह निकाल दिया जाता है। 1 कप व्होल मिल्क में 150 कैलोरी होती है जबकि स्किम मिल्क में सिर्फ 80 कैलोरी होती है।

इसके विपरीत फैट मुक्त मिल्क में सभी तरह के पोषक तत्व होते हैं जो व्होल मिल्क में भी होते हैं जैसे प्रोटीन, कैल्शियम, विटामिन और मिनरल लेकिन इसमें सैच्युरेटेड वसा और कैलोरी नहीं होती। हालांकि इस तरह के दूध में वसा की कमी की वजह से विटामिन को सोखने की क्षमता कुछ कम हो जाती है। लैक्टोज फ्री मिल्क में लैक्टोज (दूध में पाया जाने वाला प्राकृतिक शर्करा) को तोड़ने के लिए प्रोसेस्ड किया जाता है। लैक्टोज फ्री दूध प्रोटीन, कैल्शियम, विटामिन और मिनरल का अच्छा स्रोत है।

(और पढ़ें - गर्म दूध पीने के लाभ)

बादाम दूध

आजकल नाॅन-डेयरी दूध की चाह लोगों में बढ़ रही है। इसी क्रम में बादाम के दूध का लोग ज्यादा से ज्यादा सेवन कर रहे हैं। खासकर विदेश में बादाम के दूध को पसंद किया जा रहा है। शोधकर्ताओं ने सुझाव दिया है कि बादाम के दूध का बच्चों और किशोरों पर अच्छा प्रभाव पड़ता है। खासकर उनके लिए बादाम दूध बेहतर विकल्प है, जिन्हें सामान्य दूध से एलर्जी है या फिर दूध आसानी से हजम नहीं होता। अगर बादाम दूध की गाय के दूध के साथ तुलना की जाए तो यह कम सैच्युरेटेड होता है और इसमें अनसैच्युरेटेड वसा ज्यादा होती है। बादाम के दूध में कम कैलोरी और प्रोटीन होता है जो बच्चों के लिए उपयुक्त है। कुछ निर्माता बादाम दूध में कैल्शियम मिलाते हैं ताकि गाय के दूध की तरह इसमें भी कुछ पोषक तत्व मौजद हों। बादाम का दूध अलग-अलग तरह के फ्लेवर और वैरायटी में उपलब्ध है। कुछ निर्माता बादाम दूध में शुगर मिलाते हैं ताकि यह खाने में स्वादिष्ट हो सके।

(और पढ़ें - नारियल के दूध के नुकसान)

सोया दूध​

गाय के दूध के सबसे बेहतरीन विकल्पों में से एक सोया दूध भी है। सोया दूध मार्केट में मौजूद पहला पौधों से प्राप्त दूध है। विशेषज्ञ सुझाव देते हैं कि जिन लोगों को लैक्टोज हजम नहीं होता, उनके लिए गाय के दूध के विकल्प के तौर पर सोया दूध उपलब्ध है। जब सोया दूध की बादाम या ओट मिल्क से तुलना करते हैं तो सबसे बेहतर सोया दूध को ही पाते हैं। इसमें प्रोटीन काफी ज्यादा मात्रा में पाई जाती है। अन्य प्लांट बेस्ड मिल्क की तरह निर्माता सोया दूध में भी कैल्शियम और विटामिन डी मिलाते हैं। हालांकि डाॅक्टर उन लोगों को सोय दूध पीने की सलाह नहीं देते जिन्हें गाय के दूध से एलर्जी है। खासकर तीन से कम उम्र के बच्चों को यह दूध नहीं पीना चाहिए, क्योंकि उन्हें इससे भी एलर्जी हो सकती है। दरअसल किसान सोयबीन उगाने के दौरान कई तरह के कीटनाशक मिलाते हैं। यह बच्चों के लिए हानिकारक हो सकते हैं।

कुल मिलाकर कहने की बात यह है कि दूध के कई विकल्प होने के बावजूद शिशु, किशोरों के लिए गाय का दूध सबसे अच्छा विकल्प है। खासकर उन लोगों के लिए जिन्हें विकास और वृद्धि के लिए प्रोटीन, फैट और कैल्शियम की जरूरत होती है।

(और पढ़ें - दालचीनी दूध के फायदे)

और पढ़ें ...