myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

मुस्कुराइए कि आप लखनऊ में हैं... ये पंक्ति तो आपने सुनी ही होगी। कहते हैं हंसने से कई बीमारियां दूर होती हैं। एक प्रकार की सकारात्मक ऊर्जा मिलती है और इस नई ऊर्जा के साथ हम जीवन में अच्छे और बेहतर की उम्मीद करते हैं। इसलिए हंसते-मुस्कुराते रहना चाहिए। ठहाके लगाकर हंसना एक तरह का व्यायाम भी है, यही वजह है कि सुबह-सुबह लोग पार्क में योग के साथ ठहाका योग (लाफ्टर योग) का भी अभ्यास करते दिख जाते हैं।

ताजा रिसर्च में भी अध्ययनकर्ताओं ने इस बात को चरितार्थ किया है कि हंसना किस तरह से बीमारियों से हमारी सुरक्षा करता है। शोध में बताया गया है कि हंसने और मुस्कुराने से अप्रत्यक्ष रूप से व्यक्ति की मनोदशा (मूड) में सुधार होता है। इतना ही नहीं, इसके जरिए कई प्रकार के स्वास्थ्य संबंधी लाभ मिलते हैं। जैसे- तनाव और दिल की सेहत में सुधार होता है। इसलिए अगर आपके पास मुस्कुराने का कोई कारण नहीं है, तब भी आप बेहतर स्वास्थ्य के लिए एक स्माइल तो कर ही सकते हैं। हंसने से किस प्रकार फायदा होता है आइए जानते हैं -

(और पढ़ें -  खुलकर हंसने के और फायदे)

तनाव से मिलती है मुक्ति
चेहरे में दो तरह की मांसपेशियां (जाइगोमैटिकस और ऑर्बिक्युलर ओसुली) पाई जाती हैं, जो मुस्कुराने में हमारी मदद करती हैं। जब भी कोई खुशी की बात होती है तो हमारा मस्तिष्क, एंडोर्फिन पैदा करता है और चेहरे की मांसपेशियों को मुस्कुराने के लिए संकेत देता है। एंडोर्फिन रिलीज होने के बाद इससे शरीर में एक तरह का लूप (दोहराना) शुरू हो जाता है।

इसके बाद स्माइलिंग मसल्स (हंसने के दौरान इस्तेमाल होने वाली मांसपेशियां) सिकुड़ जाती हैं और हमारे दिमाग को वापस एक सिग्नल भेजती हैं, जिससे हमारे शरीर में एंडोर्फिन का स्तर और बढ़ जाता है। यह एंडोर्फिन, तनाव या स्ट्रेस के स्तर को कम करते हुए मूड (मनोदशा) में सुधार करते हैं। हंसने से हमारे शरीर में न्यूरोपैप्टाइड्स (मस्तिष्क में छोटे अणु) रिलीज होता है, जो स्ट्रेस से लड़ने में हमारी मदद करते हैं।

(और पढ़ें - गुस्सा कैसे करें कम, जाने)

दिल की सेहत में होता है सुधार
मुस्कुराते वक्त शरीर में एंडोर्फिन के रिलीज होने से ब्लड फ्लो यानि रक्त प्रवाह बढ़ता है। इसके अलावा हंसने से बॉडी के अंदर एचडीएल (अच्छे कोलेस्ट्रॉल) की मात्रा बढ़ती है, तो तनाव पैदा करने वाले हार्मोन्स (कोर्टिसोल, एड्रेनालाइन, नॉर-एपिनेफ्रीन) की मात्रा कम हो जाती है। इस तरह से ज्यादा हंसने या मुस्कुराने से दिल की सेहत में सुधार होता है।

दर्द सहने की क्षमता बढ़ती है
अगर कहें कि हंसना या मुस्कुराना प्राकृतिक रूप से दर्द की दवा है, तो यह गलत नहीं होगा। ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की एक रिसर्च से पता चलता है कि कैसे हंसना हमारे दर्द सहने की क्षमता को बढ़ाता है। इस रिसर्च को दो अलग-अलग भागों में बांटा गया था। इसमें एक समूह को तथ्यात्मक (फेक्चुअल) वीडियो देखने के लिए कहा गया था और दूसरे समूह को हंसी और मजाक भरी वीडियो देखने के लिए कहा गया। इस दौरान प्रतिभागियों की हंसी को माइक्रोफोन के साथ रिकॉर्ड किया गया।

(और पढ़ें - मूड को ठीक और फ्रेश करने के तरीके)

दोनों समूह के लोगों पर कुछ शारीरिक परीक्षणों के बाद पता चला कि जिन लोगों ने पहले हंसी मजाक की चीजें नहीं देखी थीं, उसकी तुलना में जब उन लोगों ने इस तरह की कोई हंसी वाली वीडियो देखी तो उनमें दर्द सहने की क्षमता में वृद्धि हुई। इतना ही नहीं, इन लोगों के दर्द की सीमा भी उस समूह से अधिक थी, जिन्होंने तथ्यात्मक वीडियो देखी थी।

ब्लड प्रेशर नियंत्रित होता है
जब हम संचार यानि बातचीत करते हैं तो इसके लिए न्यूरोपेप्टाइड की जरूरत होती है। यह न्यूरोपेप्टाइड हमारे मस्तिष्क में खुशी वाले कैमिकल (न्यूरोट्रांसमीटर) रिलीज करता है। जैसे- डोपामाइन, एंडोर्फिन और सेरोटोनिन। जब हम मुस्कुराते हैं तो यह न्यूरोट्रांसमीटर शरीर में रिलीज होते हैं और यह ना केवल शरीर को आराम देते हैं, बल्कि हृदय गति और ब्लड प्रेशर को भी नियंत्रित रखने में मदद करते हैं।

(और पढ़ें - मन और दिमाग शांत करने का तरीका)

इम्यूनिटी सिस्टम मजबूत होता है
हंसने से केवल आपका दिल ही तंदुरुस्त नहीं होता, बल्कि इससे इम्यूनिटी सिस्टम भी मजूबत होता है। दरअसल हंसते समय हमारे शरीर में सेरोटोनिन रिलीज होता और इससे रोग प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत होती है।

इस तरह से आप खुश रहने के साथ कई तरह की बीमारियों को दूर कर स्वस्थ रह सकते हैं। आपका हंसना और मुस्कुराना ही आपके लिए दिल की सेहत को दुरुस्त कर सकता है, तो स्ट्रेस जैसी स्थिति को आप महज एक छोटी से मुस्कान के साथ कम कर सकते हैं।

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें