myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

यदि आप अपने आहार में तरल पदार्थ के माध्यम से पोषक तत्व प्राप्त करना चाहते हैं तो जूस और स्मूदी दोनों ही आपके लिए फायदेमंद हैं। जूस ताजे फलों और सब्जियों को जूसर में डालकर निकाला जाता है। वहीँ स्मूथी ताजे फलों और सब्जियों, नट्स और डेयरी उत्पाद को मिक्सर या ब्लैंडर (blander) में डाल कर बनाई जाती है। अगर आप जूस और स्मूदी की तुलना करते हैं तो यह बता पाना मुश्किल है कि दोनों में से कौन हमारे स्वास्थ के लिए अधिक फायदेमंद है। दोनों के अपने अपने फायदे और नुकसान हैं तो चलिए जानते हैं जूस और स्मूदी में से कौन ज्यादा फायदेमंद है।

  1. जूस पीने के फायदे - Juice ke fayde in hindi
  2. सेब और गाजर का मिश्रित जूस - Apple and carrot juice recipe
  3. तरबूज़ और टमाटर का मिश्रित जूस - Watermelon and tomato juice recipe
  4. जूस पीने के नुकसान - Juice ke nuksan in hindi
  5. स्मूथी के फायदे - Smoothie health benefits in hindi
  6. सेब और केले का मिश्रित स्मूथी - Apple and banana smoothie recipe
  7. दूध और स्ट्रॉबेरी का मिश्रित स्मूदी - Milk and strawberry smoothie recipe
  8. स्मूदी के नुकसान - Smoothie side effects in hindi

ताजे सब्जियों और फलों से प्राप्त जूस हमें विटामिन और खनिज प्रदान करते हैं जो हमारे शरीर की इम्युनिटी बढ़ाने और आक्सीकृत तनाव से लड़ने में सहायता करते हैं। जूस आपको उन सब्जियों के सेवन में भी मदद करता है जिन सब्जियों का इस्तेमाल आप व्यंजनों में नहीं कर पाते हैं। जूस हमारे शरीर में पोषक तत्वों को आसानी से अवशोषित करने में मदद करता है क्योंकि हमारे शरीर को पोषक तत्वों को अवशोषित करने के लिए भोजन को तोड़ना पड़ता है। पर जूस के सेवन से शरीर को सीधे पोषक तत्व मिलते हैं। जूस पचाने में आसान होता है, यह उनके लोगों के लिए बहुत अच्छा होता है जिन्हें पाचन सम्बंधित समस्या है।

आइए जानें कुछ हेल्दी जूस रेसिपी के बारे में -

सेब में मौजूद पेक्टिन (pectin) एलडीएल ("खराब") कोलेस्ट्रॉल को कम करता है। गाजर सफेद रक्त कोशिकाओं के उत्पादन को बढ़ाकर प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाने में मदद करती है। अदरक त्वचा के परिसंचरण में सुधार करने में मदद करता है। यह एक शक्तिशाली क्लींजिंग एजेंट है जो त्वचा को धब्बों से मुक्त करने में मदद करता है।

सामग्री - 

  1. दो सेब
  2. सात गाजर
  3. दो कली लहसुन
  4. एक इंच अदरक
  5. एक मुट्ठी धनिया पत्ता

विधि - जूस बनाने के लिए सभी को जूसर में डालकर जूस निकाल लें और इसका सेवन करें। यह आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाने में मदद करेगा।

लाल तरबूज़ में एंटी-ऑक्सीडेंट और कैंसर रोकने वाले गुण हैं जो विशेष रूप से प्रोस्टेट कैंसर के प्रति सुरक्षा प्रदान करता है। टमाटर में पोटेशियम उच्च मात्रा में होता है जो कम रक्तचाप में मदद करता है और हृदय स्वास्थ्य में सुधार करता है। यह कोलेस्ट्रॉल के ऑक्सीकरण को भी रोकता है।

सामग्री

  1. आधा नींबू
  2. एक टमाटर
  3. 1/8 लाल तरबूज़

विधि - जूस बनाने के लिए सभी को जूसर में डालकर जूस निकाल लें और इसका सेवन करें। यह आपके कैंसर और कम रक्तचाप की समस्या में मदद करेंगे।

जूस से हमें पोषक तत्वों की प्राप्ति होती है पर इससे शरीर को जरुरी फाइबर नहीं मिल पाता है। जब हम वजन घटाने और बीमारियों में जूस का सेवन अधिक करते हैं तो वैसे जूस जो उच्च चीनी बाले सब्जियों जैसे बीट और गाजर से बने होते हैं जो हमारे रक्त शर्करा और मोटापे को बढ़ा देते हैं।

(और पढ़ें – तनाव को दूर करने के लिए जूस)

स्मूदी के लिए हमें बस मिक्सर की जरूरत होती है। इसमें प्रोटीन के स्रोत वाले फलों और सब्जियों को डाल कर आसानी से एक हल्का, पौष्टिक आहार बना सकते है आप इसमें दूध, कम वसा वाले दही, नट्स आदि मिलाकर बना सकते हैं। स्मूदी में आप वो सभी खाद्य पदार्थ मिला सकते हैं जिनका उपयोग आप जूस के माध्यम से नहीं कर पाते। जूस के माध्यम से हम फलों और सब्जियों के रस का सेवन करते हैं पर स्मूदी बनाने में फल और सब्जियों के गूदे का भी उपयोग किया जाता है। यदि आप विभिन्न फलों और सब्जियों के माध्यम से लाभकारी फाइबर का सेवन करते हैं तो आपका पाचन तंत्र स्वस्थ रहता है। स्मूदी के सेवन से आप आसानी से महत्वपूर्ण विटामिन और खनिज प्राप्त कर सकते हैं। उदाहरण के लिए हरे पत्तेंदार सब्जी और ब्लूबेरी कि स्मूदी एंटीऑक्सिडेंट, फाइबर और प्रोटीन से समृद्ध होती है। स्मूदी के सेवन से लम्बे समय तक आपका पेट भरा हुआ रहता है और आपको भूख बहुत देर से लगती है।

आइए जानें कुछ हेल्दी स्मूदी रेसिपी के बारे में -

यह उच्च फाइबर से समृद्ध स्मूथी आपके स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद है। कीवी में पॉलिफेनोल और विटामिन सी उच्च स्तर में होता है जो हृदय-स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभदायक है।
सामग्री 

  1. 1 ¼ कप सेब का रस
  2. 1 पका हुआ केला
  3. 1 किवी
  4. स्ट्रॉबेरी
  5. 1½ चम्मच शहद

विधि

  • सभी सामग्री को मिक्सर में डालकर स्मूथी बना लें और सेवन करें।
  • पोषण 87 कैलोरी, 0 ग्राम फैट, 3.5 मिलीग्राम सोडियम, 22 ग्राम कार्बोहाइड्रेट, 16.5 ग्राम शर्करा, 1.5 ग्राम फाइबर, 0.5 ग्राम प्रोटीन

यह शक्कर रहित स्मूथी मधुमेह के लिए बहुत फायदेमंद है।

सामग्री 

  1. एक कप दूध
  2. एक कप कम मीठा स्ट्रॉबेरी
  3. एक बड़ा चम्मच अलसी का तेल
  4. एक बड़ी चम्मच सूरजमुखी या कद्दू के बीज

विधि

  • दूध और स्ट्रॉबेरी को मिक्सर में डाल कर स्मूथी बना लें।
  • अब इसे एक साफ गिलास में निकाल कर इसमें अलसी का तेल और सूरजमुखी या कद्दू के बीज को मिलाकर सेवन करें।
  • पोषण 256 कैलोरी, 1.5 ग्राम वसा, 106 मिलीग्राम सोडियम, 26 ग्राम कार्बोहाइड्रेट, 1 9 ग्राम शर्करा, 3 ग्राम फाइबर, 9 ग्राम प्रोटीन

अगर आप मीठी सामग्री जैसे आइसक्रीम, वसा वाले दही, मीठा बादाम दूध, शहद या बहुत अधिक पके हुए फल से स्मूदी बनाते हैं तो आप अधिक चीनी का सेवन करते है। यह आपकी कैलोरी को बढ़ाता है। इसके सेवन से शरीर में इन्सुलिन का स्तर बढ़ जाता है। जब आप सुबह के नाश्ते में इसका सेवन करते हैं तो रक्त शर्करा का स्तर अचानक से बढ़ सकता है और आपके वजन को भी बढ़ा सकता है।

(और पढ़ें – वजन को कम करने के लिए नाश्ते में लें ये स्मूदी रेसिपी)

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें