myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

जिनकी त्वचा तैलीय है वो जानते होंगे कि त्वचा को साफ और तेल-मुक्त रखने के लिए बहुत अधिक प्रयास की आवश्यकता होती है। सभी प्रकार की त्वचा के कुछ लाभ और कमियां होती हैं। तैलीय त्वचा के बारे में अच्छी चीज यह है कि इसमें सूखी त्वचा की तुलना में त्वचा की उम्र धीरे-धीरे बढ़ती है। त्वचा की बाहरी परत से अतिरिक्त तेल के निकलने से ब्लैकहेड और पिंपल्स जैसी समस्या का सामना करना पड़ता है। ऑयली स्किन को मेन्टेन रखना थोड़ा मुश्किल होता है।

लेकिन आपको चिंता करने की जरुरत नहीं हैं। हमारे पास कुछ ऐसे टिप्स हैं जो आपको तैलीय त्वचा से छुटकारा दिलाने में मदद करेंगे। तो आइये जानते हैं ब्यूटी और वैलनेस एक्सपर्ट के द्वारा तैलीय त्वचा के लिए बताएं गए कुछ सुझाव के बारे में -

  1. घरेलू फेस वाश फॉर ऑयली स्किन - Homemade Face Wash for Oily Skin in Hindi
  2. बार बार चेहरा धोना है ऑयली त्वचा का कारण - Washing Face too Much Cause Oily Skin in Hindi
  3. तैलीय त्वचा से मुक्ति दिलाएँ होममेड स्क्रब्स - Homemade Scrub for Oily Skin in Hindi
  4. ऑयली स्किन केयर करें ब्लॉटिंग पेपर से - Blotting Paper for Oily Skin in Hindi
  5. तैलीय त्वचा की देखभाल के लिए पाउडर बेस्ड मेकअप का उपयोग - Powder Based Makeup for Oily Skin in Hindi
  6. ऑयली स्किन प्रोडक्ट्स के लिए करें सामग्री की जांच - Check Ingredients for Oily Skin Products in Hindi
  7. तैलीय त्वचा से बचाव के लिए करवाएँ पीलिंग ट्रीटमेंट - Peeling Treatment for Oily Skin in Hindi
  8. मॉइस्चराइजर से दूरी है तैलीय त्वचा के लिए अच्छी - Avoid Oils and Moisturizers for Oily Skin in Hindi

हार्श क्‍लींजर चेहरे की त्वचा से प्राकृतिक नमी को छीन लेते हैं। जिसके कारण आपकी त्वचा में सीबम (तेल) की मात्रा दोगुनी हो जाती है।

हानिकारक रसायनों से भरे हुए परंपरागत फेस वाश के बजाय प्राकृतिक या घर के बने हुए क्लीन्ज़र्स का प्रयोग करें।
परंपरागत फेस वाश के बजाय मुल्तानी मिट्टी, चन्दन पाउडर, हल्दी, चावल के आटे या बेकिंग सोडा या बेसन के आटे के साथ अपने चेहरे को धोएं।

ऑयली त्वचा मृत कोशिकाओं को अधिक तेज़ी से फैलाती है और ड्राई या सामान्य त्वचा के प्रकारों की तुलना में तेजी से रोम छिद्रों को बंद करती है। नतीजतन, आपको उन्हें दूर करने के लिए स्क्रब करने की आवश्यकता होती है। लेकिन स्क्रबिंग और बार बार चेहरा धोने से त्वचा में अतिरिक्त सीबम का उत्पादन होता है।

हफ्ते में सिर्फ दो बार ही स्क्रबिंग करें।
बीच में, यदि आवश्यक हो तो ब्लोटिंग पेपर और पाउडर का उपयोग करें।

जितना संभव हो उतना पैकेज वाले रासायनिक स्क्रब से बचें। प्राकृतिक या होममेड स्क्रब्स का उपयोग करें। नारंगी और नींबू के छिलकों का दरदरा पाउडर, मोटे तौर पर पीसे हुए कॉफी बीन्स और बेकिंग सोडा जैसे सामग्री अच्छे स्क्रब के रूप में काम करते हैं। आप इन्हें घर पर भी बना सकते हैं।

  • सूरज में नारंगी या नींबू के छिलकों को सूखाएं और एक मिक्सर में पानी और छिलकों को डालकर को मोटे पीस लें।
  • सुनिश्चित करें कि पाउडर बहुत अधिक मोटा और बारीक पीसा हुआ न हो, क्योंकि यह एक स्क्रब के उद्देश्य को निष्फल करता है।
  • इसी तरह से कॉफी बीन्स पीसें।

यदि आपकी त्वचा तैलीय है तो ब्लॉटिंग पेपर और पाउडर आपके सबसे अच्छे दोस्त हैं। यदि आपका चेहरा धोने के बाद तेलयुक्त होना शुरू हो जाता है, तो अतिरिक्त तेल को सोखने के लिए कागज या टिश्यू का उपयोग करें।

पाउडर के साथ इस का पालन करें, यह आपके चेहरे को लंबी अवधि के लिए तेल मुफ्त रखेगा।

यदि संभव हो तो मेकअप से बचें।

तरल या क्रीम आधारित मेकअप के बजाय पाउडर आधारित मेकअप का उपयोग करें। पाउडर अतिरिक्त तेल को सोक लेते है और लंबे समय के लिए आपका चेहरा मैट रखने में मदद करते हैं। फॉउण्डेशन पाउडर या कॉम्पैक्ट पाउडर, ब्लश पाउडर और आई शैडो पाउडर के लिए ऑप्शन रखें।

जब भी आप कोई उत्पाद खरीद रहे हैं तो सुनिश्चित करें कि आप उसमें मौजूद घटक की जांच करते हैं।

गैर-कॉमेडोजेनिक और तेल मुक्त लेबल वाले उत्पादों को देखें। ये आपके रोम छिद्रों को बंद नहीं करते हैं।

इसके अलावा ग्लाइकोलिक एसिड, सैलिसिलिक एसिड या बैंजोल पेरोक्साइड वाले उत्पादों की खोज करें। ये आपकी त्वचा की बाहरी मृत परतों को हटाने में मदद करते हैं।

यदि त्वचा संवेदनशील नहीं है, तो अपने त्वचा विशेषज्ञ से हर महीने ग्लाइकोलिक और सैलिसिलिक एसिड पील ट्रीटमेंट करवाएं। पील्स आपकी त्वचा से सीबम को कम करने में मदद करेंगे। पील्स के बाद सनस्क्रीन का उपयोग करना याद रखें, क्योंकि ग्लाइकॉलिक और सैलिसिलिक एसिड आपकी त्वचा को सूर्य के प्रति अधिक संवेदनशील बना देते हैं।

चेहरे पर किसी भी प्रकार के तेल या ठंडे क्रीम लगाने से बचें, क्योंकि यह आपके छिद्र को बंद करती है और ब्रेकआउट और मुँहासे का कारण बनती है।

  • यदि आपकी त्वचा अत्यधिक तैलीय है, तो किसी भी मॉइस्चराइज़र का उपयोग करने से बचें।
  • यदि आपकी त्वचा थोड़ी तैलीय है और एक मॉइस्चराइज़र का उपयोग करना चाहते हैं, तो हल्के मॉइस्चराइज़र का उपयोग करें।
  • सूरज में बाहर निकलने पर मॉइस्चराइज़र का उपयोग न करें।

तैलीय त्वचा के लिए ब्यूटिशियन के द्वारा बताये गए सुझाव आपको तेल से छुटकारा पाने में मदद करेंगे और आपके चेहरे और त्वचा को एक नई चमक देंगे।

और पढ़ें ...